भारत में पढ़ाई कम और धर्म ज़्यादा क्यों हैं?...


user
0:48
Play

Likes  259  Dislikes    views  1623
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

BOB

Teacher

1:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पक्का सवाल है भारत में पढ़ाई कम और ज्यादा क्यों होता है तो यह सवाल एक दूसरे से बात ही नहीं करता है क्योंकि पढ़ाई और हम दोनों अलग चीजें हैं उससे उसका धर्म आप जो है अपनाते हैं जिस रीजन में आप पैदा हुए हैं जो आपका मतलब है आप उसको फॉलो करते हैं हम जो है उसी को कहते हैं लेकिन पढ़ाई आपकी जिंदगी के लिए जरूरी होती है वह आप जिंदगी को चलाने के लिए आगे तो जिंदगी बसर करने के लिए पढ़ाई करते हैं और अपने कैरियर के लिए अप्लाई करते हैं तो एक दूसरे की से कोई मेल नहीं है लेकिन अगर आपको ऐसा लगता है कि धर्म पर ज्यादा ध्यान दिया जाता है पढ़ाई पर एक काम तो यह भी बहुत गलत बात है क्योंकि आप धर्म भी करना चाहिए उसकी पढ़ाई भी करना चाहिए और ऐसी पढ़ाई जो आपकी जिंदगी के लिए जरूरी है वह पढ़ाई भी करें क्या राखी की राह पुस्तक

pakka sawaal hai bharat me padhai kam aur zyada kyon hota hai toh yah sawaal ek dusre se baat hi nahi karta hai kyonki padhai aur hum dono alag cheezen hain usse uska dharm aap jo hai apanate hain jis reason me aap paida hue hain jo aapka matlab hai aap usko follow karte hain hum jo hai usi ko kehte hain lekin padhai aapki zindagi ke liye zaroori hoti hai vaah aap zindagi ko chalane ke liye aage toh zindagi basar karne ke liye padhai karte hain aur apne carrier ke liye apply karte hain toh ek dusre ki se koi male nahi hai lekin agar aapko aisa lagta hai ki dharm par zyada dhyan diya jata hai padhai par ek kaam toh yah bhi bahut galat baat hai kyonki aap dharm bhi karna chahiye uski padhai bhi karna chahiye aur aisi padhai jo aapki zindagi ke liye zaroori hai vaah padhai bhi kare kya rakhi ki raah pustak

पक्का सवाल है भारत में पढ़ाई कम और ज्यादा क्यों होता है तो यह सवाल एक दूसरे से बात ही नहीं

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  195
WhatsApp_icon
play
user

विकास सिंह

दिल से भारतीय

0:47

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे भारत जो कि एक धर्मनिरपेक्ष देश है यहां पर अलग-अलग धन पाए जाते हैं जैसे कि हिंदू मुसलमान सिख इसाई जैन धर्म और हमारे भारत में पढ़ाई कम है बल्कि देश की जनता की हमारे देश की जो युवा जाट पढ़ाई से ज्यादा अलग अलग क्षेत्र में ध्यान देते जैसे कि देश की रक्षा ही कम है धार्मिक हिंदी सब कम किया जा सकता है

hamare bharat jo ki ek dharmanirapeksh desh hai yahan par alag alag dhan paye jaate hain jaise ki hindu musalman sikh isai jain dharm aur hamare bharat mein padhai kam hai balki desh ki janta ki hamare desh ki jo yuva jaat padhai se zyada alag alag kshetra mein dhyan dete jaise ki desh ki raksha hi kam hai dharmik hindi sab kam kiya ja sakta hai

हमारे भारत जो कि एक धर्मनिरपेक्ष देश है यहां पर अलग-अलग धन पाए जाते हैं जैसे कि हिंदू मुसल

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  296
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!