क्या हमें लगता नहीं की हम अपने जरुरत को पूरा करने के लिए नेचर को नुक्सान पहुंचाते हैं?...


play
user

विकास सिंह

दिल से भारतीय

0:41

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अभी हमारे देश में अगर हम देखें तो बिल्कुल एक इंसान के जुड़े जीवन को आसान बनाने के लिए यह जीवन को बेहतर बनाने के लिए हम लोग जैसे बहुत सारे ऐसे चीज का उपयोग करते हैं जिससे कि हमारे वातावरण को काफी दिक्कत होती है कि आप लिंग ज्यादा बन सके तो को आसान बनाने के लिए किसी को या नीचे को जो नुकसान दे दे

abhi hamare desh mein agar hum dekhen toh bilkul ek insaan ke jude jeevan ko aasaan banane ke liye yah jeevan ko behtar banane ke liye hum log jaise bahut saare aise cheez ka upyog karte hain jisse ki hamare vatavaran ko kaafi dikkat hoti hai ki aap ling zyada ban sake toh ko aasaan banane ke liye kisi ko ya niche ko jo nuksan de de

अभी हमारे देश में अगर हम देखें तो बिल्कुल एक इंसान के जुड़े जीवन को आसान बनाने के लिए यह ज

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  243
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!