पैसा जरुरी है या इज़्ज़त?...


play
user

Vimla Bidawatka

Spiritual Thinker

1:49

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पैसा जरूरी है या इज्जत वैसे तो दोनों ही पास में हो तो अच्छा है आजकल के समाज के हिसाब से तो दोनों चाहिए लेकिन अगर दोनों में से एक को चुनना पड़े कि पैसा बड़ा है या इज्जत तो मेरे ख्याल से इज्जत बढ़ी है ऐसा हो रजत नहीं हो तो पैसा किसी काम का नहीं है क्योंकि जब तुम्हारी इज्जत ही नहीं है तो पैसे का क्या है लेकिन इज्जत है तो पैसा आ सकता है लेकिन पैसे से आप इज्जत नहीं कर सकते हो एक एग्जांपल है कि अगर एक संत के उनके पास काफी रुपए थे और वह नाव में जा रहे थे तो उनको चोर ने देख लिया की इनके पास पैसे है तो उसने बोल दिया कि मेरे पैसे इन्होंने चुरा लिया चुरा लिया जब चेकिंग हुई तो उनके पास पैसे नहीं मिले और थोड़ी देर के बाद चोद ने पूछा कि तुमने वह पैसे थे और क्या किया तो सबने का बहुत सारे पैसे मैंने पानी में फेंक दिए नदी में फेंक दो जितने का तुमने ऐसा क्यों किया तो उसने बोला पैसे तो फिर भी आ जाएंगे लेकिन जो मेरी इज्जत है वह वापस नहीं आएगी तो इज्जत बहुत जरूरी है ऐसा क्या है वह तो आनी जानी आज है कल नहीं है लेकिन जो इज्जत बन गई समाज में या परिवार में वह बहुत जरूरी है आपकी पहचान है वह अगर आपने कुछ अच्छे काम किए हैं तो इज्जत बनती है बैठे बिठाये किसी को इज्जत नहीं मिलती है और इज्जत ऐसी चीजें की पैसों से नहीं खरीदी जा सकती है मांगी नहीं जा सकती है उसके लिए खुद मेहनत करनी पड़ती है मेहनत करने के बाद में वह इज्जत मिलती है तो पैसे से तो जरूरी है

paisa zaroori hai ya izzat vaise to donon hea pass mein ho to accha hai aajkal K samaj K hisaab se to donon chahie lekin agar donon mein se ek co chunana pade qi paisa bada hai ya izzat to mere khyala se izzat badhi hai aisa ho rajat nahin ho to paisa kisi kama ka nahin hai kyonki jab tumhari izzat hea nahin hai to paise ka kya hai lekin izzat hai to paisa aa sakta hai lekin paise se aap izzat nahin car sakte ho ek egjampal hai qi agar ek sant K unke pass kaafi rupe the aur wah NOW mein ja rahe the to unko chor ne dekh liya ki inke pass paise hai to usne bowl diya qi mere paise inhonne chura liya chura liya jab checking hue to unke pass paise nahin mile aur thodi their K baad choth ne pucha qi tumne wah paise the aur kya kiya to sabane ka bahut saare paise maine pani mein fenk die nadi mein fenk though jitne ka tumne aisa kio kiya to usne bolla paise to phir bhi aa jaenge lekin joe meri izzat hai wah vapusha nahin aaegi to izzat bahut zaroori hai aisa kya hai wah to aani jani aj hai kal nahin hai lekin joe izzat bun gi samaj mein ya parivar mein wah bahut zaroori hai aapki pehchan hai wah agar aapne kuch achchhe kama kiye hain to izzat banati hai baithe bithaaye kisi co izzat nahin milti hai aur izzat aisi chijen ki paiso se nahin kharidi ja sakti hai MANGI nahin ja sakti hai uske lie khud mehanat karni padati hai mehanat karne K baad mein wah izzat milti hai to paise se to zaroori hai

पैसा जरूरी है या इज्जत वैसे तो दोनों ही पास में हो तो अच्छा है आजकल के समाज के हिसाब से तो

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  259
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!