में अपनी ज़िंदगी से तंग आ गया हूँ क्या करूँ?...


user

Dr Shahin Fidai

Counseling as per Neuroscience, www.Youtube.com/Shahintalks www.Thevitalitycafe.com/Counseling

1:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है मैं अपनी जिंदगी से तंग आ गया हूं क्या करूं और यह सवाल जो है बहुत ही इंपॉर्टेंट है क्योंकि यह आपको सोचने पर मजबूर कर रहा है इसका मतलब है कि आपकी जो सोचे वह बहुत ही नकारात्मक है नेगेटिव सोच है और कृपया करके मैं आपसे गुजारिश करती हूं कि प्लीज अपनी सोच को थोड़ी सी पॉजिटिव रखिए अपने आसपास की जो थोड़ा सा बुक करनी चाहिए गार्डन में थोड़ा सा प्राणायाम कीजिए क्योंकि प्राणायाम करने से क्या होता है कि हमारे जो क्लेरिटी आती है हमारे थॉट्स में थोड़ी सी क्लेरिटी आती है हमारी थोड़ी सी थम जाते हैं और हमें इतना एक जगह मिलता है कुछ सोचने का और जीवन की जो प्रॉब्लम है उसको थोड़ा सा हल ढूंढने में हमें थोड़ी सी आसानी हो जाती है तो प्रॉब्लम तो हर एक की जिंदगी में है इंस्पेक्टर बुद्धिज्म में तो यह कहा भी गया है कि सफरिंग इन सफरिंग हर एक के जीवन में है इजाजत आर्यन के हर एक को दुख मिलता है जिसे जो कोई भी एक का हो या कोई भी एक दूसरे को दुख भुगतना है सवाल यह है कि मैं जिंदगी को किस तरह से हैंडल कर रही हूं ऐसा दिख रहा है जैसे आप बहुत ही नेगेटिव सोच रहे हैं प्लीज आपकी सोच को थोड़ी सी पॉजिटिव रखिए जो भी आपके जीवन में प्रॉब्लम है उसके एक अपॉर्चुनिटी के तौर पर लीजिए और उसके ऊपर थोड़ा सा काम कीजिए ताकि आपको सलूशन बने हम दुआ करते हैं कि आपका जीवन

aapka prashna hai main apni zindagi se tang aa gaya hoon kya karu aur yah sawaal jo hai bahut hi important hai kyonki yah aapko sochne par majboor kar raha hai iska matlab hai ki aapki jo soche vaah bahut hi nakaratmak hai Negative soch hai aur kripya karke main aapse gujarish karti hoon ki please apni soch ko thodi si positive rakhiye apne aaspass ki jo thoda sa book karni chahiye garden me thoda sa pranayaam kijiye kyonki pranayaam karne se kya hota hai ki hamare jo kleriti aati hai hamare thoughts me thodi si kleriti aati hai hamari thodi si tham jaate hain aur hamein itna ek jagah milta hai kuch sochne ka aur jeevan ki jo problem hai usko thoda sa hal dhundhne me hamein thodi si aasani ho jaati hai toh problem toh har ek ki zindagi me hai inspector buddhijm me toh yah kaha bhi gaya hai ki suffering in suffering har ek ke jeevan me hai ijajat aryan ke har ek ko dukh milta hai jise jo koi bhi ek ka ho ya koi bhi ek dusre ko dukh bhugatna hai sawaal yah hai ki main zindagi ko kis tarah se handle kar rahi hoon aisa dikh raha hai jaise aap bahut hi Negative soch rahe hain please aapki soch ko thodi si positive rakhiye jo bhi aapke jeevan me problem hai uske ek opportunity ke taur par lijiye aur uske upar thoda sa kaam kijiye taki aapko salution bane hum dua karte hain ki aapka jeevan

आपका प्रश्न है मैं अपनी जिंदगी से तंग आ गया हूं क्या करूं और यह सवाल जो है बहुत ही इंपॉर्ट

Romanized Version
Likes  65  Dislikes    views  1497
KooApp_icon
WhatsApp_icon
7 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
tang aa gaya hu ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!