अमृतसर हादसा का हाधसाया प्रशासन की गलती है, प्रशासन चाहती तो रेल को रुकवा सकती थी तो यह हादसा नहीं हुआ होता?...


play
user

विकास सिंह

दिल से भारतीय

1:49

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अमृतसर में जो बहुत ही बड़ा ट्रेन हादसा हुआ है इसमें प्रशासन की गलती है बिल्कुल प्रशासन की तो बहुत ही बड़ी गलतियां भूल सकते हैं और प्रशासन के साथ-साथ वहां की स्थानीय लोगों की गलती है कि कहीं पर भी किसी प्रकार का कोई भी पूजा आया मतलब कोई प्रोग्राम आयोजित करते हैं तो आपको यह आप रेलवे लाइन के पास के पास कर्मचारी की इन्फॉर्म कर दें ताकि जो चेंज वहां से धीरे निकले कोई इंफॉर्मेशन नहीं दिया गया था साथ ही साथ अगर इतना बड़ा वहां पर जो है मतलब रावण दहन हो रहा था तो प्रशासन का हाथी अगला बंद है नीता बस चलता तो ऊपर से वहां पर जगजीत सिंह सिद्धू की जब आई थी वह चीफ गेस्ट इन थे शासन क्या मतलब बचाने के लिए बिजी थे बाकी जनता यह बाकी आम जनता के लिए नहीं भेजी थी मतलब यह होता है कि जो प्रशासन होती होती है आम जनता नहीं होती है प्रशासन की बहुत बड़ी गलती है प्रशासन चाहती तो रेल रेल को रुकवा सकती थी तो अच्छा नहीं होता नहीं होती तो घट जाती है जाती तो उसमें कितने लोगों की जान जा सकती थी नीचे जान जाती रे जाती ऊपर से चीन में भी जान जाती है मेहंदी का रंग रेलवे चार्ट पर कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा था तुमको पता नहीं चला कि तेरे को चाय पर कोई खाना है या ना कर नहीं कराया और लोग वीडियो बनाने में कितने मासूम थे और साथ ही साथ पटाखे कितनी तेज आवाज से कोई भी ट्रेन आवाज सुन नहीं पाया जिसके हाथ से करोगे तो भी कोई काबू कर सकती थी जैसे कि

amritsar mein jo bahut hi bada train hadsa hua hai isme prashasan ki galti hai bilkul prashasan ki toh bahut hi badi galtiya bhool sakte hain aur prashasan ke saath saath wahan ki sthaniye logo ki galti hai ki kahin par bhi kisi prakar ka koi bhi puja aaya matlab koi program ayojit karte hain toh aapko yah aap railway line ke paas ke paas karmchari ki inform kar de taki jo change wahan se dhire nikle koi information nahi diya gaya tha saath hi saath agar itna bada wahan par jo hai matlab ravan dahan ho raha tha toh prashasan ka haathi agla band hai neeta bus chalta toh upar se wahan par jagjeet Singh sidhu ki jab I thi vaah chief guest in the shasan kya matlab bachane ke liye busy the baki janta yah baki aam janta ke liye nahi bheji thi matlab yah hota hai ki jo prashasan hoti hoti hai aam janta nahi hoti hai prashasan ki bahut badi galti hai prashasan chahti toh rail rail ko rukvaa sakti thi toh accha nahi hota nahi hoti toh ghat jaati hai jaati toh usme kitne logo ki jaan ja sakti thi niche jaan jaati ray jaati upar se china mein bhi jaan jaati hai mehendi ka rang railway chart par kuch bhi dikhai nahi de raha tha tumko pata nahi chala ki tere ko chai par koi khana hai ya na kar nahi karaya aur log video banane mein kitne masoom the aur saath hi saath patakhe kitni tez awaaz se koi bhi train awaaz sun nahi paya jiske hath se karoge toh bhi koi kabu kar sakti thi jaise ki

अमृतसर में जो बहुत ही बड़ा ट्रेन हादसा हुआ है इसमें प्रशासन की गलती है बिल्कुल प्रशासन की

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  260
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
lakipichar ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!