हम अपने समाज में एकता कैसे बनाए रख सकते हैं?...


user

S. M. Jha

Social Worker

4:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज जिस दूसरा परिस्थिति से देश गुजर रही है यह किसी संक्रमण काल से कम नहीं है आज समाज में एकता समाजिक समरसता समाजिक भाईचारा सभी पर ग्रहण लगा हुआ है और इसके पीछे सबसे बड़ी कार योजना आज के इन भ्रष्ट और कुछ सित राजनेताओं की है भ्रष्ट राजनेता अपने आप को सत्ता में बनाए रखने के लिए समाज को तहस-नहस करने पर आमादा आज समाज के अंदर धार्मिक उन्माद का कारण राजनेता है आज समाज के अंदर धार्मिक विद्वेष का कारण राजनेता है आज समाज के अंदर आपसी भाईचारा को तोड़ने वाले राजनेता है आज समाज के अंदर एक दूसरे को संदेश से देखने का कारण सिर्फ और सिर्फ राजनेता है यदि समाज में एकता बनाए रखे जाने की बात है तो हमें इन उचित सोच वाले राजनेताओं के कुकृत्य और इनके शादी से बचना होगा क्योंकि इन राजनेताओं को हमारे मरने जीने का कोई ज्यादा फर्क नहीं पड़ता है आप सुने भी होंगे कि पड़ोसी कभी नहीं बदल सकते आप दोस्त बदल सकते हैं लेकिन पड़ोसी नहीं बदल सकते अब आप ऐसे मान लीजिए कि आज आपके घर के बगल में एक आपका मित्र है और वह मित्र आपके धर्म का नहीं है मान लीजिए वह मित्र का नाम महमूद है जो आपके एक खरोच पर भी लग जाता है आपको तकलीफ में देखकर परेशान हो जाता है रात के 12:00 बजे जब आपकी मम्मी आपके पापा बीमार होते हैं तो एक उचित ढोंगी और सोच ले भाई नेता आपके मदद के लिए नहीं आते वही महमूद आता है लेकिन इन हरामजादे नेताओं के कारण राजनेताओं के कारण यदि आपने सामाजिक समरसता को ध्वंस कर दिया अपने दोस्त महमूद से धार्मिक उन्माद में झगड़ा कर लिया उसे हानि पहुंचा दिया या फिर आपका दोस्त महमूद ही किसी हरामजादे राजनेता के भड़काने में आकर आपका हानि पहुंचा दिया तो आने वाले समय में दोनों पड़ोसी एक दूसरे की मदद के लिए कभी खड़ा नहीं हो पाएंगे सामाजिक एकता का जो ताना-बाना हमारे पूर्वजों ने रचा बसा रखा था वह इतना मजबूत था कि ईद में हिंदू और मुसलमान में अंतर नहीं होता था होली में मुसलमान और हिंदू में अंतर नहीं होता था आप जिस तरह से हिंदुओं में दिवाली बनाए जाने की बात थी मुसलमानों में शबे बरात बनाया जाता था हम लोग होली में हिंदू गले मिलते थे हिंदू से मुस्लिम मुस्लिम से हिंदू उसी तरह से ईद में मुस्लिम से हिंदू और हिंदू से मुस्लिम लेकिन आज के वर्तमान परिपेक्ष में धार्मिक उन्माद का जो जहर बोया गया है या बोया जा रहा है उसके कारण या सामाजिक समरसता एकदम बिखरने के कगार पर पहुंच गया है यदि हम सब अभी भी नहीं जगह और इन होंगी तो चले बाज और धोखेबाज बेईमान राजनेताओं के फरेब में फंसकर अपने ही परिवार में अपने ही भाईचारे को अपने समाज में विकृति पैदा करने में लग जाए तो आने वाला भारत आने वाले समाज और आने वाला हम लोगों का भविष्य पूर्णता अंधकारमय हो जाएगा और उसके लिए हम इन राजनेताओं को दोषी ठहराने से कुछ हासिल नहीं कर पाएंगे उसके लिए सबसे बड़े दिन दोषी कोई होगा वह हम लोग होंगे तो किस समय रहते हम लोगों ने इनको चले बाजों के छाल और प्रपंच को नहीं समझा दोस्तों आइए हम लोग आपस में एक हो जाए समाज को ही मजबूती में पुनः ले आए जिस मजबूती में हमारे पूर्वजों ने समाज को रखा था जिस मजबूती में हमारे पूर्वजों ने संबंधों को निभाया था धार्मिक समन्वय एवं सामंजस्य को निभाया था आज भी उसी का दरकार है आए मिलजुल कर समाज निर्माण में अपना भूमिका निभाएं और धार्मिक उन्माद को तौबा करें धार्मिक उन्माद को कभी अपने अंदर आने नहीं दे और धोखेबाज बेईमान भ्रष्ट और छल प्रपंच ई राजनेताओं के कुप्रभाव में फंसने से परहेज करें बहुत-बहुत धन्यवाद

aaj jis doosra paristhiti se desh gujar rahi hai yah kisi sankraman kaal se kam nahi hai aaj samaj me ekta samajik samarsata samajik bhaichara sabhi par grahan laga hua hai aur iske peeche sabse badi car yojana aaj ke in bhrasht aur kuch sit rajnetao ki hai bhrasht raajneta apne aap ko satta me banaye rakhne ke liye samaj ko tahas nahas karne par amada aaj samaj ke andar dharmik unmaad ka karan raajneta hai aaj samaj ke andar dharmik vidwesh ka karan raajneta hai aaj samaj ke andar aapasi bhaichara ko todne waale raajneta hai aaj samaj ke andar ek dusre ko sandesh se dekhne ka karan sirf aur sirf raajneta hai yadi samaj me ekta banaye rakhe jaane ki baat hai toh hamein in uchit soch waale rajnetao ke kukritya aur inke shaadi se bachna hoga kyonki in rajnetao ko hamare marne jeene ka koi zyada fark nahi padta hai aap sune bhi honge ki padosi kabhi nahi badal sakte aap dost badal sakte hain lekin padosi nahi badal sakte ab aap aise maan lijiye ki aaj aapke ghar ke bagal me ek aapka mitra hai aur vaah mitra aapke dharm ka nahi hai maan lijiye vaah mitra ka naam mahmood hai jo aapke ek kharoch par bhi lag jata hai aapko takleef me dekhkar pareshan ho jata hai raat ke 12 00 baje jab aapki mummy aapke papa bimar hote hain toh ek uchit dhongi aur soch le bhai neta aapke madad ke liye nahi aate wahi mahmood aata hai lekin in haramjade netaon ke karan rajnetao ke karan yadi aapne samajik samarsata ko dhwans kar diya apne dost mahmood se dharmik unmaad me jhagda kar liya use hani pohcha diya ya phir aapka dost mahmood hi kisi haramjade raajneta ke bhadkaane me aakar aapka hani pohcha diya toh aane waale samay me dono padosi ek dusre ki madad ke liye kabhi khada nahi ho payenge samajik ekta ka jo tana bana hamare purvajon ne racha basa rakha tha vaah itna majboot tha ki eid me hindu aur musalman me antar nahi hota tha holi me musalman aur hindu me antar nahi hota tha aap jis tarah se hinduon me diwali banaye jaane ki baat thi musalmanon me shabay baraat banaya jata tha hum log holi me hindu gale milte the hindu se muslim muslim se hindu usi tarah se eid me muslim se hindu aur hindu se muslim lekin aaj ke vartaman paripeksh me dharmik unmaad ka jo zehar boya gaya hai ya boya ja raha hai uske karan ya samajik samarsata ekdam bikharane ke kagar par pohch gaya hai yadi hum sab abhi bhi nahi jagah aur in hongi toh chale baaj aur dhokhebaj beiimaan rajnetao ke fareb me fansakar apne hi parivar me apne hi bhaichare ko apne samaj me vikriti paida karne me lag jaaye toh aane vala bharat aane waale samaj aur aane vala hum logo ka bhavishya purnata andhakarmay ho jaega aur uske liye hum in rajnetao ko doshi thaharane se kuch hasil nahi kar payenge uske liye sabse bade din doshi koi hoga vaah hum log honge toh kis samay rehte hum logo ne inko chale bajon ke chaal aur PRAPANCH ko nahi samjha doston aaiye hum log aapas me ek ho jaaye samaj ko hi majbuti me punh le aaye jis majbuti me hamare purvajon ne samaj ko rakha tha jis majbuti me hamare purvajon ne sambandhon ko nibhaya tha dharmik samanvay evam samanjasya ko nibhaya tha aaj bhi usi ka darkaar hai aaye miljul kar samaj nirmaan me apna bhumika nibhayen aur dharmik unmaad ko tauba kare dharmik unmaad ko kabhi apne andar aane nahi de aur dhokhebaj beiimaan bhrasht aur chhal PRAPANCH E rajnetao ke kuprabhav me fansane se parhej kare bahut bahut dhanyavad

आज जिस दूसरा परिस्थिति से देश गुजर रही है यह किसी संक्रमण काल से कम नहीं है आज समाज में एक

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  157
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!