बच्चों की पढ़ाई में अपनी ज़िंदगी की पूरी कमाई लगाने के बाद वह बेरोज़गार रहें तो माँ-बाप को क्या करना चाहिए?...


user

Deepak Sahani

स्वच्छंद कलाकार Freelance Artist

1:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यदि अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद भी बच्चे बेरोजगार रहे उन्हें किसी गवर्नमेंट या प्राइवेट संस्था संस्था रिया कंपनी में जॉब न मिले तो भी निराश होने की आवश्यकता नहीं है बच्चों को स्वरोजगार की प्रेरणा देनी चाहिए जो कम से कम लागत लगाकर शुरू किया जा सके क्योंकि कुछ करने की अपेक्षा कुछ न कुछ करते रहने में ही भलाई है जितनी शिद्दत से हम किसी कंपनी या संस्था में काम करते हैं उतनी ही शिद्दत से अधिक स्वरोजगार किया जाए उतना ही फर्टिलाइजर स्वरोजगार में सफलता शत-प्रतिशत मिलेगी और इससे बच्चों का आत्मविश्वास भी बढ़ेगा बच्चे अपने रोजगार से खुश रहेंगे और बच्चों की खुशियों से आप खुश रहेंगे धन्यवाद

yadi apni padhai puri karne ke baad bhi bacche berozgaar rahe unhe kisi government ya private sanstha sanstha riya company me job na mile toh bhi nirash hone ki avashyakta nahi hai baccho ko swarojgar ki prerna deni chahiye jo kam se kam laagat lagakar shuru kiya ja sake kyonki kuch karne ki apeksha kuch na kuch karte rehne me hi bhalai hai jitni shiddat se hum kisi company ya sanstha me kaam karte hain utani hi shiddat se adhik swarojgar kiya jaaye utana hi fertilizer swarojgar me safalta shat pratishat milegi aur isse baccho ka aatmvishvaas bhi badhega bacche apne rojgar se khush rahenge aur baccho ki khushiyon se aap khush rahenge dhanyavad

यदि अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद भी बच्चे बेरोजगार रहे उन्हें किसी गवर्नमेंट या प्राइवेट सं

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  117
WhatsApp_icon
30 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Laljee Gupta

Career Counsellor

4:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गुड इवनिंग फ्रेंड्स वेरी वेरी गुड इवनिंग फ्रेंड्स आपका प्रश्न है कि बच्चे की पढ़ाई में अपनी जिंदगी की पूरी कमाई लगाने के बाद वह बेरोजगार रहे तो मां-बाप को क्या करना चाहिए लेकिन आपके प्रश्न को 2 पार्ट में डिवाइड कर देते हैं पहला तो आपका प्रश्न है यह पाठ है कि बच्चे की पढ़ाई में अपनी पूरी जिंदगी की कमाई लगाने के बाद लगाने तक देखी आपने पढ़ाई में अपनी जिंदगी की पूरी कमाई आपने लगा दिया यह बिल्कुल सही बात है अभिभावक पूरे जी-जान से अपने खून पसीने की कमाई अपनी पूरी जिंदगी की कमाई बच्चों की पढ़ाई पर लगा देता है लेकिन अब यहां प्रश्न यह है कि आपने अपनी पूरी पढ़ाई उसकी पढ़ाई पर आपने पूरे पैसे लगा दिए आपने कभी बच्चे की पढ़ाई को फीडबैक लिया कि बच्चा हमारा क्या पढ़ रहा है नेशनल और इंटरनेशनल धारा में शामिल हो रहा है कि नहीं हो रहा है समय के अनुसार इसका जो एजुकेशन है वह चल रहा है कि नहीं चल रहा है बच्चा हमारा जो है वह ओरिएंटेड एक प्रॉमिस टाइप की स्टडी कर रहा है कि नहीं कर रहा है कि पापा आप अपनी कमाई लगा रहे हो तो मैं यह कोरियन टेट रिजल्ट आपको दूंगा क्या ऐसा हुआ आपने कुछ फीडबैक लिया और अगर आपने नहीं लिया तो इसमें गलती आपकी है इसमें गलती आपकी है और आप भी कहीं ना कहीं अपना पैसा गलत जगह लगा रहे हैं ओके आपको फीडबैक लेना चाहिए था कि बच्चा मेरा मेरे पैसे का उपयोग हो रहा है कि नहीं हो रहा है सपोर्ट कीजिए आपका बच्चा बीटेक कर रहा है या पॉलिटेक्निक कर रहा है या एमबीए कर रहा है या बीएससी कर रहा है तो क्या उसमें उसका जो इनिशियल प्रारंभिक जो परिणाम है वह अनुकूल है कि नहीं है क्या उसकी रुचि उसमें है कि नहीं है साल भर के पश्चात उसका जो रिजल्ट आ रहा है क्या वह ओरियंटेशन के के करीब है कि नहीं है और अगर आपका बच्चा पड़ रहा है मेहनत कर रहा है परिश्रम कर रहा है स्टडी कर रहा है कब तक पेपर बनाया हुआ है तब तो आप ऐसा लगा तो ठीक था लेकिन आपने दोस्त फीडबैक नहीं किया आपने सही ढंग से चेक नहीं किया आपका पैसा भी चला गया और बच्चे ने पढ़ाई पूरी नहीं की बच्चा अगर पढ़ाई पूरी करता तो आज आप ऐसा नहीं कहते रही बात बेरोजगार होने की एक पढ़ा-लिखा बच्चा कभी बेरोजगार हो सकता है आप कुछ सोचिए अपने मन से बेरोजगार वह हो सकता है जिसको कोई काम दिखाई नहीं दे रहा होता के लोकतंत्र है भारत में डेमोक्रेसी है इसमें सबको समान अवसर मिलता है एक व्यापार चुनौती ओके कि वह रोजगार के लिए कुछ ऐसे परिस्थितियां स्थितियां क्रिएट करें और वह कुछ काम करें कुछ हुनर उसके अंदर आए ऐसा कुछ उसे करना चाहिए हम आपकी इस बात से पूरी तरह सहमत नहीं है कि बच्चा अच्छी तरह से पढ़ाई लिखाई करने के बाद भी वह बेरोजगार है अगर वह बेरोजगार है तो उसमें उस बच्चे का दोष है वह बच्चा आपका कहीं ना कहीं गलत दिशा की ओर जा रहा है कब अगर गलत दिशा की ओर नहीं जा रहा है तो हो सकता है अभी आपके पास और भी कुछ पैसे हो जिसमें वह खर्च कर लेगा और एक न एक दिन उसको रास्ता दिखाई देने लग जाएगा कि हमको क्या करना चाहिए ओके थैंक यू बस इतना ही मुझसे आपका कहना है

good evening friends very very good evening friends aapka prashna hai ki bacche ki padhai me apni zindagi ki puri kamai lagane ke baad vaah berozgaar rahe toh maa baap ko kya karna chahiye lekin aapke prashna ko 2 part me divide kar dete hain pehla toh aapka prashna hai yah path hai ki bacche ki padhai me apni puri zindagi ki kamai lagane ke baad lagane tak dekhi aapne padhai me apni zindagi ki puri kamai aapne laga diya yah bilkul sahi baat hai abhibhavak poore ji jaan se apne khoon pasine ki kamai apni puri zindagi ki kamai baccho ki padhai par laga deta hai lekin ab yahan prashna yah hai ki aapne apni puri padhai uski padhai par aapne poore paise laga diye aapne kabhi bacche ki padhai ko feedback liya ki baccha hamara kya padh raha hai national aur international dhara me shaamil ho raha hai ki nahi ho raha hai samay ke anusaar iska jo education hai vaah chal raha hai ki nahi chal raha hai baccha hamara jo hai vaah oriented ek promise type ki study kar raha hai ki nahi kar raha hai ki papa aap apni kamai laga rahe ho toh main yah korean tet result aapko dunga kya aisa hua aapne kuch feedback liya aur agar aapne nahi liya toh isme galti aapki hai isme galti aapki hai aur aap bhi kahin na kahin apna paisa galat jagah laga rahe hain ok aapko feedback lena chahiye tha ki baccha mera mere paise ka upyog ho raha hai ki nahi ho raha hai support kijiye aapka baccha btech kar raha hai ya polytechnic kar raha hai ya mba kar raha hai ya bsc kar raha hai toh kya usme uska jo initial prarambhik jo parinam hai vaah anukul hai ki nahi hai kya uski ruchi usme hai ki nahi hai saal bhar ke pashchat uska jo result aa raha hai kya vaah orientation ke ke kareeb hai ki nahi hai aur agar aapka baccha pad raha hai mehnat kar raha hai parishram kar raha hai study kar raha hai kab tak paper banaya hua hai tab toh aap aisa laga toh theek tha lekin aapne dost feedback nahi kiya aapne sahi dhang se check nahi kiya aapka paisa bhi chala gaya aur bacche ne padhai puri nahi ki baccha agar padhai puri karta toh aaj aap aisa nahi kehte rahi baat berozgaar hone ki ek padha likha baccha kabhi berozgaar ho sakta hai aap kuch sochiye apne man se berozgaar vaah ho sakta hai jisko koi kaam dikhai nahi de raha hota ke loktantra hai bharat me democracy hai isme sabko saman avsar milta hai ek vyapar chunauti ok ki vaah rojgar ke liye kuch aise paristhiyaann sthitiyan create kare aur vaah kuch kaam kare kuch hunar uske andar aaye aisa kuch use karna chahiye hum aapki is baat se puri tarah sahmat nahi hai ki baccha achi tarah se padhai likhai karne ke baad bhi vaah berozgaar hai agar vaah berozgaar hai toh usme us bacche ka dosh hai vaah baccha aapka kahin na kahin galat disha ki aur ja raha hai kab agar galat disha ki aur nahi ja raha hai toh ho sakta hai abhi aapke paas aur bhi kuch paise ho jisme vaah kharch kar lega aur ek na ek din usko rasta dikhai dene lag jaega ki hamko kya karna chahiye ok thank you bus itna hi mujhse aapka kehna hai

गुड इवनिंग फ्रेंड्स वेरी वेरी गुड इवनिंग फ्रेंड्स आपका प्रश्न है कि बच्चे की पढ़ाई में अ

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  181
WhatsApp_icon
user

Dr. J.Singh

Financial Expert || Ayurvedic Doctor

2:05
Play

Likes  10  Dislikes    views  116
WhatsApp_icon
user

Kanhaiya Bhardwaj

Yoga Expert, M D Panchgavya, Spiritual ,National & Motivational Speaker

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तेरी आंखें बहुत बड़ी समस्या है कि मां-बाप को केवल आजकल जो पढ़ाई चल रही है नौकर बनाने के लिए दी जा रही है तो मां-बाप की थी कि बच्चों को नौकर न बनायें बच्चों को ऐसी शिक्षा दें ऐसी संस्कार दें कि बच्चे अपने पैरों पर खड़ा हो जाए आज की शिक्षा व्यवस्था है वह क्यों बनाती हो और बहुत डिग्री लेने के बाद बहुत पढ़ाई पढ़ने के बाद ही व्यक्ति को तो शिकारी रहता है

teri aankhen bahut badi samasya hai ki maa baap ko keval aajkal jo padhai chal rahi hai naukar banane ke liye di ja rahi hai toh maa baap ki thi ki baccho ko naukar na banayen baccho ko aisi shiksha de aisi sanskar de ki bacche apne pairon par khada ho jaaye aaj ki shiksha vyavastha hai vaah kyon banati ho aur bahut degree lene ke baad bahut padhai padhne ke baad hi vyakti ko toh shikaaree rehta hai

तेरी आंखें बहुत बड़ी समस्या है कि मां-बाप को केवल आजकल जो पढ़ाई चल रही है नौकर बनाने के लि

Romanized Version
Likes  33  Dislikes    views  630
WhatsApp_icon
user

Ankit Shukla

Career Counsellor | Insurance Advisor

1:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए आप अपने बच्चों की पढ़ाई में पूरी जिंदगी कमाई लगाने के बाद बेरोजगार है तो मां-बाप को क्या करना चाहिए मैं आपको बताऊं कि आप को पहले से ही सिस्टमैटिक प्लानिंग करके चलना है नहीं सारा पैसा ऐसा नहीं है कि आप कोई एक लगा देना आप अपने रिटायरमेंट प्लान को लेकर के साथ में चलना साथ में अपने बच्चों को पढ़ाई के लिए बच्चे को आ सकते जिससे कि बच्चे के ऊपर भी एक लायबिलिटी बनेगी और वह उस को बिल्कुल फ्री करनी होगी एजुकेशन लोन बहुत ही आसानी से अवेलेबल है इससे मींस आप और चीजों को मैनेज कर सकता और बच्चा भी अपनी जिम्मेदारियों को समझेगा और समझ करके नींद से उसको उनका अनुपालन करें तो मेरा यही सजेशन है कि आप बच्चों की पढ़ाई के लिए अपनी कमाई ना लगा कर के आप उसे एजुकेशन लोन दिलाने हायर स्टडीज के लिए को जब एजुकेशन लोन चल पढ़ाई करेगा तो उसको भी पता होगा कि नहीं मुझे आफ्टर कंपलीशन आफ स्टडीज ग्वालियर के बाद मुझे यह लोन चुकाना शुरू करना है तो उसके लिए सो मेनी टाइप ऑफ़ अनइंप्लॉयमेंट एंड इंटरनल सैक्रिफाइस

dekhiye aap apne baccho ki padhai me puri zindagi kamai lagane ke baad berozgaar hai toh maa baap ko kya karna chahiye main aapko bataun ki aap ko pehle se hi systematic planning karke chalna hai nahi saara paisa aisa nahi hai ki aap koi ek laga dena aap apne retirement plan ko lekar ke saath me chalna saath me apne baccho ko padhai ke liye bacche ko aa sakte jisse ki bacche ke upar bhi ek Liability banegi aur vaah us ko bilkul free karni hogi education loan bahut hi aasani se available hai isse means aap aur chijon ko manage kar sakta aur baccha bhi apni jimmedariyon ko samjhega aur samajh karke neend se usko unka anupaalan kare toh mera yahi suggestion hai ki aap baccho ki padhai ke liye apni kamai na laga kar ke aap use education loan dilaane hire studies ke liye ko jab education loan chal padhai karega toh usko bhi pata hoga ki nahi mujhe after kampalishan of studies gwalior ke baad mujhe yah loan chukaana shuru karna hai toh uske liye so many type of anaimplayament and internal sacrifice

देखिए आप अपने बच्चों की पढ़ाई में पूरी जिंदगी कमाई लगाने के बाद बेरोजगार है तो मां-बाप को

Romanized Version
Likes  39  Dislikes    views  677
WhatsApp_icon
user

Bhim Singh Kasnia

Acupunctrist,Motivational Speaker

1:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार सवाल बहुत अच्छा है कि बच्चों की पढ़ाई में अपनी जिंदगी की पूरी कमाई लगाने के बाद भी वह बेरोजगार रहे नौकरी ना लगे तो मां-बाप को क्या करना चाहिए देखिए इसमें निराश होने की आवश्यकता नहीं है आपने इसमें लिखा कि बच्चों की पढ़ाई में जिंदगी की कमाई लगाई यानी कि बच्चे अच्छे पढ़े-लिखे हैं तो उनको आप किसी भी व्यापारिक लाइन में किसी भी छोटे-मोटे बिजनेस में आप डाल सकते हैं और जरूरी नहीं कि पढ़ने के बाद सभी को नौकरी हमें इस समाज में रहना है तो बहुत सारे काम एक दूसरे को एक दूसरे को पूरक बनाने के लिए करने पड़ते हैं तो आपको निराश होने की आवश्यकता नहीं है अपने बच्चों को आप अच्छी बिजनेस लाइन उनकी समझ के हिसाब से उनकी एजुकेशन के हिसाब से दे सकते हैं और अगर इसमें आपको दिक्कत आए तो आप इसमें काउंसलिंग भी ले सकते हैं कि आपका कौन सा बच्चा किस तरह के व्यापार को करने में निपुण रहेगा इन्हीं शब्दों के साथ नमस्कार

namaskar sawaal bahut accha hai ki baccho ki padhai me apni zindagi ki puri kamai lagane ke baad bhi vaah berozgaar rahe naukri na lage toh maa baap ko kya karna chahiye dekhiye isme nirash hone ki avashyakta nahi hai aapne isme likha ki baccho ki padhai me zindagi ki kamai lagayi yani ki bacche acche padhe likhe hain toh unko aap kisi bhi vyaparik line me kisi bhi chote mote business me aap daal sakte hain aur zaroori nahi ki padhne ke baad sabhi ko naukri hamein is samaj me rehna hai toh bahut saare kaam ek dusre ko ek dusre ko purak banane ke liye karne padate hain toh aapko nirash hone ki avashyakta nahi hai apne baccho ko aap achi business line unki samajh ke hisab se unki education ke hisab se de sakte hain aur agar isme aapko dikkat aaye toh aap isme kaunsaling bhi le sakte hain ki aapka kaun sa baccha kis tarah ke vyapar ko karne me nipun rahega inhin shabdon ke saath namaskar

नमस्कार सवाल बहुत अच्छा है कि बच्चों की पढ़ाई में अपनी जिंदगी की पूरी कमाई लगाने के बाद भी

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  110
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  5  Dislikes    views  110
WhatsApp_icon
user

N.S.Ramola

Pharmacist, Motivational Speaker

1:15
Play

Likes  4  Dislikes    views  109
WhatsApp_icon
user

Anshu Saxena

Business Manager

4:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बच्चों की पढ़ाई में अपनी जिंदगी की पूरी कमाई लगाने के बाद को बेरोजगार रहे यह वाकई दुख की बात है और यह सवाल आज के जीवन में बहुत महत्वपूर्ण है परंतु मैं यह कहना चाहूंगा कि हम जब बच्चों को पढ़ाते हैं अच्छी शिक्षा देते हैं और हमारे मन में छवि बनी रहती है कि हमने पढ़ाई कराई तो उसको आईएस बनाएंगे उसको डॉक्टर बनाएंगे उसको यह तैयारी पूरी करने के बाद उसको मंदिर मिलने में देर हो सकती है क्या नहीं मिलती तो हमने कभी यह सोचा ही नहीं कि अगर ऐसा नहीं होगा तो दूसरा ऑप्शन क्या है क्योंकि वह पढ़ कर लेगा उसे सर्विस मिल जाएगी अच्छी सर्विस मिल जाएगी अच्छी जगह मिल जाएगी बस हमें यह तय करके चलते हैं इस चीज को कि ऐसा करने से ऐसा हो जाएगा आप लोग ही नहीं सभी मां बाप जो एक उच्च शिक्षा बच्चों को देना चाहते हैं बार पढ़ाना चाहते हैं तो सबसे बड़ा रीजन यह है कि हम आज अगर उनके साथ ऐसा होता है उनको नौकरी अच्छी नहीं मिलती है मिलती है तो वह बच्चा करना नहीं चाहता उसका एडवांस फिर उसके लायक नहीं होता है या जो भी है या वह घर से दूर जाना चाहता है आपने भेजते सिखाई बातें बाद में प्रैक्टिकली सामने आते हैं और उन्हें क्या आप क्या करें देखिए आप मां-बाप हैं चिंता करना स्वाभाविक है और जिंदगी की अगर कड़ी मेहनत की जमा पूंजी बच्चों पर खर्च करते हैं तो यह उम्मीद भी है हर मां-बाप को होती है आपकी हर एक होती है कि वह अपनी जिंदगी में और ताकि हम लोग हमारी आंख बंद हो मैंने हंसता खेलता एक परिवार छोड़कर जाए अब अगर ऐसा नहीं हुआ तो अपने बच्चों के साथ बैठी है और पेट करके उन्होंने जो भी शिक्षा ग्रहण करके उनसे सलाह करिए अगर नौकरी नहीं मिलती तो हम कुछ और भी कर सकते हैं अभी तक आपने जो जमा पूंजी खर्च करिए उनकी पढ़ाई में थोड़ा सा समय उनको और दीजिए और इस बात का मिलकर के विचार विमर्श करें कि क्या इस नौकरी के अलावा भी कुछ किया जा सकता है ऑप्शन आपके सामने आएंगे और आप हो सकता थोड़ी तकलीफ हो ठीक है एक ऑप्शन है जब सर्विस मिलेगी कर लेना तब तक खाली मत बैठने कीजिए और उनको कहीं ना कहीं इतनी बड़ी दुनिया है सब कुछ है इतने लोग हैं आप के जानकार भी होंगे वहां कहीं ना कहीं एडजस्ट करने की कोशिश करिए क्योंकि आज की डेट में अगर शिक्षा कंप्लीट कर ली और काफी दिनों तक आप बेरोजगार रहे तो नौकरी के वक्त भी एक ही सवाल आता है कि इतने दिन आपने क्या किया तो ऐसा नहीं हो इसके लिए मैं यही कहूंगा कि ठीक है आपके मन में जो सपने थे वह भी पूरे नहीं हो रहे पर उम्मीद मत छोड़िए वह जरूर पूरे होंगे बस आपको यह करना है कि जिस समय यह खाली है जब तक इन्हें सर्विस नहीं मिलती तो बच्चों को खाली मत बैठो दीजिए उन्हें कोई ऐसे वेंट में लगाई है किसी ऐसी चीज में लगाई है जिससे उनका मन भी लगा रहे हैं उनका मनोबल ना टूटे आप बार-बार उनसे उम्मीद करेंगे कि भाई हमने तुम्हें पढ़ा लिखा कि बड़ा कर दिया नौकरी फिर भी नहीं मिलती तो आपके साथ उनका मनोबल भी टूट जाएगा और हो सकता है जो चीज आने वाली है ना मिल पाए उसके लिए तैयार नहीं हो मेंटली तैयार नहीं हो पाए इंटरव्यू में फेल हो जाए क्योंकि मानसिक दशा कई बार बच्चों की जब नौकरी नहीं मिलती तो वैसे ही टूट जाते हैं तो मां-बाप को एक जिम्मेदारी पूरी और दूसरी नई ज़िम्मेदारी यह है कि उनको हताश ना होने दें इसलिए आपको भी यह करना है कि बच्चों का मनोबल ना टूटे आप इंतजार करिए भगवान को जरूर आपकी सहायता करेगा

baccho ki padhai me apni zindagi ki puri kamai lagane ke baad ko berozgaar rahe yah vaakai dukh ki baat hai aur yah sawaal aaj ke jeevan me bahut mahatvapurna hai parantu main yah kehna chahunga ki hum jab baccho ko padhate hain achi shiksha dete hain aur hamare man me chhavi bani rehti hai ki humne padhai karai toh usko ias banayenge usko doctor banayenge usko yah taiyari puri karne ke baad usko mandir milne me der ho sakti hai kya nahi milti toh humne kabhi yah socha hi nahi ki agar aisa nahi hoga toh doosra option kya hai kyonki vaah padh kar lega use service mil jayegi achi service mil jayegi achi jagah mil jayegi bus hamein yah tay karke chalte hain is cheez ko ki aisa karne se aisa ho jaega aap log hi nahi sabhi maa baap jo ek ucch shiksha baccho ko dena chahte hain baar padhana chahte hain toh sabse bada reason yah hai ki hum aaj agar unke saath aisa hota hai unko naukri achi nahi milti hai milti hai toh vaah baccha karna nahi chahta uska advance phir uske layak nahi hota hai ya jo bhi hai ya vaah ghar se dur jana chahta hai aapne bhejate sikhai batein baad me practically saamne aate hain aur unhe kya aap kya kare dekhiye aap maa baap hain chinta karna swabhavik hai aur zindagi ki agar kadi mehnat ki jama punji baccho par kharch karte hain toh yah ummid bhi hai har maa baap ko hoti hai aapki har ek hoti hai ki vaah apni zindagi me aur taki hum log hamari aankh band ho maine hansata khelta ek parivar chhodkar jaaye ab agar aisa nahi hua toh apne baccho ke saath baithi hai aur pet karke unhone jo bhi shiksha grahan karke unse salah kariye agar naukri nahi milti toh hum kuch aur bhi kar sakte hain abhi tak aapne jo jama punji kharch kariye unki padhai me thoda sa samay unko aur dijiye aur is baat ka milkar ke vichar vimarsh kare ki kya is naukri ke alava bhi kuch kiya ja sakta hai option aapke saamne aayenge aur aap ho sakta thodi takleef ho theek hai ek option hai jab service milegi kar lena tab tak khaali mat baithne kijiye aur unko kahin na kahin itni badi duniya hai sab kuch hai itne log hain aap ke janakar bhi honge wahan kahin na kahin adjust karne ki koshish kariye kyonki aaj ki date me agar shiksha complete kar li aur kaafi dino tak aap berozgaar rahe toh naukri ke waqt bhi ek hi sawaal aata hai ki itne din aapne kya kiya toh aisa nahi ho iske liye main yahi kahunga ki theek hai aapke man me jo sapne the vaah bhi poore nahi ho rahe par ummid mat chodiye vaah zaroor poore honge bus aapko yah karna hai ki jis samay yah khaali hai jab tak inhen service nahi milti toh baccho ko khaali mat baitho dijiye unhe koi aise went me lagayi hai kisi aisi cheez me lagayi hai jisse unka man bhi laga rahe hain unka manobal na tute aap baar baar unse ummid karenge ki bhai humne tumhe padha likha ki bada kar diya naukri phir bhi nahi milti toh aapke saath unka manobal bhi toot jaega aur ho sakta hai jo cheez aane wali hai na mil paye uske liye taiyar nahi ho mentally taiyar nahi ho paye interview me fail ho jaaye kyonki mansik dasha kai baar baccho ki jab naukri nahi milti toh waise hi toot jaate hain toh maa baap ko ek jimmedari puri aur dusri nayi zimmedari yah hai ki unko hathaash na hone de isliye aapko bhi yah karna hai ki baccho ka manobal na tute aap intejar kariye bhagwan ko zaroor aapki sahayta karega

बच्चों की पढ़ाई में अपनी जिंदगी की पूरी कमाई लगाने के बाद को बेरोजगार रहे यह वाकई दुख की ब

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  81
WhatsApp_icon
user

Suneel Solutions

Business Owner

1:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने अपनी जिंदगी के सभी कमाई बच्चों की पढ़ाई पर लगा दी आपने अपने दायित्व को पूरा वहन किया अब बच्चे बेरोजगार रह गए थोड़ा सा उनको टाइम दे उनको उसके लिए उनको जिम्मेवारी उठा ले ले आपने अपना जो जिम्मेवारी थी वह पूरी करी एक चीज होती है पूत सपूत तो क्यों धन संचय पूत कपूत तो क्यों धन संचय अब आप ने उनको मेहनती ईमानदार और एक समझ बूझ वाला इंसान बना दिया तो आगे अब उनको देखना है आप अपने जीवन पर ध्यान रखिए तो जो होगा अच्छा ही होगा

aapne apni zindagi ke sabhi kamai baccho ki padhai par laga di aapne apne dayitva ko pura wahan kiya ab bacche berozgaar reh gaye thoda sa unko time de unko uske liye unko jimmewari utha le le aapne apna jo jimmewari thi vaah puri kari ek cheez hoti hai poot sapoot toh kyon dhan sanchaya poot kapoot toh kyon dhan sanchaya ab aap ne unko mehanati imaandaar aur ek samajh boojh vala insaan bana diya toh aage ab unko dekhna hai aap apne jeevan par dhyan rakhiye toh jo hoga accha hi hoga

आपने अपनी जिंदगी के सभी कमाई बच्चों की पढ़ाई पर लगा दी आपने अपने दायित्व को पूरा वहन किया

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  76
WhatsApp_icon
user

अशोक गुप्ता

Founder of Vision Commercial Services.

1:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बेरोजगार हूं ना अभी नौकरी होना दोनों में अंतर है हमने नौकरी को ही रोजगार मान लिया नौकरी रोजगार नहीं है जो रोजगार करते हैं उनकी सिस्टम में हम एक हिस्सा बन जाते हैं उसको हम रोजगार मान लेते हैं तो अगर आपके जीवन में नौकरी करना पड़े तो धीरे-धीरे आप उस नौकरी के जाल से छोटे से रोजगार की और अपने को तैयार करिए और छोटा सा भी कोई काम पार्ट टाइम शुरू करके आप उसको फुल टाइम कर सकते हैं इसलिए बिना किसी मानसिक हीन भावना कि आप कोई भी काम छोटा सा भी काम शुरु करोगे एक चाय की दुकान कर दी थी कोई आदमी बहुत अच्छे ढंग से धना धन कर सकता है छोटे-छोटे काम करके भी ऐसे उदाहरण है कि लोगों ने अखबार का वितरण करके अपने बच्चों को इंजीनियर डॉक्टर बना दिया उसे प्रेरणा और आप भी अपने चारों देखे कि मैं कोई शर्म नहीं करूंगा जो भी कार्य है मैं उससे करके अपने को स्वरोजगार में नियोजित करूंगा ईश्वर आपको इसके लिए उत्साह दें धन्यवाद

berozgaar hoon na abhi naukri hona dono me antar hai humne naukri ko hi rojgar maan liya naukri rojgar nahi hai jo rojgar karte hain unki system me hum ek hissa ban jaate hain usko hum rojgar maan lete hain toh agar aapke jeevan me naukri karna pade toh dhire dhire aap us naukri ke jaal se chote se rojgar ki aur apne ko taiyar kariye aur chota sa bhi koi kaam part time shuru karke aap usko full time kar sakte hain isliye bina kisi mansik heen bhavna ki aap koi bhi kaam chota sa bhi kaam shuru karoge ek chai ki dukaan kar di thi koi aadmi bahut acche dhang se dhana dhan kar sakta hai chote chote kaam karke bhi aise udaharan hai ki logo ne akhbaar ka vitaran karke apne baccho ko engineer doctor bana diya use prerna aur aap bhi apne charo dekhe ki main koi sharm nahi karunga jo bhi karya hai main usse karke apne ko swarojgar me niyojit karunga ishwar aapko iske liye utsaah de dhanyavad

बेरोजगार हूं ना अभी नौकरी होना दोनों में अंतर है हमने नौकरी को ही रोजगार मान लिया नौकरी रो

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  143
WhatsApp_icon
user

डाॅ. देवेन्द्र जोशी उज्जैन म प्र

पत्रकार, साहित्यकार शिक्षाविद

1:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह आज की आज की मौजूदा भारतीय समाज व्यवस्था का एक बहुत ज्वलंत प्रश्न है कि माता-पिता अपने बच्चों की पढ़ाई लिखाई में अपने जीवन भर की पूंजी लगा देते हैं और उसके बाद में भी बच्चा मनो अनुरोध प्राप्त नहीं कर पाता है बेरोजगार बना रहता है इससे बचने का एक जब तक बच्चा विद्यार्थी कार्य में रहे उसे पढ़ने के लिए प्रेरित करें और जब यह लगे कि उसकी पढ़ाई लिखाई की उम्र पूरी हो गई है उसे उसकी योग्य कोई भी काम धंधा डलवा कर उसे उसमें लगा दिया जाए पढ़ाई लिखाई बहुत जरूरी है लेकिन उसके बावजूद भी अगर उसके जरिए से रोजगार प्राप्त नहीं होता है तो यह समझा जाए कि जिंदगी के सारे रोजगार के अवसर खत्म हो गए इसके अलावा भी रोजगार और आजीविका प्राप्त करने के अवसर दे जाते हैं और बहुत सारे लोग उसके जरिए अपने जीवन की जरूरतों की पूर्ति तो आप भी ऐसा कर सकते हैं कि आपने अपने बच्चे के लिए इतना किया है इतना और कीजिए कि उसे या तो कोई अच्छी सी नौकरी में लगा दीजिए वह चाहे प्राइवेट नौकरी हो सरकारी हो या उसे कोई काम धंधा डलवा दीजिए जिससे कि वह अपनी क्षमताओं के अनुरूप आजीविका प्राप्त करके अपने जीवन का सफलतापूर्वक संचालन कर सकें

yah aaj ki aaj ki maujuda bharatiya samaj vyavastha ka ek bahut jwalant prashna hai ki mata pita apne baccho ki padhai likhai me apne jeevan bhar ki punji laga dete hain aur uske baad me bhi baccha mano anurodh prapt nahi kar pata hai berozgaar bana rehta hai isse bachne ka ek jab tak baccha vidyarthi karya me rahe use padhne ke liye prerit kare aur jab yah lage ki uski padhai likhai ki umar puri ho gayi hai use uski yogya koi bhi kaam dhandha dalwa kar use usme laga diya jaaye padhai likhai bahut zaroori hai lekin uske bawajud bhi agar uske jariye se rojgar prapt nahi hota hai toh yah samjha jaaye ki zindagi ke saare rojgar ke avsar khatam ho gaye iske alava bhi rojgar aur aajiwika prapt karne ke avsar de jaate hain aur bahut saare log uske jariye apne jeevan ki jaruraton ki purti toh aap bhi aisa kar sakte hain ki aapne apne bacche ke liye itna kiya hai itna aur kijiye ki use ya toh koi achi si naukri me laga dijiye vaah chahen private naukri ho sarkari ho ya use koi kaam dhandha dalwa dijiye jisse ki vaah apni kshamataon ke anurup aajiwika prapt karke apne jeevan ka safaltaapurvak sanchalan kar sake

यह आज की आज की मौजूदा भारतीय समाज व्यवस्था का एक बहुत ज्वलंत प्रश्न है कि माता-पिता अपने ब

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  401
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  107  Dislikes    views  2218
WhatsApp_icon
user
5:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मित्र नमस्कार आपका प्रश्न बच्चों की पढ़ाई में अपनी जिंदगी की पूरी कमाई लगाने के बाद वह बेरोजगार रहे मां-बाप को क्या करना चाहिए पहली चीज अगर हम यह सोच कर बच्चों को पढ़ाते हैं कि वह जो है नौकरी करेंगे तो यह सोच ही गलत है पूछ कर यह होनी चाहिए कि बच्चों को हम शिक्षा के रूप में संस्कार दे रहे हैं अगर आप संस्कार देंगे इस जीवन में हमको ज्ञान का बोध हो जाए काम का पूर्ण हो जाए और अपनी जिम्मेदारियों को बहुत हो जाए उनके जीवन में समझदारी ईमानदारी जिम्मेदारी बहादुरी ऐसे गुण आ जाए तो निश्चित रूप से वह कोई भी रोजगार करके अपनी रोजी-रोटी चला लेंगे और मनुष्य को जीवन में तीन चीज की आवश्यकता है रोटी कपड़ा और मकान साथ साथ में नैतिक उत्थान यह क्रिया ठीक से संपन्न हो जाए आपकी कमाई लगाने के बाद आपको देने के बाद आप स्वयं अगर ऐसे संस्कार बच्चों को देंगे तू ज्यादा महत्वपूर्ण है ना कि शिक्षा विभाग को हमने बहुतों को देखा है जो गेट बेचारे गरीब बच्चों में पालिका पाते हैं लेकिन उनके अंदर जो व्यवसाय करते हैं सब्जी बेचने या कोई छोटे काम करते हैं उसके माध्यम से अपने परिवार के बड़े आराम से कर लेते हैं जो लोग अपने बच्चों को बहुत पढ़ा लिखा कर के बड़ा कर देने से उनके हुनर संस्कार कला कोई नहीं आती है कमाने की कुछ करने में शर्म करते हैं निश्चित रूप से परेशानी का कारण बन जाता है फिल्म जो है कोई कुछ छोटा काम कर नहीं सकते हैं कोई उस तरीके थाम कर नहीं सकते हैं मेहनत वाला काम करने जाते हैं बात वही बिगड़ जाती है जब हमारी सोच विश्वास करके पैसा खर्च करते हैं कि जो है सारे बच्चे आगे चलकर के बड़े होकर के कोई होशियारी बनेंगे कुछ उस तरीके बहुत ही पहुंचेंगे और खूब कमाई करेंगे वह सोच नहीं होनी चाहिए सोचिए होनी चाहिए कि हम अपने बच्चों को अच्छे संस्कार देकर किस तरीके बनाने के अपने जीवन में कभी कोई भी काम करें उनके अंदर सफलता का गाना चाहिए वह जो भी करें उनके अंदर से संस्कारों के छोटे काम को संपन्न करने में कोई हिचक महसूस करें और छोटे काम बच्चों के सभी होते हैं जो घर में उनको काम में लगाया जाता है छोटे-छोटे काम कराए जाते हैं अपने कपड़े करना आपने जो है मिलता है क्या कहते हैं स्वयं से क्या कहते हैं कि छोटे छोटे काम उनके अपना कर दें निश्चित रूप से उनके अंदर आ गया कि आत्मसम्मान पैदा हो जाएगा और वह साथ में काम करने में भी शर्म नहीं करेंगे तो आगे चलकर के जो है वो हर काम में सफल होंगे हमको कभी कोई दिक्कत नहीं आएगी जिओनी यही अपनी सोच बदल करके की जगह में सारी कमाई पैसा लगा दिए और उसके बच्चे तो कुछ तो होता ही है कि हम बेरोजगार बेरोजगार इसलिए है कि वह उनके वह समझ नहीं पा रहे हम करें तो क्या करें कभी-कभी दिमाग मारे होता है कि हम बच्चे को डॉक्टर बना दे कृष्ण जी ने बना दे इन बच्चा कहता नेम व्यापारी बनेंगे हम हमारे अंदर यह गुण व्यापार कर सकते हैं क्या हम कोई अन्य काम तो बच्चे की लगन बच्चे की इच्छा और क्या कहते हैं यह सब देख करके उनको उसी लाइन में भेजना चाहिए और साथ साथ में चाहे जो हो ने बताया संस्कार उनको ऐसे संस्कार छोटे-छोटे दीजिए को छोटे-छोटे काम अगर जीवन में शुरू से करंट करते रहते हैं निश्चित रूप से जो है उनको कोई काम छोटा नहीं आएगा और मेहनत के साथ हो आगे बढ़ेंगे ऐसा हमने अपने जीवन भी देखा है और चंद्र कोई शर्म नहीं देगी कि निश्चित रूप से कोई भी काम करके अपना जीवन यापन कर सकते हैं अच्छे से कर सकते हैं और अपने मां-बाप की सेवा भी करेंगे ऐसे हमारे मांगता है धन्यवाद

mitra namaskar aapka prashna baccho ki padhai me apni zindagi ki puri kamai lagane ke baad vaah berozgaar rahe maa baap ko kya karna chahiye pehli cheez agar hum yah soch kar baccho ko padhate hain ki vaah jo hai naukri karenge toh yah soch hi galat hai puch kar yah honi chahiye ki baccho ko hum shiksha ke roop me sanskar de rahe hain agar aap sanskar denge is jeevan me hamko gyaan ka bodh ho jaaye kaam ka purn ho jaaye aur apni jimmedariyon ko bahut ho jaaye unke jeevan me samajhdari imaandaari jimmedari bahaduri aise gun aa jaaye toh nishchit roop se vaah koi bhi rojgar karke apni rozi roti chala lenge aur manushya ko jeevan me teen cheez ki avashyakta hai roti kapda aur makan saath saath me naitik utthan yah kriya theek se sampann ho jaaye aapki kamai lagane ke baad aapko dene ke baad aap swayam agar aise sanskar baccho ko denge tu zyada mahatvapurna hai na ki shiksha vibhag ko humne bahuton ko dekha hai jo gate bechare garib baccho me palika paate hain lekin unke andar jo vyavasaya karte hain sabzi bechne ya koi chote kaam karte hain uske madhyam se apne parivar ke bade aaram se kar lete hain jo log apne baccho ko bahut padha likha kar ke bada kar dene se unke hunar sanskar kala koi nahi aati hai kamane ki kuch karne me sharm karte hain nishchit roop se pareshani ka karan ban jata hai film jo hai koi kuch chota kaam kar nahi sakte hain koi us tarike tham kar nahi sakte hain mehnat vala kaam karne jaate hain baat wahi bigad jaati hai jab hamari soch vishwas karke paisa kharch karte hain ki jo hai saare bacche aage chalkar ke bade hokar ke koi hoshiyaari banenge kuch us tarike bahut hi pahunchenge aur khoob kamai karenge vaah soch nahi honi chahiye sochiye honi chahiye ki hum apne baccho ko acche sanskar dekar kis tarike banane ke apne jeevan me kabhi koi bhi kaam kare unke andar safalta ka gaana chahiye vaah jo bhi kare unke andar se sanskaron ke chote kaam ko sampann karne me koi hichak mehsus kare aur chote kaam baccho ke sabhi hote hain jo ghar me unko kaam me lagaya jata hai chote chote kaam karae jaate hain apne kapde karna aapne jo hai milta hai kya kehte hain swayam se kya kehte hain ki chote chote kaam unke apna kar de nishchit roop se unke andar aa gaya ki atmasamman paida ho jaega aur vaah saath me kaam karne me bhi sharm nahi karenge toh aage chalkar ke jo hai vo har kaam me safal honge hamko kabhi koi dikkat nahi aayegi gionee yahi apni soch badal karke ki jagah me saari kamai paisa laga diye aur uske bacche toh kuch toh hota hi hai ki hum berozgaar berozgaar isliye hai ki vaah unke vaah samajh nahi paa rahe hum kare toh kya kare kabhi kabhi dimag maare hota hai ki hum bacche ko doctor bana de krishna ji ne bana de in baccha kahata name vyapaari banenge hum hamare andar yah gun vyapar kar sakte hain kya hum koi anya kaam toh bacche ki lagan bacche ki iccha aur kya kehte hain yah sab dekh karke unko usi line me bhejna chahiye aur saath saath me chahen jo ho ne bataya sanskar unko aise sanskar chote chote dijiye ko chote chote kaam agar jeevan me shuru se current karte rehte hain nishchit roop se jo hai unko koi kaam chota nahi aayega aur mehnat ke saath ho aage badhenge aisa humne apne jeevan bhi dekha hai aur chandra koi sharm nahi degi ki nishchit roop se koi bhi kaam karke apna jeevan yaapan kar sakte hain acche se kar sakte hain aur apne maa baap ki seva bhi karenge aise hamare mangta hai dhanyavad

मित्र नमस्कार आपका प्रश्न बच्चों की पढ़ाई में अपनी जिंदगी की पूरी कमाई लगाने के बाद वह बेर

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  108
WhatsApp_icon
user

Pushpendra Rajput

Soft Skill Trainer

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कमाई लगाने से सक्सेस नहीं मिलती है आप उन्हें पहले सक्सेस का मतलब क्या होता है पहले वह समझाइए और अधिक पैसा उनके करियर पर खर्च करने से अच्छा है कि उनके लिए एक विकल्प तैयार करिए जिससे कि उनको इन फ्यूचर अगर सपोर्ट की भी नीड हो ना तो उससे वह उसे आगे बढ़ाने का प्रयास करें ना कि आप उसमें पहले सारा पैसा एजुकेशन में सारा समाप्त कर देंगे तुझे उनको जरूरत पड़ेगी कोई बिजनेस स्टार्टअप के लिए कुछ भी तो कहां से लाएंगे ठीक है तो वह जरूरी नहीं होता है कि ज्यादा पैसे लगाकर ज्यादा एजुकेशन हासिल नहीं की जा सकती है फील्ड ऑफ इंटरेस्ट क्या होता है उसके ऊपर अपुन की स्किल्स के ऊपर ने मेहनत करने की कोशिश करिए तो कम पैसे में अच्छी खासी एजुकेशन नसीब की जा सकती है जरूरी नहीं होता कि आपने ₹1000000 5000000 रुपए एजुकेशन में लगा दिया तो पाई एसपी आईपीएस या फिर कुछ भी कनेक्ट कर जाएंगे ऐसा नहीं होता है

kamai lagane se success nahi milti hai aap unhe pehle success ka matlab kya hota hai pehle vaah samjhaiye aur adhik paisa unke career par kharch karne se accha hai ki unke liye ek vikalp taiyar kariye jisse ki unko in future agar support ki bhi need ho na toh usse vaah use aage badhane ka prayas kare na ki aap usme pehle saara paisa education me saara samapt kar denge tujhe unko zarurat padegi koi business startup ke liye kuch bhi toh kaha se layenge theek hai toh vaah zaroori nahi hota hai ki zyada paise lagakar zyada education hasil nahi ki ja sakti hai field of interest kya hota hai uske upar apun ki skills ke upar ne mehnat karne ki koshish kariye toh kam paise me achi khasee education nasib ki ja sakti hai zaroori nahi hota ki aapne Rs 5000000 rupaye education me laga diya toh payi SP ips ya phir kuch bhi connect kar jaenge aisa nahi hota hai

कमाई लगाने से सक्सेस नहीं मिलती है आप उन्हें पहले सक्सेस का मतलब क्या होता है पहले वह समझा

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  102
WhatsApp_icon
user

Shipra Ranjan

Life Coach

1:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बच्चों की पढ़ाई में अपनी फिल्म की पूरी कमाई लगाने के बाद क्या करना चाहिए कि वह कहीं पर रिप्लाई करें जो भी मन एजुकेशन भी है उसके साथ नहीं आएगी अपने लाइफ में कुछ और करना चाहते हैं कुछ करना चाहते हैं किसी और तरीके से करना चाहते हैं उनको सपोर्ट करने की पूरी कमाई आपने उनके अपने बच्चे की पढ़ाई पर लगा दीजिए फिर भी वह बेरोजगारी आप कुछ नहीं कर सकते हो सकता है आप सेक्स कर रहे हैं आपका वेट नहीं कर पा रहा है ऐसे में थे जो करना चाहता है उसके लिए आपको खुद को भी तैयार करना है और उसको भी सपोर्ट करना चाहिए ऐसा करने से नाचे खूब मन लगाकर के अपने काम को अंजाम देंगे बल्कि बेरोजगार भी नहीं रहेंगे और लाइफ में शुरू होंगे

baccho ki padhai me apni film ki puri kamai lagane ke baad kya karna chahiye ki vaah kahin par reply kare jo bhi man education bhi hai uske saath nahi aayegi apne life me kuch aur karna chahte hain kuch karna chahte hain kisi aur tarike se karna chahte hain unko support karne ki puri kamai aapne unke apne bacche ki padhai par laga dijiye phir bhi vaah berojgari aap kuch nahi kar sakte ho sakta hai aap sex kar rahe hain aapka wait nahi kar paa raha hai aise me the jo karna chahta hai uske liye aapko khud ko bhi taiyar karna hai aur usko bhi support karna chahiye aisa karne se nache khoob man lagakar ke apne kaam ko anjaam denge balki berozgaar bhi nahi rahenge aur life me shuru honge

बच्चों की पढ़ाई में अपनी फिल्म की पूरी कमाई लगाने के बाद क्या करना चाहिए कि वह कहीं पर रिप

Romanized Version
Likes  686  Dislikes    views  4040
WhatsApp_icon
user

Samreen Fatma

Principal

1:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अच्छा तुम्हारे बच्चों की पढ़ाई में अपनी जिंदगी की पूरी कमाई लगाने के बाद भी वे बेरोजगार रहे तो मां-बाप को क्या करना चाहिए ऐसे में सबसे पहले तो पेरेंट्स का यह रोल होता है कि वह यह देखिए की कमी कहां हो रही है अगर हमारा बच्चा बेरोजगार है तो क्यों है वजह क्या हो रही है वो इतना एजुकेटेड है तो उसके एजुकेशन में कहां कमी हुई है कई बार ही होता है कि हम लोग बहुत ज्यादा एजुकेटेड हो जाते हैं इस कड़ी बहुत अच्छे लड़के कर लेते हैं बट हमारी कमी के शनिस क्यों बेकार होने के कारण हम बेरोजगार होते हैं यह हमारी पर्सनालिटी डेवलप नहीं होती है पर्सनालिटी अच्छी नहीं होती है उसके कारण भी हमें जॉब नहीं मिल पाती है या ऐसी बहुत सारी चीजें हैं तो उन कमियों को ढूंढने के कामों कमी है ऐसी जो हमारा बच्चा बेरोजगार और उस कमी को दूर करें और दोबारा उसकी जॉब जॉब मिल जाए

accha tumhare baccho ki padhai me apni zindagi ki puri kamai lagane ke baad bhi ve berozgaar rahe toh maa baap ko kya karna chahiye aise me sabse pehle toh parents ka yah roll hota hai ki vaah yah dekhiye ki kami kaha ho rahi hai agar hamara baccha berozgaar hai toh kyon hai wajah kya ho rahi hai vo itna educated hai toh uske education me kaha kami hui hai kai baar hi hota hai ki hum log bahut zyada educated ho jaate hain is kadi bahut acche ladke kar lete hain but hamari kami ke shanis kyon bekar hone ke karan hum berozgaar hote hain yah hamari personality develop nahi hoti hai personality achi nahi hoti hai uske karan bhi hamein job nahi mil pati hai ya aisi bahut saari cheezen hain toh un kamiyon ko dhundhne ke kaamo kami hai aisi jo hamara baccha berozgaar aur us kami ko dur kare aur dobara uski job job mil jaaye

अच्छा तुम्हारे बच्चों की पढ़ाई में अपनी जिंदगी की पूरी कमाई लगाने के बाद भी वे बेरोजगार रह

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  47
WhatsApp_icon
user

Pawan

Financial Planer

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पूरी जिंदगी कमाई लगाने के बच्चे मेरी तरह तुम आओगे क्या करना चाहिए मां बाप को मारने की और ने उन्हें सोशल मीडिया या वैसे कोर्स कराने चाहिए लेकिन से बोली खाली मत बताइए उसे नहीं चाहिए सीखने के लिए क्या चाहिए और अपने हिम्मत मदारी और बच्चों को बच्चों को विश्वास दिलाया कि वह ब्लैक में कुछ कर सकते हैं और उसे बोलिए अभी अभी भी कुछ ना कुछ सीखे बिना कोई कुछ कमी रह गई है उस कमी को पूरा करें और आगे बढ़े नौकरी बहुत है और बिस्कुट जिसके पास टैलेंट है उसके लिए नौकरियों को है इसलिए अपनी टेलर अपनी नॉलेज को बढ़ाइए बस

puri zindagi kamai lagane ke bacche meri tarah tum aaoge kya karna chahiye maa baap ko maarne ki aur ne unhe social media ya waise course karane chahiye lekin se boli khaali mat bataiye use nahi chahiye sikhne ke liye kya chahiye aur apne himmat madari aur baccho ko baccho ko vishwas dilaya ki vaah black me kuch kar sakte hain aur use bolie abhi abhi bhi kuch na kuch sikhe bina koi kuch kami reh gayi hai us kami ko pura kare aur aage badhe naukri bahut hai aur biscuit jiske paas talent hai uske liye naukriyon ko hai isliye apni Tailor apni knowledge ko badhaiye bus

पूरी जिंदगी कमाई लगाने के बच्चे मेरी तरह तुम आओगे क्या करना चाहिए मां बाप को मारने की और न

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  132
WhatsApp_icon
Likes  284  Dislikes    views  2378
WhatsApp_icon
user

अमित कुमार दीक्षित "आदिदेव"

विधिवक्ता, कैरियर कॉउंसेलर एवं समाजसेवी

0:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बच्चों की पढ़ाई में पूरी जिंदगी की कमाई लगाने के बाद यदि बच्चे बेरोजगार है तो उसमें मां-बाप तो नहीं करना चाहिए कि बच्चों को कठिन मेहनत से काम करना सिखाना चाहिए कठिन परिश्रम के साथ काम करेंगे तब हाथ में बनेंगे अन्यथा इसी तरह पढ़ाई में कमाई बर्बाद होती रहेगी

baccho ki padhai me puri zindagi ki kamai lagane ke baad yadi bacche berozgaar hai toh usme maa baap toh nahi karna chahiye ki baccho ko kathin mehnat se kaam karna sikhaana chahiye kathin parishram ke saath kaam karenge tab hath me banenge anyatha isi tarah padhai me kamai barbad hoti rahegi

बच्चों की पढ़ाई में पूरी जिंदगी की कमाई लगाने के बाद यदि बच्चे बेरोजगार है तो उसमें मां-बा

Romanized Version
Likes  26  Dislikes    views  608
WhatsApp_icon
user

Dr.Paramjit Singh

Health and Fitness Expert/ Lecturer In Physical Education/

4:02
Play

Likes  125  Dislikes    views  1164
WhatsApp_icon
user

Anil Ramola

Yoga Instructor | Engineer

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक मां अपने बच्चे की शिक्षा में कुकस लगाते नहीं फिर भी आज के समय में जो गिर गाय की दर काफी ज्यादा जिसकी वजह से बच्चों को नहीं मिल पा रहा कोशिश करनी है वह हमेशा ही पैदा करना क्योंकि आज का समय

ek maa apne bacche ki shiksha me kukas lagate nahi phir bhi aaj ke samay me jo gir gaay ki dar kaafi zyada jiski wajah se baccho ko nahi mil paa raha koshish karni hai vaah hamesha hi paida karna kyonki aaj ka samay

एक मां अपने बच्चे की शिक्षा में कुकस लगाते नहीं फिर भी आज के समय में जो गिर गाय की दर काफी

Romanized Version
Likes  319  Dislikes    views  3557
WhatsApp_icon
user

Rakesh Tiwari

Life Coach, Management Trainer

1:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बच्चों की पढ़ाई में अपनी जिंदगी की पूरी कमाई और रोजगार मूल्य तक अपने बच्चे को अपने बच्चों को लगातार उत्साहवर्धन करते रहना चाहिए बच्चे अपनी समर्थ एवं क्षमता के अनुसार सब प्रयास करते हैं कई बार प्रयास के बावजूद वह सफल नहीं होते और जब मां-बाप का समर्थन क्यों नहीं मिलता तो कई बार को कुंठित दिग्भ्रमित और कई बार गलत कदम उठा लेते हैं आप सोचिए क्यों बेरोजगार तो है लेकिन उस संवेदनहीन है संवेदना और जिम्मेदारी परिवार के प्रति उतनी ही महसूस करते हैं सारे प्रयास के बाद भी उन्हें अभी काम नहीं मिला है राम मिलने तक आपको उनका सहयोग सायवर्टसन मार्गदर्शन और हमेशा ऋण आत्मक वक्तव्य जीते रहना चाहिए आप वक्त का इंतजार करें ध्यान रखें बच्चों की पढ़ाई में आप का विनियोग किया गया अच्छा रोजगार में जम्मू ताना मारते हैं कौन करते हैं उनकी क्षमता पर प्रश्न उठाते हैं ऐसी दशा में बच्चों का जो आंख विश्वास है बहुत गिर जाता है अपने को कुंठित और अकेला महसूस करते हैं ऐसी मानसिक स्थिति में न पहुंचे इसका ध्यान रखना

baccho ki padhai me apni zindagi ki puri kamai aur rojgar mulya tak apne bacche ko apne baccho ko lagatar utsahavardhan karte rehna chahiye bacche apni samarth evam kshamta ke anusaar sab prayas karte hain kai baar prayas ke bawajud vaah safal nahi hote aur jab maa baap ka samarthan kyon nahi milta toh kai baar ko kunthit digbhramit aur kai baar galat kadam utha lete hain aap sochiye kyon berozgaar toh hai lekin us samvedanhin hai samvedana aur jimmedari parivar ke prati utani hi mehsus karte hain saare prayas ke baad bhi unhe abhi kaam nahi mila hai ram milne tak aapko unka sahyog sayavartasan margdarshan aur hamesha rin aatmkatha vaktavya jeete rehna chahiye aap waqt ka intejar kare dhyan rakhen baccho ki padhai me aap ka viniyog kiya gaya accha rojgar me jammu tana marte hain kaun karte hain unki kshamta par prashna uthate hain aisi dasha me baccho ka jo aankh vishwas hai bahut gir jata hai apne ko kunthit aur akela mehsus karte hain aisi mansik sthiti me na pahuche iska dhyan rakhna

बच्चों की पढ़ाई में अपनी जिंदगी की पूरी कमाई और रोजगार मूल्य तक अपने बच्चे को अपने बच्चों

Romanized Version
Likes  287  Dislikes    views  2793
WhatsApp_icon
user

Gopal Srivastava

Acupressure Acupuncture Sujok Therapist

1:43
Play

Likes  142  Dislikes    views  4743
WhatsApp_icon
user

bhaand's Theatre and Acting Classes

Acting And drama Coach Casting director Drama Director

1:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए जिंदगी की पूरी पूंजी लगाना और और बेरोजगार रह जाए इन दोनों का कोई संबंध नहीं है आपने जिंदगी की पूंजी लगाई उसको पढ़ाने में तो यह आपका कर्तव्य था उसको रोजगार नहीं मिला यह उसका फेलियर है अगर वह मेहनत करेगा तो दुनिया में ऐसा तो है नहीं कि कोई काम ना मिले बहुत सारे काम ऐसे होते हैं जो आप कर सकते हैं लेकिन होता यह है ना कि आप जैसे जैसे हैं शिक्षा ग्रहण करते हैं जैसे-जैसे जिन चीजों के अंदर मतलब आप पढ़ाई करते हो तो आपकी मानसिकता थोड़ी है ऐसी हो जाती है कि मुझे कुछ बड़ा मिले मुझे कुछ बड़ा मिले बड़े के चक्कर में आप छोटे को हमेशा छोड़ते चलते हैं तू अब जब देखेंगे आपको आपके आसपास ही बहुत सारे रोजगार रहेंगे आप अगर यह जिद छोड़ दें कि तभी ऐसा नहीं होगा कि रोजगार जाएगा और ना ही मां-बाप को रिग्रेट करेगा कि मैंने अपने जीवन की पूरी पूंजी लगा दी और यह बेरोजगार है तो यह है और अगर फिर भी किसी कारण से बेरोजगार रह जाए तो फिर उसको कुछ नहीं किया जा सकता लेकिन हां बहुत सारे काम है नौकरी भी है बहुत सारे धंधे भी हैं बहुत कुछ कर सकते हैं आप अब जब अजीज बिल्डिंग में रहते हैं जिस घर में रहते हैं वहां से बाहर निकल कर जाएंगे और देखेंगे तो आपको अलग-अलग प्रकार के लोग पैसा कमाते हुए दिखेंगे रोजगार के साथ दिखेंगे तो जब सोचेंगे और चाहेंगे आपको काम मिलेगा और आप काम करेंगे आप बेरोजगार नहीं रहेंगे

dekhiye zindagi ki puri punji lagana aur aur berozgaar reh jaaye in dono ka koi sambandh nahi hai aapne zindagi ki punji lagayi usko padhane me toh yah aapka kartavya tha usko rojgar nahi mila yah uska failure hai agar vaah mehnat karega toh duniya me aisa toh hai nahi ki koi kaam na mile bahut saare kaam aise hote hain jo aap kar sakte hain lekin hota yah hai na ki aap jaise jaise hain shiksha grahan karte hain jaise jaise jin chijon ke andar matlab aap padhai karte ho toh aapki mansikta thodi hai aisi ho jaati hai ki mujhe kuch bada mile mujhe kuch bada mile bade ke chakkar me aap chote ko hamesha chodte chalte hain tu ab jab dekhenge aapko aapke aaspass hi bahut saare rojgar rahenge aap agar yah jid chhod de ki tabhi aisa nahi hoga ki rojgar jaega aur na hi maa baap ko rigret karega ki maine apne jeevan ki puri punji laga di aur yah berozgaar hai toh yah hai aur agar phir bhi kisi karan se berozgaar reh jaaye toh phir usko kuch nahi kiya ja sakta lekin haan bahut saare kaam hai naukri bhi hai bahut saare dhande bhi hain bahut kuch kar sakte hain aap ab jab aziz building me rehte hain jis ghar me rehte hain wahan se bahar nikal kar jaenge aur dekhenge toh aapko alag alag prakar ke log paisa kamate hue dikhenge rojgar ke saath dikhenge toh jab sochenge aur chahenge aapko kaam milega aur aap kaam karenge aap berozgaar nahi rahenge

देखिए जिंदगी की पूरी पूंजी लगाना और और बेरोजगार रह जाए इन दोनों का कोई संबंध नहीं है आपने

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  113
WhatsApp_icon
user
2:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है बच्चों पढ़ाई में आपने पूरा पैसा खर्च कर लिया बच्चा बेरोजगार जो अभी आपने शिक्षा प्रणाली बिल्कुल गलत है सिस्टम ऑफ़ एजुकेशन और कि खराब क्योंकि जो अपने स्कूल पढ़ाया जाता है वह किस काम का नहीं होता है अगर आपने हिस्ट्री में देख ली होगी कि मुगलों का बता दिया तो वह अपने किसकी कॉमर्स में कुछ है वह भी कुछ थोड़ा वक्त कॉमर्स स्टूडेंट कुछ पढ़ लेता है समझ आता है कौन सा काम कर लेता है बेटा का समान लिखा है और यह चीज का है वह भी कुछ कर सकता है होटल के शुभ अवसर पर बन सकता है पूरी हिस्ट्री मिला सकता है कि आज का स्टूडेंट ऊंचा कुछ नहीं कर पाता है लाइफ में खुश नौकरी ना हो तो वह क्यों पढ़ाया किस काम का नहीं है आप किसी को बताया बाबर की हिस्ट्री तो यही पढ़ाई करता है जिसमें किसी को समझ में नहीं आता और उसको समझा रहे इस पढ़ाई के साथ-साथ आप को बच्चों को ट्रेनिंग देनी है जैसे अपने साथ साथ में कुछ काम कितने की आती है जापान में देखें कैसी है काम की चाइना में भी है पूरे वर्ल्ड में है हिंदुस्तान को छोड़कर किताबी ज्ञान किसी काम का नहीं है

aapka prashna hai baccho padhai me aapne pura paisa kharch kar liya baccha berozgaar jo abhi aapne shiksha pranali bilkul galat hai system of education aur ki kharab kyonki jo apne school padhaya jata hai vaah kis kaam ka nahi hota hai agar aapne history me dekh li hogi ki mugalon ka bata diya toh vaah apne kiski commerce me kuch hai vaah bhi kuch thoda waqt commerce student kuch padh leta hai samajh aata hai kaun sa kaam kar leta hai beta ka saman likha hai aur yah cheez ka hai vaah bhi kuch kar sakta hai hotel ke shubha avsar par ban sakta hai puri history mila sakta hai ki aaj ka student uncha kuch nahi kar pata hai life me khush naukri na ho toh vaah kyon padhaya kis kaam ka nahi hai aap kisi ko bataya babar ki history toh yahi padhai karta hai jisme kisi ko samajh me nahi aata aur usko samjha rahe is padhai ke saath saath aap ko baccho ko training deni hai jaise apne saath saath me kuch kaam kitne ki aati hai japan me dekhen kaisi hai kaam ki china me bhi hai poore world me hai Hindustan ko chhodkar kitabi gyaan kisi kaam ka nahi hai

आपका प्रश्न है बच्चों पढ़ाई में आपने पूरा पैसा खर्च कर लिया बच्चा बेरोजगार जो अभी आपने शिक

Romanized Version
Likes  207  Dislikes    views  1761
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है बच्चों की पढ़ाई में अपनी जिंदगी भर की कमाई लगाने के बाद भी वह बेरोजगार रह जाते हैं तो मां को क्या करना चाहिए बच्चों की पढ़ाई में जिंदगी भर की कमाई लगाने के बाद भी जब बच्चे बेरोजगार हो जाते हैं तो उसके लिए सबसे पहले मां-बाप को उनके आत्मविश्वास को बढ़ाना चाहिए और उन्हें यह समझाना चाहिए कि कोई भी काम छोटा या बड़ा नहीं होता है चाहे वह व्यवसाय हो या नौकरी कुछ बड़ा करने के लिए शुरुआत हमेशा छोटे से ही करनी पड़ती है जैसे हमें घर की छत पर जाने के लिए सीढ़ी के प्रत्येक पायदान से होकर गुजरना पड़ता है उसी प्रकार अपने लक्ष्य पर पहुंचने के लिए लक्ष्य संबंधित विभिन्न छोटे-छोटे उद्देश्य को पार करते हुए हमें आगे बढ़ना होता है इसलिए छोटे बड़े की सोच विचार को छोड़कर किसी भी काम को करना प्रारंभ करें धन्यवाद आपका दिन शुभ हो

namaskar doston aapka prashna hai baccho ki padhai mein apni zindagi bhar ki kamai lagane ke baad bhi vaah berozgaar reh jaate hain toh maa ko kya karna chahiye baccho ki padhai mein zindagi bhar ki kamai lagane ke baad bhi jab bacche berozgaar ho jaate hain toh uske liye sabse pehle maa baap ko unke aatmvishvaas ko badhana chahiye aur unhe yah samajhana chahiye ki koi bhi kaam chota ya bada nahi hota hai chahen vaah vyavasaya ho ya naukri kuch bada karne ke liye shuruat hamesha chote se hi karni padti hai jaise hamein ghar ki chhat par jaane ke liye sidhi ke pratyek payadan se hokar gujarana padta hai usi prakar apne lakshya par pahuchne ke liye lakshya sambandhit vibhinn chote chhote uddeshya ko par karte hue hamein aage badhana hota hai isliye chote bade ki soch vichar ko chhodkar kisi bhi kaam ko karna prarambh kare dhanyavad aapka din shubha ho

नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है बच्चों की पढ़ाई में अपनी जिंदगी भर की कमाई लगाने के बाद भी

Romanized Version
Likes  40  Dislikes    views  1038
WhatsApp_icon
user

Dr S K Goel

Astrologer

0:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेडिकल में मां-बाप को ऐसी स्थिति में बहुत डैडी से काम लेना चाहिए और अपने बच्चों को आगे बढ़ने के लिए निरंतर प्रयास करना चाहिए एक न एक दिन उसको सफलता अवश्य मिलेगी निराश होने की जरूरत नहीं

medical mein maa baap ko aisi sthiti mein bahut daddy se kaam lena chahiye aur apne baccho ko aage badhne ke liye nirantar prayas karna chahiye ek na ek din usko safalta avashya milegi nirash hone ki zarurat nahi

मेडिकल में मां-बाप को ऐसी स्थिति में बहुत डैडी से काम लेना चाहिए और अपने बच्चों को आगे बढ़

Romanized Version
Likes  76  Dislikes    views  1190
WhatsApp_icon
user

Suraj Shaw

Entrepreneur, Career Counsellor

0:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो फ्रेंड्स आ देखें सबसे पहले तो मां-बाप को उसके बेरोजगारी का रीजन पता होना चाहिए कि अगर वह बच्चा बेरोजगार है तो उसके पीछे की संख्या काम नहीं कर रहा तू क्यों नहीं कर रहा उसकी कुछ ब्रीज़र हो सकते हैं उसे काम नहीं मिल पा रहा है या उसकी किस्मत खराब है उसका किस्मत का साथ दे दिया था मेरा तो यहां पर पेरेंट्स को थोड़ा और साथ देने की जरूरत है ना जब उन्होंने पूरी टाइम वेट किया है कि बुरी कमाई लगा दे दो थोड़ा टाइम हुआ है जब तक वह सक्सेस नहीं पा लेता तब तक उसकी नौकरी नहीं लग जाती हड्डी मोटी मोटिवेट नहीं होना नको दो नैना बच्चे को घर में वह जानबूझकर बेरोजगार नहीं होगा कुछ ऐसी प्रॉब्लम होगी जिसके कारण उसे नौकरी नहीं मिल रही होंगी ना कुछ करा दीजिए उससे उन्हें मोटिवेट करते रहिए और जल्दी नौकरी लग जाएगी ना थैंक यू सो मच

hello friends aa dekhen sabse pehle toh maa baap ko uske berojgari ka reason pata hona chahiye ki agar vaah baccha berozgaar hai toh uske peeche ki sankhya kaam nahi kar raha tu kyon nahi kar raha uski kuch brizar ho sakte hain use kaam nahi mil paa raha hai ya uski kismat kharab hai uska kismat ka saath de diya tha mera toh yahan par parents ko thoda aur saath dene ki zarurat hai na jab unhone puri time wait kiya hai ki buri kamai laga de do thoda time hua hai jab tak vaah success nahi paa leta tab tak uski naukri nahi lag jaati haddi moti motivate nahi hona nako do naina bacche ko ghar mein vaah janbujhkar berozgaar nahi hoga kuch aisi problem hogi jiske karan use naukri nahi mil rahi hongi na kuch kara dijiye usse unhe motivate karte rahiye aur jaldi naukri lag jayegi na thank you so match

हेलो फ्रेंड्स आ देखें सबसे पहले तो मां-बाप को उसके बेरोजगारी का रीजन पता होना चाहिए कि अग

Romanized Version
Likes  57  Dislikes    views  986
WhatsApp_icon
user

Dr Asha B Jain

Dip in Naturopathy, Yoga therapist Pranic healer, Counselor

1:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बच्चों की पढ़ाई में अपनी पूरी जिंदगी कमाई ही लगाने के बाद बेरोजगार रहे तो मां-बाप को उनको प्रॉपर्ली समझाना चाहिए कि आपने पढ़ाई तो कर ली है पूरी पर आपको कोई जरूरी नहीं है कि नौकरी ही करना पड़े आप छोटे से छोटा बिजनेस स्टार्ट कर सकते हैं छोटे-बड़े कि उनको है में बताइए कि छोटा कुछ भी नहीं है जिंदगी में आप छोटे से शुरुआत करिए बड़े-बड़े लोग कैसे छोटे-बड़े बने हैं वह हमको कहानियां सुनाइए वह हमको बताइए आज भी कई यंगस्टर छोटे-छोटे चीजों को लेकर काम कर रहे हैं और बहुत अच्छा काम कर रहे हैं बहुत अच्छी कमाई कर रहे हो नौकरी जितने हेड भी नहीं है उसमें क्या अर्थ है 10 घंटे वेट नहीं है इतना काम बैठे-बैठे करना ही है कंप्यूटर के सामने कोई भी जरूरी नहीं है कई हजारों का आपको नजर आएंगे बिजनेस छोटे-छोटे ओपन कर सकते हैं और उसके छुआ धीरे धीरे धीरे अपनी रिपोर्ट बनाकर आप कमाई को बढ़ा सकते हैं आपने जो भी पढ़ाई करनी है कोई दिक्कत नहीं पढ़ाई कभी नहीं जाएगी वह आगे आपके बिजनेस में काम में आएगी तुमको यही शिक्षा दें क्या आपने पढ़ लिया है कोई दिक्कत नहीं अब आगे आप बिजनेस की शुरुआत करें थोड़ा छोटा करके बिजनेस करें छोटे से शुरुआत करें या किसी के साथ जुड़ जाएं किसी के साथ भी जुड़ कर काम करें तो भी कोई दिक्कत नहीं है इस तरीके से छोटे बड़े का उनको मैं तो समझा ही है क्योंकि एक दफे व्यक्ति पढ़ पढ़ लेता है तो उसे ऐसा लगता है कि आप छोटे स्तर पर जाकर मैं काम नहीं करूंगा या मन में अगर भाव आ जाएगा तो बहुत दिक्कत हो जाएगी वह कुछ भी करना पसंद नहीं करेंगे धन्यवाद

bacchon ki padhai mein apni puri zindagi kamai hi lagane ke baad berozgaar rahe toh maa baap ko unko properly samajhana chahiye ki aapne padhai toh kar li hai puri par aapko koi zaroori nahi hai ki naukri hi karna pade aap chote se chota business start kar sakte hain chote bade ki unko hai mein bataye ki chota kuch bhi nahi hai zindagi mein aap chote se shuruat kariye bade bade log kaise chote bade bane hain vaah hamko kahaniya sunaiye vaah hamko bataye aaj bhi kai youngster chote chhote chijon ko lekar kaam kar rahe hain aur bahut accha kaam kar rahe hain bahut achi kamai kar rahe ho naukri jitne head bhi nahi hai usme kya arth hai 10 ghante wait nahi hai itna kaam baithe baithe karna hi hai computer ke saamne koi bhi zaroori nahi hai kai hazaro ka aapko nazar aayenge business chote chhote open kar sakte hain aur uske chhua dhire dhire dhire apni report banakar aap kamai ko badha sakte hain aapne jo bhi padhai karni hai koi dikkat nahi padhai kabhi nahi jayegi vaah aage aapke business mein kaam mein aayegi tumko yahi shiksha de kya aapne padh liya hai koi dikkat nahi ab aage aap business ki shuruat kare thoda chota karke business kare chote se shuruat kare ya kisi ke saath jud jaye kisi ke saath bhi jud kar kaam kare toh bhi koi dikkat nahi hai is tarike se chote bade ka unko main toh samjha hi hai kyonki ek dafe vyakti padh padh leta hai toh use aisa lagta hai ki aap chote sthar par jaakar main kaam nahi karunga ya man mein agar bhav aa jaega toh bahut dikkat ho jayegi vaah kuch bhi karna pasand nahi karenge dhanyavad

बच्चों की पढ़ाई में अपनी पूरी जिंदगी कमाई ही लगाने के बाद बेरोजगार रहे तो मां-बाप को उनको

Romanized Version
Likes  118  Dislikes    views  1713
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!