अपना लक्ष्य पाने के लिए क्या करें?...


user

Trainer Yogi Yogendra

Motivational Speaker || Career Coach || Business Coach || Marketing & Management Expert's

2:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो फ्रेंड्स मैं योगेंद्र शर्मा मोटिवेशनल स्पीकर के रिपोर्ट और कॉरपोरेट ट्रेनर आज हम जिस टॉपिक पर इक्वेशन पर बात करने के लिए आए हैं वह है माय डियर फ्रेंड अपना लक्ष्य पाने के लिए क्या करें सभी लोग अपना एक लक्ष्य निर्धारित करते हैं अलग-अलग लोगों के लिए अलग अलग अलग से होते हैं कोई 10th क्लास में पड़ा हुआ है कोई अर्थ में पड़ा हुआ है कोई ट्वेल्थ में पड़ा हुआ है तो हर इंसान के लिए अलग अलग अलग से होते हैं और उन लक्ष्यों के लिए वह इंसान काम करते हैं मैं आपको बताना चाहूंगा अगर वाकई में आपका कोई भी लक्ष्य बनाए और जिसको आप पाना चाहते हो तो आप सारे थॉट्स जो भी आपके दिमाग में आते हैं उनको एक तरफ रख दो सिर्फ और सिर्फ फोकस एक ही जगह पर रखना है आपको कि मैं वहां तक कैसे पहुंच सकता हूं और उसके लिए मैं क्या करूं आपको लाइफ में यह देखना पड़ेगा कि आपकी लाइफ में आपका डेडीकेशन आपका फोकस कितना है उस लक्ष्य के प्रति आपको सिर्फ और सिर्फ एक चीज अपने माइंड में लानी ही पड़ेगी कि मैं उस जगह तक कैसे बोल सकता हूं उसके लिए मैं कुछ भी कर सकता हूं अपने आप से कमिटमेंट करना पड़ेगा कि मैं उस लक्ष्य तक पहुंचने के लिए कुछ भी करने को तैयार हूं अगर आपने अपने आप से यह कमिटमेंट किया और उसी तरीके से आपने काम स्टार्ट किया आपने आपको वैसे ही लगाए रखा तो आप एक दिन अपने लक्ष्य तक जरूर जरूर पहुंच जाओगे आपके पास पैसा है या नहीं है आपके पास कोई संसाधन है या नहीं है आपके पास कोई हेल्प करने वाला है या नहीं उससे कोई फर्क नहीं पड़ता है भाई डियर फ्रेंड फर्क है यह पड़ता है कि आप क्या सोचते हो और आपका डेडीकेशन और आपका लक्ष्य के प्रति रुझान कितना है आप कितने पागल हो अपने लक्ष्य के प्रति क्योंकि जो भी लोग पागल होते हैं वही इतिहास बनाते समझदार लोग सिर्फ उनके बारे में पढ़ते हैं इसलिए आपको अपने लक्ष्य के प्रति पागल होना पड़ेगा और अपने आपको पूरी तरह उसमें जोक ना पड़ेगा क्योंकि लोहे में टप्पा हुआ लोहे में पापा हुआ लोहे में तपा हुआ सोना ही सॉरी हार्लोए में तपा हुआ हीरा ही चमक पैदा करता है और महंगे बिकता है जब तक आप अपने आपको लोग आग में नहीं तो पाओगे जब तक अपने आप को आग में नहीं पाओगे माय डियर फ्रेंड जब तक आप समझोगे नहीं अगर आप चमकना चाहते हो ना तो आप को आग में जला ना स्टार्ट कर दो आप को तड़पाना स्टार्ट कर दो आपको पूरे के पूरे कर्म क्षेत्र में झोंक दो अगर यह कर पाए तो आपका लक्ष्य आपके नजदीक होगा जय हिंद जय भारत

hello friends main yogendra sharma Motivational speaker ke report aur corporate trainer aaj hum jis topic par equation par baat karne ke liye aaye hain vaah hai my dear friend apna lakshya paane ke liye kya kare sabhi log apna ek lakshya nirdharit karte hain alag alag logo ke liye alag alag alag se hote hain koi 10th kashi mein pada hua hai koi arth mein pada hua hai koi twelfth mein pada hua hai toh har insaan ke liye alag alag alag se hote hain aur un lakshyon ke liye vaah insaan kaam karte hain main aapko bataana chahunga agar vaakai mein aapka koi bhi lakshya banaye aur jisko aap paana chahte ho toh aap saare thoughts jo bhi aapke dimag mein aate hain unko ek taraf rakh do sirf aur sirf focus ek hi jagah par rakhna hai aapko ki main wahan tak kaise pohch sakta hoon aur uske liye main kya karu aapko life mein yah dekhna padega ki aapki life mein aapka dedikeshan aapka focus kitna hai us lakshya ke prati aapko sirf aur sirf ek cheez apne mind mein lani hi padegi ki main us jagah tak kaise bol sakta hoon uske liye main kuch bhi kar sakta hoon apne aap se commitment karna padega ki main us lakshya tak pahuchne ke liye kuch bhi karne ko taiyar hoon agar aapne apne aap se yah commitment kiya aur usi tarike se aapne kaam start kiya aapne aapko waise hi lagaye rakha toh aap ek din apne lakshya tak zaroor zaroor pohch jaoge aapke paas paisa hai ya nahi hai aapke paas koi sansadhan hai ya nahi hai aapke paas koi help karne vala hai ya nahi usse koi fark nahi padta hai bhai dear friend fark hai yah padta hai ki aap kya sochte ho aur aapka dedikeshan aur aapka lakshya ke prati rujhan kitna hai aap kitne Pagal ho apne lakshya ke prati kyonki jo bhi log Pagal hote hain wahi itihas banate samajhdar log sirf unke bare mein padhte hain isliye aapko apne lakshya ke prati Pagal hona padega aur apne aapko puri tarah usme joke na padega kyonki lohe mein tappa hua lohe mein papa hua lohe mein tapa hua sona hi sorry harloye mein tapa hua heera hi chamak paida karta hai aur mehnge bikta hai jab tak aap apne aapko log aag mein nahi toh paoge jab tak apne aap ko aag mein nahi paoge my dear friend jab tak aap samjhoge nahi agar aap chamkana chahte ho na toh aap ko aag mein jala na start kar do aap ko tadpana start kar do aapko poore ke poore karm kshetra mein jhonk do agar yah kar paye toh aapka lakshya aapke nazdeek hoga jai hind jai bharat

हेलो फ्रेंड्स मैं योगेंद्र शर्मा मोटिवेशनल स्पीकर के रिपोर्ट और कॉरपोरेट ट्रेनर आज हम जिस

Romanized Version
Likes  39  Dislikes    views  567
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!