संसार दुखों से घिरा है इसमें कितनी सच्चाई है?...


play
user

Yogi Nath

Business Owner

3:59

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार बहुत ही अच्छा प्रश्न है आपका जो संबंधित है जीवन से और इस संसार से भी आपने प्रश्न किया है संसार दुखों से गिरा है इसमें कितनी सच्चाई है वास्तव में आपकी बात में सच्चाई तो है कि संसार दुखों से गिरा है लेकिन यह दूरी सच्चाई है इसके विपरीत एक पक्ष और भी है जो सुखों का है आनंद का है जी हां बिना सुख के दुख की अभिनय दुख के सुख की कल्पना नहीं की जा सकती दोनों एक दूसरे के बिना अधूरे हैं जीवन में जब तक कष्ट नहीं होगा दुख नहीं होगा तब तक हमें सुखों की कीमत का पता नहीं चलेगा और वास्तव में सुख के अस्तित्व का भी और जब हमें दुख मिलता है तभी हम सबके कीमत समझते हैं वरना तो जीवन भर अगर सुख ही सुख रहे तो व्यक्ति को दुख का पता ना चले तो ऐसे में सुख कभी नहीं पता चलेगा कि वास्तव में सुख है क्या सुख भी विलुप्त हो जाएगा खत्म हो जाएगा क्योंकि सुख की परिभाषा तो दुख से है आनंद भी तभी आता है जब हम कोई कष्ट उठाकर कोई मेहनत करके किसी लक्ष्य को प्राप्त करते हैं तब जाकर हमेशा कौन मिलता है सुख मिलता है बिना लक्ष्य के बिना कष्ट के जीवन निरर्थक है इसलिए इसकी महत्वता को समझिए कुछ जीवन में नकारात्मक है लेकिन कुछ सकारात्मक भी प्रभाव है तो हम सिर्फ और सिर्फ एक ही चीज को देखें तो यह कहीं ना कहीं गलत है हमारे जीवन के लिए क्योंकि कोई भी ऐसा व्यक्ति नहीं है इस संसार में जो जो कभी दुखी ना हुआ हो और कोई भी ऐसा व्यक्ति नहीं है इन संसार में जो कभी सुखी ना हुआ हो सुख जरूरी नहीं है कि धन और दौलत से प्राप्त हो सुख की परिभाषा है अपने अंत करण से संतुष्टि महसूस करना अगर आपकी आत्मा दो रोटी खाने में भी संतुष्टि महसूस करती है तो आप सुखी है वरना तो दुत्कार कर दिए जाने के बाद आपको चाहे कितनी भी बड़ी रकम क्यों ना दे दिया और उसके साथ आपको इज्जत ना दी जाए तो कार आ जाए तो आपको वह चीजें हजम नहीं होगी अच्छी नहीं लगी एक दिन चलो मान लो अच्छा लग सकता है लेकिन अगले दिन यह दो-तीन दिन बाद आप का अहम आपके अंदर का जमीर आपको अनुमति नहीं देगा स्वीकृति नहीं देगा तो यही चीजें है जीवन के आधार की जो हमें वास्तव में हमने अपने आप से जोड़े रखता है हमें जीवित रखता है दुख के बिना जीवन नहीं है और सुख के बिना दुख नहीं है आई होप चौधरी पोस्ट आपके लिए काफी हेल्पफुल हो थैंक यू फॉर लिसनिंग दिस पोस्ट

namaskar bahut hi accha prashna hai aapka jo sambandhit hai jeevan se aur is sansar se bhi aapne prashna kiya hai sansar dukhon se gira hai isme kitni sacchai hai vaastav me aapki baat me sacchai toh hai ki sansar dukhon se gira hai lekin yah doori sacchai hai iske viprit ek paksh aur bhi hai jo sukho ka hai anand ka hai ji haan bina sukh ke dukh ki abhinay dukh ke sukh ki kalpana nahi ki ja sakti dono ek dusre ke bina adhure hain jeevan me jab tak kasht nahi hoga dukh nahi hoga tab tak hamein sukho ki kimat ka pata nahi chalega aur vaastav me sukh ke astitva ka bhi aur jab hamein dukh milta hai tabhi hum sabke kimat samajhte hain varna toh jeevan bhar agar sukh hi sukh rahe toh vyakti ko dukh ka pata na chale toh aise me sukh kabhi nahi pata chalega ki vaastav me sukh hai kya sukh bhi vilupt ho jaega khatam ho jaega kyonki sukh ki paribhasha toh dukh se hai anand bhi tabhi aata hai jab hum koi kasht uthaakar koi mehnat karke kisi lakshya ko prapt karte hain tab jaakar hamesha kaun milta hai sukh milta hai bina lakshya ke bina kasht ke jeevan nirarthak hai isliye iski mahatvata ko samjhiye kuch jeevan me nakaratmak hai lekin kuch sakaratmak bhi prabhav hai toh hum sirf aur sirf ek hi cheez ko dekhen toh yah kahin na kahin galat hai hamare jeevan ke liye kyonki koi bhi aisa vyakti nahi hai is sansar me jo jo kabhi dukhi na hua ho aur koi bhi aisa vyakti nahi hai in sansar me jo kabhi sukhi na hua ho sukh zaroori nahi hai ki dhan aur daulat se prapt ho sukh ki paribhasha hai apne ant karan se santushti mehsus karna agar aapki aatma do roti khane me bhi santushti mehsus karti hai toh aap sukhi hai varna toh dutkar kar diye jaane ke baad aapko chahen kitni bhi badi rakam kyon na de diya aur uske saath aapko izzat na di jaaye toh car aa jaaye toh aapko vaah cheezen hajam nahi hogi achi nahi lagi ek din chalo maan lo accha lag sakta hai lekin agle din yah do teen din baad aap ka aham aapke andar ka jamir aapko anumati nahi dega swikriti nahi dega toh yahi cheezen hai jeevan ke aadhar ki jo hamein vaastav me humne apne aap se jode rakhta hai hamein jeevit rakhta hai dukh ke bina jeevan nahi hai aur sukh ke bina dukh nahi hai I hope choudhary post aapke liye kaafi helpful ho thank you for listening this post

नमस्कार बहुत ही अच्छा प्रश्न है आपका जो संबंधित है जीवन से और इस संसार से भी आपने प्रश्न क

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  110
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!