1989 का चुनाव कांग्रेस क्यों हारी?...


user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने उसे 99 का चुनाव कांग्रेस क्यों हारी 1989 का जो चुनाव था वह बहुत कई मामले में रखा था लोकेश ली थी इसके बाद से बहुत वर्षों तक 35 वर्षों तक एक प्रकार से कहे गठबंधन सरकारों का शासन रहा और देश निरंतर कमजोर होता चला के गठबंधन सरकारों के शासन क्षेत्रीय दल को पहले खुद लालू मुलायम ममता इन सब का सब की चांदी हो गई करुणानिधि जयललिता लेकिन देश कमजोर हो गया अब आप पूछते कि कांग्रेस क्यों हारी में इंदिरा जी की मृत्यु के बाद राजीव गांधी को शासन सूत्र मिले और उनके नेतृत्व में उस समय इंदिरा गांधी के सहानुभूति लहर में लगभग 481 सीट एक तरफा चिट्ठी है लेकिन राजीव गांधी अनुभव उनको राजनीति का नहीं था उनसे एक के बाद एक अनेक भूले उनकी जो छवि बनी थी मिस्टर क्लीन की वह वह फोर्स में उनका नाम आते ही वह दिन धूमिल हो गई इसके बाद राम मंदिर आंदोलन में उन्होंने ताला खुल गया हिंदुओं की जगह बनते बनते रह गई क्योंकि फिर उन्होंने शाहबानो मामले में उन्होंने कट मुल्लों के आगे घुटने टेक दिए और सबसे बड़ी वजह जो थी वह थी वह फोर्स फोर्स में उनका नाम आ गया दलाली खाने का और उसके बाद से उनके सहयोगी बीपी सिंह उनको उन्होंने कांग्रेस से निकाल दिया कांग्रेस से निकलने के बाद बीके सिंह ने अपना जनमोर्चा बना दिया जनता दल का बना दिया और उसके बाद उन्होंने राजीव गांधी के खिलाफ जबरदस्त प्रचार प्रसार किया लेकिन को सफलता नहीं मिली लेकिन जो भी सरकार तो नहीं वह सिंह मंत्री लेफ्ट राइट दोनों का समर्थन सरकार ज्यादा चली आई कारण था कि कांग्रेस की सरकार में बनी

apne use 99 ka chunav congress kyon haari 1989 ka jo chunav tha vaah bahut kai mamle me rakha tha lokesh li thi iske baad se bahut varshon tak 35 varshon tak ek prakar se kahe gathbandhan sarkaro ka shasan raha aur desh nirantar kamjor hota chala ke gathbandhan sarkaro ke shasan kshetriya dal ko pehle khud lalu mulayam mamata in sab ka sab ki chaandi ho gayi karunanidhi Jayalalitha lekin desh kamjor ho gaya ab aap poochhte ki congress kyon haari me indira ji ki mrityu ke baad rajeev gandhi ko shasan sutra mile aur unke netritva me us samay indira gandhi ke sahanubhuti lahar me lagbhag 481 seat ek tarfa chitthi hai lekin rajeev gandhi anubhav unko raajneeti ka nahi tha unse ek ke baad ek anek bhule unki jo chhavi bani thi mister clean ki vaah vaah force me unka naam aate hi vaah din dhumil ho gayi iske baad ram mandir andolan me unhone tala khul gaya hinduon ki jagah bante bante reh gayi kyonki phir unhone shahbano mamle me unhone cut mullon ke aage ghutne take diye aur sabse badi wajah jo thi vaah thi vaah force force me unka naam aa gaya dalali khane ka aur uske baad se unke sahyogi BP Singh unko unhone congress se nikaal diya congress se nikalne ke baad BK Singh ne apna janmorcha bana diya janta dal ka bana diya aur uske baad unhone rajeev gandhi ke khilaf jabardast prachar prasaar kiya lekin ko safalta nahi mili lekin jo bhi sarkar toh nahi vaah Singh mantri left right dono ka samarthan sarkar zyada chali I karan tha ki congress ki sarkar me bani

अपने उसे 99 का चुनाव कांग्रेस क्यों हारी 1989 का जो चुनाव था वह बहुत कई मामले में रखा था ल

Romanized Version
Likes  50  Dislikes    views  401
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!