प्रधानमंत्री रोज़गार योजना की संस्था?...


play
user

Abhishek Kumar Yadav

Expert In Account & Finance, Motivational Speaker& Life Coach

2:21

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार मैं भी तो तुम्हारा तो वाराणसी से मोटिवेशनल स्पीकर अकाउंट खाने का सपोर्ट जैसा कि आपका प्रश्न प्रधानमंत्री रोजगार योजना के बारे में आपको बता दूं प्रधानमंत्री रोजगार सृजन योजना प्रधानमंत्री स्वरोजगार योजना के तहत प्रधानमंत्री प्रधानमंत्री देश की अर्थव्यवस्था में चाहते हैं कि ऐसे लोग ऐसे उद्योग धंधे हैं जो स्वरोजगार करें ठीक है जो नौकरी को छोड़ कर दो चाय की ओर उन्मुख हो और आत्मनिर्भर बने आश्रम का रोजगार करें रोजगार प्रोत्साहन देने के लिए गवर्नमेंट बहुत तरह के लोन भी दे रही है यानी को धोक लगाने के लिए 2500000 रुपए तक का लोन दे रही है और अगर आप सेवा क्षेत्र से जुड़े रहने के सर्विस क्षेत्र से जुड़े हुए हैं सर्विस फील्ड से जुड़े हुए हैं कुछ सर्विस करने की कंपनी तक लगाते हैं तो उसमें ₹1000000 तक का निवेश आपको मिलेगा तो सरकार का मुख्य उद्देश्य यह है कि आप स्वयं का रोजगार स्थापन करें और अपने रोजगार की तरह दूसरों को रोजगार भी प्रदान करें अपना स्वयं का रोजगार करें व्यवसाय करें ताकि आपको नौकरी करने के लिए आवश्यकता ना हो और आप बेरोजगारी के रेखा से बाहर आ जाए गार्डन में बहुत सारी पर योजना बना रखी है इसका कारण कि जैसे कि लोगों में रोजगार करने की भावना उत्पन्न हुआ लोग अपने आर्थिक विकास कर पाए यह मुख्यता ग्रामीण इलाकों के लिए बना है इस प्रकार की योजना इस को बनाने का उद्देश्य यह है कि ग्रामीण इलाकों में जहां पर उद्योगों का अभाव है उद्योग क्षेत्र पर हैं ताकि वहां के लोगों को रोजगार मिले ताकि वहां से जो लोग पलायन कर के ग्रामीण क्षेत्र पूर्व प्रधान करके शहरों में आते हैं उनकी मात्रा कम हो सके उनको वहीं पर रोजगार मिल सके ताकि उनको शहरों में आने की आवश्यकता है कम पड़े उनका समुचित विकास हो कि उनके क्षेत्र का समुचित विकास हो सके गाना बढ़ावा देने के लिए पंद्रह पर्सेंट तक सब्सिडी देती है और लोन के ऊपर और इतना ही नहीं और जो लोग आरक्षित वर्ग के हैं तो आरक्षित वर्ग के लोगों को 25पसंद तक जो है टैक्स पर सब्सिडी मिलती है लोन पर सब्सिडी मिलती है कभी-कभी यह सब्सिडी की रकम 35 वचन तक चली जाती है तो गवर्नमेंट का इस तरह की योजनाएं देने का मतलब लोन देने और सब्सिडी देने का उद्देश्य बताइए कि है कि ज्यादा से ज्यादा उद्योग धंधे और रोजगार का सृजन होता कि ज्यादा से ज्यादा लोगों को रोजगार मिल सके व्यक्ति अपना विकास कर सके अपने क्षेत्र का विकास कर सके ताकि उसको शहरों तक देखना ना पड़े धन्यवाद मेरा जो पसंद आए तो कृपया लाइक करें

namaskar main bhi toh tumhara toh varanasi se Motivational speaker account khane ka support jaisa ki aapka prashna pradhanmantri rojgar yojana ke bare me aapko bata doon pradhanmantri rojgar srijan yojana pradhanmantri swarojgar yojana ke tahat pradhanmantri pradhanmantri desh ki arthavyavastha me chahte hain ki aise log aise udyog dhande hain jo swarojgar kare theek hai jo naukri ko chhod kar do chai ki aur unmukh ho aur aatmanirbhar bane ashram ka rojgar kare rojgar protsahan dene ke liye government bahut tarah ke loan bhi de rahi hai yani ko dhok lagane ke liye 2500000 rupaye tak ka loan de rahi hai aur agar aap seva kshetra se jude rehne ke service kshetra se jude hue hain service field se jude hue hain kuch service karne ki company tak lagate hain toh usme Rs tak ka nivesh aapko milega toh sarkar ka mukhya uddeshya yah hai ki aap swayam ka rojgar sthapan kare aur apne rojgar ki tarah dusro ko rojgar bhi pradan kare apna swayam ka rojgar kare vyavasaya kare taki aapko naukri karne ke liye avashyakta na ho aur aap berojgari ke rekha se bahar aa jaaye garden me bahut saari par yojana bana rakhi hai iska karan ki jaise ki logo me rojgar karne ki bhavna utpann hua log apne aarthik vikas kar paye yah mukhyata gramin ilako ke liye bana hai is prakar ki yojana is ko banane ka uddeshya yah hai ki gramin ilako me jaha par udhyogo ka abhaav hai udyog kshetra par hain taki wahan ke logo ko rojgar mile taki wahan se jo log palayan kar ke gramin kshetra purv pradhan karke shaharon me aate hain unki matra kam ho sake unko wahi par rojgar mil sake taki unko shaharon me aane ki avashyakta hai kam pade unka samuchit vikas ho ki unke kshetra ka samuchit vikas ho sake gaana badhawa dene ke liye pandrah percent tak subsidy deti hai aur loan ke upar aur itna hi nahi aur jo log arakshit varg ke hain toh arakshit varg ke logo ko pasand tak jo hai tax par subsidy milti hai loan par subsidy milti hai kabhi kabhi yah subsidy ki rakam 35 vachan tak chali jaati hai toh government ka is tarah ki yojanaye dene ka matlab loan dene aur subsidy dene ka uddeshya bataiye ki hai ki zyada se zyada udyog dhande aur rojgar ka srijan hota ki zyada se zyada logo ko rojgar mil sake vyakti apna vikas kar sake apne kshetra ka vikas kar sake taki usko shaharon tak dekhna na pade dhanyavad mera jo pasand aaye toh kripya like kare

नमस्कार मैं भी तो तुम्हारा तो वाराणसी से मोटिवेशनल स्पीकर अकाउंट खाने का सपोर्ट जैसा कि आप

Romanized Version
Likes  92  Dislikes    views  910
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!