लोग प्यार में धोखा क्यों देते है?...


user

Umesh Upaadyay

Life Coach | Motivational Speaker

1:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जैसे एकदम जरूरी नहीं है और ऐसा नहीं होता कि हर इंसान का प्यार में धोखा देता है सब आने लोग प्यार में धोखा क्यों देते हैं अभी क्योंकि तू हजारी जनों सकते हैं बहुत सारी चीजें हो सकती है और यह धोखे वाली बात क्या बात है जब जहां पर कहीं पर इंसान अपने फायदे के बारे में सोचने लगता है वहीं सोचता है कि मेरा इस से क्या होने वाला है या मेरा इससे क्या नहीं हो रहा मुझे इसको कंटिन्यू करना है नहीं करना विश्वास की कमी हो जाती है एक दूसरे में कॉन्फिडेंस नहीं रख पाते हैं यह सारा कुछ सिचुएशनल होता है सिचुएशन के हिसाब से होता है सरकमस्टेंसस कुछ ऐसी हो सकती है जिसके बाद से हो सकता है कि एक इंसान दूसरे इंसान पर थोड़ा सा भरोसा कम करते हो सकता है कि वह अपने फायदे के लिए ज्यादा सोचे बजाय इसके कि मैं अपनी दोस्ती को आगे बढ़ाओ या दोस्ती के बारे में सोचो हो सकता है और भी कई ऐसे रीजन आ सकते हैं वो ऐसे आते हैं लाइफ में जो इंसान को उस राह से किसी और आप पर डाल दें तो ऐसे में आदमी भ्रमित हो सकते हैं और उसके बाद वह सोचता है मैं इससे निजात कैसे पाएं इस समय निकलूं कैसे उस चक्कर में हो सकता है कि वह किसी ना किसी बहाने से निकालने की कोशिश करेगा और दूसरे इंसान को लगेगा कि यह मेरे साथ क्या हो गया कई बार या अधिकतर केस में इतना प्लांट नहीं होता होगा और वह सिचुएशन उसको ऐसा बना देती है तब वह इंसान इंसान ऐसा कोई कदम उठाता है नहीं तो मुझे लगता कि कोई जानबूझकर ऐसा कर धोखा देने का प्लान बनाता है सिचुएशन होती है टाइमिंग होती है और फिर इंसान हो सकता है कुछ गलत स्टेप ले ले और कुछ गलत अप्रोच के लिए ले

jaise ekdam zaroori nahi hai aur aisa nahi hota ki har insaan ka pyar mein dhokha deta hai sab aane log pyar mein dhokha kyon dete hai abhi kyonki tu hazari jano sakte hai bahut saree cheezen ho sakti hai aur yah dhokhe wali baat kya baat hai jab jaha par kahin par insaan apne fayde ke bare mein sochne lagta hai wahi sochta hai ki mera is se kya hone vala hai ya mera isse kya nahi ho raha mujhe isko continue karna hai nahi karna vishwas ki kami ho jaati hai ek dusre mein confidence nahi rakh paate hai yah saara kuch situational hota hai situation ke hisab se hota hai sarakamastensas kuch aisi ho sakti hai jiske baad se ho sakta hai ki ek insaan dusre insaan par thoda sa bharosa kam karte ho sakta hai ki vaah apne fayde ke liye zyada soche bajay iske ki main apni dosti ko aage badhao ya dosti ke bare mein socho ho sakta hai aur bhi kai aise reason aa sakte hai vo aise aate hai life mein jo insaan ko us raah se kisi aur aap par daal de toh aise mein aadmi bharmit ho sakte hai aur uske baad vaah sochta hai isse nijat kaise paen is samay nikalu kaise us chakkar mein ho sakta hai ki vaah kisi na kisi bahaane se nikalne ki koshish karega aur dusre insaan ko lagega ki yah mere saath kya ho gaya kai baar ya adhiktar case mein itna plant nahi hota hoga aur vaah situation usko aisa bana deti hai tab vaah insaan insaan aisa koi kadam uthaata hai nahi toh mujhe lagta ki koi janbujhkar aisa kar dhokha dene ka plan banata hai situation hoti hai timing hoti hai aur phir insaan ho sakta hai kuch galat step le le aur kuch galat approach ke liye le

जैसे एकदम जरूरी नहीं है और ऐसा नहीं होता कि हर इंसान का प्यार में धोखा देता है सब आने लोग

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  308
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Tilak Singh

Sch.Topper,Parnassian & Author

0:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं क्या होता है कि लोग जो प्यार करते हैं तो प्यार में धोखा देने कई कारण हो सकते हैं कि जैसे कि या उन्हें कोई काम लिखो जिस बगिया या कोई जो प्यार होता है वह तो किसी से भी हो जाता है या अदर कास्ट होता है तो घरवाले खिलाफ हो जाती हैं या कोई भी परेशानी आ जाती है या सच्चा प्यार नहीं होता है या बहुत सारी दिक्कतें आ जाती हैं जिस काम से लोगों को प्यार तो होना पड़ता है और नहीं लगता है कि हमें उसने धोखा दिया है हमें उसने धोखा दिया है क्योंकि उनके पीछे जो जिस कारण है बजे है वह क्रिया ही नहीं हो पाती है

nahi kya hota hai ki log jo pyar karte hain toh pyar mein dhokha dene kai karan ho sakte hain ki jaise ki ya unhe koi kaam likho jis BAGIYA ya koi jo pyar hota hai vaah toh kisi se bhi ho jata hai ya other caste hota hai toh gharwale khilaf ho jaati hain ya koi bhi pareshani aa jaati hai ya saccha pyar nahi hota hai ya bahut saree dikkaten aa jaati hain jis kaam se logo ko pyar toh hona padta hai aur nahi lagta hai ki hamein usne dhokha diya hai hamein usne dhokha diya hai kyonki unke peeche jo jis karan hai baje hai vaah kriya hi nahi ho pati hai

नहीं क्या होता है कि लोग जो प्यार करते हैं तो प्यार में धोखा देने कई कारण हो सकते हैं कि ज

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  198
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लोग प्यार में धोखा क्यों खा जाते हैं क्योंकि हम प्यार करने वाला कभी कभी प्यार में इतना पागल हो जाता है ना कि सामने वाला को इतना इतना भरोसा करने लग गया उस पर इतना कष्ट करने लगते हैं मुझे कि हमें कुछ दिखाई नहीं देता उसे उसकी असली चेहरा में दिखाई नहीं देता हमें कुछ भी समझ में नहीं आया उसकी असली चेहरा हमारे लिए देख पाना मुश्किल होता है हम इतना उसको निर्भर कर बैठते हैं उस पर भरोसा कर बैठे उसके दिलो जान लुटाने के लिए तैयार हो जाता है मतलब हम जो कुछ भी पूरा दुनिया उसे समझने लगते हैं सूरज दुनिया उसे समझ बैठते हैं और हम उसे इतना भरोसा करते हैं उसे इतना निर्भर कर लेते ना जैसे लगता हमारी पूरी जिंदगी यही है पूरी दुनिया यही हमारे लिए और हम इस चक्कर में प्यार के चक्कर में हम सामने वाला को चेहरा नहीं दे पाते उनकी असली चेहरा नहीं देख पाते क्योंकि हम जान इतने अंधे हो चुके होते हैं ना कि हमें उनके असली चेहरा दिखाइए दिखाई नहीं देता दिखाई नहीं देता हूं असली चेहरा वह प्रतिज्ञा अंदर क्या सोच रहे हमें यह सब इतना पागल हो रही हो जाते हैं ना क्या मुन्नी पूरी दुनिया समझ बैठते हैं उन पर इतना भरोसा कर बैठे हैं इसलिए हमें कुछ भी दिखाई नहीं देता इसलिए हमें कुछ समझ नहीं आता और इसलिए हमें बाद में धोखा खाना पड़ता और जब धोखा खाते हैं ना हम तो जमीन के बल गिरते हैं ना तो हमें कुछ समझ में आने लगता धोखा खाने के बाद अच्छे से अच्छे इंसान का दिमाग ठिकाने आ जाता है हम लोगों का जवाब नहीं दूंगा कहते हैं और जमीन के बल गिरते हैं ना तो हमें दिमाग ठिकाने आ जाता दिमाग पर इतना दूर पड़ता है ना कि हम फिर किसी इंसान पर भरोसा करना हमारे लिए बहुत मुश्किल होता है बहुत सोच समझ के हमें फिर भरोसा करना पड़ता है क्योंकि हम किसी को इतना हक मत दो कि वह आपको वह आपके प्यार की मजाक उड़ा दे वह आपका दिल तोड़ जाए इसलिए किसी को इतना भी मत दो इतना भी भरोसा मत करो कि वह आपको प्यार की मजाक उड़ाए तो आपको दिल तोड़ कर जा वह आपको धोखा दे जाए इसलिए आजकल कि इंसान पर भरोसा करना बहुत मुश्किल हो चुका है धन्यवाद भाई

log pyar me dhokha kyon kha jaate hain kyonki hum pyar karne vala kabhi kabhi pyar me itna Pagal ho jata hai na ki saamne vala ko itna itna bharosa karne lag gaya us par itna kasht karne lagte hain mujhe ki hamein kuch dikhai nahi deta use uski asli chehra me dikhai nahi deta hamein kuch bhi samajh me nahi aaya uski asli chehra hamare liye dekh paana mushkil hota hai hum itna usko nirbhar kar baithate hain us par bharosa kar baithe uske dilo jaan lutane ke liye taiyar ho jata hai matlab hum jo kuch bhi pura duniya use samjhne lagte hain suraj duniya use samajh baithate hain aur hum use itna bharosa karte hain use itna nirbhar kar lete na jaise lagta hamari puri zindagi yahi hai puri duniya yahi hamare liye aur hum is chakkar me pyar ke chakkar me hum saamne vala ko chehra nahi de paate unki asli chehra nahi dekh paate kyonki hum jaan itne andhe ho chuke hote hain na ki hamein unke asli chehra dikhaiye dikhai nahi deta dikhai nahi deta hoon asli chehra vaah pratigya andar kya soch rahe hamein yah sab itna Pagal ho rahi ho jaate hain na kya munni puri duniya samajh baithate hain un par itna bharosa kar baithe hain isliye hamein kuch bhi dikhai nahi deta isliye hamein kuch samajh nahi aata aur isliye hamein baad me dhokha khana padta aur jab dhokha khate hain na hum toh jameen ke bal girte hain na toh hamein kuch samajh me aane lagta dhokha khane ke baad acche se acche insaan ka dimag thikane aa jata hai hum logo ka jawab nahi dunga kehte hain aur jameen ke bal girte hain na toh hamein dimag thikane aa jata dimag par itna dur padta hai na ki hum phir kisi insaan par bharosa karna hamare liye bahut mushkil hota hai bahut soch samajh ke hamein phir bharosa karna padta hai kyonki hum kisi ko itna haq mat do ki vaah aapko vaah aapke pyar ki mazak uda de vaah aapka dil tod jaaye isliye kisi ko itna bhi mat do itna bhi bharosa mat karo ki vaah aapko pyar ki mazak udaye toh aapko dil tod kar ja vaah aapko dhokha de jaaye isliye aajkal ki insaan par bharosa karna bahut mushkil ho chuka hai dhanyavad bhai

लोग प्यार में धोखा क्यों खा जाते हैं क्योंकि हम प्यार करने वाला कभी कभी प्यार में इतना पाग

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  99
WhatsApp_icon
user
Play

बस मैं तो यही बोलूंगा कि जब भी हमारी फीलिंग दूसरों से मैच नहीं होती...

Likes  1  Dislikes    views  172
WhatsApp_icon
user

Sujit Kumar

Software Engineer

0:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पहला क्वेश्चन प्यार सूरत देखकर करनी चाहिए यार जरा देखे पहले तो आदमी चेहरा देखकर प्यार करता है फिर बाद में क्या साथ में रहने लगता है उसकी आदतें हैं उसकी कुछ चीजें हैं उसे पसंद है हमारी कुछ भी उसे नहीं पसंद है हमको उसकी चीज़ नहीं पसंद है जब दोनों का कुछ दिन तो रिलेशन अच्छा चलता है लेकिन कुछ दिन में क्या होता है हमारी कमी हमको देखना चाहती हैं हमको भी कमियां दिखने लगती है साथ में रहने के बाद तो आदमी फिर एक दूसरे से नफरत करने लगता है फिर धीरे-धीरे क्या होता है कि जितना प्यार करते थे उससे देखना पति दोनों हो जाती है तो फिर दूसरे के लोग ठीक करने लगते हैं दूसरे में इंटरेस्ट होने लगते हैं वहीं पर तो कॉमन बात हो गई आजकल लड़का लड़की दोनों एक दूसरे को चेक करते हैं धन्यवाद

pehla question pyar surat dekhkar karni chahiye yaar zara dekhe pehle toh aadmi chehra dekhkar pyar karta hai phir baad mein kya saath mein rehne lagta hai uski aadatein hai uski kuch cheezen hai use pasand hai hamari kuch bhi use nahi pasand hai hamko uski cheez nahi pasand hai jab dono ka kuch din toh relation accha chalta hai lekin kuch din mein kya hota hai hamari kami hamko dekhna chahti hai hamko bhi kamiya dikhne lagti hai saath mein rehne ke baad toh aadmi phir ek dusre se nafrat karne lagta hai phir dhire dhire kya hota hai ki jitna pyar karte the usse dekhna pati dono ho jaati hai toh phir dusre ke log theek karne lagte hai dusre mein interest hone lagte hai wahi par toh common baat ho gayi aajkal ladka ladki dono ek dusre ko check karte hai dhanyavad

पहला क्वेश्चन प्यार सूरत देखकर करनी चाहिए यार जरा देखे पहले तो आदमी चेहरा देखकर प्यार करता

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  120
WhatsApp_icon
play
user

Geet Awadhiya

Aspiring Software Developer

0:13

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए कोई यदि आप को धोखा देता है उसके पीछे बहुत सारी बधाई हो सकती हैं ज्यादातर लोग धोखा जो देते हैं वह खुद के स्वार्थ के लिए देते हैं या फिर इसलिए देते हैं क्योंकि वह आपको जीवन में ज्यादा महत्वपूर्ण नहीं मानते हैं

dekhiye koi yadi aap ko dhokha deta hai uske peeche bahut saree badhai ho sakti hain jyadatar log dhokha jo dete hain vaah khud ke swarth ke liye dete hain ya phir isliye dete hain kyonki vaah aapko jeevan mein zyada mahatvapurna nahi maante hain

देखिए कोई यदि आप को धोखा देता है उसके पीछे बहुत सारी बधाई हो सकती हैं ज्यादातर लोग धोखा जो

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  60
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
सरकमस्टेंसस ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!