सम्राट अशोक का शिलालेख क्या गम्मत?...


play
user

PKS

Assistant Professor, Dept Of History

4:59

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सम्राट अशोक का शिलालेख क्या गम्मत गम्मत का तो कोई अर्थ नहीं निकलता है लेकिन उस कर्ता का कहना है कि सम्राट अशोक का शिलालेख क्या है या कहां पाया गया है तो दोस्तों सब जानते हैं कि सम्राट अशोक मौर्य समाज का मानसा मानसा सकता और मोर समराज का ही नहीं बल्कि भारत और संपूर्ण विश्व में सम्राट अशोक कैसे शासक की गिने-चुने ही होंगे वह पहला शासक था जिसने जिसने अपनी जनता के कल्याण के लिए और जनता के ही लोग को ही नहीं बल्कि परलोक को भी सुधारने का प्रयास किया था सम्राट अशोक ने जानते हैं कि कलिंग युद्ध के बाद उसमें भीषण नरसंहार को देखकर सम्राट अशोक के हृदय का परिवर्तन हो गया और उसने युद्ध भेरी गोस की जगह धर्म घोष को अपना लिया और अपने धर्म का प्रचार किया तो सम्राट अशोक के शिलालेख ए कई जगह पर मिले हैं स्तंभ लेख और शिलालेख कई जगह पर मिले हैं और यह शिलालेख ब्राह्मी लिपि में है जाकर शिलालेख ब्राह्मी लिपि में है और प्राकृत भाषा में है तो शौक के शिलालेख में अशोक का 14 शिलालेख ए गिरनार जूनागढ़ सौराष्ट्र में प्राप्त हुआ अशोक के 14 शिलालेख उसमें से गिरनार सौराष्ट्र में प्राप्त हुआ है तृतीय शिलालेख पर ब्राह्मी लिपि लिखी हुई है और उसमें लिखा हुआ है देवानंद पीओपी अदशी राजा एवं मतलब देवानंद प्रियदर्शी राजा ने ऐसा कहा और अशोक के अभिलेखों में उसे 3 नामों अशोक देवानंद प्रियदर्शी तथा राजा नाम से संबोधित किया गया है मस्की कर्नाटक मस्की एवं गुर्जर दतिया मध्य प्रदेश से प्राप्त लबों से लघु शिलालेखों में उसका नाम अशोक दिया गया है और इसके बाद भी अशोक के शिलालेख मिले हैं सम्राट अशोक का प्रथम शिलालेख सौराष्ट्र के जूनागढ़ जिले के गिरनार से चर्चा की और इसके ब्लिपी ब्रह्मी है और यह 272 से 32 ईसा पूर्व का है और यह अभिलेख की तृतीय पंक्ति में अशोक ने निर्देश दिया है कि जीव बली के लिए नहीं माना जाएगा इसके अलावा 100 का 13वां शिलालेख समाज घड़ी से प्राप्त हुआ है इसकी प्रथम पंक्ति में कलिंग विजय का उल्लेख है एवं नववी पत्ती में अशोक के विदेशी राजाओं से संबंध की जानकारी मिलती है तो दोस्तों आप समझ गए कि अशोक के अनेक शिलालेख प्राप्त हुए हैं और उनके उनको उनकी लिपि को पढ़ा जा सका है जेम्स प्रिसेप राम कश्यप जेम्स प्रिंसेप नामक कंपनी के टकसाल के एक अधिकारी ने प्राचीन शिलालेखों तथा सिखों में प्रयोग की गई ग्राम एवं कनिष्ठ लिपिक को प्रथम बार पढ़ा था और 1837 में जेम्स प्रिंसेप ने अशोक के अभिलेखों का अध्ययन प्रस्तुत किया था तो आप दोस्तों समझ गए कि अशोक के शिलालेख कई जगह से मिले हैं और उनकी लिपि को पढ़ा गया है और जिससे पता चलता है कि अशोक एक महान शासक थे धन्यवाद

samrat ashok ka shilalekh kya gammat gammat ka toh koi arth nahi nikalta hai lekin us karta ka kehna hai ki samrat ashok ka shilalekh kya hai ya kaha paya gaya hai toh doston sab jante hain ki samrat ashok maurya samaj ka manasa manasa sakta aur mor samraj ka hi nahi balki bharat aur sampurna vishwa me samrat ashok kaise shasak ki gine chune hi honge vaah pehla shasak tha jisne jisne apni janta ke kalyan ke liye aur janta ke hi log ko hi nahi balki parlok ko bhi sudhaarne ka prayas kiya tha samrat ashok ne jante hain ki kalinga yudh ke baad usme bhishan narasanhar ko dekhkar samrat ashok ke hriday ka parivartan ho gaya aur usne yudh bheri gos ki jagah dharm ghosh ko apna liya aur apne dharm ka prachar kiya toh samrat ashok ke shilalekh a kai jagah par mile hain stambh lekh aur shilalekh kai jagah par mile hain aur yah shilalekh brahmi lipi me hai jaakar shilalekh brahmi lipi me hai aur prakrit bhasha me hai toh shauk ke shilalekh me ashok ka 14 shilalekh a girnaar junagadh Saurashtra me prapt hua ashok ke 14 shilalekh usme se girnaar Saurashtra me prapt hua hai tritiya shilalekh par brahmi lipi likhi hui hai aur usme likha hua hai devanand POP adashi raja evam matlab devanand priyadarshi raja ne aisa kaha aur ashok ke abhilekho me use 3 namon ashok devanand priyadarshi tatha raja naam se sambodhit kiya gaya hai misky karnataka misky evam gurjar datiya madhya pradesh se prapt labon se laghu shilalekho me uska naam ashok diya gaya hai aur iske baad bhi ashok ke shilalekh mile hain samrat ashok ka pratham shilalekh Saurashtra ke junagadh jile ke girnaar se charcha ki aur iske blipi bramhi hai aur yah 272 se 32 isa purv ka hai aur yah abhilekh ki tritiya pankti me ashok ne nirdesh diya hai ki jeev bali ke liye nahi mana jaega iske alava 100 ka va shilalekh samaj ghadi se prapt hua hai iski pratham pankti me kalinga vijay ka ullekh hai evam navavi patti me ashok ke videshi rajaon se sambandh ki jaankari milti hai toh doston aap samajh gaye ki ashok ke anek shilalekh prapt hue hain aur unke unko unki lipi ko padha ja saka hai gems prisep ram kashyap gems prinsep namak company ke taksaal ke ek adhikari ne prachin shilalekho tatha Sikhon me prayog ki gayi gram evam kanishth lipik ko pratham baar padha tha aur 1837 me gems prinsep ne ashok ke abhilekho ka adhyayan prastut kiya tha toh aap doston samajh gaye ki ashok ke shilalekh kai jagah se mile hain aur unki lipi ko padha gaya hai aur jisse pata chalta hai ki ashok ek mahaan shasak the dhanyavad

सम्राट अशोक का शिलालेख क्या गम्मत गम्मत का तो कोई अर्थ नहीं निकलता है लेकिन उस कर्ता का कह

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  225
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!