कामयाब बनने के लिए क्या किया जाए?...


user

Aniket Pandey

Insurance

4:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों बहुत ही अच्छा सवाल पूछा है आपने कि काम में आप बनने के लिए क्या किया जाए तो कामयाब बनने के लिए क्या किया जाए इसके लिए मैं एक कहानी सुनाऊंगा और उसके माध्यम से आप इसका जवाब आ जाएंगे अमेरिका में एक परिवार में एक लड़के का जन्म हुआ जिसका नाम था जेम्स जेम्स अपाहिज फॉर फिजिकली हैंडिकैप्ड था कहने का मतलब उसकी एक हाथ और एक पाव दोनों काम नहीं कर रहे थे उसके अंदर बचपन से ही फुटबॉल के लिए बहुत ही ज्यादा प्रेम था वह एक बहुत बड़ा फुटबॉलर बनना चाहता था बच्ची का बहुत ही ज्यादा इच्छा देखते हुए उसके उसके मन को देखते हुए खेल के प्रति लगाव को देखते हुए उसके मां-बाप ने जेम्स को लकड़ी का पेड़ लगवा दिया अब जेम्स जैसे ही लकड़ी का पेड़ जींस को लगा जींस की खुशी का ठिकाना नहीं रहा दौड़ते दौड़ते अपने दोस्तों के पास गए और कहा कि मुझे भी अपने फुटबॉल की टीम में था मिलकर दीक्षित ने कहा तुम्हारे तो लकड़ी के पैर हैं तुम तो एक भी गोल नहीं कर पाओगे इसलिए तुम हमारी टीम में नहीं रहोगे जेम्स वां पर उदास नहीं हुआ उन दोस्तों के जाने के बाद खुद गोल करने की प्रैक्टिस करने लगा दिन बीतते गए सप्ताह बीतते गए महीने बीतते गए साल बीते और एक समय आ गया कि जेम्स अपनी खुशी लकड़ी के पेड़ से बड़े-बड़े गोल करने लगा जिसकी वजह से उसे एक बहुत बड़ी टीम के साथ खेलने का मौका मिला एक बहुत बड़े स्टेडियम में जहां 70000 लोग चीज को देख रहे थे जैंस वहां पर पहुंचता है जेंट्स की टीम और सामने वाली टीम में बहुत ही कांटे की टक्कर होती है लगभग दोनों टीम के गोल बराबर हो चुके होते हैं कभी जेम्स 63 यार्ड की दूरी से अपने लकड़ी के पेड़ से एक बहुत ही बड़ा कॉल मारता है और जब यह गोल दिखती है पूरी पब्लिक को तो खुशी से पागल हो जाती है जब लोगों को पता चलता है कि जेम्स ने यह चमत्कार अपने नकली पेड़ से किया तो उन्हें बहुत या स्टार्ट होता है जब उनसे कोर्ट से यह बात पूछी जाती है कि जेम्स ने कैसे किया उनका कुछ कहता है यह जो किया उज्जैन से नहीं किया वह गॉड ने किया दोस्तों इस कहानी से जो हमें शिक्षा मिलेगी ध्यान से सुनिए गा वह आपको कामयाब बनने के लिए बहुत ही ज्यादा मैं पहली शिक्षा मिलती है कि काम या वही लोग बनते हैं जिनके अंदर बिल्डिंग डिजायर होती है सक्सेस को पानी बुक चेंज बचपन से फिजिकली हैंडिकैप्ड था पर उसके अंदर बंडिंग डिजाइन थी बहुत बड़े फुटबॉलर बनने दूसरा महानता उन्हीं के पास आती है जो महानता के लिए कोई भी कीमत चुकाने को तैयार रहते हैं आप जींस को ही देख लीजिए फुटबॉल के लिए लकड़ी के पेड़ से आप किसी भी काम में कामयाब तभी बन सकते हैं उस काम को करने में आपको आनंद है जिसे जींस लकड़ी के पेड़ से खेलता था तकलीफ होती प्रभु खेलता रहा क्योंकि उसे इंजॉय उसे आनंद उसे पैशन उस काम में मिलता था चाहिए पैशन आप जिस क्षेत्र में कामयाब होना चाहते हैं उसने आपका है यह जानने की जरूरत है चौथा जो सबसे ज्यादा इंपोर्टेंट है वह है प्रैक्टिस प्रैक्टिस और बहुत ज्यादा प्रैक्टिस जिस भी क्षेत्र में आप सफल होना चाहते हैं क्या लगाता प्रयास कर रही हैं लगातार अभ्यास कर रहे हैं अपने आप को और अच्छा बनाने की कोशिश कर रहे हैं अगर आप कर रहे हैं तो सफलता आपसे दूध और सबसे इंपॉर्टेंट बात की आप जब यह सारी एक्टिविटीज फॉलो करोगे तो जब आपकी सफलता होगी तो यूनिवर्सल पावर आपके साथ ब्रह्मांड की शक्ति आपके साथ काम करने लगेगी और वह आपकी उन सपनों को आपके ले जाने में आपका मार्गदर्शन करें और लोग ही कहेंगे कि यह इसने जो कि कोई चमत्कार से कम नहीं है दोस्तों अगर यह कामयाब बनने के लिए मेरी आपको बताइए कहानी अच्छी लगी तो जीवन में बदलाव होता है तो मुझे बहुत ख़ुशी होगी थैंक यू सो मच

namaskar doston bahut hi accha sawaal poocha hai aapne ki kaam me aap banne ke liye kya kiya jaaye toh kamyab banne ke liye kya kiya jaaye iske liye main ek kahani sunaunga aur uske madhyam se aap iska jawab aa jaenge america me ek parivar me ek ladke ka janam hua jiska naam tha gems gems apahij for physically handicapped tha kehne ka matlab uski ek hath aur ek paav dono kaam nahi kar rahe the uske andar bachpan se hi football ke liye bahut hi zyada prem tha vaah ek bahut bada footballer banna chahta tha bachi ka bahut hi zyada iccha dekhte hue uske uske man ko dekhte hue khel ke prati lagav ko dekhte hue uske maa baap ne gems ko lakdi ka ped lagwa diya ab gems jaise hi lakdi ka ped jeans ko laga jeans ki khushi ka thikana nahi raha daudte daudte apne doston ke paas gaye aur kaha ki mujhe bhi apne football ki team me tha milkar dixit ne kaha tumhare toh lakdi ke pair hain tum toh ek bhi gol nahi kar paoge isliye tum hamari team me nahi rahoge gems va par udaas nahi hua un doston ke jaane ke baad khud gol karne ki practice karne laga din bitte gaye saptah bitte gaye mahine bitte gaye saal bite aur ek samay aa gaya ki gems apni khushi lakdi ke ped se bade bade gol karne laga jiski wajah se use ek bahut badi team ke saath khelne ka mauka mila ek bahut bade stadium me jaha 70000 log cheez ko dekh rahe the jains wahan par pahuchta hai gents ki team aur saamne wali team me bahut hi kante ki takkar hoti hai lagbhag dono team ke gol barabar ho chuke hote hain kabhi gems 63 yard ki doori se apne lakdi ke ped se ek bahut hi bada call maarta hai aur jab yah gol dikhti hai puri public ko toh khushi se Pagal ho jaati hai jab logo ko pata chalta hai ki gems ne yah chamatkar apne nakli ped se kiya toh unhe bahut ya start hota hai jab unse court se yah baat puchi jaati hai ki gems ne kaise kiya unka kuch kahata hai yah jo kiya ujjain se nahi kiya vaah god ne kiya doston is kahani se jo hamein shiksha milegi dhyan se suniye jaayega vaah aapko kamyab banne ke liye bahut hi zyada main pehli shiksha milti hai ki kaam ya wahi log bante hain jinke andar building desire hoti hai success ko paani book change bachpan se physically handicapped tha par uske andar banding design thi bahut bade footballer banne doosra mahanata unhi ke paas aati hai jo mahanata ke liye koi bhi kimat chukaane ko taiyar rehte hain aap jeans ko hi dekh lijiye football ke liye lakdi ke ped se aap kisi bhi kaam me kamyab tabhi ban sakte hain us kaam ko karne me aapko anand hai jise jeans lakdi ke ped se khelta tha takleef hoti prabhu khelta raha kyonki use enjoy use anand use passion us kaam me milta tha chahiye passion aap jis kshetra me kamyab hona chahte hain usne aapka hai yah jaanne ki zarurat hai chautha jo sabse zyada important hai vaah hai practice practice aur bahut zyada practice jis bhi kshetra me aap safal hona chahte hain kya lagaata prayas kar rahi hain lagatar abhyas kar rahe hain apne aap ko aur accha banane ki koshish kar rahe hain agar aap kar rahe hain toh safalta aapse doodh aur sabse important baat ki aap jab yah saari activities follow karoge toh jab aapki safalta hogi toh universal power aapke saath brahmaand ki shakti aapke saath kaam karne lagegi aur vaah aapki un sapno ko aapke le jaane me aapka margdarshan kare aur log hi kahenge ki yah isne jo ki koi chamatkar se kam nahi hai doston agar yah kamyab banne ke liye meri aapko bataiye kahani achi lagi toh jeevan me badlav hota hai toh mujhe bahut khushi hogi thank you so match

नमस्कार दोस्तों बहुत ही अच्छा सवाल पूछा है आपने कि काम में आप बनने के लिए क्या किया जाए तो

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  91
KooApp_icon
WhatsApp_icon
24 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!