क्या लड़का और लड़की दोस्त हो सकते हैं अगर हो सकते हैं तो लोग उनको गलत नजरिये से क्यों देखते?...


user

Pramod Kumar Singh

Motivator And Business

0:39
Play

Likes  98  Dislikes    views  1080
WhatsApp_icon
11 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Umesh Upaadyay

Life Coach | Motivational Speaker

3:58
Play

Likes  691  Dislikes    views  6910
WhatsApp_icon
user

Nikhil Ranjan

HoD - NIELIT

1:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका प्रश्न है क्या लड़का और लड़की दोस्त हो सकता है अगर हो सकता है तो लोगों ने गलत नजरिए से क्यों देखते हैं तो देखे यहां पर समाज में परिवर्तन आ रहा है लेकिन अगर आप सोचें कि एकदम से पूरा मन की डिग्री रोटेशन हो जाएगा तो ऐसा नहीं होता है धीरे-धीरे परिवर्तन आता है लोगों में सामाजिक तौर पर परिवर्तन की शुरुआत हो चुकी है अब लड़के लड़कियों के रिश्ते को उस तरह से नहीं देखा जाता पहले जैसे आज से 10 साल पहले देखा जाता था अब धीरे-धीरे उसमें बदलाव आना शुरुआत हो चुकी है तेरे आगे रहा है तो आपको भी उनका कोडिंग बिहेव करना चाहिए और ऐसा नहीं है यहां पर मैं तो वैसे ही देखता है कुछेक लोग ही ऐसे हैं जो कि अपना नजरिया गलत रखते हैं और फिर वह दूसरों का इंश्योरेंस भी करना शुरू कर देते हैं तो यहां पर समाज को भी सोचना होगा कि अपने अंदर से जितने भी इस तरह की नेगेटिविटी है उसको कम करें तभी एक अच्छे स्वस्थ समाज का कल निर्माण हो सकता है मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं

namaskar aapka prashna hai kya ladka aur ladki dost ho sakta hai agar ho sakta hai toh logo ne galat nazariye se kyon dekhte hain toh dekhe yahan par samaj me parivartan aa raha hai lekin agar aap sochen ki ekdam se pura man ki degree rotation ho jaega toh aisa nahi hota hai dhire dhire parivartan aata hai logo me samajik taur par parivartan ki shuruat ho chuki hai ab ladke ladkiyon ke rishte ko us tarah se nahi dekha jata pehle jaise aaj se 10 saal pehle dekha jata tha ab dhire dhire usme badlav aana shuruat ho chuki hai tere aage raha hai toh aapko bhi unka coding behave karna chahiye aur aisa nahi hai yahan par main toh waise hi dekhta hai kuchek log hi aise hain jo ki apna najariya galat rakhte hain aur phir vaah dusro ka insurance bhi karna shuru kar dete hain toh yahan par samaj ko bhi sochna hoga ki apne andar se jitne bhi is tarah ki negativity hai usko kam kare tabhi ek acche swasth samaj ka kal nirmaan ho sakta hai main subhkamnaayain aapke saath hain

नमस्कार आपका प्रश्न है क्या लड़का और लड़की दोस्त हो सकता है अगर हो सकता है तो लोगों ने गलत

Romanized Version
Likes  915  Dislikes    views  7780
WhatsApp_icon
user

S Bajpay

Yoga Expert | Beautician & Gharelu Nuskhe Expert

1:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लड़की और लड़की और लड़का दोस्त हो सकते हैं लोग बहुत जल्दी करते भी जगह पता भी नहीं आजकल तो देखेगा एलिमेंट में लड़का लड़की रहते हो कोई मतलब नहीं समझते नहीं यह चीज को लड़का लड़की की कुश्ती कहां करती हो सही भी है कैसे-कैसे नहीं है आज और जी और अगर आप पास आने वाली है लोग बात नहीं समझते हो

ladki aur ladki aur ladka dost ho sakte hain log bahut jaldi karte bhi jagah pata bhi nahi aajkal toh dekhega element me ladka ladki rehte ho koi matlab nahi samajhte nahi yah cheez ko ladka ladki ki kushti kaha karti ho sahi bhi hai kaise kaise nahi hai aaj aur ji aur agar aap paas aane wali hai log baat nahi samajhte ho

लड़की और लड़की और लड़का दोस्त हो सकते हैं लोग बहुत जल्दी करते भी जगह पता भी नहीं आजकल तो द

Romanized Version
Likes  412  Dislikes    views  4773
WhatsApp_icon
user

Anil Bajpai

Writer | Publisher | Investor | Hotelier | Devloper

1:34
Play

Likes  149  Dislikes    views  2980
WhatsApp_icon
user

Kumar lalit

Life Coach , Love Guru , Hotel Cunsultant, Motivational Speekar

3:37
Play

Likes  75  Dislikes    views  756
WhatsApp_icon
play
user

Yesh Legha

Motivation Speaker And Poem Writer

1:13

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार लेकिन जो हमारा समाज है उनका नसीब ही ऐसा हो गया है इस सोच ही ऐसी हो गई थी अब लड़का और लड़की दोस्त हैं तो उनका सिर्फ दोस्ती तक नहीं रहेगा या दोस्ती तक नहीं है नंबर रिश्ता परिवर्तित हो ही जाता है आखिरकार तो समाज का नजरिया भी हम इतना गलत नहीं होता क्योंकि समाज देखता है वही सोचता है तो जो है लोगों का वह वही देखते हैं लड़का लड़की का जो रिश्ता है वही तो बारे में सोचते हैं शायद यह भी वैसा ही होगा लेकिन मैं जरूर कहूंगा कि अच्छी दोस्त हो सकते लड़का शुक्रिया

namaskar lekin jo hamara samaj hai unka nasib hi aisa ho gaya hai is soch hi aisi ho gayi thi ab ladka aur ladki dost hain toh unka sirf dosti tak nahi rahega ya dosti tak nahi hai number rishta parivartit ho hi jata hai aakhirkaar toh samaj ka najariya bhi hum itna galat nahi hota kyonki samaj dekhta hai wahi sochta hai toh jo hai logo ka vaah wahi dekhte hain ladka ladki ka jo rishta hai wahi toh bare me sochte hain shayad yah bhi waisa hi hoga lekin main zaroor kahunga ki achi dost ho sakte ladka shukriya

नमस्कार लेकिन जो हमारा समाज है उनका नसीब ही ऐसा हो गया है इस सोच ही ऐसी हो गई थी अब लड़का

Romanized Version
Likes  35  Dislikes    views  279
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यस यस लड़का और लड़की दोस्त हो सकते हैं और बहुत अच्छे दोस्त होते हैं अब लाल लोगों की नजरिया काबर तो उनकी ओर ध्यान मत दो क्योंकि लोग हैं बात तो करेंगे और उनका काम ही है आप अपने दिल की सुनो और अपना काम करें लोग वहीं प्रकट करते हैं उनके अंदर होता है वह जैसन के विचार होते हैं उनका नजरिया खराब दिखाया तो अंदर से भी खराब ही हैं यह मानकर चलना

Yes Yes ladka aur ladki dost ho sakte hain aur bahut acche dost hote hain ab laal logo ki najariya kabar toh unki aur dhyan mat do kyonki log hain baat toh karenge aur unka kaam hi hai aap apne dil ki suno aur apna kaam kare log wahi prakat karte hain unke andar hota hai vaah jaisan ke vichar hote hain unka najariya kharab dikhaya toh andar se bhi kharab hi hain yah maankar chalna

यस यस लड़का और लड़की दोस्त हो सकते हैं और बहुत अच्छे दोस्त होते हैं अब लाल लोगों की नजरिया

Romanized Version
Likes  59  Dislikes    views  1001
WhatsApp_icon
user

Renshi Rajkumar Menaria

International Martial Arts Expert, Awarded By President of INDIA, Specialist Of Women Self Defense & Motivational Speaker With Spiritual Root.

6:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने पूछा है क्या लड़का और लड़की दोस्त हो सकते हैं अगर हो सकते हैं तो लोग उनको गलत नजरिए से क्यों देखते हैं मित्र दोस्ती के लिए लड़का होना या लड़की होने की बातें तो नहीं सभी लोग जिनके मध्य एक दूसरे की निस्वार्थ मदद प्रेम और परस्पर सहयोग की भावना होती है और वह आस-पास रहते हैं उनके अंदर दोस्ती होती है और दोस्ती बहुत हमेशा प्योर होती है उस पर कोई इंटेंशन नहीं होता दोस्ती में कोई तो है अपना पराया नहीं होता दोस्ती में कोई फायदे की बात नहीं होती है यह निर्लिप्त होती है लेकिन जब लड़के और लड़की की दोस्ती होती है तो दोस्ती तो होती है यह दुनिया का सत्य है पूरे संसार का यह सत्य है और संसार के अनुभव में यह है कि विपरीत लिंग के व्यक्ति विपरीत सेक्स के व्यक्ति हमेशा जब साथ होते हैं तो उनकी भी शारीरिक आकर्षण भी बढ़ता है यह शारीरिक क्षमता बढ़ती है तो उनके अंदर जो है उसकी दिशा व शारीरिक समीप था और उसके साथ सेक्स की तरफ से उनका ध्यान जाता है और इसकी अधिकतर संभावना होती है यदि वह दोस्त हैं एक दूसरे के साथ अच्छे हैं विश्वास करते हैं सब कुछ है और अगर वह शारीरिक रूप से समीप रहते हैं तो उनके बीच शारीरिक संबंधों की संभावना अधिकतम स्तर पर होती है उसकी संभावना हंड्रेड परसेंट है क्यों नहीं मानेंगे और जब लोग यह मानते हैं कि आप के बीच शारीरिक संबंधों की संभावना है तो लोग यह भी अनुभव जानते हैं कि अगर इतने समय ऐसे साथ रहते हैं संभावना कंफर्म भी हो जाते तो जिन लोगों का ही अनुभव है कि ऐसा होता है वह लोग अपने अनुभव की बात पर कई सारे लोग ऐसे अपवाद भी हो सकते हैं कई सारे दोस्त ऐसे भी हो सकते हैं जो सब कुछ साथ रहते सब कुछ दोस्ती होने के बावजूद भी शारीरिक संबंधों से दूर रह पाते हैं या उनकी भावनाएं उस तरफ नहीं चाहती ऐसा इसका प्रतिशत जो है वह कम है समाज में ऐसी स्थिति में जो लोग सोचते हैं अगर आप कहते कि आप गलत सोचते हैं यह सही तरीका नहीं है आपको यह नहीं कहना है कि आप गलत सोचते हैं आपको यह कहना है कि आप अधिकतम संभावना के बारे में बात कर यह हो सकता है जो निम्न संभावना वाले लोग भी होते हैं अरे हमेशा सत्य नहीं होता जब आप लोगों को गलत कहने लग जाएंगे तो हो और दबाव से 100 उदाहरण देकर क्या आप को साबित करेंगे कि ऐसा ही होता है यह देखो यह देखो यह लोग गलत सोच रहे हैं और कह रहे हैं आप उस उदाहरण के अपवाद हैं और आपने पैसा नहीं किया है या के बीच कैसे संबंध नहीं है आपकी दोस्ती में लेकिन हो सकता है कल वैसे संबंध हो तब क्या होगा आज आप बहुत साहूकार बन रहे थे कल आप कैसे मुंह लोगों के सामने लेकर जाएंगे कल तो आप को स्वीकार करना पड़ेगा ना तो फिर आपकी पहले वाली बात गलत हो जाएगी कि नहीं होते हैं जरूरी नहीं है कि शारीरिक संबंध हो वह दोस्ती हैं तो इसलिए इस बात पर जो नजरिया होना चाहिए बहुत क्लियर होना चाहिए दूसरी और यह जो बात है कि अगर उनके बीच शारीरिक संबंध है या शारीरिक संबंधों के बारे में कि एक गलत नजरिया है यह बात ही गलत है क्यों यदि कोई व्यक्ति इस बात को कहता है कि उनके बीच शारीरिक संबंध हो सकते हैं कोई गलत नजरिया कैसे हो गया कि गलत नजरिए नहीं है जो भी सकते हैं वह कैसे गलत हो सकता है इसलिए इसको गलत नजरिए से देखने की जो 1 डिग्री से सेंटेंस है यह भी मुझे लगता है कि गलत है शारीरिक संबंध आप के सबसे महत्वपूर्ण संबंधों में होते हैं उन्हीं से यह पूरा जीवन है उन्हीं से आपका प्रेम है संसार है परिवार हैं उन्हीं से तो आगे बढ़ता है मुझे उनके बारे में आप कहेंगे कि गलत गलत है और गलत तरीका है गलत नजरिया है तो आप शायद कहीं बेसिक गलती कर देंगे मूलभूत गलत हो जाएगा मामला तो इन संबंधों को बारे में भी गलत नजर यह के जैसा शब्द इस्तेमाल नहीं करने चाहिए सम्मानीय शब्द होने चाहिए क्योंकि हमारी भावनाओं से हमारे भविष्य से जुड़े होते हैं हमारी हमारी आवश्यकता से जुड़े होते हैं हमारे होने से जुड़े होते हैं इसलिए इसको गलत नहीं कहता कि आप भी कह सकते हैं कि हां यहां तक हम ऐसे करेंगे यहां तक हम ऐसे करेंगे ऐसे संबंध होने पर हम इस दिशा में बढ़ेंगे ऐसे संबंध तक हम लोग इस दिशा में रहेंगे क्लासिफाई किया जा सकता है और आजकल तो बहुत सारी चीजें दुनिया में बिना इनो योजना के सभी लोग बहुत के लिए ली लेकिन बोल देते हैं और आपके किस नियम को नहीं मानते और सब कुछ चाहिए सब कुछ चलता है यह सब बोल देते हैं पर मुझे लगता है कि अगर सही तरीके से चीजों को डिफाइन की जाए सही तरीके से जो है हमारे मुल्क की जाए सांस्कृतिक मूल्यों को स्थापित किया जाए और हर चीज को पूरा सम्मान मिले तो फिर नजरियों की और इंसानों की भी जरूरत नहीं रहेगी आशा मेरा उत्तर आपको शब्दों से धन्यवाद

aapne poocha hai kya ladka aur ladki dost ho sakte hain agar ho sakte hain toh log unko galat nazariye se kyon dekhte hain mitra dosti ke liye ladka hona ya ladki hone ki batein toh nahi sabhi log jinke madhya ek dusre ki niswarth madad prem aur paraspar sahyog ki bhavna hoti hai aur vaah aas paas rehte hain unke andar dosti hoti hai aur dosti bahut hamesha pure hoti hai us par koi intention nahi hota dosti me koi toh hai apna paraaya nahi hota dosti me koi fayde ki baat nahi hoti hai yah nirlipt hoti hai lekin jab ladke aur ladki ki dosti hoti hai toh dosti toh hoti hai yah duniya ka satya hai poore sansar ka yah satya hai aur sansar ke anubhav me yah hai ki viprit ling ke vyakti viprit sex ke vyakti hamesha jab saath hote hain toh unki bhi sharirik aakarshan bhi badhta hai yah sharirik kshamta badhti hai toh unke andar jo hai uski disha va sharirik sameep tha aur uske saath sex ki taraf se unka dhyan jata hai aur iski adhiktar sambhavna hoti hai yadi vaah dost hain ek dusre ke saath acche hain vishwas karte hain sab kuch hai aur agar vaah sharirik roop se sameep rehte hain toh unke beech sharirik sambandhon ki sambhavna adhiktam sthar par hoti hai uski sambhavna hundred percent hai kyon nahi manenge aur jab log yah maante hain ki aap ke beech sharirik sambandhon ki sambhavna hai toh log yah bhi anubhav jante hain ki agar itne samay aise saath rehte hain sambhavna confirm bhi ho jaate toh jin logo ka hi anubhav hai ki aisa hota hai vaah log apne anubhav ki baat par kai saare log aise apavad bhi ho sakte hain kai saare dost aise bhi ho sakte hain jo sab kuch saath rehte sab kuch dosti hone ke bawajud bhi sharirik sambandhon se dur reh paate hain ya unki bhaavnaye us taraf nahi chahti aisa iska pratishat jo hai vaah kam hai samaj me aisi sthiti me jo log sochte hain agar aap kehte ki aap galat sochte hain yah sahi tarika nahi hai aapko yah nahi kehna hai ki aap galat sochte hain aapko yah kehna hai ki aap adhiktam sambhavna ke bare me baat kar yah ho sakta hai jo nimn sambhavna waale log bhi hote hain are hamesha satya nahi hota jab aap logo ko galat kehne lag jaenge toh ho aur dabaav se 100 udaharan dekar kya aap ko saabit karenge ki aisa hi hota hai yah dekho yah dekho yah log galat soch rahe hain aur keh rahe hain aap us udaharan ke apavad hain aur aapne paisa nahi kiya hai ya ke beech kaise sambandh nahi hai aapki dosti me lekin ho sakta hai kal waise sambandh ho tab kya hoga aaj aap bahut sahukar ban rahe the kal aap kaise mooh logo ke saamne lekar jaenge kal toh aap ko sweekar karna padega na toh phir aapki pehle wali baat galat ho jayegi ki nahi hote hain zaroori nahi hai ki sharirik sambandh ho vaah dosti hain toh isliye is baat par jo najariya hona chahiye bahut clear hona chahiye dusri aur yah jo baat hai ki agar unke beech sharirik sambandh hai ya sharirik sambandhon ke bare me ki ek galat najariya hai yah baat hi galat hai kyon yadi koi vyakti is baat ko kahata hai ki unke beech sharirik sambandh ho sakte hain koi galat najariya kaise ho gaya ki galat nazariye nahi hai jo bhi sakte hain vaah kaise galat ho sakta hai isliye isko galat nazariye se dekhne ki jo 1 degree se sentence hai yah bhi mujhe lagta hai ki galat hai sharirik sambandh aap ke sabse mahatvapurna sambandhon me hote hain unhi se yah pura jeevan hai unhi se aapka prem hai sansar hai parivar hain unhi se toh aage badhta hai mujhe unke bare me aap kahenge ki galat galat hai aur galat tarika hai galat najariya hai toh aap shayad kahin basic galti kar denge mulbhut galat ho jaega maamla toh in sambandhon ko bare me bhi galat nazar yah ke jaisa shabd istemal nahi karne chahiye sammaniya shabd hone chahiye kyonki hamari bhavnao se hamare bhavishya se jude hote hain hamari hamari avashyakta se jude hote hain hamare hone se jude hote hain isliye isko galat nahi kahata ki aap bhi keh sakte hain ki haan yahan tak hum aise karenge yahan tak hum aise karenge aise sambandh hone par hum is disha me badhenge aise sambandh tak hum log is disha me rahenge klasifai kiya ja sakta hai aur aajkal toh bahut saari cheezen duniya me bina ino yojana ke sabhi log bahut ke liye li lekin bol dete hain aur aapke kis niyam ko nahi maante aur sab kuch chahiye sab kuch chalta hai yah sab bol dete hain par mujhe lagta hai ki agar sahi tarike se chijon ko define ki jaaye sahi tarike se jo hai hamare mulk ki jaaye sanskritik mulyon ko sthapit kiya jaaye aur har cheez ko pura sammaan mile toh phir najriyon ki aur insano ki bhi zarurat nahi rahegi asha mera uttar aapko shabdon se dhanyavad

आपने पूछा है क्या लड़का और लड़की दोस्त हो सकते हैं अगर हो सकते हैं तो लोग उनको गलत नजरिए स

Romanized Version
Likes  40  Dislikes    views  875
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लड़का और लड़का और लड़की एक अच्छे दोस्त बन सकते हैं पर इनका जो है परिणाम भाई बहन में कभी नहीं होता प्रेमी-प्रेमिका में हो जाता है और दोस्ती के नाम पर अपना जो है सर्वस्व एक दूसरे पर समर्पित कर देते हैं और कभी-कभी दोस्ती के नाम पर इज्जत से भी हाथ धो बैठते हैं इसीलिए लोग जो है बुरे नजर से देखते हैं

ladka aur ladka aur ladki ek acche dost ban sakte hain par inka jo hai parinam bhai behen me kabhi nahi hota premi premika me ho jata hai aur dosti ke naam par apna jo hai sarvasya ek dusre par samarpit kar dete hain aur kabhi kabhi dosti ke naam par izzat se bhi hath dho baithate hain isliye log jo hai bure nazar se dekhte hain

लड़का और लड़का और लड़की एक अच्छे दोस्त बन सकते हैं पर इनका जो है परिणाम भाई बहन में कभी नह

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  126
WhatsApp_icon
user
0:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी बिल्कुल हो सकता है इसमें कोई दिक्कत नहीं है और रही बात लोगों के नजरिए की तो कुछ तो लोग कहेंगे लोगों का काम है कहना छोड़ो इन बेकार की बातों को कहीं बीत ना जाए रहना

ji bilkul ho sakta hai isme koi dikkat nahi hai aur rahi baat logo ke nazariye ki toh kuch toh log kahenge logo ka kaam hai kehna chodo in bekar ki baaton ko kahin beet na jaaye rehna

जी बिल्कुल हो सकता है इसमें कोई दिक्कत नहीं है और रही बात लोगों के नजरिए की तो कुछ तो लोग

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  146
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!