पारवती की पुत्री का क्या नाम था?...


user

JagratiJain

Motivational Speaker , Experience Of 20 Years as a Teacher

0:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है पार्वती की पुत्री का क्या नाम था शिवजी और पार्वती की बेटी का नाम था और चोखा सुंदरी जोकि कार्तिकेय और गणेश जी की बहन थी

aapka sawaal hai parvati ki putri ka kya naam tha shivaji aur parvati ki beti ka naam tha aur chokha sundari joki kartikey aur ganesh ji ki behen thi

आपका सवाल है पार्वती की पुत्री का क्या नाम था शिवजी और पार्वती की बेटी का नाम था और चोखा स

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  302
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user
0:15

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पार्वती के पुत्र का क्या नाम था पार्वती के 2 पुत्र थे 12 गणेश और कार्तिक कार्तिक की गणेश जी का जन्म पार्वती जी के मेले के द्वारा हुआ था

parvati ke putra ka kya naam tha parvati ke 2 putra the 12 ganesh aur kartik kartik ki ganesh ji ka janam parvati ji ke mele ke dwara hua tha

पार्वती के पुत्र का क्या नाम था पार्वती के 2 पुत्र थे 12 गणेश और कार्तिक कार्तिक की गणेश ज

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  72
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने पूछा है कि पार्वती की पुत्री का क्या नाम था तो आपको बताना चाहेंगे पार्वती जी और भगवान शिव की एक पुत्री का नाम अशोक सुंदरी इसका उल्लेख पद्मपुराण में हूं अशोक सुनती को भगवान शिव और पार्वती की पुत्री बताया जाए दरअसल माता पार्वती के अकेलेपन को दूर करने हेतु कल्पवृक्ष नामक पेड़ के द्वारा ही अशोक सुंदरी की रचना हुई पद्मपुराण के अनुसार एक बार माता पार्वती विश्व में सबसे सुंदर उद्यान में जाने के लिए भगवान शिव जी से कहा तब भगवान शिव पार्वती को नंदनवन ले गए वहां माता को कल्पवृक्ष से लगाव हो गया और उन्होंने उस वृक्ष को लेकर कैलाश आ गई कल्पवृक्ष मनोकामना पूर्ण करने वाला ब्रिज है पार्वती ने अपने अकेलेपन को दूर करने हेतु उस व्यक्ति या वर मांगा कि अपने एक कन्या प्रा तब कल्पवृक्ष द्वारा अशोक सुंदरी का जन्म हुआ माता पार्वती ने उस कन्या को वरदान दिया कि उसका विवाह देवराज इंद्र जैसे शक्तिशाली युवक सी होगा

aapne poocha hai ki parvati ki putri ka kya naam tha toh aapko batana chahenge parvati ji aur bhagwan shiv ki ek putri ka naam ashok sundari iska ullekh padmapuran me hoon ashok sunti ko bhagwan shiv aur parvati ki putri bataya jaaye darasal mata parvati ke akelepan ko dur karne hetu kalpvriksh namak ped ke dwara hi ashok sundari ki rachna hui padmapuran ke anusaar ek baar mata parvati vishwa me sabse sundar udyan me jaane ke liye bhagwan shiv ji se kaha tab bhagwan shiv parvati ko nandanavan le gaye wahan mata ko kalpvriksh se lagav ho gaya aur unhone us vriksh ko lekar kailash aa gayi kalpvriksh manokamana purn karne vala bridge hai parvati ne apne akelepan ko dur karne hetu us vyakti ya var manga ki apne ek kanya pra tab kalpvriksh dwara ashok sundari ka janam hua mata parvati ne us kanya ko vardaan diya ki uska vivah devraj indra jaise shaktishali yuvak si hoga

आपने पूछा है कि पार्वती की पुत्री का क्या नाम था तो आपको बताना चाहेंगे पार्वती जी और भगवान

Romanized Version
Likes  51  Dislikes    views  900
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!