अगर आर्थिक आधार पर आरक्षण दिया जाता है तो इस का दलितो पर क्या प्रभाव पड़ेगा?...


play
user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

2:00

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर आर्थिक आधार पर आरक्षण दिया जाता है तो उससे दलित समुदाय पर बहुत असर होगा क्योंकि जो वाकई में निर्धन लोग हैं और अपनी कमजोर आर्थिक स्थिति के कारण शिक्षित नहीं हो पाते हैं स्वावलंबी नहीं बन पाते हैं उन्हें इसका पूरा लाभ मिलेगा और जो दलित वर्ग आरक्षण का लाभ उठाकर एक अच्छी स्थिति में पहुंच गए और जिनकी पीढ़ियों तक ने आरक्षण का लाभ उठा लिया है और जो परिवार काफी संपन्न और समृद्ध हो गए हैं उन्हें आरक्षण नहीं मिलेगा तो अगर आर्थिक आधार पर आरक्षण हो जाता है तो यह दलित समुदाय के लिए बहुत लाभ वाली बात होगी क्योंकि उससे जो वाकई में वंचित लोग हैं जिसे वाकई में आरक्षण की जरूरत वाकई में आरक्षण की सहायता से स्वावलंबी बन सकते हैं शिक्षित हो सकते हैं अपना जीवन स्तर सुधार सकते हैं उन्हें इससे बहुत लाभ होगा और जो आरक्षण की योग्य नहीं है लोग वह भी आरक्षण लेकर उसका फायदा उठाते हैं हु इस दौड़ में से बाहर निकल जाएंगे तो इसकी वजह से जो जरूरतमंद लोग हैं उन्हें आरक्षण मिलेगा और तो बाकी के लो कभी आरक्षण के विरोध में है वह भी इसका विरोध करना बंद कर देंगे क्योंकि फिर उन पर भी इसका असर होगा सिर्फ वंचित लोगों को ही आरक्षण की वजह से नौकरियां मिलेगी और योग्यता के आधार पर उन्हें चुना जाएगा तो सामान्य वर्ग को भी उसके वर्क का काम मिलेगा उसके हक का जो आरक्षण है वह मिलेगा तो काफी फर्क पड़ेगा अगर आर्थिक स्तर पर आरक्षण को कर दिया जाता है तो क्यों आरक्षण की मूल भावना थी वह पूरी हो सकेगी और जो वंचित लोग हैं जो वाकई में जरूरतमंदों हैं उन्हें आरक्षण मिल सकेगा

agar aarthik aadhaar par aarakshan diya jata hai toh usse dalit samuday par bahut asar hoga kyonki jo vaakai mein nirdhan log hain aur apni kamjor aarthik sthiti ke karan shikshit nahi ho paate hain svaavlambi nahi ban paate hain unhe iska pura labh milega aur jo dalit varg aarakshan ka labh uthaakar ek achi sthiti mein pohch gaye aur jinki peedhiyon tak ne aarakshan ka labh utha liya hai aur jo parivar kaafi sampann aur samriddh ho gaye hain unhe aarakshan nahi milega toh agar aarthik aadhaar par aarakshan ho jata hai toh yah dalit samuday ke liye bahut labh wali baat hogi kyonki usse jo vaakai mein vanchit log hain jise vaakai mein aarakshan ki zarurat vaakai mein aarakshan ki sahayta se svaavlambi ban sakte hain shikshit ho sakte hain apna jeevan sthar sudhaar sakte hain unhe isse bahut labh hoga aur jo aarakshan ki yogya nahi hai log vaah bhi aarakshan lekar uska fayda uthate hain hoon is daudh mein se bahar nikal jaenge toh iski wajah se jo jaruratmand log hain unhe aarakshan milega aur toh baki ke lo kabhi aarakshan ke virodh mein hai vaah bhi iska virodh karna band kar denge kyonki phir un par bhi iska asar hoga sirf vanchit logo ko hi aarakshan ki wajah se naukriyan milegi aur yogyata ke aadhaar par unhe chuna jaega toh samanya varg ko bhi uske work ka kaam milega uske haq ka jo aarakshan hai vaah milega toh kaafi fark padega agar aarthik sthar par aarakshan ko kar diya jata hai toh kyon aarakshan ki mul bhavna thi vaah puri ho sakegi aur jo vanchit log hain jo vaakai mein jarooratmandon hain unhe aarakshan mil sakega

अगर आर्थिक आधार पर आरक्षण दिया जाता है तो उससे दलित समुदाय पर बहुत असर होगा क्योंकि जो वाक

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  49
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!