करो या मरो का नारा किसने दिया?...


user

prabhat sinha

Assistant Professor, Dept Of History

5:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोस्तों प्रश्न करो या मरो का नारा किसने दिया था तो आप जान पाएंगे जानते हैं कि 1942 में भारत छोड़ो आंदोलन हुआ था और भारत छोड़ो आंदोलन से पहले गांधी जी ने महात्मा गांधी जी ने ही करो या मरो का नारा दिया था तो मैं उसके पृष्ठ हूं मैं आपको बता दूं कि जुलाई तक मिशन क्या सफलता के बाद 1942 में भारत में क्रिप्स मिशन भारतीय समस्या के हल के लिए आया था और उसने जो रिपोर्ट पेश किया उससे गांधी के सदस्य भी नेता बहुत निराश हुए और यह स्पष्ट हो गया कि अभी भी अंग्रेज भारत को शासन सपा नहीं सुनना चाहते हैं इसलिए तूने एक नए आंदोलन की पृष्ठभूमि तैयार हुई और जुलाई 1942 में कांग्रेस वर्किंग कमेटी ने वर्धा में गांधीजी के हिंसक विद्रोह के कार्यक्रम को स्वीकृति प्रदान कर दी फिर सांस 7 अगस्त 1942 को मुंबई में आयोजित कांग्रेस अधिवेशन में कांग्रेस अध्यक्ष मौलाना अबुल कलाम आजाद ने भारत छोड़ो प्रस्ताव पेश किया और 8 अगस्त 1942 42 की रात्रि में प्रस्ताव पर बोलते हुए गांधी जी ने कहा मैं तुरंत तुरंत स्वतंत्रता चाहता हूं अगर हो सके तो आज ही रात को फटने से पहले मैं पूर्ण स्वतंत्रता से कम किसी भी चीज से संतुष्ट नहीं हो सकता यह एक मंत्र ध्यान देंगे इस पत्ती पर दोस्तों यह है एक मंत्री बड़ा छोटा सा जो मैं आपको देता हूं करो या मरो यह मंत्र बड़ा छोटा सा जो मैं आपको देता हूं करो या मरो हम भारत को स्वतंत्र करेंगे या इस प्रयास में मर मिटेंगे हम अपने गुलाम गुलामी को अस्थाई बनाया जाता देखने के लिए जिंदा नहीं रहेंगे दोस्तों इस वक्तव्य द्वारा गांधीजी ने भारतीय जनता को मनोवैज्ञानिक बढ़ावा दिया कि हर कोई अब अपने को स्वतंत्र पुरुष या स्त्री समझे और अगर नेतागण गिरफ्तार कर लिया जाए तो अपनी कार्रवाई का मार्ग स्वयं निश्चित करें तो आप समझ गए दोस्तों की करो यह करो या मरो का नारा महात्मा गांधी जी ने 8 अगस्त की रात्रि में भारत छोड़ो प्रस्ताव पर अपने भाषण में कहा था और उन्होंने कहा था कि आपसे हर व्यक्ति अपने को स्वतंत्र पुरुष या स्त्री समझे और अगर नेतागण गिरफ्तार कर लिया जाए तो अपनी कार्रवाई कमर सुनिश्चित करें तो आपको बता दें दोस्तों की 9 अगस्त को आने सुबह गांधी सहित सभी प्रभावशाली कांग्रेसी नेता गिरफ्तार कर लिए गए और सभी नेताओं के गिरफ्तार होने पर जनता का मार्गदर्शन करने वाला कोई नहीं था जबकि 9 अगस्त 1942 के पूर्व ही आंदोलन का एक 12 सूत्री कार्यक्रम तैयार कर रखा गया था और जिसमें जगत और इसी के तहत जगह-जगह हड़ताल और प्रदर्शन हुए सरकारी संपत्ति नष्ट की गई रेल तार सेवा भंग कर दी गई दी गई हिंसक घटनाएं भी हुई जिसमें कुछ अंग्रेज मारे भी गए अनेक स्थानों पर समानांतर सरकार स्थापित की गई और भूमिगत आंदोलन भी चला तो दोस्तों यही था भारत छोड़ो आंदोलन 1942 का जिसे अगस्त क्रांति भी कहा जाता है और करो या मरो का नारा महात्मा गांधी नहीं 8 अगस्त की रात्रि में भारत छोड़ो प्रस्ताव पर बोलते हुए कहा था धन्यवाद

doston prashna karo ya maro ka naara kisne diya tha toh aap jaan payenge jante hain ki 1942 me bharat chodo andolan hua tha aur bharat chodo andolan se pehle gandhi ji ne mahatma gandhi ji ne hi karo ya maro ka naara diya tha toh main uske prishth hoon main aapko bata doon ki july tak mission kya safalta ke baad 1942 me bharat me krips mission bharatiya samasya ke hal ke liye aaya tha aur usne jo report pesh kiya usse gandhi ke sadasya bhi neta bahut nirash hue aur yah spasht ho gaya ki abhi bhi angrej bharat ko shasan sapa nahi sunana chahte hain isliye tune ek naye andolan ki prishthbhumi taiyar hui aur july 1942 me congress working committee ne vardha me gandhiji ke hinsak vidroh ke karyakram ko swikriti pradan kar di phir saans 7 august 1942 ko mumbai me ayojit congress adhiveshan me congress adhyaksh maulana abul kalam azad ne bharat chodo prastaav pesh kiya aur 8 august 1942 42 ki ratri me prastaav par bolte hue gandhi ji ne kaha main turant turant swatantrata chahta hoon agar ho sake toh aaj hi raat ko fatne se pehle main purn swatantrata se kam kisi bhi cheez se santusht nahi ho sakta yah ek mantra dhyan denge is patti par doston yah hai ek mantri bada chota sa jo main aapko deta hoon karo ya maro yah mantra bada chota sa jo main aapko deta hoon karo ya maro hum bharat ko swatantra karenge ya is prayas me mar mitenge hum apne gulam gulaami ko asthai banaya jata dekhne ke liye zinda nahi rahenge doston is vaktavya dwara gandhiji ne bharatiya janta ko manovaigyanik badhawa diya ki har koi ab apne ko swatantra purush ya stree samjhe aur agar netagan giraftar kar liya jaaye toh apni karyawahi ka marg swayam nishchit kare toh aap samajh gaye doston ki karo yah karo ya maro ka naara mahatma gandhi ji ne 8 august ki ratri me bharat chodo prastaav par apne bhashan me kaha tha aur unhone kaha tha ki aapse har vyakti apne ko swatantra purush ya stree samjhe aur agar netagan giraftar kar liya jaaye toh apni karyawahi kamar sunishchit kare toh aapko bata de doston ki 9 august ko aane subah gandhi sahit sabhi prabhavshali congressi neta giraftar kar liye gaye aur sabhi netaon ke giraftar hone par janta ka margdarshan karne vala koi nahi tha jabki 9 august 1942 ke purv hi andolan ka ek 12 sutri karyakram taiyar kar rakha gaya tha aur jisme jagat aur isi ke tahat jagah jagah hartal aur pradarshan hue sarkari sampatti nasht ki gayi rail taar seva bhang kar di gayi di gayi hinsak ghatnaye bhi hui jisme kuch angrej maare bhi gaye anek sthano par samanantar sarkar sthapit ki gayi aur bhumigat andolan bhi chala toh doston yahi tha bharat chodo andolan 1942 ka jise august kranti bhi kaha jata hai aur karo ya maro ka naara mahatma gandhi nahi 8 august ki ratri me bharat chodo prastaav par bolte hue kaha tha dhanyavad

दोस्तों प्रश्न करो या मरो का नारा किसने दिया था तो आप जान पाएंगे जानते हैं कि 1942 में भा

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  142
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!