क्या सच में भगवान है कितने लोग मानते हैं यह कितने प्रतिशत सच है?...


user

Manish Menghani

Health & parenting Advisor

6:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान को मानना एक अलग बात है और भगवान का होना एक अलग बात है इस सस्ती है इसका मतलब विश्वास है यह बात तय है कि ईश्वर लेकिन कोई वह व्यक्ति के रूप में नहीं है और हम बहुत कम लोग जानते हैं कि वह हमारे ही रूप में हमारी ही प्रतिबिंब के रूप में हमारे अंदर जीवन के रूप में विद्यमान है आपने देखा होगा क्या करें हमारे शरीर में प्राण निकल जाए तो हमारा जो यह शरीर है वह सिर्फ एक तरह की दे यह बात हर कोई जानता है कि एक बार मृत्यु होती है तो इस परिस्थिति के अंदर में मैं यही कहूंगा कि हमारे शरीर में जो प्राण है वही ईश्वर और जिसको वैज्ञानिक भाषा में इलेक्ट्रोमैग्नेटिक एनर्जी कहते हैं और आम भाषा में में से आत्मा के रूप में जानते हैं और यही आत्मा उस परमात्मा जिसको हम ईश्वर उसका ही एक रूप है और जिसको हम कहते हैं परमात्मा कहते हैं वह परमात्मा हमारी यूनिवर्स की पावर 2 हम अगर इस बात को इस इस तरह से समझें कि अगर हम कोई विचार उत्पन्न करते हैं और विचार हम कभी देखते हैं किस हो जाता है तो वह क्यों होता है उसके पीछे एक विशेष कारण है हमारे ईश्वर ने एक में दो तरह के मन दे रखे हैं जिस भाषा में हम कहते कोशिश में एक सबकॉन्शियस माइंड कॉन्शियस माइंड हमारे एक राम की तरह काम करता से कंप्यूटर में हम प्रेम किधर है का सुना होगा कि जब हम अलर्ट स्टेज में होते हैं जागृत अवस्था में होता है तो हमारा कॉन्शियस माइंड या चेतन मस्तिष्क काम करता है और वह यह जानता है कि मैं जो कर रहा हूं सही है गलत है और एक उतर चेतन मस्तिष्क जो उसके पीछे छुपा होता है यह भी एक मन का भाग होता है लेकिन यह यह नहीं जानता है किसको दिया गया कोई भी आदेश सही है या गलत है यह उसका काम सिर्फ ही होता है कि उस आदेश पर प्रतिक्रिया करके हमारे लिए चीजों को संभव या असंभव बना दे अगर हम कहते हैं कि हम किसी काम को कर सकते हैं तो काम किया जा सकता है अगर हम कहते हैं किसी काम को नहीं कर सकते तो वह काम करने हम कभी नहीं कर पाएंगे यह चीज हमारे अवचेतन मस्तिष्क में रिकॉर्ड हो जाती है और हमारा चेतन मस्तिष्क चेतन मस्जिद के रिकॉर्डिंग के अकॉर्डिंग काम करता है पहले वह जो रिकॉर्डिंग होती है उसको करने के लिए चेतन मस्तिष्क ही जिम्मेदार होता है और बाद में उसको प्रोसिडिंग करने के लिए भी अचेतन मस्तिक चेतन मस्तिष्क को यह देता है कि तुमने मुझे यह बात रिकॉर्ड किए काम हो सकता है तो तुम मुझसे करने के रास्ते निकालो का चरण स्पर्श आपको यह सारे स्वप्न में देता है किसी और तरीके से किसी और परिस्थितियां पैदा करके आपके सामने वह चीजें लेकर आता है तो यह एक सशक्त प्रमाण है कि ईश्वर हमारे अंदर अचेतन मस्ती ग्रुप में रहता है और यह अचेतन मस्तक जो है जो एनर्जी प्राप्त करता है वह मुख्य रूप से रात के समय में प्राप्त करता है जब आप स्थिति में अच्छे दलीप सिंह स्टेज में होते हैं जो कि मुश्किल से डेढ़ से 2 घंटे का समय होता है उस समय हमारे अंदर ब्रह्मांडी ऊर्जा हमारे दिमाग के अंदर प्रत्येक व्यक्ति के अंदर काम करती है जैसे कि इंटरनेट काम करता है इस समय आप जब इंटरनेट का इस्तेमाल कर रहा है तू हमारे ईयर में है उसी तरह हमार जो ब्रह्मांड ही उड़ जाए है वह हमारे दिमाग के अंदर अगर हमारा दिमाग रिसीविंग स्टेज में हो यानी प्राप्त करने की स्थिति में वह ब्रह्मांड एवं ऊर्जा हमारे दिमाग को मिलती है और हम को यह पता नहीं चलता है कि हमारे अंदर कहां से आई है लेकिन जब हम उठते हैं तो पूरे दिन हमारे अंदर जो उठ जा काम करती है यह ईश्वर की दी हुई वहीं ब्रह्मांड में उर्जा होती है इलेक्ट्रोमैग्नेटिक एनर्जी होती है जो हम लेते हैं तो हमारी हमारा पेट्रोल होता है जो मैं पूरे दिन काम करने के लिए एनर्जी देता है अगर आप कुछ दिन तक जा करके देखे तब इसका प्रत्यक्ष प्रमाण देखेंगे कि अगर आप जागृत अवस्था में दो-तीन दिन तक लगातार रहेंगे तो पागल से हो जाएंगे इसी कारण होता है क्योंकि हमें नींद की जरूरत होती है नींद की जरूरत है इसलिए होती है क्योंकि हमें वह ऊर्जा प्राप्त करना हो जरूरी होता है और यही ऊर्जा ईश्वर है और इसी ऊर्जा को हम भगवान भी तुम भगवान एक सच भी है लेकिन इसको हम अंधविश्वास के रूप में लें तो भी यह हमारे लिए काम करता है क्योंकि हमारा अवचेतन मन इसको इस रूप में ग्रहण कर लेता है कि ईश्वर है इसलिए हम ईश्वर को मानते हैं लेकिन अगर आपको ईश्वर को जाना चाहिए ईश्वर क्या है और इस रूप में है तो ईश्वर अगर इस ग्रुप में ऊर्जा के रूप में है ऊर्जा के रूप में आप इसका आभास भी कर सकते हैं और अपने जीवन में चमत्कार भी कर सकते हैं

bhagwan ko manana ek alag baat hai aur bhagwan ka hona ek alag baat hai is sasti hai iska matlab vishwas hai yah baat tay hai ki ishwar lekin koi vaah vyakti ke roop me nahi hai aur hum bahut kam log jante hain ki vaah hamare hi roop me hamari hi pratibimb ke roop me hamare andar jeevan ke roop me vidyaman hai aapne dekha hoga kya kare hamare sharir me praan nikal jaaye toh hamara jo yah sharir hai vaah sirf ek tarah ki de yah baat har koi jaanta hai ki ek baar mrityu hoti hai toh is paristhiti ke andar me main yahi kahunga ki hamare sharir me jo praan hai wahi ishwar aur jisko vaigyanik bhasha me electromagnetic energy kehte hain aur aam bhasha me me se aatma ke roop me jante hain aur yahi aatma us paramatma jisko hum ishwar uska hi ek roop hai aur jisko hum kehte hain paramatma kehte hain vaah paramatma hamari Universe ki power 2 hum agar is baat ko is is tarah se samajhe ki agar hum koi vichar utpann karte hain aur vichar hum kabhi dekhte hain kis ho jata hai toh vaah kyon hota hai uske peeche ek vishesh karan hai hamare ishwar ne ek me do tarah ke man de rakhe hain jis bhasha me hum kehte koshish me ek subconscious mind kanshiyas mind hamare ek ram ki tarah kaam karta se computer me hum prem kidhar hai ka suna hoga ki jab hum alert stage me hote hain jagrit avastha me hota hai toh hamara kanshiyas mind ya chetan mastishk kaam karta hai aur vaah yah jaanta hai ki main jo kar raha hoon sahi hai galat hai aur ek utar chetan mastishk jo uske peeche chupa hota hai yah bhi ek man ka bhag hota hai lekin yah yah nahi jaanta hai kisko diya gaya koi bhi aadesh sahi hai ya galat hai yah uska kaam sirf hi hota hai ki us aadesh par pratikriya karke hamare liye chijon ko sambhav ya asambhav bana de agar hum kehte hain ki hum kisi kaam ko kar sakte hain toh kaam kiya ja sakta hai agar hum kehte hain kisi kaam ko nahi kar sakte toh vaah kaam karne hum kabhi nahi kar payenge yah cheez hamare avachetan mastishk me record ho jaati hai aur hamara chetan mastishk chetan masjid ke recording ke according kaam karta hai pehle vaah jo recording hoti hai usko karne ke liye chetan mastishk hi zimmedar hota hai aur baad me usko proceeding karne ke liye bhi achetan mastisk chetan mastishk ko yah deta hai ki tumne mujhe yah baat record kiye kaam ho sakta hai toh tum mujhse karne ke raste nikalo ka charan sparsh aapko yah saare swapn me deta hai kisi aur tarike se kisi aur paristhiyaann paida karke aapke saamne vaah cheezen lekar aata hai toh yah ek sashakt pramaan hai ki ishwar hamare andar achetan masti group me rehta hai aur yah achetan mastak jo hai jo energy prapt karta hai vaah mukhya roop se raat ke samay me prapt karta hai jab aap sthiti me acche dalip Singh stage me hote hain jo ki mushkil se dedh se 2 ghante ka samay hota hai us samay hamare andar brahmandi urja hamare dimag ke andar pratyek vyakti ke andar kaam karti hai jaise ki internet kaam karta hai is samay aap jab internet ka istemal kar raha hai tu hamare year me hai usi tarah hamar jo brahmaand hi ud jaaye hai vaah hamare dimag ke andar agar hamara dimag receiving stage me ho yani prapt karne ki sthiti me vaah brahmaand evam urja hamare dimag ko milti hai aur hum ko yah pata nahi chalta hai ki hamare andar kaha se I hai lekin jab hum uthte hain toh poore din hamare andar jo uth ja kaam karti hai yah ishwar ki di hui wahi brahmaand me urja hoti hai electromagnetic energy hoti hai jo hum lete hain toh hamari hamara petrol hota hai jo main poore din kaam karne ke liye energy deta hai agar aap kuch din tak ja karke dekhe tab iska pratyaksh pramaan dekhenge ki agar aap jagrit avastha me do teen din tak lagatar rahenge toh Pagal se ho jaenge isi karan hota hai kyonki hamein neend ki zarurat hoti hai neend ki zarurat hai isliye hoti hai kyonki hamein vaah urja prapt karna ho zaroori hota hai aur yahi urja ishwar hai aur isi urja ko hum bhagwan bhi tum bhagwan ek sach bhi hai lekin isko hum andhavishvas ke roop me le toh bhi yah hamare liye kaam karta hai kyonki hamara avachetan man isko is roop me grahan kar leta hai ki ishwar hai isliye hum ishwar ko maante hain lekin agar aapko ishwar ko jana chahiye ishwar kya hai aur is roop me hai toh ishwar agar is group me urja ke roop me hai urja ke roop me aap iska aabhas bhi kar sakte hain aur apne jeevan me chamatkar bhi kar sakte hain

भगवान को मानना एक अलग बात है और भगवान का होना एक अलग बात है इस सस्ती है इसका मतलब विश्वास

Romanized Version
Likes  124  Dislikes    views  1575
KooApp_icon
WhatsApp_icon
7 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!