मनोवैज्ञानिक से क्या समझते हैं?...


user

मधुपाल सिंह नागपुरे

लाइब्रेरियन( ग्रंथपाल) मार्गदर्शक । मित्र सलाहकार। सुलभ ज्ञान। सत्य दर्शक ।

3:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप सवाल पूछ रहे हैं मनोवैज्ञानिक से क्या समझते हैं है ना तो देखिए मनोविज्ञान भी एक विज्ञान है एक साइड से इसकी भी अपनी थोड़ी है इसके भी अपनी पद्धति है इसकी भी अपनी जानकारियां और मनोज ध्यान भी इसका बीजू सब्जेक्ट मेडिकल साइंस से जुड़ा हुआ सब्जेक्ट है और इसका भी इस संबंध है मेडिकल साइंस से है हॉस्पिटल से क्योंकि मन का विज्ञान है यह बहुत ही विचित्र विज्ञान है जो व्यक्ति के मन के आकलन को दर्शाता है मन के सोचने के तरीके को दर्शाता है मनोविज्ञान मन के विज्ञान को दर्शाता है जिसमें एक साइकोलॉजिस्ट भी आता है एक सर्किट भी आता है तो यह सब मनोविज्ञान के दायरे में आते हैं तो मनोविज्ञान मन का विज्ञान है एक साइकोलॉजि है चाहे बच्चों के साइकोलॉजि हो बच्चों का मनोविज्ञान हो बड़ों का मनोविज्ञान हो बुजुर्गों का हो महिलाओं का हो युवाओं का हो या जानवरों का मनोविज्ञान पशुओं का मनोविज्ञान मनोविज्ञान भी एक ही साल विषय है और इसमें बहुत ही अलग-अलग पार्ट है तो इस तरह से मनोविज्ञान अलग-अलग खंडों में बटा हुआ है अलग-अलग वर्ग के हिसाब से हैं और हर वर्ग और खंड और उम्र के हिसाब से मनोविज्ञान अलग-अलग होते हैं बच्चों का मनोविज्ञान अलग होता है जवानों का अलग होते हैं महिलाओं का बुजुर्गों का बड़ो का फोटो का आदिवासियों का है ना भारत के लोगों का देखने जैसे कोई लोगों का मनोविज्ञान सोचने का तरीका उनके मन का विज्ञान अलग है तो इस तरीके से मनोविज्ञान यह एक मन का विषय है मानव मस्तिष्क कविता है मानव मस्तिष्क के सोचने के तरीके और के काम करने के तरीकों का विषय है मनोविज्ञान से साइकोलॉजिकल चीजें भी जुड़ी हुई है साइकैटरिस्ट भी मनोविज्ञान के अंतर्गत काम करते हैं है ना मेडिकल हॉस्पिटल में मनोवैज्ञानिक होते हैं ना या साइकेट्रिस्ट होते हैं यह निर्देश इनके भी अपने निर्देश होते पर काम करने के तरीके होते तो यह मन के विज्ञान पर ही इनके बेसिक होता है और उसी के आधार पर एक काम करते हैं तो आप शायद समझ गए होंगे मनोविज्ञान को मनोविज्ञान मन का विज्ञान है मानव मस्तिष्क को समझने का विज्ञान है मानव के कार्य करने के तरीकों का विज्ञान है उनके दैनंदिन व्यवहार का विज्ञान है जिसमें एक पहलू पर विचार किया जाता है प्रकाश डाला जाता है धन्यवाद

aap sawaal puch rahe hain manovaigyanik se kya samajhte hain hai na toh dekhiye manovigyan bhi ek vigyan hai ek side se iski bhi apni thodi hai iske bhi apni paddhatee hai iski bhi apni jankariyan aur manoj dhyan bhi iska biju subject medical science se juda hua subject hai aur iska bhi is sambandh hai medical science se hai hospital se kyonki man ka vigyan hai yah bahut hi vichitra vigyan hai jo vyakti ke man ke aakalan ko darshata hai man ke sochne ke tarike ko darshata hai manovigyan man ke vigyan ko darshata hai jisme ek psychologist bhi aata hai ek circuit bhi aata hai toh yah sab manovigyan ke daayre me aate hain toh manovigyan man ka vigyan hai ek psycology hai chahen baccho ke psycology ho baccho ka manovigyan ho badon ka manovigyan ho bujurgon ka ho mahilaon ka ho yuvaon ka ho ya jaanvaro ka manovigyan pashuo ka manovigyan manovigyan bhi ek hi saal vishay hai aur isme bahut hi alag alag part hai toh is tarah se manovigyan alag alag khando me bataa hua hai alag alag varg ke hisab se hain aur har varg aur khand aur umar ke hisab se manovigyan alag alag hote hain baccho ka manovigyan alag hota hai jawano ka alag hote hain mahilaon ka bujurgon ka bado ka photo ka adivasiyon ka hai na bharat ke logo ka dekhne jaise koi logo ka manovigyan sochne ka tarika unke man ka vigyan alag hai toh is tarike se manovigyan yah ek man ka vishay hai manav mastishk kavita hai manav mastishk ke sochne ke tarike aur ke kaam karne ke trikon ka vishay hai manovigyan se saikolajikal cheezen bhi judi hui hai saikaitrist bhi manovigyan ke antargat kaam karte hain hai na medical hospital me manovaigyanik hote hain na ya psychiatrist hote hain yah nirdesh inke bhi apne nirdesh hote par kaam karne ke tarike hote toh yah man ke vigyan par hi inke basic hota hai aur usi ke aadhar par ek kaam karte hain toh aap shayad samajh gaye honge manovigyan ko manovigyan man ka vigyan hai manav mastishk ko samjhne ka vigyan hai manav ke karya karne ke trikon ka vigyan hai unke dainandin vyavhar ka vigyan hai jisme ek pahaloo par vichar kiya jata hai prakash dala jata hai dhanyavad

आप सवाल पूछ रहे हैं मनोवैज्ञानिक से क्या समझते हैं है ना तो देखिए मनोविज्ञान भी एक विज्ञान

Romanized Version
Likes  155  Dislikes    views  1335
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Nita Nayyar

Writer ,Motivational Speaker, Social Worker n Counseller.

0:51
Play

Likes  104  Dislikes    views  1442
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मनोवैज्ञानिक इसलिए किया क्योंकि वह तरह-तरह के आविष्कारों का सोचते हैं उसे असेसमेंट करके हमारी दुनिया को तलब किया है कि अविष्कार करें हैं उन्होंने काफी काम तो हमारी जितनी भी प्रतिक्रिया है हमारे इलेक्ट्रॉनिक चाहिए वह सब चीजें बिका नहीं होती

manovaigyanik isliye kiya kyonki vaah tarah tarah ke avishkaron ka sochte hain use assessment karke hamari duniya ko talab kiya hai ki avishkar kare hain unhone kaafi kaam toh hamari jitni bhi pratikriya hai hamare electronic chahiye vaah sab cheezen bika nahi hoti

मनोवैज्ञानिक इसलिए किया क्योंकि वह तरह-तरह के आविष्कारों का सोचते हैं उसे असेसमेंट करके हम

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  132
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!