धरा 439 में ज़मानत कैसे मिलेगी?...


play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार धारा 439 में जमानत कैसे मिलेगी यह सवाल पूछा है देखिए सीआरपीसी भारतीय दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 439 के बारे में आपने पूछा है देखिए धारा 439 जो है वह हाई कोर्ट सेशन कोर्ट की बेल लेने की पावर के बारे में बताती है यदि आपने धारा 439 का प्रार्थना पत्र सेशन कोर्ट या हाई कोर्ट में पेश किया है तो उस पर जमानत हाईकोर्ट और सेशन कोर्ट में भी सकती है और नहीं भी ले सकती है उस पर जमात लेते समय वह कुछ शर्ते भी लगा सकती हाई कोर्ट स्टेशन कोड जहां अपने अपनी एप्लीकेशन पेश किए शर्त भी लगा सकती है और बिना शर्त की भी जमानत दे सकती है भरत और सुन 40 हाई कोर्ट सेशन कोर्ट की पावर के बारे में बताती है ऐसे किसी व्यक्ति को जिस पर आपराधिक अभियोग है और वह भी रक्षा में वह कस्टडी के अंदर है और आपने 4:30 किए 439 एप्लीकेशन मुंह कर दी स्टेशन कोर्ट में हाईकोर्ट में तो जमानत पर छोड़े जाने का आदेश दे सकती है और बीज मंत्र छोटा गए बिट्टी उसे पुनः गिरफ्तार करने का आदेश भी दे सकती है यह द्वारा संचालित कहती है दर-दर संचालित पर कई रूलिंग केस है सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के इसमें देख सुप्रीम कोर्ट का केस है अनवरी बेगम मौलाना शेर मोहम्मद का मामला इस में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि धारा 439 का प्रार्थना पत्र जमानत का उसको स्वीकार करते समय सेशन कोर्ट और हाईकोर्ट को युक्तियुक्त कारण पर विचार किया जाना चाहिए यदि आपका कोई कारण कौन है वह यदि नहीं लगता है किस कारण से जमा दी जानी चाहिए तो भी जमानत मिलेगी इस मामले में साफ कहा गया था और इसकी अभी 2018 केंद्र में संशोधन हुआ था यदि आपके ऊपर या किसी के ऊपर किसी अपराध के अभियोग के ऊपर अपराधी के ऊपर 376 बलात्कार से संबंधित कोई अपराध का आरोप है तो यदि उसकी जमानत ली जा रही है तो उसकी सूचना 15 दिन के भीतर भीतर लोक अभियोजक को देनी होगी यानि पीपी को देनी होगी कोर्ट को 15 दिन के अंदर यह 2018 के अंदर लेटेस्ट संशोधन हुआ है तो धारा 439 हाई कोर्ट सेशन कोर्ट की जमानत की पावर से विशेष शक्तियों के बारे में बात करती है इसमें आप की जमानत नहीं दी आपका कारण युक्तियुक्त यदि अच्छा लगता है तो जमा की जा सकती है आपकी एप्लीकेशन खारिज भी की जा सकती है और आपको आपके ऊपर शक लगाई जा सकती ही शर्त जमात किसी भी रूप में हो सकती है क्या आप शहर छोड़कर नहीं जा सकते हैं इस तरह जमात परिषद लगाई जा सकती है या हफ्ते में 7 दिन के अंदर हफ्ते में एक बार आपको पुलिस थाने में पेश होंगे और नहीं भी लगा सकती है कोर्ट के ऊपर डिपेंड करता है आप मेरी दी गई जानकारी से खुश होंगे धन्यवाद

namaskar dhara 439 me jamanat kaise milegi yah sawaal poocha hai dekhiye crpc bharatiya dand prakriya sanhita 1973 ki dhara 439 ke bare me aapne poocha hai dekhiye dhara 439 jo hai vaah high court session court ki bell lene ki power ke bare me batati hai yadi aapne dhara 439 ka prarthna patra session court ya high court me pesh kiya hai toh us par jamanat highcourt aur session court me bhi sakti hai aur nahi bhi le sakti hai us par jamaat lete samay vaah kuch sharte bhi laga sakti high court station code jaha apne apni application pesh kiye sart bhi laga sakti hai aur bina sart ki bhi jamanat de sakti hai Bharat aur sun 40 high court session court ki power ke bare me batati hai aise kisi vyakti ko jis par apradhik abhiyog hai aur vaah bhi raksha me vaah custody ke andar hai aur aapne 4 30 kiye 439 application mooh kar di station court me highcourt me toh jamanat par chode jaane ka aadesh de sakti hai aur beej mantra chota gaye bitti use punh giraftar karne ka aadesh bhi de sakti hai yah dwara sanchalit kehti hai dar dar sanchalit par kai ruling case hai supreme court aur high court ke isme dekh supreme court ka case hai anavari begum maulana sher muhammad ka maamla is me supreme court ne kaha tha ki dhara 439 ka prarthna patra jamanat ka usko sweekar karte samay session court aur highcourt ko yuktiyukt karan par vichar kiya jana chahiye yadi aapka koi karan kaun hai vaah yadi nahi lagta hai kis karan se jama di jani chahiye toh bhi jamanat milegi is mamle me saaf kaha gaya tha aur iski abhi 2018 kendra me sanshodhan hua tha yadi aapke upar ya kisi ke upar kisi apradh ke abhiyog ke upar apradhi ke upar 376 balatkar se sambandhit koi apradh ka aarop hai toh yadi uski jamanat li ja rahi hai toh uski soochna 15 din ke bheetar bheetar lok abhiyojak ko deni hogi yani PP ko deni hogi court ko 15 din ke andar yah 2018 ke andar latest sanshodhan hua hai toh dhara 439 high court session court ki jamanat ki power se vishesh shaktiyon ke bare me baat karti hai isme aap ki jamanat nahi di aapka karan yuktiyukt yadi accha lagta hai toh jama ki ja sakti hai aapki application khareej bhi ki ja sakti hai aur aapko aapke upar shak lagayi ja sakti hi sart jamaat kisi bhi roop me ho sakti hai kya aap shehar chhodkar nahi ja sakte hain is tarah jamaat parishad lagayi ja sakti hai ya hafte me 7 din ke andar hafte me ek baar aapko police thane me pesh honge aur nahi bhi laga sakti hai court ke upar depend karta hai aap meri di gayi jaankari se khush honge dhanyavad

नमस्कार धारा 439 में जमानत कैसे मिलेगी यह सवाल पूछा है देखिए सीआरपीसी भारतीय दंड प्रक्रिया

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  123
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!