पर्यावरण अध्ययन के नियम को समझाइए?...


user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पर्यावरण अध्ययन जोकि ज्योग्राफी सब्जेक्ट है भूगोल जो है उससे बहुत ही ज्यादा रिलेटेड है तो हम देखते हैं कि पर्यावरण अध्ययन यह विषय पहले स्कूलों में नहीं था कॉलेजों में नहीं था पर बाद में स्कूल कॉलेज सब्जी में दे दिया गया यहां तक कि कक्षा एक से भी दे दिया गया पर्यावरण अध्ययन आप अगर छोटे क्लासेस में जाएंगे तो उसमें आपको साइंस सब्जेक्ट इस तरह से नहीं मिलेगा कुछ पल साइंस के जगह में क्या होता है एनवायरमेंटल स्टडीज पर्यावरण अध्ययन यह सब्जेक्ट दिया गया है तो हम हमें जो कुछ मिलता है कहां से मिलता है पर्यावरण से मिलता है तो पर्यावरण हमारे लिए माता-पिता के स्वरूप है अगर हम पर्यावरण को हानि पहुंचाते हैं तो डेफिनेट ने हमें भी उसका मूल्य चुकाना पड़ता है आप जैसे देख लीजिए कोरोना को ही हमने इतने जुल्म किए पर्यावरण पर अपने ही पेड़ काटे जमीन को खोद खोद कर उसमें से तेल कोयला खनिज पदार्थ निकाले और एक हरे-भरे जगह को मरुस्थल बना दिया जानते होंगे आज जो मरुस्थल है वह क्यों है वह पहले वह भी वह भी हरियाली हुआ करती होगी पर किसी कारण बस शायद बहुत सारे पेड़ काटे गए होंगे या के बाढ़ आ गई होगी अक्ल पर आओ का सूखा पड़ा होगा तो उसके हरिया हालत हो गई है तो पर्यावरण को हम जितना सुरक्षित रखेंगे उतना ही हम भी सुरक्षित रहेंगे पे जितना लगाएंगे हम जानते हैं ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ेगी प्रदूषण कम होंगे बारिश होगी काफी सारी चीजें होती है पर्यावरण में और साथ ही साथ हम यह भी सीख सकते हैं कि पर्यावरण को अनिष्ट किए बिना हम अपनी जीविका कैसे निकाल सकते हैं अगर इंसान पेड़ काटे सोचे वह अपनी जीविका के लिए पेड़ काट रहा है या वह जगह खाली कर रहा है घर बनाने के लिए आंखे तो पर भी आजकल लोग घर बनाने लग गए हैं और सोचिए अगर आप पर्यावरण को हानि पहुंचाए बिना भी अपनी रोजी रोटी कमा सके तो कितना अच्छा हो आप उसके लिए मधुमक्खी का पालन कर सकते हैं और बहुत सी चीजें हैं जी फूलों की खेती कर सकते हैं और फलों की खेती कर सकते हैं तो और आजकल जो प्रत्येक घर में लगभग दो दो तीन तीन गाड़ियां हो गई है पहले एक घर में एक ही बाइक हुआ करती थी तो चार भाई उसी से काम चलाते थे पर आजकल क्या होता है चारों के पास चार भाई है तो 4 के पास लगभग दो या तीन तीन बाइक हो गए हैं उससे क्या होता है आप तेल का भी पेट्रोल डीजल का भी आपका खर्चा आ रहा है साथ में आप प्रदूषण भी फैला रहे हो ऐसी बहुत सारी बातें हो जाती है वह सबसे जरूरी बात यह है कि पर्यावरण को नुकसान ना पहुंचाएं आप जैसे कई कारखाने हैं इंडस्ट्रीज हैं जो प्रदूषण फैलाता है पानी प्रदूषित करता है पर्यावरण को उस पर भी थोड़ा रोक लगाना जरूरी है बस अपने स्वार्थ के लिए हमें फिक्र नहीं करना चाहिए हम इतने अधिक स्वार्थी बन जाते हैं कि बाद में हमें पछताना पड़ता है हम आपका तो बहुत ही अच्छे से दिन काट रहे हैं पर क्या पता भविष्य में हम अपने आने वाले पीढ़ियों के लिए क्या छोड़ जा सके ऐसा ना हो कि बाद में उन्हें पीठ पर ऑक्सीजन गैस सिलेंडर लेकर घूमना पड़े

paryavaran adhyayan joki geography subject hai bhugol jo hai usse bahut hi zyada related hai toh hum dekhte hain ki paryavaran adhyayan yah vishay pehle schoolon me nahi tha collegeon me nahi tha par baad me school college sabzi me de diya gaya yahan tak ki kaksha ek se bhi de diya gaya paryavaran adhyayan aap agar chote classes me jaenge toh usme aapko science subject is tarah se nahi milega kuch pal science ke jagah me kya hota hai environmental studies paryavaran adhyayan yah subject diya gaya hai toh hum hamein jo kuch milta hai kaha se milta hai paryavaran se milta hai toh paryavaran hamare liye mata pita ke swaroop hai agar hum paryavaran ko hani pahunchate hain toh definet ne hamein bhi uska mulya chukaana padta hai aap jaise dekh lijiye corona ko hi humne itne zulm kiye paryavaran par apne hi ped kaate jameen ko khod khod kar usme se tel koyla khanij padarth nikale aur ek hare bhare jagah ko marusthal bana diya jante honge aaj jo marusthal hai vaah kyon hai vaah pehle vaah bhi vaah bhi hariyali hua karti hogi par kisi karan bus shayad bahut saare ped kaate gaye honge ya ke baadh aa gayi hogi akal par aao ka sukha pada hoga toh uske hariya halat ho gayi hai toh paryavaran ko hum jitna surakshit rakhenge utana hi hum bhi surakshit rahenge pe jitna lagayenge hum jante hain oxygen ki matra badhegi pradushan kam honge barish hogi kaafi saari cheezen hoti hai paryavaran me aur saath hi saath hum yah bhi seekh sakte hain ki paryavaran ko anisht kiye bina hum apni jeevika kaise nikaal sakte hain agar insaan ped kaate soche vaah apni jeevika ke liye ped kaat raha hai ya vaah jagah khaali kar raha hai ghar banane ke liye aankhen toh par bhi aajkal log ghar banane lag gaye hain aur sochiye agar aap paryavaran ko hani pahunchaye bina bhi apni rozi roti kama sake toh kitna accha ho aap uske liye madhumakkhi ka palan kar sakte hain aur bahut si cheezen hain ji fulo ki kheti kar sakte hain aur falon ki kheti kar sakte hain toh aur aajkal jo pratyek ghar me lagbhag do do teen teen gadiyan ho gayi hai pehle ek ghar me ek hi bike hua karti thi toh char bhai usi se kaam chalte the par aajkal kya hota hai charo ke paas char bhai hai toh 4 ke paas lagbhag do ya teen teen bike ho gaye hain usse kya hota hai aap tel ka bhi petrol diesel ka bhi aapka kharcha aa raha hai saath me aap pradushan bhi faila rahe ho aisi bahut saari batein ho jaati hai vaah sabse zaroori baat yah hai ki paryavaran ko nuksan na paunchaye aap jaise kai karkhane hain industries hain jo pradushan failata hai paani pradushit karta hai paryavaran ko us par bhi thoda rok lagana zaroori hai bus apne swarth ke liye hamein fikra nahi karna chahiye hum itne adhik swaarthi ban jaate hain ki baad me hamein pachhataana padta hai hum aapka toh bahut hi acche se din kaat rahe hain par kya pata bhavishya me hum apne aane waale peedhiyon ke liye kya chhod ja sake aisa na ho ki baad me unhe peeth par oxygen gas cylinder lekar ghumana pade

पर्यावरण अध्ययन जोकि ज्योग्राफी सब्जेक्ट है भूगोल जो है उससे बहुत ही ज्यादा रिलेटेड है तो

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  286
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!