प्रेरणा प्रभारी का क्या कार्य है?...


play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रेरणा प्रभारी का क्या कार्य है यह प्रश्न है प्रेरणा देने वालों का जिनके पास प्रभार होता है मेरी समझ में वह 13 अंक प्रेरणा प्रभारी है और इस प्रेरणा प्रभारी का कार्य है कि वह अपने आचार विचार भाषा बोल जोहार कार्यकुशलता एवं अपने शैली में रूप पूर्ण रूप से इस प्रकार के चरित्र का इस प्रकार की छवि का निर्माण करें कि वह दूसरों को प्रेरणा देने वाली हो और दूसरे उसको देख कर के अनुशासित हूं प्रेरणा प्रभारी का सबसे पहला तो यही कार्य है कार्य और भी बहुत सारे हैं लेकिन प्रथम कार यही है कि वह अपने आप को अनुशासन की कसौटी पर कसे जिसका लोग अनुकरण करें तत्पश्चात उसके अधीनस्थ जो लोग प्रेरक का कार्य कर रहे हैं दूसरों को प्रेरणा दे उनका परीक्षण कठिन से कठिन परिस्थितियों को उनके सामने रखकर के किस प्रकार से उन परिस्थितियों में वह किसी को प्रेरित कर पाते हैं ऐसी परिस्थितियों को उनके सामने परोसे जो उनके लिए एक सवाल की कारें होंगी एक कठिन प्रश्न की तरह होगी जैसे एक मास्टर के पास स्कूल में एक कार्य है दूसरा प्रेरकों द्वारा किए गए कार्य का अवलोकन करना वह किस प्रकार का कार्य कर रहे हैं और जो कार्य कर रहे हैं वह उचित है या अनुचित यदि उचित है तो कहां तक अनुचित है तो कहां तक और उनकी दी हुई प्रेरणा का भविष्य में क्या परिणाम होगा यह एक महत्वपूर्ण दायित्व है जो प्रभावित होता है अगला प्रभावित और बहुत सारे कार्य में जैसा हमने कहा उनको शब्द शब्द बनाना तो एक रिटर्न्स विद्या होगे लेकिन फिर भी परिस्थितियों सभी प्रश्नों के उत्तर ढूंढ निकालते हैं प्रेरणा प्रभारी का एक और कार्य मेरी समझ में जो मुझे दिखाई देता है कि यदि उसके सामने किसी भी प्रकार से कठिन परिस्थितियां विपरीत परिस्थितियां प्रेरकों के माध्यम से या सीधा जो समस्या को उत्पन्न कर रहा है जो हमारा साथ दे है उसके माध्यम से विषय के माध्यम से हमें प्राप्त होती हैं उनके ऊपर तत्काल एक नए प्रयोग करते हुए और सीधे समाधान तक पहुंचाना गंतव्य तक पहुंचाना किस प्रकार सेवर समस्या से मुक्त हो सके और उसकी भाषा उसकी सहेली यह सब कुछ बहुत ही सरल होनी चाहिए क्योंकि यह विषय प्रेरणा का है इसमें आदर्श और मूल्यों का जितना योगदान है उसकी तो कोई कल्पना नहीं की जा सकती किंतु सबसे महत्वपूर्ण चीज है विश्वसनीयता उसको अपनी विश्वसनीयता रखनी होगी कि सामने वाला जो उसके पास प्रेरणा लेने के लिए आ रहा है निश्चित है कि उसके पास उसके कुछ महत्वपूर्ण और गोपनीय विषय भी हो सकते हैं ऐसे विषयों को कोई किसी से शेयर नहीं करता और उस शेर तभी करता है जब उसे उस पर विश्वास हो जिस प्रकार से हम किसी से पूरी बात कहे या ना कहे लेकिन जब मंदिर मस्जिद गुरुद्वारा या गिरजाघर में जाते हैं जहां हम यह महसूस करते हैं कि सामने हमारा भगवान बैठा हुआ वाहेगुरु अल्लाह बैठा हूं और वह हमारी बात को सुन रहा है और उसकी विशेषता होती है किसी से कहेगा नहीं हमारी बात को सुनेगा ऐसी स्थिति में हम अपनी पूरी बात पूर्ण निष्ठा के साथ कह देते हैं अपने भगवान से यही जो विशेषता है यही तो खासियत है वह प्रेरणा देने वाले व्यक्तियों के पास होनी चाहिए और उनसे ज्यादा उनके प्रभारी के पास होनी चाहिए फिलहाल काफी लंबा उत्तर हो जाएगा इसलिए मैं ही पेश को छोड़ता हूं

prerna prabhari ka kya karya hai yah prashna hai prerna dene walon ka jinke paas parbhar hota hai meri samajh me vaah 13 ank prerna prabhari hai aur is prerna prabhari ka karya hai ki vaah apne aachar vichar bhasha bol johar karyakushlata evam apne shaili me roop purn roop se is prakar ke charitra ka is prakar ki chhavi ka nirmaan kare ki vaah dusro ko prerna dene wali ho aur dusre usko dekh kar ke anushasit hoon prerna prabhari ka sabse pehla toh yahi karya hai karya aur bhi bahut saare hain lekin pratham car yahi hai ki vaah apne aap ko anushasan ki kasouti par kaise jiska log anukaran kare tatpashchat uske adhinasth jo log prerak ka karya kar rahe hain dusro ko prerna de unka parikshan kathin se kathin paristhitiyon ko unke saamne rakhakar ke kis prakar se un paristhitiyon me vaah kisi ko prerit kar paate hain aisi paristhitiyon ko unke saamne parose jo unke liye ek sawaal ki karen hongi ek kathin prashna ki tarah hogi jaise ek master ke paas school me ek karya hai doosra prerakon dwara kiye gaye karya ka avalokan karna vaah kis prakar ka karya kar rahe hain aur jo karya kar rahe hain vaah uchit hai ya anuchit yadi uchit hai toh kaha tak anuchit hai toh kaha tak aur unki di hui prerna ka bhavishya me kya parinam hoga yah ek mahatvapurna dayitva hai jo prabhavit hota hai agla prabhavit aur bahut saare karya me jaisa humne kaha unko shabd shabd banana toh ek returns vidya hoge lekin phir bhi paristhitiyon sabhi prashnon ke uttar dhundh nikalate hain prerna prabhari ka ek aur karya meri samajh me jo mujhe dikhai deta hai ki yadi uske saamne kisi bhi prakar se kathin paristhiyaann viprit paristhiyaann prerakon ke madhyam se ya seedha jo samasya ko utpann kar raha hai jo hamara saath de hai uske madhyam se vishay ke madhyam se hamein prapt hoti hain unke upar tatkal ek naye prayog karte hue aur sidhe samadhan tak pahunchana gantavya tak pahunchana kis prakar sevar samasya se mukt ho sake aur uski bhasha uski saheli yah sab kuch bahut hi saral honi chahiye kyonki yah vishay prerna ka hai isme adarsh aur mulyon ka jitna yogdan hai uski toh koi kalpana nahi ki ja sakti kintu sabse mahatvapurna cheez hai visvasaniyata usko apni visvasaniyata rakhni hogi ki saamne vala jo uske paas prerna lene ke liye aa raha hai nishchit hai ki uske paas uske kuch mahatvapurna aur gopaniya vishay bhi ho sakte hain aise vishyon ko koi kisi se share nahi karta aur us sher tabhi karta hai jab use us par vishwas ho jis prakar se hum kisi se puri baat kahe ya na kahe lekin jab mandir masjid gurudwara ya girjaghar me jaate hain jaha hum yah mehsus karte hain ki saamne hamara bhagwan baitha hua vaheguru allah baitha hoon aur vaah hamari baat ko sun raha hai aur uski visheshata hoti hai kisi se kahega nahi hamari baat ko sunegaa aisi sthiti me hum apni puri baat purn nishtha ke saath keh dete hain apne bhagwan se yahi jo visheshata hai yahi toh khasiyat hai vaah prerna dene waale vyaktiyon ke paas honi chahiye aur unse zyada unke prabhari ke paas honi chahiye filhal kaafi lamba uttar ho jaega isliye main hi pesh ko chodta hoon

प्रेरणा प्रभारी का क्या कार्य है यह प्रश्न है प्रेरणा देने वालों का जिनके पास प्रभार होता

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  64
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!