कवि रैदास की भक्ति में किस भाव की प्रधानता है?...


user
3:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रभु जी मैं चंदन हम भाषा प्रभु जी मैं सुरभि तू बादशाह इनके रंग रंग के प्रकाश शब्द कह कर रह जाए एक ऐसा समाजसेवी समाज दर्शक समाज कार्य के भगवान कहे जाने वाले जहां उपेक्षा का शिकार होकर समाज उपेक्षित हो रहा था उसको अपेक्षा का रूप दे दिया गया जो भक्ति से पृथक होकर कुछ ऐसे कार्यक्रमों का समावेश कुछ ऐसे कार्यों क्या संजुक्ता था जिसकी कोई रूपरेखा इसकी कुछ दीवारें कुछ ऐसी कुछ घटना घटित हुई जो रैदास के भावनाओं को ठेस लगी और वह उन्होंने अनाचार दुराचार में विशाल की खाई को पाटने में अपनी अहम भूमिका अदा की और समाज में उपेक्षित वर्गों और शिक्षा का रूप दिया सभी रैदास सगुण और निर्गुण दोनों को निश्चित करते हुए समाज में ऐसी भावनाओं को पिरोया की उन्होंने कहा कि यदि तेल है और बाती तेल और बाती में क्या संबंध है आत्मा और परमात्मा में क्या संबंध है स्वर और इश्वर में क्या संबंध है फूल और सुगंध में क्या संबंध है मीन और जल में क्या संबंध है इस सारी चीजों का उन्होंने उन्हें कैसे किया कि उसी तरह से परमात्मा और आत्मा में क्या संबंध होना चाहिए परमात्मा ही आत्मा का प्रतिरूप है और मन बुद्धि के चलते यह थोड़ा बिजनेस होता है लेकिन मन को शांत चित्त होकर कार्य करने की आवश्यकता है और ए दास राय दास रैदास हैं और यहां से जो इस प्रकार के संत जिसमें हमारे कबीर जरिया पलटू सूट मीरा ऐसे ऐसे लोग हुए रैदास से कम कीजिए

prabhu ji main chandan hum bhasha prabhu ji main surbhi tu badshah inke rang rang ke prakash shabd keh kar reh jaaye ek aisa samajsevi samaj darshak samaj karya ke bhagwan kahe jaane waale jaha upeksha ka shikaar hokar samaj upekshit ho raha tha usko apeksha ka roop de diya gaya jo bhakti se prithak hokar kuch aise karyakramon ka samavesh kuch aise karyo kya sanjukta tha jiski koi rooprekha iski kuch deewaaren kuch aisi kuch ghatna ghatit hui jo raidas ke bhavnao ko thes lagi aur vaah unhone anachar durachar me vishal ki khai ko patne me apni aham bhumika ada ki aur samaj me upekshit vargon aur shiksha ka roop diya sabhi raidas shagun aur nirgun dono ko nishchit karte hue samaj me aisi bhavnao ko piroya ki unhone kaha ki yadi tel hai aur bati tel aur bati me kya sambandh hai aatma aur paramatma me kya sambandh hai swar aur ishvar me kya sambandh hai fool aur sugandh me kya sambandh hai meen aur jal me kya sambandh hai is saari chijon ka unhone unhe kaise kiya ki usi tarah se paramatma aur aatma me kya sambandh hona chahiye paramatma hi aatma ka pratirup hai aur man buddhi ke chalte yah thoda business hota hai lekin man ko shaant chitt hokar karya karne ki avashyakta hai aur a das rai das raidas hain aur yahan se jo is prakar ke sant jisme hamare kabir zariya palatu suit meera aise aise log hue raidas se kam kijiye

प्रभु जी मैं चंदन हम भाषा प्रभु जी मैं सुरभि तू बादशाह इनके रंग रंग के प्रकाश शब्द कह कर र

Romanized Version
Likes  63  Dislikes    views  1288
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!