धर्म पहले आया या कर्म पहले आया?...


play
user

Ramesh Bait

Astrologer & Spiritual Healer

2:29

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे पहला अगर कोई चीज आए होगे तो करवाई होगी इसका लॉजिक रामबल मान लेते हम लोग बंदर से पहले फिर इंसान बने या पैडमैन यू बना भी डायरेक्ट हम लोग कर्म ज्यादा खाना खाना खाना खाना यही कामना और सुरक्षित रहना तो यह करम है उसके बाद उस सेक्स पैदा होता था सेक्स करके पर बच्चे पैदा होते थे तो यह चीज कर्म में आई बाद में मां अपने बच्चों को छोड़ दे तो राइट खाना ही नहीं खिलाई तो फिर धर्म आया फिर वह यह चीज आई कि नहीं माने अपने बच्चों को खाना खिलाना चाहिए आज उसका पिता है उसने उसकी देखभाल कर उसके मां को संभालना चाहिए अच्छा आपका जब पेट भर जाए तो उस चीज को तहस-नहस ना कर दे दूसरों को भी देखिए धर्म में आएगा मगर सबसे पहले क्या पहले मुझे मेरा हाल तो ठीक है ना मुझे मेरा पेट भरना मुझे सेफ्टी चाहिए मुझे सर अफेयर चाहिए जब हम लोग आराम से आपके बैठते हैं ना तब जाकर धर्म की बात आते नहीं सबको बैठने को जगह मिलनी चाहिए सबको यह होना चाहिए धर्म की बातें पोकरण की बातों में नहीं आता कर्म शब्द भी समझो मैं एक बंदे को चार पांच 10 दिन भूखा रखूंगा और और रोटी के लिए तड़प रहे तो धर्म की बात नहीं करेगा वह बचपन में एक ही है रोटी खा लो एक बार उसने रोटी खा लिए भी उसको मिल गया खाने के लिए दबा के रखो बैठ जाएगा फिर आपको बताएगा मोक्ष क्या है क्या है क्या है जीवन में कैसे जीना चाहिए यह तभी वह बता सकेगा जब उसका पेट भरा हुआ तो उसका कारण क्या था पहले अपना पेट भरना है तो कर्म पहले फिर धर्म है

sabse pehla agar koi cheez aaye hoge toh karwai hogi iska logic ramabal maan lete hum log bandar se pehle phir insaan bane ya padman you bana bhi direct hum log karm zyada khana khana khana khana yahi kamna aur surakshit rehna toh yah karam hai uske baad us sex paida hota tha sex karke par bacche paida hote the toh yah cheez karm me I baad me maa apne baccho ko chhod de toh right khana hi nahi khilai toh phir dharm aaya phir vaah yah cheez I ki nahi maane apne baccho ko khana khilana chahiye aaj uska pita hai usne uski dekhbhal kar uske maa ko sambhaalna chahiye accha aapka jab pet bhar jaaye toh us cheez ko tahas nahas na kar de dusro ko bhi dekhiye dharm me aayega magar sabse pehle kya pehle mujhe mera haal toh theek hai na mujhe mera pet bharna mujhe safety chahiye mujhe sir affair chahiye jab hum log aaram se aapke baithate hain na tab jaakar dharm ki baat aate nahi sabko baithne ko jagah milani chahiye sabko yah hona chahiye dharm ki batein pokaran ki baaton me nahi aata karm shabd bhi samjho main ek bande ko char paanch 10 din bhukha rakhunga aur aur roti ke liye tadap rahe toh dharm ki baat nahi karega vaah bachpan me ek hi hai roti kha lo ek baar usne roti kha liye bhi usko mil gaya khane ke liye daba ke rakho baith jaega phir aapko batayega moksha kya hai kya hai kya hai jeevan me kaise jeena chahiye yah tabhi vaah bata sakega jab uska pet bhara hua toh uska karan kya tha pehle apna pet bharna hai toh karm pehle phir dharm hai

सबसे पहला अगर कोई चीज आए होगे तो करवाई होगी इसका लॉजिक रामबल मान लेते हम लोग बंदर से पहले

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  218
KooApp_icon
WhatsApp_icon
19 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!