कभी कभी मैं यह सोचता हूँ की अगर इस ब्रम्हांड में जीवन नहीं होता तो क्या यह दुनिया होती जिसमें हम रह रहे है? आपका क्या विचार है?...


user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

2:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने जो प्रश्न किया है उसका उत्तर भी यही दुनिया किशन का कभी-कभी मैं सोचता हूं क्या गरीब दुनिया या गरीब सामान्य जीवन नहीं होता तो क्या या दुनिया होती अरे भाई जब ब्रह्मांड के संचालन करने वाले प्रभु ने कोई साक्षी को जन्मदिन नहीं दिया होता कोई शक्ति की बनावट तो आप बताइए क्यों कैसे होता क्यों नहीं होता तो जीने की रचना कैसे होती है दुनिया की रचना नहीं होती तो शमशान में सुख-दुख का कुछ नहीं होता पृथ्वी पर कुछ नहीं होता लेकिन इस संसार की को भगवान ने रचा है भगवान ने अपनी क्रिएटिविटी से मानव जाति को जन्म दिया इस जयपुर में शान यह संसार की स्थापना हुई और उस चमचा की स्थापना में जीव विज्ञान से मानव विज्ञान से हमें बहुत कुछ चेतन सीखने को मिला रूम में जाना राजेश m4q जकरिया चेंज कभी जीवन में बताया कि जीवन में कुछ करना कुछ करने के लिए सुनसान आदमी ने जीवन में सब कुछ सीख लेना तुम साथियों के प्रयोग से जीवन को जिंदगी में बना

aapne jo prashna kiya hai uska uttar bhi yahi duniya kishan ka kabhi kabhi main sochta hoon kya garib duniya ya garib samanya jeevan nahi hota toh kya ya duniya hoti are bhai jab brahmaand ke sanchalan karne waale prabhu ne koi sakshi ko janamdin nahi diya hota koi shakti ki banawat toh aap bataiye kyon kaise hota kyon nahi hota toh jeene ki rachna kaise hoti hai duniya ki rachna nahi hoti toh shamshan me sukh dukh ka kuch nahi hota prithvi par kuch nahi hota lekin is sansar ki ko bhagwan ne racha hai bhagwan ne apni creativity se manav jati ko janam diya is jaipur me shan yah sansar ki sthapna hui aur us chamacha ki sthapna me jeev vigyan se manav vigyan se hamein bahut kuch chetan sikhne ko mila room me jana rajesh m4q jakriya change kabhi jeevan me bataya ki jeevan me kuch karna kuch karne ke liye sunsaan aadmi ne jeevan me sab kuch seekh lena tum sathiyo ke prayog se jeevan ko zindagi me bana

आपने जो प्रश्न किया है उसका उत्तर भी यही दुनिया किशन का कभी-कभी मैं सोचता हूं क्या गरीब दु

Romanized Version
Likes  403  Dislikes    views  5650
KooApp_icon
WhatsApp_icon
25 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
sochta hu ki ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!