जो समय सिखा सकता है, वह कोई गुरु नहीं सिखा सकता, क्योंकि समय सबसे ज्यादा बलवान है, इस्पे टिपण्णी करें?...


user

Sushil Kumar

Accountant

3:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने कहावत सुनी होगी जब तक आदमी को ठोकर नहीं लगती तब तक वह उससे सीखता नहीं है भले ही आप तो किताबी ज्ञान कितना भी हो लेकिन उस सच्चाई का अनुभव आप तभी आप तभी कर सकते हैं जब आप पर उसका दुष्प्रभाव या परिणाम देखने को मिलेगा समय समय आपको सिखाता जरूर है लेकिन ज्ञान सिर्फ सच्चाई देती है जब जान होगा तभी आप सो सकते हैं समय निकलता रहता है इसलिए समय के पीछे ना भागे अपने ज्ञान के पीछे भागे हैं अगर आपके पास ज्ञान होगा तो समय भी आपके साथ होगा आपने कहा जो समझ कर सकता है वह गुरु नहीं सिखा सकता यह आपका गलत है क्योंकि गुरु आपको सिखाता जरूर है लेकिन आप उसे अनुभव नहीं कर सकते आप उसके निष्कर्ष पर नहीं पहुंच पाते हैं कि क्या सही में ऐसा होता है इसीलिए आपको गुरु पर विश्वास नहीं होता है जब आप उस परिस्थिति में आते हैं तब आपको ग्रुप के द्वारा दिया गया ज्ञान याद आता है समझ गए समय नहीं सिखाता आपको आपका ज्ञान ही आपको उस निष्कर्ष पर ले जाता है कि आपके गुरु जी ने सही कहा था जो आज मैं सब घटना हुई वह मुझे पहले ही पता था लेकिन मुझे ठोकर नहीं लगी थी इसलिए मैं उससे सीख नहीं पाया आज मुझे ठोकर लगी तो मैं सीख पाया वह चीज को कि हां सच में ऐसा होता है आपने कहा समय बलवान होता है जी नहीं समय बलवान नहीं होता है समय तो निरंतर बहती धारा है मैं अपने साथ चलता है बलवान तो मनुष्य है जो समय का सही सदुपयोग करता है समय का सही सदुपयोग ही आपको सिखा सकता है उस समय का सही उपयोग करना आपको गुरु ही से आ सकता है जिस प्रकार माता-पिता आपको मना करते हैं कि इस काम को मत कीजिए नहीं तो हानि होगी लेकिन फिर भी हम उस कार्य को करते हैं क्योंकि हमें लगता है कि वह सही है क्या पता मेरे को ना पता हो जब आप उसे ठोकर खाते हैं तब आपको एहसास होता है कि हां मेरे गुरु या माता-पिता सही थे तब आप कह सकते हैं किस समय के अनुसार इस तिथि के अनुसार जो हम सीखते हैं उसे हम सच्चाई मानते हैं

aapne kahaavat suni hogi jab tak aadmi ko thokar nahi lagti tab tak vaah usse sikhata nahi hai bhale hi aap toh kitabi gyaan kitna bhi ho lekin us sacchai ka anubhav aap tabhi aap tabhi kar sakte hain jab aap par uska dushprabhav ya parinam dekhne ko milega samay samay aapko sikhata zaroor hai lekin gyaan sirf sacchai deti hai jab jaan hoga tabhi aap so sakte hain samay nikalta rehta hai isliye samay ke peeche na bhaage apne gyaan ke peeche bhaage hain agar aapke paas gyaan hoga toh samay bhi aapke saath hoga aapne kaha jo samajh kar sakta hai vaah guru nahi sikha sakta yah aapka galat hai kyonki guru aapko sikhata zaroor hai lekin aap use anubhav nahi kar sakte aap uske nishkarsh par nahi pohch paate hain ki kya sahi me aisa hota hai isliye aapko guru par vishwas nahi hota hai jab aap us paristhiti me aate hain tab aapko group ke dwara diya gaya gyaan yaad aata hai samajh gaye samay nahi sikhata aapko aapka gyaan hi aapko us nishkarsh par le jata hai ki aapke guru ji ne sahi kaha tha jo aaj main sab ghatna hui vaah mujhe pehle hi pata tha lekin mujhe thokar nahi lagi thi isliye main usse seekh nahi paya aaj mujhe thokar lagi toh main seekh paya vaah cheez ko ki haan sach me aisa hota hai aapne kaha samay balwan hota hai ji nahi samay balwan nahi hota hai samay toh nirantar behti dhara hai main apne saath chalta hai balwan toh manushya hai jo samay ka sahi sadupyog karta hai samay ka sahi sadupyog hi aapko sikha sakta hai us samay ka sahi upyog karna aapko guru hi se aa sakta hai jis prakar mata pita aapko mana karte hain ki is kaam ko mat kijiye nahi toh hani hogi lekin phir bhi hum us karya ko karte hain kyonki hamein lagta hai ki vaah sahi hai kya pata mere ko na pata ho jab aap use thokar khate hain tab aapko ehsaas hota hai ki haan mere guru ya mata pita sahi the tab aap keh sakte hain kis samay ke anusaar is tithi ke anusaar jo hum sikhate hain use hum sacchai maante hain

आपने कहावत सुनी होगी जब तक आदमी को ठोकर नहीं लगती तब तक वह उससे सीखता नहीं है भले ही आप त

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  257
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!