सिख किस धर्म के अनुयाई होते हैं?...


user

Ranjeet Singh Uppal

Retired GM ONGC

2:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जो शब्द है यह किस शब्द का अपभ्रंश है जो गुरु के शिष्य होते वह सिक्के लाइक और सिखों के पहले गुरु गुरु नानक देव जी थे जिन्होंने सिख धर्म की स्थापना की थी और कुल मिलाकर सिखों के 10 गुरु हुए सिखों के अंतिम गुरु गुरु गोविंद सिंह जी थे यह भी संयोग ही है कि मुगल वंश के समानांतर ही सिख गुरु हुए सिखों के पहले गुरु गुरु नानक देव थे और मुगल वंश के पहले बादशाह बाबर थे दोनों एक साथ थे बाबर ने एक समय गुरु नानक देव जी को कैद भी किया था और सिखों के अंतिम गुरु गुरु गोविंद सिंह थे और मुगल वंश के भी अंतिम प्रभावशाली राजा या बादशाह औरंगजेब औरंगजेब और गुरु गोविंद सिंह में भी युद्ध होते ही रहे थे गुरु गोविंद सिंह ने अपनी मृत्यु के समय यह निर्णय किया था कि आप कोई जीवित गुरु नहीं होगा और जो गुरुओं के उपदेश है इसके साथ में कई भक्तों के लिए उपदेश में शामिल कर उन्होंने गुरु ग्रंथ साहब का संपादन कर उसको गुरु का दर्जा दिया गुरु ग्रंथ साहब में 6 गुरुओं की वाणी है उसके अलावा जो उस समय के भक्त थे जैसे कबीर रविदास रैदास शेख फरीद ऐसे कई भक्तों के जो लिखे हुए बनी थी उसको भी उस में जगह दी और उस सब सिखों को हुक्म दिया कि आज के बाद में इस ग्रंथ साहब कोई गुरु मानकर गुरु का दर्जा देंगे दोगे उसके पश्चात सेक्स गुरु ग्रंथ साहब कोई अपना सब कुछ मानते हैं और सिख धर्म का पालन करते हैं धन्यवाद

jo shabd hai yah kis shabd ka apbransh hai jo guru ke shishya hote vaah sikke like aur Sikhon ke pehle guru guru nanak dev ji the jinhone sikh dharm ki sthapna ki thi aur kul milakar Sikhon ke 10 guru hue Sikhon ke antim guru guru govind Singh ji the yah bhi sanyog hi hai ki mughal vansh ke samanantar hi sikh guru hue Sikhon ke pehle guru guru nanak dev the aur mughal vansh ke pehle badshah babar the dono ek saath the babar ne ek samay guru nanak dev ji ko kaid bhi kiya tha aur Sikhon ke antim guru guru govind Singh the aur mughal vansh ke bhi antim prabhavshali raja ya badshah aurangzeb aurangzeb aur guru govind Singh me bhi yudh hote hi rahe the guru govind Singh ne apni mrityu ke samay yah nirnay kiya tha ki aap koi jeevit guru nahi hoga aur jo guruon ke updesh hai iske saath me kai bhakton ke liye updesh me shaamil kar unhone guru granth saheb ka sampadan kar usko guru ka darja diya guru granth saheb me 6 guruon ki vani hai uske alava jo us samay ke bhakt the jaise kabir ravidas raidas shaikh faridabad aise kai bhakton ke jo likhe hue bani thi usko bhi us me jagah di aur us sab Sikhon ko hukm diya ki aaj ke baad me is granth saheb koi guru maankar guru ka darja denge doge uske pashchat sex guru granth saheb koi apna sab kuch maante hain aur sikh dharm ka palan karte hain dhanyavad

जो शब्द है यह किस शब्द का अपभ्रंश है जो गुरु के शिष्य होते वह सिक्के लाइक और सिखों के पहले

Romanized Version
Likes  123  Dislikes    views  1762
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!