पुलिस का पावर क्या होता है?...


user

मधुपाल सिंह नागपुरे

लाइब्रेरियन( ग्रंथपाल) मार्गदर्शक । मित्र सलाहकार। सुलभ ज्ञान। सत्य दर्शक ।

4:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्लीज ऐसा पूछ रहे हैं कि पुलिस का पावर क्या होता है तो देखिए आप प्लीज एक बहुत ही सूक्ष्म और पावरफुल विभाग है भारतीय इसमें है ना लोकतंत्र में इसका बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान है और पुलिस प्रशासन को बहुत ही कानूनी दायरे में संविधान की ओर से और कानून के नियमों के अंतर्गत बहुत सारे पावर दिए गए हैं जैसे किसी भी केस का यह वारदात का इन्वेस्टिगेशन करना उसके रिपोर्ट तैयार करना कोई भी क्राइम मगर होती है देश में तो उसकी जो है इंक्वायरी करना उसकी जांच करना जांच पड़ताल करना जांच की तह तक जाना है ना f.i.r. करना आदि और और भी आने अनेक कार्य पुलिस प्रशासन के लिए जाते हैं पुलिस प्रशासन को बहुत ही बाहर लिए जाते हैं जिसे रैलियों के सामने ने पुलिस प्रशासन की ड्यूटी लगाई जाती है किसी बड़ी आपदा के समय में लगाई जाती है कोई बड़ी वारदात की घटनाएं हो जाए तो उस टाइम में पुलिस प्रशासन की ड्यूटी है उस जगह पर लगाई जाती है और जैसे भी करुणा वायरस का यह चल रहा है माहौल तो ऐसे समय में भी पुलिस प्रशासन की जोड़ी होती है वह लगाई गई है और इनको लोगों को रोकने के लिए स्पेशल पावर दिया गया है महामारी कानून के अंतर्गत जो अंग्रेजों के समय में ही बना देगी चाहिए कानून मगर वह कानून अभी चल रहा है जो सही भी है इसलिए चल रहा है और उसी कानून के अंतर्गत पुलिस के पावन मिली हुई है इसीलिए भारत में सफल हो पाया 2 महीने तक लगातार और यदि भी इन नियमों के अंतर्गत पूरे देश में यह जारी है तो पुलिस प्रशासन को अलग-अलग समय पर अलग-अलग घटना और इनके आधार पर अलग-अलग पावर दिए जाते हैं तो बहुत पावर होती हैं जैसे त्योहारों के सीजन में जो है शांति व्यवस्था कायम रखना जैसे कोई हड़ताल वगैरे होगे कोई बड़ा आयोजन हो गया तो इसका भी सुचारू रूप से संचालन करने के लिए पुलिस प्रशासन की मदद ली जाती है और पुलिस प्रशासन के पास उसका पावर भी होता है पुलिस के पास जो है कानून व्यवस्था को बनाए रखने का पावर होता है जो कि कानून के दायरे में रहकर अपना काम करते हैं और सही ढंग से संविधान के रेड को बहुत सारे पावर होते हैं जो पुलिस प्रशासन के लोग निभाते भी हैं और पूरा भी करते हैं और जैसे आतंकवादी घटनाओं के समय में भी सबसे पहले अगर देश के अंदर की घटना है तो सबसे पहले जो पहुंचने वाली जो पोस्ट होती है वह पुलिस की 4 सी होती है ना आज ऐसे देश के अंदर अभी जैसे नक्सलवाद की समस्या मारे देश में अभी भी बनी हुई है तो उससे कहीं ना कहीं जूझने में जब आगे आती है सबसे पहले तो पुलिस ही आती है उसके बाद फिर बाकी फोर्सेस आती है तो पुलिस प्रशासन को इस तरह के अनेक पावर में युद्ध लड़ने के भी पावर है कानून व्यवस्था बनाए रखने का पावर है f.i.r. और रिपोर्ट लिखने का पावर है ना यह फायर करने के बाद राकेश को कोर्ट में हस्तांतरित करने का भी पावर है तो इस तरह के पावर हैं और पुलिस को जो है विशेष समय में और किसी अपराधी को गिरफ्तार करने का भी पावर है तो ढेर सारे अनेक पावर जो है कानून के दायरे के अंतर्गत पुलिस प्रशासन को दी गई है थैंक यू

please aisa puch rahe hain ki police ka power kya hota hai toh dekhiye aap please ek bahut hi sukshm aur powerful vibhag hai bharatiya isme hai na loktantra me iska bahut hi mahatvapurna sthan hai aur police prashasan ko bahut hi kanooni daayre me samvidhan ki aur se aur kanoon ke niyamon ke antargat bahut saare power diye gaye hain jaise kisi bhi case ka yah vaardaat ka investigation karna uske report taiyar karna koi bhi crime magar hoti hai desh me toh uski jo hai enquiry karna uski jaanch karna jaanch padatal karna jaanch ki tah tak jana hai na f i r karna aadi aur aur bhi aane anek karya police prashasan ke liye jaate hain police prashasan ko bahut hi bahar liye jaate hain jise railiyo ke saamne ne police prashasan ki duty lagayi jaati hai kisi badi aapda ke samay me lagayi jaati hai koi badi vaardaat ki ghatnaye ho jaaye toh us time me police prashasan ki duty hai us jagah par lagayi jaati hai aur jaise bhi corona virus ka yah chal raha hai maahaul toh aise samay me bhi police prashasan ki jodi hoti hai vaah lagayi gayi hai aur inko logo ko rokne ke liye special power diya gaya hai mahamari kanoon ke antargat jo angrejo ke samay me hi bana degi chahiye kanoon magar vaah kanoon abhi chal raha hai jo sahi bhi hai isliye chal raha hai aur usi kanoon ke antargat police ke paavan mili hui hai isliye bharat me safal ho paya 2 mahine tak lagatar aur yadi bhi in niyamon ke antargat poore desh me yah jaari hai toh police prashasan ko alag alag samay par alag alag ghatna aur inke aadhar par alag alag power diye jaate hain toh bahut power hoti hain jaise tyoharon ke season me jo hai shanti vyavastha kayam rakhna jaise koi hartal vagaire hoge koi bada aayojan ho gaya toh iska bhi sucharu roop se sanchalan karne ke liye police prashasan ki madad li jaati hai aur police prashasan ke paas uska power bhi hota hai police ke paas jo hai kanoon vyavastha ko banaye rakhne ka power hota hai jo ki kanoon ke daayre me rahkar apna kaam karte hain aur sahi dhang se samvidhan ke red ko bahut saare power hote hain jo police prashasan ke log nibhate bhi hain aur pura bhi karte hain aur jaise aatankwadi ghatnaon ke samay me bhi sabse pehle agar desh ke andar ki ghatna hai toh sabse pehle jo pahuchne wali jo post hoti hai vaah police ki 4 si hoti hai na aaj aise desh ke andar abhi jaise naksalvad ki samasya maare desh me abhi bhi bani hui hai toh usse kahin na kahin jujhne me jab aage aati hai sabse pehle toh police hi aati hai uske baad phir baki forces aati hai toh police prashasan ko is tarah ke anek power me yudh ladane ke bhi power hai kanoon vyavastha banaye rakhne ka power hai f i r aur report likhne ka power hai na yah fire karne ke baad rakesh ko court me hastaantarit karne ka bhi power hai toh is tarah ke power hain aur police ko jo hai vishesh samay me aur kisi apradhi ko giraftar karne ka bhi power hai toh dher saare anek power jo hai kanoon ke daayre ke antargat police prashasan ko di gayi hai thank you

प्लीज ऐसा पूछ रहे हैं कि पुलिस का पावर क्या होता है तो देखिए आप प्लीज एक बहुत ही सूक्ष्म औ

Romanized Version
Likes  163  Dislikes    views  1343
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!