एक सफल टीचर बनने में उच्च शिक्षा माइक्रो टीचिंग किस प्रकार अपनी भूमिका निभा सकता है?...


play
user

G P Kanaugia

Teacher And Career Counselor With Personal Advisor.

1:53

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब का प्रश्न है एक सफल टीचर बनने में उच्च शिक्षा में माइक्रो टीचिंग किस प्रकार अपनी भूमिका निभा सकता है वैसे शिक्षा चाहे प्राथमिक शिक्षा माइक्रो टीचिंग बहुत ही उपयोगी सीमा है क्योंकि माइक्रोटीचिंग में पाठ्यक्रम जो होता है हमारा जिसे हम पाठ योजना बनाते हैं पाठ योजना किसी एक विशेष टॉपिक पर होता है लेकिन जो हमारी माइक्रोटीचिंग होती है वह समस्या विशेषकर होती है कुछ ऐसी समस्या बच्चों के पठन-पाठन में आती हैं जिससे शिक्षार्थी आसानी से समझ नहीं पाता है और माइक्रो टीचिंग जिसे मेहंदी में सूक्ष्म शिक्षण कहते हैं वह समस्या का निदान करने में अहम भूमिका निभाता है शिक्षक शिक्षार्थी ग्रुप में विद्यार्थी के जीवन में प्राथमिक से लेकर उच्च शिक्षण की समस्याएं कहीं ना कहीं बनी रहती है क्योंकि कोई व्यक्ति संपूर्ण कभी नहीं होता है इसलिए शिक्षार्थी चाहे प्राथमिक का हो चाहे उत्सुकता का हो उसकी समस्याएं जिज्ञासा बनी रहती हैं और माइक्रो टीचिंग जो सूक्ष्म शिक्षण के सिद्धांत हैं उसकी आर्टिकल है वह निश्चित रूप से शिक्षण को प्रभावी बनाती हैं और एक विद्यार्थी के समस्या का समाधान करती है सुसु से जुड़े प्रकार का एक्शन रिसर्च ऋषभ क्रियात्मक शोध कहते हैं उसी के बेस्ट पर यह काम करता है उसकी जॉब शिक्षण की समस्याएं हैं उसकी अवधारणाओं को समझने में हमारी मदद करता है धन्यवाद

jab ka prashna hai ek safal teacher banne me ucch shiksha me micro teaching kis prakar apni bhumika nibha sakta hai waise shiksha chahen prathmik shiksha micro teaching bahut hi upyogi seema hai kyonki maikrotiching me pathyakram jo hota hai hamara jise hum path yojana banate hain path yojana kisi ek vishesh topic par hota hai lekin jo hamari maikrotiching hoti hai vaah samasya visheshkar hoti hai kuch aisi samasya baccho ke pathan pathan me aati hain jisse shiksharthi aasani se samajh nahi pata hai aur micro teaching jise mehendi me sukshm shikshan kehte hain vaah samasya ka nidan karne me aham bhumika nibhata hai shikshak shiksharthi group me vidyarthi ke jeevan me prathmik se lekar ucch shikshan ki samasyaen kahin na kahin bani rehti hai kyonki koi vyakti sampurna kabhi nahi hota hai isliye shiksharthi chahen prathmik ka ho chahen utsukata ka ho uski samasyaen jigyasa bani rehti hain aur micro teaching jo sukshm shikshan ke siddhant hain uski article hai vaah nishchit roop se shikshan ko prabhavi banati hain aur ek vidyarthi ke samasya ka samadhan karti hai susu se jude prakar ka action research rishabh kriyatmak shodh kehte hain usi ke best par yah kaam karta hai uski job shikshan ki samasyaen hain uski avadharanaon ko samjhne me hamari madad karta hai dhanyavad

जब का प्रश्न है एक सफल टीचर बनने में उच्च शिक्षा में माइक्रो टीचिंग किस प्रकार अपनी भूमिका

Romanized Version
Likes  36  Dislikes    views  569
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!