राजनीति के अंदर जाति को क्यों देखा जाता है क्या जाति ही राजनीति है क्या?...


user
2:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सामान्य परिस्थितियों में जाति का बहुत महत्व होता है राजनीति में लेकिन जब कोई एक मुद्दा देश के सामने आता है तस्वीर जाति का महत्व खत्म हो जाता है जैसे 1971 में इंदिरा जी ने कहा कि गरीबी हटाओ भारी बहुमत से जीत 1970 में इंदिरा जी ने आपातकाल लगाया हुआ था 1975 जयप्रकाश ने कहा कि आपको लोकतंत्र चाहिए या आपको डिक्टेटरशिप या तानाशाही लोगों ने इंदिरा गांधी को उत्तर भारत में सेक्स किया 1970 का चुनाव खत्म हुआ 1980 में ढाई साल में फिर से चुनाव हुआ और इंदिरा जी नारा दिया कि चुनिए उन्हें जो सरकार चला सकती आपने देखा होगा कि कि मेरा जी पूर्ण बहुमत से वापस है उसके बाद इंदिरा जी की हत्या के बाद 1984 में लोकसभा का चुनाव हुआ और राजीव गांधी ने कहा देश की एकता अखंडता के लिए कांग्रेस को वोट दीजिए और कांग्रेस तीन चौथाई बहुमत से लोकसभा से 99 वी पी सिंह ने मंडल आयोग को लेकर आरक्षण की बात की कि पिछले और आरक्षण दो तो राजा नहीं फकीर है भारत की तकदीर जाति एक निर्णायक होता होता है होता है जाति धर्म गौण हो जाती है और हिंदुस्तान के पढ़े-लिखे मुद्दा दिल्ली के जो फैसला देते हो वही छत्तीसगढ़ के बस्तर के अनपढ़ मतदाता भी वही फैसला देते हैं

samanya paristhitiyon me jati ka bahut mahatva hota hai raajneeti me lekin jab koi ek mudda desh ke saamne aata hai tasveer jati ka mahatva khatam ho jata hai jaise 1971 me indira ji ne kaha ki garibi hatao bhari bahumat se jeet 1970 me indira ji ne aapatkal lagaya hua tha 1975 jayprakash ne kaha ki aapko loktantra chahiye ya aapko dictatorship ya tanashahi logo ne indira gandhi ko uttar bharat me sex kiya 1970 ka chunav khatam hua 1980 me dhai saal me phir se chunav hua aur indira ji naara diya ki chuniye unhe jo sarkar chala sakti aapne dekha hoga ki ki mera ji purn bahumat se wapas hai uske baad indira ji ki hatya ke baad 1984 me lok sabha ka chunav hua aur rajeev gandhi ne kaha desh ki ekta akhandata ke liye congress ko vote dijiye aur congress teen chauthai bahumat se lok sabha se 99 v p Singh ne mandal aayog ko lekar aarakshan ki baat ki ki pichle aur aarakshan do toh raja nahi fakir hai bharat ki takdir jati ek niranayak hota hota hai hota hai jati dharm gaun ho jaati hai aur Hindustan ke padhe likhe mudda delhi ke jo faisla dete ho wahi chattisgarh ke bastar ke anpad matdata bhi wahi faisla dete hain

सामान्य परिस्थितियों में जाति का बहुत महत्व होता है राजनीति में लेकिन जब कोई एक मुद्दा देश

Romanized Version
Likes  26  Dislikes    views  652
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!