क्या आपने अपने सामने किसी का देहांत होते हुए देखा है? वह अंतिम बात क्या थी जो आपने उनसे उनकी मृत्यु से पहले उससे कही थी?...


user

Kavita Panyam

Certified Award Winning Counseling Psychologist

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे कि भाई था मेजर श्यामसुंदर जॉइंट पैन ट्री ऑफिसर थे और अगर गेल के 2 साल पहले आने की राइनाइटिस सेक्स में मुकदमा चल सकते में उनकी पोस्टिंग हुई थी और वहां पर एक सर्जिकल स्ट्राइक के दौरान पेट के ऑपरेशन के पैटर्न पुरी जब सुनो पेट में गिर गई थी वहां पर काफी स्लो काम था तो उन्होंने पूरी रात उनको बाहर निकालने में गवा दी जिसके वजह से उनके जो अलार्म्स में चला गया जिसके वजह से निवृत हो गया लेकिन अभी में आर्मी नहीं थी जब तक नहीं मिला तब तक काफी देर हो चुकी थी उनकी हालत काफी खराब हो चुकी थी और कमांड हॉस्पिटल पुणे में 4 महीने बताएं तो उस टाइम पर बाकी ऑफिसर को शांत बना दिया उनके साथ गेम बोर्ड गेम खेला चैट कैरम बोर्ड खेला उन्हें हंसाया पुराने दिन याद दिलाए उनकी फैमिली से रो रहे थे उनको गले लगाया उनको समझाया और अपना दुख दूसरों को सहारा दे हमेशा मेरे भाई ऐसी थे सारे जुड़े लेटेस्ट से मुझे उनसे मिलने आए थे खुशियों की शादी थी तो उनको बधाई दी उन्होंने और मेरे कजन स्कोर एग्जाम्स के लिए विश किया और डॉक्टर के साथ मदद करते थे हमेशा एक गम के आंसू आंखों से कभी आंसू नहीं आया कभी नहीं पूछा कि ऐसा क्यों हुआ उनके साथ और उसके बाद उन्होंने मेरे पेरेंट्स का हाथ मेरे हाथों में दिया और कहा कि अब तुम्हें संभालना है आगे ले जाना है और उन्होंने उसके बाद डॉक्टर से नर्स उसको बुलाया जब अंतिम घड़ी आ चुकी थी सबको थैंक यू बोला उनको देखभाल करने के लिए आया सबको बुलाया भैया लोगों को जो भी लोग थे सब को बुलाया सबको थैंक यू बोला और फिर मेरे कजंस को विश किया और मेरे पिताजी सुनाने परमिशन लिया कि डायर डायर फ्टू को ले जाना है रब ने बोला जो तूने डब्लू आई हैव टू गो प्लीज रिलीज में जब एडमिन को परमिशन दिया तो उन्होंने मेरे पैरंट्स का हाथ मेरे हाथ में दिया और मैंने अपने भाई के बॉडी से एक-एक सांस पर जाते हुए देखा एडिटर फॉर माय ब्रदर पासिंग मेरे आंखों के सामने ही बोल सकता है और उसकी अभी वह भी मेरे सीन दिमाग में है कि सच्चे ग्रेट पर्सन पूरी सैलरी इन्होंने अपने जवानों में देदी हमेशा दूसरों के लिए जीते आए हैं मेरे भाई एंड वेरी प्राउड टू बी मेजर श्यामसुंदर सिस्टर एम रियली प्राउड

mere ki bhai tha major shyamsundar joint pan tree officer the aur agar gale ke 2 saal pehle aane ki rainaitis sex mein mukadma chal sakte mein unki posting hui thi aur wahan par ek surgical strike ke dauran pet ke operation ke pattern puri jab suno pet mein gir gayi thi wahan par kaafi slow kaam tha toh unhone puri raat unko bahar nikalne mein gawa di jiske wajah se unke jo alarms mein chala gaya jiske wajah se nivrit ho gaya lekin abhi mein army nahi thi jab tak nahi mila tab tak kaafi der ho chuki thi unki halat kaafi kharab ho chuki thi aur command hospital pune mein 4 mahine bataye toh us time par baki officer ko shaant bana diya unke saath game board game khela chat carrom board khela unhe hansaya purane din yaad dilaye unki family se ro rahe the unko gale lagaya unko samjhaya aur apna dukh dusro ko sahara de hamesha mere bhai aisi the saare jude latest se mujhe unse milne aaye the khushiyon ki shadi thi toh unko badhai di unhone aur mere cousin score exams ke liye wish kiya aur doctor ke saath madad karte the hamesha ek gum ke aasu aankho se kabhi aasu nahi aaya kabhi nahi poocha ki aisa kyon hua unke saath aur uske baad unhone mere parents ka hath mere hathon mein diya aur kaha ki ab tumhe sambhaalna hai aage le jana hai aur unhone uske baad doctor se nurse usko bulaya jab antim ghadi aa chuki thi sabko thank you bola unko dekhbhal karne ke liye aaya sabko bulaya bhaiya logo ko jo bhi log the sab ko bulaya sabko thank you bola aur phir mere kajans ko wish kiya aur mere pitaji sunaane permission liya ki dire dire ftu ko le jana hai rab ne bola jo tune w I have to go please release mein jab admin ko permission diya toh unhone mere Parents ka hath mere hath mein diya aur maine apne bhai ke body se ek ek saans par jaate hue dekha editor for my brother passing mere aankho ke saamne hi bol sakta hai aur uski abhi vaah bhi mere seen dimag mein hai ki sacche great person puri salary inhone apne jawano mein dedi hamesha dusro ke liye jeete aaye hain mere bhai and very proud to be major shyamsundar sister M really proud

मेरे कि भाई था मेजर श्यामसुंदर जॉइंट पैन ट्री ऑफिसर थे और अगर गेल के 2 साल पहले आने की राइ

Romanized Version
Likes  91  Dislikes    views  1418
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Anuraadha Uboweja

Empowerment Coach & Healer

1:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैंने अपनी आंखों के सामने अपने दादा जी का देहांत होते हुए देखा है और मैं उसे तुमसे कहना चाहती थी कि मुझे उन से कितना लगाव है और उन ने मुझे कितना प्रेम दिया कितना उत्साह दिया और बोलो जानू ने मेरे साथ व्यतीत किए वह बहुत ही खूबसूरत है और हमेशा मेरी यादों में रहेंगे मुझे अपने हाथों में खिला करते थे मुझे यह बात बहुत ज्यादा याद है पेट में बहुत छोटी थी जब उनका देहांत हुआ और मैं यह सब कुछ नहीं कह पाए और मैं हमेशा यह सोचती हूं कि काश नहीं सब कुछ नहीं बता पाती तो अगर आप ऐसे व्यक्ति के साथ हैं जिनका अंतिम गाड़ियां हैं तो आपने बताइए कि आप उनके बारे में कैसा महसूस करते हैं उनके साथ बिताया समय कैसा रहा कितना इन लम्हों ने आपके जीवन पर इंपैक्ट किया पॉजिटिवली आप ही उन्हें बताइए और अगर आप से कुछ भूल हुई हो कुछ ऐसी चीज आपने कह दिया हो तो उसके लिए आप माफी मांग ली जाए तो जब हमें दो चीजें करते हैं कौन को बता दें कि कितना अच्छा महसूस किया और वह सब चीज है जो हम नहीं हमें नहीं कहना चाहिए था वो कह दिया तो उसके लिए माफी मांगने तो वह भी हल्के हो कर जाएंगे और आप भी हमेशा जिंदगी भर हल्का महसूस करेंगे

maine apni aankho ke saamne apne dada ji ka dehant hote hue dekha hai aur main use tumse kehna chahti thi ki mujhe un se kitna lagav hai aur un ne mujhe kitna prem diya kitna utsaah diya aur bolo janu ne mere saath vyatit kiye vaah bahut hi khoobsurat hai aur hamesha meri yaadon mein rahenge mujhe apne hathon mein khila karte the mujhe yah baat bahut zyada yaad hai pet mein bahut choti thi jab unka dehant hua aur main yah sab kuch nahi keh paye aur main hamesha yah sochti hoon ki kash nahi sab kuch nahi bata pati toh agar aap aise vyakti ke saath hain jinka antim gadiyan hain toh aapne bataye ki aap unke bare mein kaisa mehsus karte hain unke saath bitaya samay kaisa raha kitna in lamhon ne aapke jeevan par impact kiya positively aap hi unhe bataye aur agar aap se kuch bhool hui ho kuch aisi cheez aapne keh diya ho toh uske liye aap maafi maang li jaaye toh jab hamein do cheezen karte hain kaun ko bata de ki kitna accha mehsus kiya aur vaah sab cheez hai jo hum nahi hamein nahi kehna chahiye tha vo keh diya toh uske liye maafi mangne toh vaah bhi halke ho kar jaenge aur aap bhi hamesha zindagi bhar halka mehsus karenge

मैंने अपनी आंखों के सामने अपने दादा जी का देहांत होते हुए देखा है और मैं उसे तुमसे कहना चा

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  374
WhatsApp_icon
play
user

Gopal Srivastava

Acupressure Acupuncture Sujok Therapist

1:46

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां मैंने देखा है अपने पिताजी को स्वर्गवास करते हुए जिस दिन महाभारत का अंतिम एपिसोड आया था अभी का मां का जीवन लीला समाप्त हुई थी उसके बाद में समझ में नहीं आया कि क्या हुआ कि मुझे ऐसी हालत मुझे लगा कि हां कुछ गड़बड़ है और मैंने अपने पड़ोसी को बताया उन्होंने देखा इतनी देर में डॉक्टर को लेकर आया तब मैंने उनको देखा यहां से मेरे जीवन का ऐसा हाल है मैंने अपने पिताजी के बाहर निकलते हुए अपनी आंखों से देखें मेरी आंखों के सामने आ जाता है उस दिन के बाद से मैं बहुत कम होता है ऐसा है जो मैंने दूध को 20 साल हो गए 20 साल में अभी मुझे बात याद नहीं आती कि मैं अंतिम समय में हादसा अपने आंखों से देखा है मौत कैसे आती है किस पर आ जाती है और कितने सेकंड लगते हैं उनके

haan maine dekha hai apne pitaji ko swargavas karte hue jis din mahabharat ka antim episode aaya tha abhi ka maa ka jeevan leela samapt hui thi uske baad mein samajh mein nahi aaya ki kya hua ki mujhe aisi halat mujhe laga ki haan kuch gadbad hai aur maine apne padosi ko bataya unhone dekha itni der mein doctor ko lekar aaya tab maine unko dekha yahan se mere jeevan ka aisa haal hai maine apne pitaji ke bahar nikalte hue apni aankho se dekhen meri aankho ke saamne aa jata hai us din ke baad se main bahut kam hota hai aisa hai jo maine doodh ko 20 saal ho gaye 20 saal mein abhi mujhe baat yaad nahi aati ki main antim samay mein hadsa apne aankho se dekha hai maut kaise aati hai kis par aa jaati hai aur kitne second lagte hain unke

हां मैंने देखा है अपने पिताजी को स्वर्गवास करते हुए जिस दिन महाभारत का अंतिम एपिसोड आया था

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  552
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मरने ध्यान तो दे तो कई बार देखा है अब कई परिस्थितियों में कुछ लोग राम-राम दिखाने लगते हैं कुछ लोग अपने पुरानी चित्रों को और मृत्यु से कुछ पहले बहुत ही कम लोग होते हैं को कुछ कहता हूं

marne dhyan toh de toh kai baar dekha hai ab kai paristhitiyon mein kuch log ram ram dikhane lagte hain kuch log apne purani chitron ko aur mrityu se kuch pehle bahut hi kam log hote hain ko kuch kahata hoon

मरने ध्यान तो दे तो कई बार देखा है अब कई परिस्थितियों में कुछ लोग राम-राम दिखाने लगते हैं

Romanized Version
Likes  155  Dislikes    views  1722
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!