भगवान किसे कहते हैं उनका कितने स्वरूप हैं?...


play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान किसे कहते हैं उनके कितने स्वरूप हैं भगवान कोई चीज नहीं है ना ही भगवान का कोई स्वरूप है आप जिस स्वरुप में भगवान को मानते हैं वही भगवान का स्वरूप है भगवान का है आप उसे ईश्वर का है आप उसे परमात्मा का है जो भी है दुनिया को चलाने वाली शक्ति वह सिर्फ सिर्फ एक सकती है उससे आप जिस स्वरुप में देखना चाहेंगे उस स्वरूप में आपको अनुभव होगी यह कोई प्रैक्टिकली चीज नहीं है इसको आप देख नहीं सकते यह चीज सिर्फ अनुभव करने की है और अनुभव करने के लिए आपको बहुत ही फोकस करना पड़ेगा बहुत ही कंसंट्रेट करना पड़ेगा और बहुत श्रद्धा भक्ति और विश्वास की चीजें आप इस चीज पर विश्वास करेंगे अब श्रद्धा से करेंगे भक्ति से करेंगे आपको जिस स्वरुप में भगवान को देखना स्वरूप में भगवान आपको दिखाई देंगे लेकिन उसके लिए दिमाग काम नहीं दिल से काम करना पड़ेगा भगवान दिमाग वालों दिमाग से भगवान को हासिल नहीं किया जा सकता है भगवान को हासिल करना है तो प्रेम भाव से श्रद्धा से भक्ति से हासिल किया जा सकता है अब जिस भगवान का कोई स्वरूप नहीं है जिस स्वरूप में आप पूछते हो उसी स्वरूप में भगवान है कोई राम को पूछता कोई कृष्ण को पूछता है कोई राधे को पूछता को हनुमान जी को पूछता है जितने जितने चीज 33 करोड़ हिंदू हिंदू धर्म में 33 करो स्वरूप दिए गए 33 करोड़ प्रकार के भगवान देवी देवता माने गए इसलिए ईश्वर एक है उसका कोई स्वरूप नहीं है जिस स्वरूप में आपको अच्छे लगे उस स्वरूप में आप पूछिए उस स्वरूप में आप मानिए और उसी स्वरूप में आपको दर्शन होंगे धन्यवाद जय सियाराम

bhagwan kise kehte hain unke kitne swaroop hain bhagwan koi cheez nahi hai na hi bhagwan ka koi swaroop hai aap jis swarup me bhagwan ko maante hain wahi bhagwan ka swaroop hai bhagwan ka hai aap use ishwar ka hai aap use paramatma ka hai jo bhi hai duniya ko chalane wali shakti vaah sirf sirf ek sakti hai usse aap jis swarup me dekhna chahenge us swaroop me aapko anubhav hogi yah koi practically cheez nahi hai isko aap dekh nahi sakte yah cheez sirf anubhav karne ki hai aur anubhav karne ke liye aapko bahut hi focus karna padega bahut hi concentrate karna padega aur bahut shraddha bhakti aur vishwas ki cheezen aap is cheez par vishwas karenge ab shraddha se karenge bhakti se karenge aapko jis swarup me bhagwan ko dekhna swaroop me bhagwan aapko dikhai denge lekin uske liye dimag kaam nahi dil se kaam karna padega bhagwan dimag walon dimag se bhagwan ko hasil nahi kiya ja sakta hai bhagwan ko hasil karna hai toh prem bhav se shraddha se bhakti se hasil kiya ja sakta hai ab jis bhagwan ka koi swaroop nahi hai jis swaroop me aap poochhte ho usi swaroop me bhagwan hai koi ram ko poochta koi krishna ko poochta hai koi radhe ko poochta ko hanuman ji ko poochta hai jitne jitne cheez 33 crore hindu hindu dharm me 33 karo swaroop diye gaye 33 crore prakar ke bhagwan devi devta maane gaye isliye ishwar ek hai uska koi swaroop nahi hai jis swaroop me aapko acche lage us swaroop me aap puchiye us swaroop me aap maniye aur usi swaroop me aapko darshan honge dhanyavad jai siyaram

भगवान किसे कहते हैं उनके कितने स्वरूप हैं भगवान कोई चीज नहीं है ना ही भगवान का कोई स्वर

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  212
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!