जीवन में सफलता पाने तो क्या त्यागो सक्सेस के?...


play
user

Shipra Ranjan

Life Coach

0:17

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आकाश वाले की जीवन में सफलता पाने को क्या-क्या हो सकते इसकी अधिकृत के लिए कोई चीज जानना चाहते हैं तो अपने अलग से को त्याग दीजिए जब तक आप मेहनत नहीं करेंगे सही तरीके से प्रयास नहीं करेंगे तब तक आप लाइफ में सक्सेस नहीं प्राप्त कर पाएंगे आपका दिन शुभ रहे धन्यवाद

akash waale ki jeevan me safalta paane ko kya kya ho sakte iski adhikrit ke liye koi cheez janana chahte hain toh apne alag se ko tyag dijiye jab tak aap mehnat nahi karenge sahi tarike se prayas nahi karenge tab tak aap life me success nahi prapt kar payenge aapka din shubha rahe dhanyavad

आकाश वाले की जीवन में सफलता पाने को क्या-क्या हो सकते इसकी अधिकृत के लिए कोई चीज जानना चाह

Romanized Version
Likes  621  Dislikes    views  4499
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Harender Kumar Yadav

Career Counsellor.

0:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन में सफलता पाने में क्या-क्या किधर की भावना 120 की भावना

jeevan me safalta paane me kya kya kidhar ki bhavna 120 ki bhavna

जीवन में सफलता पाने में क्या-क्या किधर की भावना 120 की भावना

Romanized Version
Likes  451  Dislikes    views  5092
WhatsApp_icon
user

Dr.sushma Jaiswal

Obstetrician N Gynaecologist

10:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो मैं डॉक्टर सुषमा जायसवाल स्त्री रोग विशेषज्ञ आपका सवाल है कि जीवन में सफलता पानी हो तो क्या-क्या को की सक्सेस मिल जाए जहां तक मुझे समझ में आ रहा है यही आप का सवाल है तो सवाल बहुत अच्छा है आपका और मैं इसका जवाब जरूर देना चाहूंगी और मेरा जवाब यह कि मैं आपको यहां पर की स्टोरी सुनाना चाहूंगी कि जो सुकरात थे उनके सुखराज जी जो हमारे थे सुकरात का नाम आपने सुना ही होगा सुखराज जी जो थे उन्होंने अपने एक शिष्य ने उनके उनसे पूछा कि असफलता का क्या रहस्य है शायद मैं गलत ना अच्छे से यह छोरी नाच ना पाऊं तो आप इस स्टोरी को यूट्यूब पर या गूगल पर सर्च करके जरुर देखेगा तो सुकरात ने अपने उनके उससे पूछो पूछा सुकरात जीते की असफलता का क्या रहस्य है तो उन्होंने उस अपने शिष्य को अगले दिन मॉर्निंग में सुबह 5:00 बजे बुलाया और और नदी में ले गए और नदी मेरा दोनों लोग नदी के बीचों-बीच में ले गए और फिर उन्होंने अपने शिष्य का जो सर होता है वह नदी के पानी के अंदर डूबा दिया और उन्होंने इसको दो-तीन मिनट तक जो है छुपा कर रखा नदी के अंदर और बहुत छटपटा ने लगा और दो-तीन मिनट बाद जो है उसको उन्होंने मार्च निकाला तो उसका जो फेस था चेहरा था वह पानी के अंदर कुछ तरीके से दब आएंगे तो आप समझ रहे किसका चेहरा नीला पड़ने लगा था तो अब उनके शिष्य ने पूछा हमसे कि आपने आपसे तो मैंने सिर्फ सफलता का रहस्य पूछा था तो आपने मेरे साथ ऐसा क्यों किया तब क्या कहते हैं कि जब मैं तुम्हें पानी के अंदर दबा के रख कर रखे हुए था तो तुम्हें क्या महसूस हो रहा था उसका तब उसने जवाब दिया कि मुझे इतनी आती वह इच्छा हो रही थी कि मैं किसी भी तरीके से छटपटा रहा था मैं बस मुझे हवा की जरूरत थी मुझे सांस लेनी थी मुझे सांस की जरूरत थी ना समझने में अगर मैं नहीं समझा पा रही हूं तो आप इसको जरूर से सर्च करके जरुर देखेगा ना तो आपको क्या चीज की आवश्यकता थी उसने उसने जवाब दिया मुझे हवा चाहिए तो उन्होंने कहा बस यही है सफलता का रहस्य जब आपको इस तरीके की इच्छा होगी अपने टारगेट को अचीव करने की एक सफलता पाने की जो आपको इस तरीके की इच्छा होगी तो तभी इंसान जो है कुछ बड़ा अच्छी करता है अपनी जिंदगी में कुछ जो बनना चाहता है वह अपना अचीव कर पाता इसी इसी सोच के साथ है ना कि मतलब उसको ऐसा लगे कि जब तक कुछ भी सॉल्व नहीं कर लेता तब तक वह जो है मतलब भी नहीं मिल रहा इस तरीके की जब आपके अंदर जोगी मतलब इस तरीके की आपको कुछ कर गुजरने की फीलिंग होगी उस दिन अपने आप आपको सफलता मिल जाएगी किसी भी चीज को प्राप्त करने की जब आपको इतनी तीव्र इच्छा होगी क्योंकि आपको इमेजिन कर सकते हैं कि अगर हम 2 मिनट के लिए भी किसी का सर पानी के अंदर डूबा कर रखें अच्छे से दो-तीन मिनट तक तो वह किस चीज के लक्षण पटाएगा साला के लिए तो उस समय क्या कंडीशन होगी आपकी तो उसी तरीके से जब तक आपको आपको टारगेट नहीं मिलता है तो उसी तरीके से जवाब मेहनत करेंगे यह सोच कर कि आमिर को इतनी ज्यादा प्रॉब्लम है अगर मैं यह टारगेट नहीं है अपने अचीव कर पा रहा हूं तो आपको चीजें आपकी स्वयं रास्ता बनता जाएगा है ना तो यहां पर डिजाइन शिक्षा शिक्षा शक्ति के होना बहुत ज्यादा जरूरी है तभी तो है जीवन में एक का एवरेज मिडल क्लास फैमिली का इंसान जो है सफलता प्राप्त कर सकता है क्योंकि कई सारे लोग होते हैं जो अच्छी फैमिली में पैदा होते हैं फैमिली में पैदा होते हैं तो उनके साथ इतना इतना फाइटिंग नहीं होता है कंपेयर टू मिडिल क्लास फैमिली के लिए तो क्लास के लोगों को और मिडिल क्लास के लोगों को इसी इच्छा के साथ इस इच्छाशक्ति के साथ मेहनत करनी पड़ती है कुछ भी अच्छी करने के लिए मैं यह नहीं कह रही हूं कि हार क्लास फैमिली से कोई बिलॉन्ग करता है तो उसको नहीं मेहनत करनी पड़ती है उसको भी मेहनत करनी पड़ती है उतना ही मेहनत करनी पड़ती है जितना कि एक मैडम का सब लगा क्लास को मेहनत करनी पड़ती है लेकिन लेकिन सिचुएशन अलग अलग होती है जैसे कि अगर किसी की सफलता का पैमाना जैसे दो बच्चे हैं मैं अपनी डिपार्टमेंट का बता रही हूं एक बच्चा जो है एलेन कोटा में जाकर कोचिंग करता है एक बच्चा जो है वह गांव से बिलॉन्ग करता है कई बार छोटे शहर से बिलॉन्ग करता है स्पेशली लड़कियां तो जो है छोटे गांव से है या शहर से कोचिंग करने के लिए बाहर नहीं जा सकती है एलेन कोटा वाले ने तैयारी करके एम्स का सिलेक्शन ले लिया लेकिन उस छोटे से गांव में छोटे से शहर के बच्चे ने तैयारी करके एक्शन नहीं हुआ उसका लेकिन आप पीएमटी में सिलेक्शन हो गया और उसको अमिताभ के थ्रू उसको किसी आर यू पी का कॉलेज मिल गया ऑल इंडिया कितनी ऑल इंडिया का कोई कॉलेज मुझे लेकिन एम्स नहीं मिला तो अब किसको उसमें उस समय अगर आप किसको ज्यादा कामयाब मानेंगे आ मेरी नजर में तो मैं उस छोटे से शहर में रहने वाली लड़की को या लड़के को जिसने बिना कोचिंग के जो है भले इंस नहीं निकाला लेकिन मैं और कोई कॉलेज निकाल लिया तो मैं तो उसको ज्यादा सक्सेसफुल मांगू मानूंगी तो सफलता का पैमाना अगर नापना है तो इस चीज से नजरिया से नापा जा सकता है कि कौन कितनी और किस लेवल की लड़ाई लड़कर आया है ना जरूरी नहीं है कि हर कोई रेस में फर्स्ट है लेकिन वही विजेता है जो फर्स्ट आया है जरूरी नहीं है ऐसा हो सकता है जो सेकंड थर्ड आया है उसको वही अचीव करने के लिए कितनी लड़ाई लड़नी हो यह इस चीज को इस चीज से सफलता का पैमाना नापा जा सकता है ना तो और दूसरों के ना अपने से सफलता की हां 1 साल इतना सफल हुए खुद के खुद के लाभ होना चाहिए कि मुझे मैं इस चीज से सटे स्पाइडर तो हां मैं हूं सफल अगर मैं इस चीज से सेटिस्फाइड नहीं हूं तो मैं हूं असफल मने कि ऐसा नहीं है कि जो लोग आईएस ऑफिसर बन गए हैं और जो लोग बॉक्सर्स बन गए हैं अच्छे से अपना सब कुछ अजीब कर लिए हैं सिर्फ वही लोग खुश हैं ऐसे जो और यह भैया वही लोग अपने आप को यह समझे कि हां वही सक्सेसफुल है और कोई सक्सेसफुल है ही नहीं कोई क्राइटेरिया नहीं है सफलता का कठेरिया हमारी सोच पर निर्भर करता है अगर आप जहां हैं जैसे हैं अगर आपके मन में यह है कि हां मैं सेटिस्फाइड हूं मेरे लिए इतना ही बहुत है मैं संतोष में हूं संतोष है मुझे टॉप सक्सेसफुल है और वहीं अगर कोई आईएएस ऑफिसर है कोई डॉक्टर है और वह यह सोचे कि नहीं मेरे लिए इतना इतना भी कम है मैं अभी भी असंतोष हूं तो वह अपनी नजरों में सक्सेसफुल नहीं ना है उसको और भी चाहिए तो सफलता का पैमाना हर किसी के लिए अपना एक अलग अलग लेवल पर होता है तो आप खुद को एनालाइज करें कि मैं और जीवन में सफल होने के लिए आ मुझे अपना टारगेट अचीव करना है तो मुझे जो है इस तरीके का सैक्रिफाइस करना पड़ेगा कामयाबी जो है तभी मिलती है जब हम अपनी बड़े-बड़े सैक्रिफाइस करते हैं आई मीन सैक्रिफाइस इसका मतलब यही है यहां पर सफाई पेश करते हैं जैसे कि जो मैंने आपको सुकरात वाली कहानी सुनाई उसका हानि से आप सीखे समझें और उस को आप जरूर देखें और पढ़े उससे आपको खुद पता चल जाएगा स्पेशल के लिए तो भी मेरा यही है आज जो नए-नए बच्चे हैं उनके लिए तो मेरा यही है यही कहना है कि आप सुकरात की कहानी से जरूर सीखे और उनको इस कहानी को जरूर फॉलो करें इसको अपने जीवन पर यह कोई क्राइटेरिया नहीं है कि आप लोग क्लास के तो आप कॉल नहीं कर सकते आप मिडिल जा सके तो फॉलो नहीं कर सकते आप हायर क्लास के तो आप कॉलोनी यह सारे सारे बच्चों पर यह रूल रेगुलेशन लागू होता है या आपको यह करना है तो करना है रास्ते अपने आप खुद बनाई है किसी को बने बनाए रास्ते मिलते हैं किसी अपने रास्ते खुद बनाने पड़ते हैं तो लेकिन ऐसा नहीं है अगर आप जो है एक कदम चलते हैं तो भगवान आपके लिए रास्ते खुलते जाता है कुर्ते जाता है धीरे-धीरे है ना बस आपको अपनी और जो टारगेट को अचीव करने के लिए पूरे विश्वास के साथ पूरे संकल्प के साथ कड़ी मेहनत करते हुए आगे बढ़ना है ना उसे कभी भी निराश नहीं होना ही है कि एक बार असफल हो गए तो निराशा में ऐसा नहीं है बार-बार उसी की तरफ प्रयास करना है जब आपको लगने लगे कि हां बस मैं इससे ज्यादा प्रयास नहीं कर सकता तो ठीक है अब ना कोई दूसरा रास्ता चुने लेकिन हारना नहीं है जिंदगी में जिंदगी में जो इस जीवन को खुशहाल तरीके से पूरी लाइफ अच्छे से जीता है वह भी इंसान कामयाब है ठीक है नशा है मेरा मैसेज आपको अच्छा लगा होगा और आपके लिए

hello main doctor sushma jaiswal stree rog visheshagya aapka sawaal hai ki jeevan me safalta paani ho toh kya kya ko ki success mil jaaye jaha tak mujhe samajh me aa raha hai yahi aap ka sawaal hai toh sawaal bahut accha hai aapka aur main iska jawab zaroor dena chahungi aur mera jawab yah ki main aapko yahan par ki story sunana chahungi ki jo sukarat the unke sukhraj ji jo hamare the sukarat ka naam aapne suna hi hoga sukhraj ji jo the unhone apne ek shishya ne unke unse poocha ki asafaltaa ka kya rahasya hai shayad main galat na acche se yah chhori nach na paun toh aap is story ko youtube par ya google par search karke zaroor dekhega toh sukarat ne apne unke usse pucho poocha sukarat jeete ki asafaltaa ka kya rahasya hai toh unhone us apne shishya ko agle din morning me subah 5 00 baje bulaya aur aur nadi me le gaye aur nadi mera dono log nadi ke bichon beech me le gaye aur phir unhone apne shishya ka jo sir hota hai vaah nadi ke paani ke andar dooba diya aur unhone isko do teen minute tak jo hai chupa kar rakha nadi ke andar aur bahut chatpata ne laga aur do teen minute baad jo hai usko unhone march nikaala toh uska jo face tha chehra tha vaah paani ke andar kuch tarike se dab aayenge toh aap samajh rahe kiska chehra neela padane laga tha toh ab unke shishya ne poocha humse ki aapne aapse toh maine sirf safalta ka rahasya poocha tha toh aapne mere saath aisa kyon kiya tab kya kehte hain ki jab main tumhe paani ke andar daba ke rakh kar rakhe hue tha toh tumhe kya mehsus ho raha tha uska tab usne jawab diya ki mujhe itni aati vaah iccha ho rahi thi ki main kisi bhi tarike se chatpata raha tha main bus mujhe hawa ki zarurat thi mujhe saans leni thi mujhe saans ki zarurat thi na samjhne me agar main nahi samjha paa rahi hoon toh aap isko zaroor se search karke zaroor dekhega na toh aapko kya cheez ki avashyakta thi usne usne jawab diya mujhe hawa chahiye toh unhone kaha bus yahi hai safalta ka rahasya jab aapko is tarike ki iccha hogi apne target ko achieve karne ki ek safalta paane ki jo aapko is tarike ki iccha hogi toh tabhi insaan jo hai kuch bada achi karta hai apni zindagi me kuch jo banna chahta hai vaah apna achieve kar pata isi isi soch ke saath hai na ki matlab usko aisa lage ki jab tak kuch bhi solve nahi kar leta tab tak vaah jo hai matlab bhi nahi mil raha is tarike ki jab aapke andar jogi matlab is tarike ki aapko kuch kar guzarne ki feeling hogi us din apne aap aapko safalta mil jayegi kisi bhi cheez ko prapt karne ki jab aapko itni tivra iccha hogi kyonki aapko imejin kar sakte hain ki agar hum 2 minute ke liye bhi kisi ka sir paani ke andar dooba kar rakhen acche se do teen minute tak toh vaah kis cheez ke lakshan patayga sala ke liye toh us samay kya condition hogi aapki toh usi tarike se jab tak aapko aapko target nahi milta hai toh usi tarike se jawab mehnat karenge yah soch kar ki aamir ko itni zyada problem hai agar main yah target nahi hai apne achieve kar paa raha hoon toh aapko cheezen aapki swayam rasta banta jaega hai na toh yahan par design shiksha shiksha shakti ke hona bahut zyada zaroori hai tabhi toh hai jeevan me ek ka average middle class family ka insaan jo hai safalta prapt kar sakta hai kyonki kai saare log hote hain jo achi family me paida hote hain family me paida hote hain toh unke saath itna itna fighting nahi hota hai compare to middle class family ke liye toh class ke logo ko aur middle class ke logo ko isi iccha ke saath is ichchhaashakti ke saath mehnat karni padti hai kuch bhi achi karne ke liye main yah nahi keh rahi hoon ki haar class family se koi Belong karta hai toh usko nahi mehnat karni padti hai usko bhi mehnat karni padti hai utana hi mehnat karni padti hai jitna ki ek madam ka sab laga class ko mehnat karni padti hai lekin lekin situation alag alag hoti hai jaise ki agar kisi ki safalta ka paimaana jaise do bacche hain main apni department ka bata rahi hoon ek baccha jo hai Allen quota me jaakar coaching karta hai ek baccha jo hai vaah gaon se Belong karta hai kai baar chote shehar se Belong karta hai speshli ladkiya toh jo hai chote gaon se hai ya shehar se coaching karne ke liye bahar nahi ja sakti hai Allen quota waale ne taiyari karke aiims ka selection le liya lekin us chote se gaon me chote se shehar ke bacche ne taiyari karke action nahi hua uska lekin aap pmt me selection ho gaya aur usko amitabh ke through usko kisi R you p ka college mil gaya all india kitni all india ka koi college mujhe lekin aiims nahi mila toh ab kisko usme us samay agar aap kisko zyada kamyab manenge aa meri nazar me toh main us chote se shehar me rehne wali ladki ko ya ladke ko jisne bina coaching ke jo hai bhale ins nahi nikaala lekin main aur koi college nikaal liya toh main toh usko zyada successful maangu manungi toh safalta ka paimaana agar napna hai toh is cheez se najariya se napa ja sakta hai ki kaun kitni aur kis level ki ladai ladkar aaya hai na zaroori nahi hai ki har koi race me first hai lekin wahi vijeta hai jo first aaya hai zaroori nahi hai aisa ho sakta hai jo second third aaya hai usko wahi achieve karne ke liye kitni ladai ladani ho yah is cheez ko is cheez se safalta ka paimaana napa ja sakta hai na toh aur dusro ke na apne se safalta ki haan 1 saal itna safal hue khud ke khud ke labh hona chahiye ki mujhe main is cheez se sate SPYDER toh haan main hoon safal agar main is cheez se setisfaid nahi hoon toh main hoon asafal mane ki aisa nahi hai ki jo log ias officer ban gaye hain aur jo log boxers ban gaye hain acche se apna sab kuch ajib kar liye hain sirf wahi log khush hain aise jo aur yah bhaiya wahi log apne aap ko yah samjhe ki haan wahi successful hai aur koi successful hai hi nahi koi criteria nahi hai safalta ka katheriya hamari soch par nirbhar karta hai agar aap jaha hain jaise hain agar aapke man me yah hai ki haan main setisfaid hoon mere liye itna hi bahut hai main santosh me hoon santosh hai mujhe top successful hai aur wahi agar koi IAS officer hai koi doctor hai aur vaah yah soche ki nahi mere liye itna itna bhi kam hai main abhi bhi asantosh hoon toh vaah apni nazro me successful nahi na hai usko aur bhi chahiye toh safalta ka paimaana har kisi ke liye apna ek alag alag level par hota hai toh aap khud ko analyse kare ki main aur jeevan me safal hone ke liye aa mujhe apna target achieve karna hai toh mujhe jo hai is tarike ka sacrifice karna padega kamyabi jo hai tabhi milti hai jab hum apni bade bade sacrifice karte hain I meen sacrifice iska matlab yahi hai yahan par safaai pesh karte hain jaise ki jo maine aapko sukarat wali kahani sunayi uska hani se aap sikhe samajhe aur us ko aap zaroor dekhen aur padhe usse aapko khud pata chal jaega special ke liye toh bhi mera yahi hai aaj jo naye naye bacche hain unke liye toh mera yahi hai yahi kehna hai ki aap sukarat ki kahani se zaroor sikhe aur unko is kahani ko zaroor follow kare isko apne jeevan par yah koi criteria nahi hai ki aap log class ke toh aap call nahi kar sakte aap middle ja sake toh follow nahi kar sakte aap hire class ke toh aap colony yah saare saare baccho par yah rule regulation laagu hota hai ya aapko yah karna hai toh karna hai raste apne aap khud banai hai kisi ko bane banaye raste milte hain kisi apne raste khud banane padate hain toh lekin aisa nahi hai agar aap jo hai ek kadam chalte hain toh bhagwan aapke liye raste khulte jata hai kurte jata hai dhire dhire hai na bus aapko apni aur jo target ko achieve karne ke liye poore vishwas ke saath poore sankalp ke saath kadi mehnat karte hue aage badhana hai na use kabhi bhi nirash nahi hona hi hai ki ek baar asafal ho gaye toh nirasha me aisa nahi hai baar baar usi ki taraf prayas karna hai jab aapko lagne lage ki haan bus main isse zyada prayas nahi kar sakta toh theek hai ab na koi doosra rasta chune lekin harana nahi hai zindagi me zindagi me jo is jeevan ko khushahal tarike se puri life acche se jita hai vaah bhi insaan kamyab hai theek hai nasha hai mera massage aapko accha laga hoga aur aapke liye

हेलो मैं डॉक्टर सुषमा जायसवाल स्त्री रोग विशेषज्ञ आपका सवाल है कि जीवन में सफलता पानी हो त

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  91
WhatsApp_icon
play
user
0:44

Likes  206  Dislikes    views  1990
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!