हमारे यहाँ प्रदूषण कितना है उसके लिए सरकार क्या सुविधा उपलब्ध करा रही है?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

0:55
Play

Likes  547  Dislikes    views  7217
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

ज्योतिषी झा मेरठ (Pt. K L Shashtri)

Astrologer Jhaमेरठ,झंझारपुर और मुम्बई

0:55
Play

Likes  67  Dislikes    views  2247
WhatsApp_icon
play
user

Geet Awadhiya

Aspiring Software Developer

1:00

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देश में जो प्रदूषण हो रहा है वह काफी जाता है मुख्य तौर पर आपको जब बड़ी सतीश को देखते हैं उन जगहों पर क्योंकि जितनी ज्यादा गाड़ियां चल रही है उसके कारण और जितनी फैक्ट्री से इंडस्ट्रीज वहां पर उसके कारण काफी प्रदूषण हो रहा है क्या दिल्ली की बात करें दिल्ली का जो प्रदूषण स्तर है वह बहुत ही ज्यादा हो चुका है सरकार कह तो रही है कि वह कोशिश कर रहे हैं लेकिन हमें देखकर नहीं लग रहा है कि सरकार द्वारा कोई कोशिश की जा रही है क्योंकि किसी भी चीज में बदलाव नहीं आया है जो चीज जैसी थी वैसी ही है जैसे कि इस दीपावली में पटाखों को टाइम दिया गया था कि वह 10:00 बजे के बाद नहीं पड़ जाएंगे लेकिन हम सभी है मेरे ख्याल से जानते हैं कि हमें रात के 2:00 बजे 3:00 बजे 4:00 बजे तक भी पटाखे फूटने की आवाज आई थी यही बात है कि सरकार निर्देश तो दे देती है लेकिन उन निर्दोषों का कोई पालन नहीं करता है जिसकी वजह से हमारा देश खतरे में है

desh mein jo pradushan ho raha hai vaah kaafi jata hai mukhya taur par aapko jab badi satish ko dekhte hain un jagaho par kyonki jitni zyada gadiyan chal rahi hai uske karan aur jitni factory se industries wahan par uske karan kaafi pradushan ho raha hai kya delhi ki baat kare delhi ka jo pradushan sthar hai vaah bahut hi zyada ho chuka hai sarkar keh toh rahi hai ki vaah koshish kar rahe hain lekin hamein dekhkar nahi lag raha hai ki sarkar dwara koi koshish ki ja rahi hai kyonki kisi bhi cheez mein badlav nahi aaya hai jo cheez jaisi thi vaisi hi hai jaise ki is deepawali mein patakhon ko time diya gaya tha ki vaah 10 00 baje ke baad nahi pad jaenge lekin hum sabhi hai mere khayal se jante hain ki hamein raat ke 2 00 baje 3 00 baje 4 00 baje tak bhi patakhe futane ki awaaz I thi yahi baat hai ki sarkar nirdesh toh de deti hai lekin un nirdoshon ka koi palan nahi karta hai jiski wajah se hamara desh khatre mein hai

देश में जो प्रदूषण हो रहा है वह काफी जाता है मुख्य तौर पर आपको जब बड़ी सतीश को देखते हैं उ

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  304
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!