क्या खाली स्टेडियम में खेल फिर से शुरू होना चाहिए?...


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी खाली स्टेडियम में खेल फिर से शुरू होना चाहिए बिल्कुल होना चाहिए दोस्त क्योंकि एक बार खेल शुरू होगा तो लोगों को थोड़ा सा मनोरंजन भी होगा टीवी पर दिखेगा भी तो कई सारा चीज शुरू हो जाएगा रोजगार भी मिलेगा और जो प्लेयर्स है उनका हौसला भी अप्लाई होता रहेगा फिटनेस भी बना रहेगा नहीं तो वही खेल शुरू ही नहीं होगा तो फिर खेलना भूल जाए उनकी जो क्वालिटी है वह डाउन हो जाएगी तो मेरा मानना यह है कि खाली स्टेडियम में सुरक्षा का ध्यान रखते हुए खेल को शुरू करना चाहिए

ji khaali stadium me khel phir se shuru hona chahiye bilkul hona chahiye dost kyonki ek baar khel shuru hoga toh logo ko thoda sa manoranjan bhi hoga TV par dikhega bhi toh kai saara cheez shuru ho jaega rojgar bhi milega aur jo players hai unka hausla bhi apply hota rahega fitness bhi bana rahega nahi toh wahi khel shuru hi nahi hoga toh phir khelna bhool jaaye unki jo quality hai vaah down ho jayegi toh mera manana yah hai ki khaali stadium me suraksha ka dhyan rakhte hue khel ko shuru karna chahiye

जी खाली स्टेडियम में खेल फिर से शुरू होना चाहिए बिल्कुल होना चाहिए दोस्त क्योंकि एक बार खे

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  120
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

VIJAY RAJ YADAV

Sports Teacher

3:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार जय हिंद जय भारत मैं विजय डिपार्टमेंट ऑफ फिजिकल एजुकेशन जैसा कि आज का सवाल क्या खाली स्टेडियम में खेल फिर से शुरू होना चाहिए बिल्कुल शुरू होना चाहिए किसी कार्य को स्थगित कर देना उधर रोक देना एक अलग बात है और किसी कार्य को कुछ विशेष नियम और कानून के अंतर्गत शुरू करना या एक अलग बात है जहां तक इस स्टेडियम को खाली करने का प्रश्न है तो यदि स्टेडियम पूरी तरीके से भरा रहे और फिर उसमें मैच यह तो बहुत बड़ी अपॉर्चुनिटी ऑफ बहुत बड़ी चीज है बट इस समय जहां करो ना वायरस फैला हुआ है और एक महामारी के रूप में इतनी बड़ी दिक्कत है और समस्याएं परेशानियां आई हूं उस क्रम में पूर्व तक खेल को रोक देना वह भी इतने लंबे समय तक रोके रखना क्या हमारे हिसाब से तो कहीं से भी अच्छा नहीं है क्योंकि खिलाड़ियों का शरीर एक लंबे समय तक खेलते हुए इसका आदिति हो जाता है और जब उनका शरीर फिजिकल एक्टिविटीज नहीं पाता है तो उनके शरीर में ढेर सारी समस्याएं पैदा होने लगती तो उनके हितों को ध्यान में रखते हुए भी यह बहुत जरूरी है कि खेल प्रारंभ हो जिससे उनका शारीरिक मानसिक और बौद्धिक स्तर बना रहे और यदि यह कार्य करने के लिए स्टेडियम को खाली करना पड़े तो मेरे हिसाब से यह कोई बुरी बात नहीं है यदि स्टेडियम पूरी तरीके से भरा हुआ रहे उसका में यदि इस खेल को प्रारंभ करने के बारे में सोचें तो यह बहुत कठिन और लंबा हो जाएगा उससे कहीं बैटर और अच्छा है कि स्टेडियम खाली रखते हुए खेल को प्रारंभ किया जाए और उचित दूरी और पूरी रिकॉर्डिंग के साथ खेल को जारी रखें जिससे हमारा यह खेल संसार में लगातार अपनी प्रगति पर बना रहे और छिलका विकास दिन प्रतिदिन लगाता क्रमवार चलता ही रहे इसके लिए मैं बिल्कुल निष्पक्ष में हूं कि खेल प्रारंभ हो चाहे वह लोगों को स्टेडियम में ना जाकर अपने टीवी स्क्रीन पर बैठकर मैच देखना हो तो इसमें कोई बुरी बात नहीं है तो इसके लिए मैं बिल्कुल सहमत हूं कि खेल खाली स्टेडियम में शुरू हो और इसे प्रारंभ जल्द से जल्द किया जाए थैंक्यू जय हिंद जय भारत मैं विजय डिपार्टमेंट ऑफ फिजिकल एजुकेशन

namaskar jai hind jai bharat main vijay department of physical education jaisa ki aaj ka sawaal kya khaali stadium me khel phir se shuru hona chahiye bilkul shuru hona chahiye kisi karya ko sthagit kar dena udhar rok dena ek alag baat hai aur kisi karya ko kuch vishesh niyam aur kanoon ke antargat shuru karna ya ek alag baat hai jaha tak is stadium ko khaali karne ka prashna hai toh yadi stadium puri tarike se bhara rahe aur phir usme match yah toh bahut badi opportunity of bahut badi cheez hai but is samay jaha karo na virus faila hua hai aur ek mahamari ke roop me itni badi dikkat hai aur samasyaen pareshaniya I hoon us kram me purv tak khel ko rok dena vaah bhi itne lambe samay tak roke rakhna kya hamare hisab se toh kahin se bhi accha nahi hai kyonki khiladiyon ka sharir ek lambe samay tak khelte hue iska aditi ho jata hai aur jab unka sharir physical activities nahi pata hai toh unke sharir me dher saari samasyaen paida hone lagti toh unke hiton ko dhyan me rakhte hue bhi yah bahut zaroori hai ki khel prarambh ho jisse unka sharirik mansik aur baudhik sthar bana rahe aur yadi yah karya karne ke liye stadium ko khaali karna pade toh mere hisab se yah koi buri baat nahi hai yadi stadium puri tarike se bhara hua rahe uska me yadi is khel ko prarambh karne ke bare me sochen toh yah bahut kathin aur lamba ho jaega usse kahin better aur accha hai ki stadium khaali rakhte hue khel ko prarambh kiya jaaye aur uchit doori aur puri recording ke saath khel ko jaari rakhen jisse hamara yah khel sansar me lagatar apni pragati par bana rahe aur chhilka vikas din pratidin lagaata kramavar chalta hi rahe iske liye main bilkul nishpaksh me hoon ki khel prarambh ho chahen vaah logo ko stadium me na jaakar apne TV screen par baithkar match dekhna ho toh isme koi buri baat nahi hai toh iske liye main bilkul sahmat hoon ki khel khaali stadium me shuru ho aur ise prarambh jald se jald kiya jaaye thainkyu jai hind jai bharat main vijay department of physical education

नमस्कार जय हिंद जय भारत मैं विजय डिपार्टमेंट ऑफ फिजिकल एजुकेशन जैसा कि आज का सवाल क्या खाल

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  110
WhatsApp_icon
user

Jyotsna

Homemaker

0:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां खाली स्टेडियम में खेल से शुरू होना चाहिए एक तो इतने महीनों से घर में बैठे-बैठे प्रैक्टिस भी जाए की छूट रही होगी कि नालियों की उम्र में उत्साह भर जाएगा इतने दिनों के बाद उनको खेलने का मौका मिलेगा दूसरा व्यक्तियों का जनता का भी मनोरंजन हो जाएगा टीवी पर जो है बैठ के घर में दर्शन मनोरंजन नहीं है वह भी लॉक डाउनलोड बोर हो रहे हैं घर में बैठे-बैठे आरती से बात है स्पॉन्सर मिलेंगे थोड़ा सा टीवी चैनल को भी कमाई हो जाएगी खेल शुरू हो जाना चाहिए

haan khaali stadium me khel se shuru hona chahiye ek toh itne mahinon se ghar me baithe baithe practice bhi jaaye ki chhut rahi hogi ki naliyon ki umar me utsaah bhar jaega itne dino ke baad unko khelne ka mauka milega doosra vyaktiyon ka janta ka bhi manoranjan ho jaega TV par jo hai baith ke ghar me darshan manoranjan nahi hai vaah bhi lock download bore ho rahe hain ghar me baithe baithe aarti se baat hai spansar milenge thoda sa TV channel ko bhi kamai ho jayegi khel shuru ho jana chahiye

हां खाली स्टेडियम में खेल से शुरू होना चाहिए एक तो इतने महीनों से घर में बैठे-बैठे प्रैक्ट

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  399
WhatsApp_icon
user

Shree Choudhary

Youtuber, Motivational Speaker

0:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल कहीं ना कहीं तो क्रिकेट बोर्ड ने आजो अदर सपोर्ट सपोर्ट जहां भारत की सरकार है निर्देशन से खाली स्टेडियम में मैच करवाएगी कि उनका जो गांव से उनको जैसे बीसीसीआई को भी आईपीएल नहीं होने से ₹4000 का लोचा तो कहीं ना कहीं वो उन्हें रिकवर करना देखने जाएंगे

bilkul kahin na kahin toh cricket board ne ajo other support support jaha bharat ki sarkar hai nirdeshan se khaali stadium me match karavaegi ki unka jo gaon se unko jaise bcci ko bhi IPL nahi hone se Rs ka locha toh kahin na kahin vo unhe recover karna dekhne jaenge

बिल्कुल कहीं ना कहीं तो क्रिकेट बोर्ड ने आजो अदर सपोर्ट सपोर्ट जहां भारत की सरकार है निर्द

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  143
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमें तो नहीं लगता कि खाली सिटी में खेल फिर से शुरू होना चाहिए क्योंकि यह खेलते हैं लेकिन उचेहरा करने के लिए कोई तो होना चाहिए जब दर्शक ही नहीं है ऑडियंस है ना शेयर करने के लिए तो क्या एंजॉय करेंगे फिर लिए इतना जरूरी भी तो नहीं है कि इस टाइम महामारी के समय में तुम खेलों को शुरू किया ही किया गया

hamein toh nahi lagta ki khaali city me khel phir se shuru hona chahiye kyonki yah khelte hain lekin uchehara karne ke liye koi toh hona chahiye jab darshak hi nahi hai adiyans hai na share karne ke liye toh kya enjoy karenge phir liye itna zaroori bhi toh nahi hai ki is time mahamari ke samay me tum khelo ko shuru kiya hi kiya gaya

हमें तो नहीं लगता कि खाली सिटी में खेल फिर से शुरू होना चाहिए क्योंकि यह खेलते हैं लेकिन उ

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  124
WhatsApp_icon
user

Mahesh Kumar

Engineer

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अभी नहीं हुआ क्या अभी तो सिर्फ सोशल डिस टाइपिंग दिया है कि थोड़ा डिस्टेंस पर 3366 फुट के ऊपर चला जाए वही अच्छा है क्योंकि अगर कोई ग्राउंड वगैरह पर हम ऐसे होंगे वहां पर करोड़ों का और गेम यह तो है नहीं एक-एक केवल एक प्रयोग किया उसने तो सभी ग्रुप होते हैं इसलिए अभी वह संभव नहीं है

abhi nahi hua kya abhi toh sirf social dis typing diya hai ki thoda distance par 3366 feet ke upar chala jaaye wahi accha hai kyonki agar koi ground vagera par hum aise honge wahan par karodo ka aur game yah toh hai nahi ek ek keval ek prayog kiya usne toh sabhi group hote hain isliye abhi vaah sambhav nahi hai

अभी नहीं हुआ क्या अभी तो सिर्फ सोशल डिस टाइपिंग दिया है कि थोड़ा डिस्टेंस पर 3366 फुट के ऊ

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  110
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!