मृत्युंजय उपन्यास में कर्ण का चरित्र चित्रण बताएं?...


play
user
0:44

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रत्ने मृत्युंजय उपन्यास में करें खिचड़ी चित्र बताइए शब्दों की सीमा में नहीं बांधा जा सकता इसका कारण उनका चरित्र बहुत विस्तार है बहुत बेहतरीन हां तबियत शब्दों के प्रयोग में लाना चाहिए समाज में परिवर्तन चाहते थे निम्न काश को ऊपर उठाते फिल्म कास्ट को ऊपर खाना चाहिए थे वह महिलाओं की शिक्षा चाहते थे वह जीवन में समानता चाहते थे प्रत्येक क्षण परिवर्तन चाहते थे कि परिवर्तन के लिए वह हमेशा अपने चरित्र को लेकर दुर्योधन का साथ देते थे

ratne mrityunjay upanyas me kare khichdi chitra bataiye shabdon ki seema me nahi bandha ja sakta iska karan unka charitra bahut vistaar hai bahut behtareen haan tabiyat shabdon ke prayog me lana chahiye samaj me parivartan chahte the nimn kash ko upar uthate film caste ko upar khana chahiye the vaah mahilaon ki shiksha chahte the vaah jeevan me samanata chahte the pratyek kshan parivartan chahte the ki parivartan ke liye vaah hamesha apne charitra ko lekar duryodhan ka saath dete the

रत्ने मृत्युंजय उपन्यास में करें खिचड़ी चित्र बताइए शब्दों की सीमा में नहीं बांधा जा सकता

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  119
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!