जीवन सच है या झूठ?...


user

J.P. Y👌g i

Psychologist

5:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रश्न आ रहा है जीवन सच है या झूठ यह बहुत ही जबरदस्त प्रशन है क्योंकि जिंदगी जब तक जीवित है तो जीवन है और इस जीवन की प्रक्रिया में हमें जानती हो रही है वह इस दौर में व्यतीत होता चला जा रहा है एक सफर है कट रहा है तू जब यह भी माना जा रहा है कि जीवन का अंत होता है यानी कि शरीर का तो यह सफर माही विलय हो जाता है लेकिन अगर इस मायने में हम सोचे तो जीवन एक झूठा है अर्थात कोई इसमें वास्तविक सारांश नहीं रह जाता है लेकिन यह है कि कुछ अनुभव के लिए यह हमारी रिसर्च की भूमिका मिलती है एक प्रयोगशाला है जिसका हम प्रयोग कर सकते हैं और उसके बाद जो अपनी स्थिति अलग है जो ज्ञान की वह भेजने के कारण ही हम आ गए पर्याप्त हो सकते हैं क्योंकि सर रुको माया के और शरीर के संवेदनाएं जो है और सांसारिक विषयों का आरोपित भाव है उसमें अवधारणाएं प्रणालियां है जो हमारे को अवगत कर के स्वरूप को निर्धारित बनाकर के विस्थापित किए रहती है और यह प्रकृति है जो काल की दशा में इतने परिवर्तनशील होता रहता है और यही चीज है कि और उसमें इस अभिक्रिया के अंदर हमारे को खुशी गम और भी चीजों का शरीर और जीवात्मा के माध्यम से महसूस होता है लेकिन उसके पृष्ठभूमि में कुंडली शक्ति जो चर्च चक्रों के अंतर्गत निहित है अति सूक्ष्म और दूसरे दिन के अंदर निर्वाण पद में आधारित होता है और यह जरूरी नहीं है कि सब को उस अनुभूति का फैसला या ज्ञान हो सके क्योंकि जब तक वह भी मूर्खता हटती नहीं है तब तक हम छातीत रूप से प्रभाव में रहते हैं जब उसे याद करके वह इस तरह आता है और वह भी एक कमाई का स्रोत होता है जो बचपन से संस्कार के अनुरूप आध्यात्म की ओर से गत सप्ताह में भरते हैं तो वह प्लेटफार्म मिलता है और यह सब चीज एक प्रयोग दशा में हमारे अंत करण में और हाथों में सिद्धहस्त होता है और इसमें एक खास लगाव नहीं रह जाता क्योंकि उसको निर्माण पद में स्वयं अपने वास्तविक शरीर के कारण शरीर का ज्ञान हो जाता है तो इस दशा में जितने भी दिमाग में मानसिकता बंधन है वह निवृत्त रहता है वह प्रफुल्लित रहता है और किसी भी प्रभाव दो उसमें नहीं अपने वैकल्पिक संभावनाओं को आया अनुभूतियों को बढ़ाता है वह उसे कटकर करके दूसरों का इजाद करता है जाति सूची परमाणुओं से भी अत्यंत सूक्ष्म जो चेतन धारा है उसके अलंबन में वह आत्मसात करता है वहां एक ही पूर्ण मात्र में ही सारा व्यवहार घटित होता चला जाता है इसलिए जो अवस्थाएं हैं जिन्होंने खोज लिया है अपने आपको वहां पहचान लिया है और कि मैं अपने आप को बरकार रखा हुआ है वही जीवन के मूल्य को निर्धारित कर सकता है कि साथ है क्या शर्त है लेकिन यह भी भ्रमित और दुख में होना या असत्य प्रणाली में गिनती आती क्योंकि उसकी आत्मा का स्वभाविक जो स्वरूप है उस पर प्रत्यक्ष में दिखता है जिज्ञासु प्राणी है शिक्षण रहता है और प्रकृति के उल्लास में अपने आप को प्रवाहित रखना चाहता यह स्वभाविक गुण धर्म क्रिया है और शेर विपरीत जो चीजें अवधारणा में बनाते हैं तो वही हमारा संक्षिप्त रूप होता चला जाता है तो उसकी गेहूं के साथ घुन पिसता है तो यही स्थिति आ जाती है जीवात्मा के प्रति तो जीवन सच या झूठ तो इस बारे में हम अपने ज्ञान की स्थिरता पर ही इसको निर्णायक नियम बना सकते हैं क्योंकि हर एक के चैप्टर सब के विषय में नहीं बन सकता है कि हर इंसान उस रूप को समझे कि हम वास्तविक है कि और यह जो मायावती में हमें दुख सुख छोटा बड़ा उमर और फिर प्रणवीर तो इत्यादि जो भी स्पष्ट साक्षात्कार आंखों के द्वारा शरीर के द्वारा हो रहा है वह सब भ्रांति स्वरूप रह जाता है क्योंकि शरीर भी नष्ट होता है तो उसके साथ संसार काव्या संसार का भी डिलीट हो जाता है तो लेकिन फिर भी अस्तित्व में वह कहीं ना कहीं जिला का स्वरूप का निर्धारण के ही रहती है क्योंकि जगत में जो भी कुछ वरदान वर्तमान की दशा में हो रहा है इसीलिए हो रहा है कि अच्छे कर्म क्यों करे जाएं पाप कर्म ना करे जाए पुणे में ही हम आधारित रहे धर्म के और सच की विवेचना पर्स क्योंकि वही मुख्य रूप से हमें ज्ञात कर आता है कि यह ज्ञान सच्चा है और यही हमारे चित्र बच्चों को धो देता है निर्मलता बनाता है तो उसमें स्वभाविक था स्वरूप का प्रकट होता है तो यही चीज है कि इंसान को कुछ ना कुछ उद्धृत और क्षमता की ओर बढ़ना चाहिए और यह अपने अंदर एक अनुसंधान 120 बनता है जो लोग इसको प्रयोग में लाते हैं तो उस जीवन को व्रत में बदल देते हैं अर्थात जो मीठा है जो मर्द धर्म है जो परिवर्तनशील है वह तो होना ही है प्रकृति का लेकिन स्थाई तो घर है वह धर्म का है आखिर पत्र के बारे में तो इसके ऊपर अनुभूति के स्तर पर आप अपने आप का अवलोकन करें तो महसूस हो जाएगा मैं यह कहना चाहता हूं सही सा सुरक्षा पर है धन्यवाद मैं जीपीयू वोकल पैक फादर इस वक्त अपने आप को शुभकामनाएं दे रहा हूं

prashna aa raha hai jeevan sach hai ya jhuth yah bahut hi jabardast prashn hai kyonki zindagi jab tak jeevit hai toh jeevan hai aur is jeevan ki prakriya me hamein jaanti ho rahi hai vaah is daur me vyatit hota chala ja raha hai ek safar hai cut raha hai tu jab yah bhi mana ja raha hai ki jeevan ka ant hota hai yani ki sharir ka toh yah safar maahi vilay ho jata hai lekin agar is maayne me hum soche toh jeevan ek jhutha hai arthat koi isme vastavik saransh nahi reh jata hai lekin yah hai ki kuch anubhav ke liye yah hamari research ki bhumika milti hai ek prayogshala hai jiska hum prayog kar sakte hain aur uske baad jo apni sthiti alag hai jo gyaan ki vaah bhejne ke karan hi hum aa gaye paryapt ho sakte hain kyonki sir ruko maya ke aur sharir ke sanvednaen jo hai aur sansarik vishyon ka aropit bhav hai usme avdharnaen pranaliyan hai jo hamare ko avgat kar ke swaroop ko nirdharit banakar ke visthaapit kiye rehti hai aur yah prakriti hai jo kaal ki dasha me itne parivartanshil hota rehta hai aur yahi cheez hai ki aur usme is abhikriya ke andar hamare ko khushi gum aur bhi chijon ka sharir aur jivaatma ke madhyam se mehsus hota hai lekin uske prishthbhumi me kundali shakti jo church chakron ke antargat nihit hai ati sukshm aur dusre din ke andar nirvan pad me aadharit hota hai aur yah zaroori nahi hai ki sab ko us anubhuti ka faisla ya gyaan ho sake kyonki jab tak vaah bhi murkhta hatati nahi hai tab tak hum chatit roop se prabhav me rehte hain jab use yaad karke vaah is tarah aata hai aur vaah bhi ek kamai ka srot hota hai jo bachpan se sanskar ke anurup aadhyatm ki aur se gat saptah me bharte hain toh vaah platform milta hai aur yah sab cheez ek prayog dasha me hamare ant karan me aur hathon me siddhahast hota hai aur isme ek khas lagav nahi reh jata kyonki usko nirmaan pad me swayam apne vastavik sharir ke karan sharir ka gyaan ho jata hai toh is dasha me jitne bhi dimag me mansikta bandhan hai vaah sevanervit rehta hai vaah prafullit rehta hai aur kisi bhi prabhav do usme nahi apne vaikalpik sambhavanaon ko aaya anubhutiyon ko badhata hai vaah use katakar karke dusro ka ijad karta hai jati suchi parmanuo se bhi atyant sukshm jo chetan dhara hai uske alamban me vaah aatmsat karta hai wahan ek hi purn matra me hi saara vyavhar ghatit hota chala jata hai isliye jo avasthae hain jinhone khoj liya hai apne aapko wahan pehchaan liya hai aur ki main apne aap ko barkar rakha hua hai wahi jeevan ke mulya ko nirdharit kar sakta hai ki saath hai kya sart hai lekin yah bhi bharmit aur dukh me hona ya asatya pranali me ginti aati kyonki uski aatma ka swabhavik jo swaroop hai us par pratyaksh me dikhta hai jigyasu prani hai shikshan rehta hai aur prakriti ke ullas me apne aap ko pravahit rakhna chahta yah swabhavik gun dharm kriya hai aur sher viprit jo cheezen avdharna me banate hain toh wahi hamara sanshipta roop hota chala jata hai toh uski gehun ke saath ghun pista hai toh yahi sthiti aa jaati hai jivaatma ke prati toh jeevan sach ya jhuth toh is bare me hum apne gyaan ki sthirta par hi isko niranayak niyam bana sakte hain kyonki har ek ke chapter sab ke vishay me nahi ban sakta hai ki har insaan us roop ko samjhe ki hum vastavik hai ki aur yah jo mayawati me hamein dukh sukh chota bada umar aur phir pranvir toh ityadi jo bhi spasht sakshatkar aakhon ke dwara sharir ke dwara ho raha hai vaah sab bhranti swaroop reh jata hai kyonki sharir bhi nasht hota hai toh uske saath sansar kavya sansar ka bhi delete ho jata hai toh lekin phir bhi astitva me vaah kahin na kahin jila ka swaroop ka nirdharan ke hi rehti hai kyonki jagat me jo bhi kuch vardaan vartaman ki dasha me ho raha hai isliye ho raha hai ki acche karm kyon kare jayen paap karm na kare jaaye pune me hi hum aadharit rahe dharm ke aur sach ki vivechna purse kyonki wahi mukhya roop se hamein gyaat kar aata hai ki yah gyaan saccha hai aur yahi hamare chitra baccho ko dho deta hai nirmalata banata hai toh usme swabhavik tha swaroop ka prakat hota hai toh yahi cheez hai ki insaan ko kuch na kuch uddhrit aur kshamta ki aur badhana chahiye aur yah apne andar ek anusandhan 120 banta hai jo log isko prayog me laate hain toh us jeevan ko vrat me badal dete hain arthat jo meetha hai jo mard dharm hai jo parivartanshil hai vaah toh hona hi hai prakriti ka lekin sthai toh ghar hai vaah dharm ka hai aakhir patra ke bare me toh iske upar anubhuti ke sthar par aap apne aap ka avalokan kare toh mehsus ho jaega main yah kehna chahta hoon sahi sa suraksha par hai dhanyavad main GPU vocal pack father is waqt apne aap ko subhkamnaayain de raha hoon

प्रश्न आ रहा है जीवन सच है या झूठ यह बहुत ही जबरदस्त प्रशन है क्योंकि जिंदगी जब तक जीवित ह

Romanized Version
Likes  416  Dislikes    views  5901
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!