क्या गस्त लगाना जरुरी था?...


user

CA. Ankush Sharma

Chartered Accountant

1:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए जहां तक मैं समझता हूं जीएसटी लगाना जरूरी था या नहीं यह बहुत अच्छा सवाल है और जीएसटी लगाना मेरे मत से सही है उसका एक बहुत बड़ा बड़ा कारण है कि पहले कौन किसी भी चीज में किसी भी काम में जितनी ज्यादा कंप्लीट कॉम्प्लिकेशंस होंगे जितनी ज्यादा कंपलेक्सिटी होगी वह उसमें उतना ही ज्यादा फसने की संभावना रहती है जैसे जीएसटी के पहले बहुत सारे टैक्सेस थे इतने टैक्सेस थे कि कई बार भूल लगाने वाला भी भूल जाता था कि कितने टैक्स एस ए टूल सब को हटाकर सिर्फ एक टैक्स लगाना जिसमें सब किसी भी वस्तु का मूल्य एक ही हो कि हिंदुस्तान के किसी भी कोने में यह सोचकर जीएसटी लाया गया जिसका वन नेशन वन टैक्स किसे कहा गया तो यह जीएसटी लगाना एक सरलीकरण की ओर अग्रसर होना है हम जीएसटी लगाने से सारे टैक्स ओं को मर्ज करके एक टैक्स बनाया गया जिससे टेक्स्ट के रेट में भी सरलीकरण हुआ और उसकी प्रोसेस में विसरली करना होगा जिसे आम आदमी बिजनेस जो है उसको ज्यादा कॉम्प्लिकेशंस में अंदर जाने की जरूरत नहीं है बहुत ही सरल समझने में है जीएसटी एक सिंपल रेट है जीएसटी के कुछ 4 रेट है जीएसटी के जो सिंपल टैक्स लगाओ और उसका क्रेडिट आप ले सकते हो तो मेरी समझ से जीएसटी सरलीकरण और बिजनेस को बढ़ाने के लिए बहुत फायदेमंद होगा हालांकि किसी भी चीज कोई भी नई चीज इंप्लीमेंट होती है तो उसको इंप्लीमेंट होने में समय लगता है उतना समय हमें उसके लिए देना पड़ेगा

dekhie chahiye jaha tak main samajhata hoon gst lagana zaroori tha ya nahi yeh bahut accha sawal hai aur gst lagana mere mat se sahi hai uska ek chahiye bahut bada bada kaaran hai ki pehle kaon kisi bhi cheez mein kisi bhi kaam mein jitni zyada complete kamplikeshans honge jitni zyada kampaleksiti hogi wah usamen chahiye utana chahiye hi zyada fasane ki sambhavna rehti hai jaise gst ke pehle bahut sare taxes the itne taxes the ki kai baar bhul lagane vala bhi bhul jata tha ki kitne tax s a tool sab ko hatakar sirf ek chahiye tax lagana jisme sab kisi bhi vastu ka chahiye mulya ek chahiye hi ho ki Hindustan ke kisi bhi kone mein yeh sochkar gst laya gaya jiska van nation van tax kise kaha gaya to yeh gst lagana ek chahiye saralikaran ki oar agrasar hona hai hum gst lagane se sare tax on ko merge karke ek chahiye tax banaya gaya jisse text ke rate mein bhi saralikaran hua aur uski process mein visarali karna hoga jise aam aadmi business jo hai usko zyada kamplikeshans mein andar jaane ki zarurat nahi hai bahut hi saral samjhne mein hai gst ek chahiye simple rate hai gst ke kuch 4 rate hai gst ke jo simple tax lagao aur uska credit aap le sakte ho to meri samajh se gst saralikaran aur business ko badhane ke liye bahut faydemand hoga halaki kisi bhi cheez koi bhi nayi cheez implement hoti hai to usko implement hone mein samay lagta hai utana chahiye samay hume uske liye dena padega

देखिए जहां तक मैं समझता हूं जीएसटी लगाना जरूरी था या नहीं यह बहुत अच्छा सवाल है और जीएसटी

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  487
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
vastu ke gane ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!