क्यों महिलाएँ समलैंगिक पुरुषों के साथ सुरक्षित महसूस करती हैं?...


user

Ajay Krishna Sarkar

Sex Specialist

0:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां आपका कुर्सेला एक ईमेल मेल में इसके पहले भी बोल रहा हूं कि आजकल फीमेल फीमेल एक्टिव हो रहा है मेल से नहीं हो रहा है और उससे उससे एलर्जी हो रहा है मैं उसे इस कंट्री में जो हुआ या अपना जो धार्मिक ग्रुप है सेक्स के बारे में जब तक मेल और फीमेल नहीं होगा तब तक स्कूल इंटर कोर्स नहीं होगा यह जो आजकल की लड़कियां है यह गलत है

haan aapka kursela ek email male mein iske pehle bhi bol raha hoon ki aajkal female female active ho raha hai male se nahi ho raha hai aur usse usse allergy ho raha hai use is country mein jo hua ya apna jo dharmik group hai sex ke bare mein jab tak male aur female nahi hoga tab tak school inter course nahi hoga yeh jo aajkal ki ladkiyan hai yeh galat hai

हां आपका कुर्सेला एक ईमेल मेल में इसके पहले भी बोल रहा हूं कि आजकल फीमेल फीमेल एक्टिव हो र

Romanized Version
Likes  30  Dislikes    views  539
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है कि क्यों महिलाएं समलैंगिक पुरुषों के साथ सुरक्षित महसूस करती है क्योंकि महिलाओं को पता होता है कि यह हमें खतरा नहीं है यह हमें कुछ करेगी नहीं ठीक है इसलिए वह खुद को सुरक्षित मानती है समलैंगिक पुरुषों के साथ जेल के लोगों के साथ ठीक है और इसलिए वह उनसे ही दोस्ती बनाए रखती है और उनके लिए अच्छा है कि कि उनकी फिल्म की एक लड़की जैसे भी हो आपका दिन शुभ हो धन्यवाद गुड नाइट टेक केयर

aapka prashna hai ki kyon mahilaye samlaingik purushon ke saath surakshit mehsus karti hai kyonki mahilaon ko pata hota hai ki yah hamein khatra nahi hai yah hamein kuch karegi nahi theek hai isliye vaah khud ko surakshit maanati hai samlaingik purushon ke saath jail ke logo ke saath theek hai aur isliye vaah unse hi dosti banaye rakhti hai aur unke liye accha hai ki ki unki film ki ek ladki jaise bhi ho aapka din shubha ho dhanyavad good night take care

आपका प्रश्न है कि क्यों महिलाएं समलैंगिक पुरुषों के साथ सुरक्षित महसूस करती है क्योंकि महि

Romanized Version
Likes  354  Dislikes    views  4213
WhatsApp_icon
play
user

Snehasish Gupta

Journalist / Traveller

0:28

Likes  14  Dislikes    views  379
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!