मेरे हथेलियों पर बहुत सी रेखाएं क्यों हैं, और वे क्या संकेत देती हैं?...


play
user

Astro GURU DR UMESH DWIVEDII

Astrologer And Vastu Shastra Consultant

1:09

Likes  10  Dislikes    views  165
WhatsApp_icon
8 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Likes  114  Dislikes    views  1449
WhatsApp_icon
user

ज्योतिषी झा मेरठ (Pt. K L Shashtri)

Astrologer Jhaमेरठ,झंझारपुर और मुम्बई

0:40
Play

Likes  67  Dislikes    views  2218
WhatsApp_icon
user

Rahul

Astrologer

0:09
Play

Likes  2  Dislikes    views  75
WhatsApp_icon
play
user

Manju Maharaj

Astrologer

1:43

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमको सटीक दूसरा नहीं मिलता है हस्तरेखा जैसा व्यक्ति काम करता है वैसे ही उसके हाथ में लाइन बनती है गौर करेंगे कि जो लोहार का काम करता है उसका हाथ बहुत सख्त होता है जो सुनार का काम करता है उसका हाथ बहुत मुलायम और जो आर्टिस्टिक लोग होते हैं उनका हाथ भी बहुत कोमल और उंगली लंबी होती है तो जातक जैसा काम करता है वैसे उसकी हाथ में रेखा बन जाती है जो आदमी कम काम करता है उसके हाथ में कम रखी गई होती है अमूमन जैसे अपन देखें काम करने वाली बाई है बर्तन साफ करने वाली बाई है या काम करने वाली बाई है उनकी हंसी में सच होती है उनके हाथ में काली रेखाएं होती हैं और बहुत सारी रेखाएं रहती है अब यदि हम किसी एक साथ देखे तो उसका हाथ बहुत ही सुडोल गिनी चुनी रेखा है स्पष्ट रेखाएं गुलाबी हाथ रखा है लेकिन हम यदि स्थिति बदल दे दीजिएगा हम काम करने वाली बाई को हीरोइन बना और 1 साल तक उसे कोई काम ना ले तो उसका हाथ भी बहुत कुछ साफ सुथरा सु दोनों बहुत अच्छा हो जाएगा और यदि किसी फिल्मी एक्ट्रेस से हम घर का काम कर आएंगे तो उसके साथ में भी बहुत सारी काली ऑडी तेरी कटी फटी रेखाएं बन जाएंगे आदमी जैसा काम करता है तो उसके साथ उसकी रेखाएं बदलती रहती है हर 6 महीने में बदल जाती है कुछ हस्त रेखा जीवन रेखा हृदय रेखा मानस रेखाएं यह परमानेंट रहती है बाकी छोटी-छोटी रेखाएं काटती रहती है वह जीवन में आने वाले खतरों का सुख का दुख का संकेत

hamko sateek doosra nahi milta hai hastarekha jaisa vyakti kaam karta hai waise hi uske hath mein line banti hai gaur karenge ki jo lohar ka kaam karta hai uska hath bahut sakht hota hai jo sonar ka kaam karta hai uska hath bahut mulayam aur jo artistic log hote hain unka hath bhi bahut komal aur ungli lambi hoti hai toh jatak jaisa kaam karta hai waise uski hath mein rekha ban jaati hai jo aadmi kam kaam karta hai uske hath mein kam rakhi gayi hoti hai amuman jaise apan dekhen kaam karne wali bai hai bartan saaf karne wali bai hai ya kaam karne wali bai hai unki hansi mein sach hoti hai unke hath mein kali rekhayen hoti hain aur bahut saree rekhayen rehti hai ab yadi hum kisi ek saath dekhe toh uska hath bahut hi sudol gini chuni rekha hai spasht rekhayen gulabi hath rakha hai lekin hum yadi sthiti badal de dijiyega hum kaam karne wali bai ko heroine bana aur 1 saal tak use koi kaam na le toh uska hath bhi bahut kuch saaf suthara su dono bahut accha ho jaega aur yadi kisi filmy actress se hum ghar ka kaam kar aayenge toh uske saath mein bhi bahut saree kali audi teri katee fati rekhayen ban jaenge aadmi jaisa kaam karta hai toh uske saath uski rekhayen badalti rehti hai har 6 mahine mein badal jaati hai kuch hast rekha jeevan rekha hriday rekha manas rekhayen yah permanent rehti hai baki choti choti rekhayen katatee rehti hai vaah jeevan mein aane waale khataron ka sukh ka dukh ka sanket

हमको सटीक दूसरा नहीं मिलता है हस्तरेखा जैसा व्यक्ति काम करता है वैसे ही उसके हाथ में लाइन

Romanized Version
Likes  164  Dislikes    views  2895
WhatsApp_icon
user

Daivagya Krishna Shastri

Astrologer, Ved, Bhagvat Mahapuran

0:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जय श्री राम जय श्री श्यामा श्रीमान जी सर्वप्रथम आप हमारे व्हाट्सएप नंबर पर 84 000 84 763 इस पर अपना हैंड का प्रिंट हमें प्रेषित करें और संपूर्ण रूप से जानकारी प्राप्त करें आपको सभी समस्याओं का एवं सभी प्रकार से आप का निराकरण किया जाएगा

jai shri ram jai shri shyaama shriman ji sarvapratham aap hamare whatsapp number par 84 000 84 763 is par apna hand ka print hamein preshit kare aur sampurna roop se jaankari prapt kare aapko sabhi samasyaon ka evam sabhi prakar se aap ka nirakaran kiya jaega

जय श्री राम जय श्री श्यामा श्रीमान जी सर्वप्रथम आप हमारे व्हाट्सएप नंबर पर 84 000 84 763 इ

Romanized Version
Likes  148  Dislikes    views  1859
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप अपने हथेली की रेखाओं से ज्यादा परेशान ना हो आपकी हथेली में रेखाएं होती है वह शक्ति है बहुत हो गया थे दिन में बहुत सी रेखाएं होती हैं यदि आप क्या तेरे में ज्यादा रखा है तो कृपया यदि आप हस्त रेखा के बारे में जानकारी चाहते हैं तो और अपने हाथ का सचित्र फोटो खींच कर के मेरे व्हाट्सएप नंबर 7209 1316 पर भेज दे और आप जो प्रश्न करिए उसका उत्तर आपको प्राप्त हो जाएगा आप क्या करेंगे जो कमियां में जो रेखाएं कटी पीटी हैं उसके बारे में बतलाइए जाएगी आपके भविष्य के बारे में भी बताया जाएगा धन्यवाद

aap apne hatheli ki rekhaon se zyada pareshan na ho aapki hatheli mein rekhayen hoti hai vaah shakti hai bahut ho gaya the din mein bahut si rekhayen hoti hain yadi aap kya tere mein zyada rakha hai toh kripya yadi aap hast rekha ke bare mein jaankari chahte hain toh aur apne hath ka sachitr photo khinch kar ke mere whatsapp number 7209 1316 par bhej de aur aap jo prashna kariye uska uttar aapko prapt ho jaega aap kya karenge jo kamiyan mein jo rekhayen katee PT hain uske bare mein batlaiye jayegi aapke bhavishya ke bare mein bhi bataya jaega dhanyavad

आप अपने हथेली की रेखाओं से ज्यादा परेशान ना हो आपकी हथेली में रेखाएं होती है वह शक्ति है ब

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  405
WhatsApp_icon
user
7:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरी हथेलियों पर भूत भी देख आएं क्यों है देखिए मैं आपको पूर्ण रूप से वास्तविक रूप से सामुद्रिक शास्त्र का विश्लेषण करता हूं यहां पर मैं आपको बताना चाहूंगा कि अकेले पर रेखा क्यों होती है आपने पूछा कि मेरे हथेलियों पर बहुत सी रेखाएं क्यों है लेकिन मैं आपको बताना चाहूंगा पूरा दो प्रमुख प्राचीन काल में जो कर्म करते हैं क्या हम भूतकाल में जो कर्म कर चुके हैं उनकी रेखाचित्र उनका जोर रेट है उनकी जो माफ है भूतकाल के कर्मों का जो लेट है क्या लिख दो का होता ना उन पूर्व पूर्व कर्म के जन्मों का रिजल्ट लेखा-जोखा है और भविष्य में क्या लिखा जोकर है वर्तमान का क्या लेखा-जोखा है वह दोनों हाथों में प्रकृति द्वारा लिखा जाता है किसके द्वारा लिखा जाता है प्रकृति के द्वारा लिखा जाता है उसको जो दरवाजे होते हैं जो प्रज्ञा महान ज्योतिषी होते हैं प्रज्ञा बानो फार्म लिस्ट होते प्रज्ञा बानो सामुद्रिक शास्त्र के हस्तरेखा के विशेषज्ञ होते हैं प्रज्ञान ज्योतिषी भाग्य होते हैं वह उनको पढ़ पाते हैं की रेखाएं हमारे मस्तिष्क में बनती है रेखाएं कई जगह हमारे अंगुली के पीछे भी रेट है बनती है कई स्थानों पर हमारे रेखाएं बनती है तो मैं आपको बताना चाहूंगा कि आप की हथेलियों पर बहुत सी रेखा है क्यों है मैं आपको बताना चाहूंगा कि सामुद्रिक शास्त्र के हिसाब से मैं आपको बताना चाहूंगा कि सामुद्रिक शास्त्र क्या कहता है कि जिसके हाथ में बहुत सी रेखाएं हों अर्थात इतनी सारी रेखाएं जो पढ़ना थोड़ा कठिन हो उन रेखाओं को पढ़ना थोड़ा कठिन हो इतनी सजा दे खाई हो तो उसके जीवन में उसने भी उतनी ही प्यारी होती है क्या सामुद्रिक शास्त्र का आदेश है विश्लेषण सामुद्रिक शास्त्र का विश्लेषण है कि जितने रेखाएं होती है ठीक है क्योंकि तीन रेखाएं मुख्य होती है जीवन रेखा हृदय रेखा और मस्तिष्क रेखा इनके अलावा भी इनके मुख्य तत्व होते हैं जो वह रेखा होती है भाग्य रेखा होती है सूर्य रेखा सूर्य रेखा होती है इस प्रकार के मुख्य-मुख्य रखा है कुछ होती है लेकिन अधिक रेखा होने पर क्या है मैं आपको बताऊं कि क्या संकेत करते मैं आपको भेजते हैं वास्तविकता और विश्लेषण दोस्त बताऊंगा देखिए देखा है बहुत सी रेखा है अभी आपके हाथ में बन रही है आपका जितना हाथ साफ है आप की रेखाएं जितनी है कम रेखाएं और स्पष्ट दिख रही है और पूरी लंबी रेखाएं हैं और रक्त वर्ण की रेखाएं देकर रक्त वर्ण की जो रेखाएं होती है लाल रंग की रेखाएं होती है वह श्रेष्ठ होती है ठीक है जो रेखा है कृष्ण भगवान की काली रंग की होती है लेकिन पढ़ने वाला पड़ सकता है लाल रंग की है या काले रंग की हो पढ़ने वाले पर सकता है तो मैं आपको बताना चाहूंगा आप के विषय की बात करना चाहूंगा कि वह क्या संकेत करती है मैं और आपको बताना चाहूंगा यदि आपके हथेली पर बहुत सारे खाई है तो जीवन रेखाओं को बहुत सारे केक काट रही होगी भाग्य रेखा को बहुत सर रेखाएं काट रही होगी आपके भेज दे रेखा को मस्तिष्क रेखा को विवाह रेखा को आधी रेखाओं को बहुत सारे रेखा यदि है तो काट रही होगी तो वह क्या काटने का मतलब है कि अब आपके जीवन में अवरुद्ध कर ली है आपके मस्तिष्क में आपके मस्तिष्क के विचारों में आपके मस्तिष्क में अवरोध पैदा कर रही है आपके भाग्य में वृद्धि पैदा कर लिया आपके हृदय आपके परोपकार के भाव को आपके दोस्त सात्विक भावनाएं हैं उन पर अवरोध पैदा कर रही तो यह 272 रेखाएं हैं वह शुभ नहीं है बहुत सारे खाएं वह उचित नहीं है यह जीवन में अटका और लाने के लिए होती है ठीक है देखिए जो छोटी-छोटी रेखाएं हमारे हाथ में होती है यह कुछ मरे मुख्य रखा है बताइए इनके अलावा फुट दूर रेखाएं होती तो बनती रहती है बिगड़ती रहती है लेकिन कुछ मुख्य रखा है उतनी तो मैंने बताइए आपको वह रेखाएं बनती नहीं है बिगड़ती नहीं है वह फिक्स रहती है तुम आपको बताना चाहूंगा कि कुछ रखा है बनती रहती है कुछ रेखा बगड़ कर लेती हमारे हथेली में पर्वत भी होते हैं प्रवीण अमोली होती है इंडेक्स फिंगर उसके नीचे बुध पर्वत होता है गर्लफ्रेंड मिडल फिंगर होती है मध्यमा उंगली बड़ी बड़ी होती उसके नीचे शनि पर्वत होता है फिर सूर्य पर्वत और फिर बुध पर्वत शुरू शुरू में गुरु पर्वत होता है इंडेक्स फिंगर होती है तर्जनी अंगुली अंगूठे के पास में वह गुरु पर्वत होता है तो आपको बताना चाहूंगा कि यदि आप शनि का उपाय करते हो रेस्ट करते हो सनी को तो आपके दो मध्यमा अंगुली है बड़ी-बड़ी अंगुली उसके नीचे प्रदर्शनी पर्वत वह पॉजिटिव होगा एक्टिव होगा सूर्य का परिचय देते हो तो वह आपका पर्वतों एक्टिविटी आपके अधिक रेखाएं हैं जो अवरोध पैदा करती औरत पैदा करनी है तो आप गुरु कबूतर करें गुरु की गुरु की सेवा करें गुरुओं का पूजन करें थोड़ा अध्यात्म अध्यात्म मार्ग में घुसे धर्म और धार्मिकता पर आप थोड़ा विचार करें चिंतन करें उससे कह गुरु की सेवा करें और माता-पिता की सेवा करें कि सबसे बड़े गुरु माता पिता होते हैं तो उससे कह कर दो रेखा बनती बिगड़ती रहती है वह अधिकतर रेखाएं जो है आपके वह खत्म हो जाएगी बिल्कुल खत्म हो जाएगी धीरे-धीरे मिटने लग जाएगी आपका हाथ बिल्कुल साफ होने लगेगा क्योंकि गुरु की कृपा से ही आपके ऊपर ग्रुप के पानी मेरी गुरु कृपा होती तो अपने पूर्व जन्म में या भूतकाल में गुरु का भ्रमण का अपमान किया होगा इसलिए हथेली में कई सारी रेखाएं आपके हैं तो जीवन में औरत पैदा करके भाग्य मर्द औरत पैदा करती है भागवत आ जाऊंगा गुरु को प्रबल करो अपने अंदर जो है वास्तविकता को आप स्वीकारो ठीक है जय श्री राम राधे-राधे

meri hatheliyon par bhoot bhi dekh aaen kyon hai dekhiye main aapko purn roop se vastavik roop se samudrik shastra ka vishleshan karta hoon yahan par main aapko batana chahunga ki akele par rekha kyon hoti hai aapne poocha ki mere hatheliyon par bahut si rekhayen kyon hai lekin main aapko batana chahunga pura do pramukh prachin kaal me jo karm karte kya hum bhootkaal me jo karm kar chuke hain unki rekhaachitr unka jor rate hai unki jo maaf hai bhootkaal ke karmon ka jo late hai kya likh do ka hota na un purv purv karm ke janmon ka result lekha jokha hai aur bhavishya me kya likha joker hai vartaman ka kya lekha jokha hai vaah dono hathon me prakriti dwara likha jata hai kiske dwara likha jata hai prakriti ke dwara likha jata hai usko jo darwaze hote hain jo pragya mahaan jyotishi hote hain pragya bano form list hote pragya bano samudrik shastra ke hastarekha ke visheshagya hote hain pragyan jyotishi bhagya hote hain vaah unko padh paate hain ki rekhayen hamare mastishk me banti hai rekhayen kai jagah hamare anguli ke peeche bhi rate hai banti hai kai sthano par hamare rekhayen banti hai toh main aapko batana chahunga ki aap ki hatheliyon par bahut si rekha hai kyon hai aapko batana chahunga ki samudrik shastra ke hisab se main aapko batana chahunga ki samudrik shastra kya kahata hai ki jiske hath me bahut si rekhayen ho arthat itni saari rekhayen jo padhna thoda kathin ho un rekhaon ko padhna thoda kathin ho itni saza de khai ho toh uske jeevan me usne bhi utani hi pyaari hoti hai kya samudrik shastra ka aadesh hai vishleshan samudrik shastra ka vishleshan hai ki jitne rekhayen hoti hai theek hai kyonki teen rekhayen mukhya hoti hai jeevan rekha hriday rekha aur mastishk rekha inke alava bhi inke mukhya tatva hote hain jo vaah rekha hoti hai bhagya rekha hoti hai surya rekha surya rekha hoti hai is prakar ke mukhya mukhya rakha hai kuch hoti hai lekin adhik rekha hone par kya hai aapko bataun ki kya sanket karte main aapko bhejate hain vastavikta aur vishleshan dost bataunga dekhiye dekha hai bahut si rekha hai abhi aapke hath me ban rahi hai aapka jitna hath saaf hai aap ki rekhayen jitni hai kam rekhayen aur spasht dikh rahi hai aur puri lambi rekhayen hain aur rakt varn ki rekhayen dekar rakt varn ki jo rekhayen hoti hai laal rang ki rekhayen hoti hai vaah shreshtha hoti hai theek hai jo rekha hai krishna bhagwan ki kali rang ki hoti hai lekin padhne vala pad sakta hai laal rang ki hai ya kaale rang ki ho padhne waale par sakta hai toh main aapko batana chahunga aap ke vishay ki baat karna chahunga ki vaah kya sanket karti hai aur aapko batana chahunga yadi aapke hatheli par bahut saare khai hai toh jeevan rekhaon ko bahut saare cake kaat rahi hogi bhagya rekha ko bahut sir rekhayen kaat rahi hogi aapke bhej de rekha ko mastishk rekha ko vivah rekha ko aadhi rekhaon ko bahut saare rekha yadi hai toh kaat rahi hogi toh vaah kya katne ka matlab hai ki ab aapke jeevan me avaruddh kar li hai aapke mastishk me aapke mastishk ke vicharon me aapke mastishk me avarodh paida kar rahi hai aapke bhagya me vriddhi paida kar liya aapke hriday aapke paropkaar ke bhav ko aapke dost Satvik bhaavnaye hain un par avarodh paida kar rahi toh yah 272 rekhayen hain vaah shubha nahi hai bahut saare khayen vaah uchit nahi hai yah jeevan me ataka aur lane ke liye hoti hai theek hai dekhiye jo choti choti rekhayen hamare hath me hoti hai yah kuch mare mukhya rakha hai bataye inke alava feet dur rekhayen hoti toh banti rehti hai bigadati rehti hai lekin kuch mukhya rakha hai utani toh maine bataye aapko vaah rekhayen banti nahi hai bigadati nahi hai vaah fix rehti hai tum aapko batana chahunga ki kuch rakha hai banti rehti hai kuch rekha bagad kar leti hamare hatheli me parvat bhi hote hain praveen amoli hoti hai index finger uske niche buddha parvat hota hai girlfriend middle finger hoti hai madhyama ungli badi badi hoti uske niche shani parvat hota hai phir surya parvat aur phir buddha parvat shuru shuru me guru parvat hota hai index finger hoti hai tarjani anguli anguthe ke paas me vaah guru parvat hota hai toh aapko batana chahunga ki yadi aap shani ka upay karte ho rest karte ho sunny ko toh aapke do madhyama anguli hai badi badi anguli uske niche pradarshani parvat vaah positive hoga active hoga surya ka parichay dete ho toh vaah aapka parwaton activity aapke adhik rekhayen hain jo avarodh paida karti aurat paida karni hai toh aap guru kabootar kare guru ki guru ki seva kare guruon ka pujan kare thoda adhyaatm adhyaatm marg me ghuse dharm aur dharmikata par aap thoda vichar kare chintan kare usse keh guru ki seva kare aur mata pita ki seva kare ki sabse bade guru mata pita hote hain toh usse keh kar do rekha banti bigadati rehti hai vaah adhiktar rekhayen jo hai aapke vaah khatam ho jayegi bilkul khatam ho jayegi dhire dhire mitne lag jayegi aapka hath bilkul saaf hone lagega kyonki guru ki kripa se hi aapke upar group ke paani meri guru kripa hoti toh apne purv janam me ya bhootkaal me guru ka bhraman ka apman kiya hoga isliye hatheli me kai saari rekhayen aapke hain toh jeevan me aurat paida karke bhagya mard aurat paida karti hai bhagwat aa jaunga guru ko prabal karo apne andar jo hai vastavikta ko aap swikaro theek hai jai shri ram radhe radhe

मेरी हथेलियों पर भूत भी देख आएं क्यों है देखिए मैं आपको पूर्ण रूप से वास्तविक रूप से सामुद

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  106
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!