साधि-सती का कौन सा चरण खराब होता है?...


play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रथम चरण चरण चरण में माना जाता है कि जातक के दादाजी की मृत्यु होती है और द्वितीय चरण में उसके पिता की खानी होती है और तृतीय चरण में उसकी खुद की हानि होने की संभावना होती है शुरू में शनि काफी परेशान करता है बीच में आकर कुछ अच्छे फल भी देता है और जाते-जाते कुछ मिक्स में रिजल्ट देते हुए आखिरी में वह जो कुछ भी उसने लिया होता है वह उसे वापस कर देता है

pratham charan charan charan mein mana jata hai ki jatak ke dadaji ki mrityu hoti hai aur dwitiya charan mein uske pita ki khaani hoti hai aur tritiya charan mein uski khud ki hani hone ki sambhavna hoti hai shuru mein shani kaafi pareshan karta hai beech mein aakar kuch acche fal bhi deta hai aur jaate jaate kuch mix mein result dete hue aakhiri mein vaah jo kuch bhi usne liya hota hai vaah use wapas kar deta hai

प्रथम चरण चरण चरण में माना जाता है कि जातक के दादाजी की मृत्यु होती है और द्वितीय चरण में

Romanized Version
Likes  174  Dislikes    views  3035
WhatsApp_icon
7 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
1:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

चले ढाई साल में ऐसा माना जाता है कि शरीर के ऊपर वाले भाग में असर करता है यानी कि मस्तिष्क में यापन के नाची थी सिर वाले हिस्से में उस वक्त गलत निर्णय लेता है यदि वह उसके साढ़ेसाती उसके अनुकूल नहीं है तो शनि उसके अनुकूल नहीं है तो व्यक्ति गलत निर्णय लेने लगता है अगले साल में शनि की ढैया जो होती है उसके बीच वाले शरीर के दिशा लेसनर होती है ऐसा माना जाता है तो उस वक्त उसको कुछ ऐसी सूचनाएं मिलती हैं उस व्यक्ति को यह उसको किस ने धोखा दे दिया क्या उसके बहुत ही नजदीक है जिसके जिसके मित्र के ऊपर उसको बड़ा विश्वास था उसने उसको उसके साथ कुछ गलत कर दिया या परिवार के किसी से कि नहीं कुछ किसी को कोई धोखा दे दिया या पानी में आपस में कोई वह बात हो गई या किसी के तू जैसा समाचार मिला इस प्रकार की अनहोनी घटनाएं होती हैं जिसका हृदय पर उस व्यक्ति को बढ़ाना मतलब जिसको कहना चाहिए कि उसको बड़ा दुख पहुंचता है ऐसी घटनाएं सामने आती हैं तो यह देश की दया होती है अंतिम ढैय्या में कहें तो व्यक्ति को शुरू में तो इन दोनों कारणों से पहला कारण जो उसने अपने गलत डिसीजन लेने होते हैं गलत निर्णय किए हुए होता दूसरा भैया में उसको हृदय विदारक समाचार मिलते हैं और उसका अगले ढाई साल में उसका शुरुआती तो वैसे ही डिटेल थोड़ी सी दुख में गिरती है लेकिन अंत में धीरे-धीरे वह उसका शनि का असर जब समाप्त होने लगता है तो वह व्यक्ति शनि की साढ़ेसाती समाप्त करदे करते-करते फिर से अपनी पहले वाली अवस्था में आ जाता है जब उसको साढ़ेसाती जब उसकी शुरू हुई होती है

chale dhai saal mein aisa mana jata hai ki sharir ke upar waale bhag mein asar karta hai yani ki mastishk mein yaapan ke nachi thi sir waale hisse mein us waqt galat nirnay leta hai yadi vaah uske sade sati uske anukul nahi hai toh shani uske anukul nahi hai toh vyakti galat nirnay lene lagta hai agle saal mein shani ki dhaiya jo hoti hai uske beech waale sharir ke disha lesnar hoti hai aisa mana jata hai toh us waqt usko kuch aisi suchnaen milti hai us vyakti ko yah usko kis ne dhokha de diya kya uske bahut hi nazdeek hai jiske jiske mitra ke upar usko bada vishwas tha usne usko uske saath kuch galat kar diya ya parivar ke kisi se ki nahi kuch kisi ko koi dhokha de diya ya paani mein aapas mein koi vaah baat ho gayi ya kisi ke tu jaisa samachar mila is prakar ki anahoni ghatnaye hoti hai jiska hriday par us vyakti ko badhana matlab jisko kehna chahiye ki usko bada dukh pahuchta hai aisi ghatnaye saamne aati hai toh yah desh ki daya hoti hai antim dhaiyya mein kahein toh vyakti ko shuru mein toh in dono karanon se pehla karan jo usne apne galat decision lene hote hai galat nirnay kiye hue hota doosra bhaiya mein usko hriday vidarak samachar milte hai aur uska agle dhai saal mein uska shuruati toh waise hi detail thodi si dukh mein girti hai lekin ant mein dhire dhire vaah uska shani ka asar jab samapt hone lagta hai toh vaah vyakti shani ki sade sati samapt karde karte karte phir se apni pehle wali avastha mein aa jata hai jab usko sade sati jab uski shuru hui hoti hai

चले ढाई साल में ऐसा माना जाता है कि शरीर के ऊपर वाले भाग में असर करता है यानी कि मस्तिष्क

Romanized Version
Likes  148  Dislikes    views  4530
WhatsApp_icon
user

Daivagya Krishna Shastri

Astrologer, Ved, Bhagvat Mahapuran

0:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

शादी के निमित्त शुक्र ग्रह और गुरु ग्रह की युति मानी जाती है जब शुक्र और गुरु और मंगल की दशा आ जाती है तो निश्चित रूप से वह विवाह के योग्य हो जाता है और विवाह के योग बनते हैं उनकी शादी तैयारी वगैरा हो जाती है

shadi ke nimitt shukra grah aur guru grah ki yuti maani jaati hai jab shukra aur guru aur mangal ki dasha aa jaati hai toh nishchit roop se vaah vivah ke yogya ho jata hai aur vivah ke yog bante hain unki shadi taiyari vagera ho jaati hai

शादी के निमित्त शुक्र ग्रह और गुरु ग्रह की युति मानी जाती है जब शुक्र और गुरु और मंगल की द

Romanized Version
Likes  120  Dislikes    views  1739
WhatsApp_icon
user

Vimal Kishor

Astrologer

1:08
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कुंडली में

kundali mein

कुंडली में

Romanized Version
Likes  142  Dislikes    views  2614
WhatsApp_icon
user

Dr Shiv Trivedi

Astrologer.

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ढाई साल रहता है तो अपने आगे और पीछे ढाई ढाई साल तो 3 8 चैप्टर हो गए थे तो 7:30 साल हो गए इस राशि पर रहता है उस राशि में ढाई साल लेता है और उसके आगे और पीछे वाली राशियों को ढाई ढाई साल प्रभावित करता है तो टोटल 5 साल हो गया यदि आपकी कुंडली में शादी आपको फायदा भी कराई ओल्ड स्टोरी खराबी कुंडली में तो साढ़ेसाती आपकी लाइफ में बहुत कुछ खराब कर देती है 7:30 साल में

dhai saal rehta hai toh apne aage aur peeche dhai dhai saal toh 3 8 chapter ho gaye the toh 7 30 saal ho gaye is rashi par rehta hai us rashi mein dhai saal leta hai aur uske aage aur peeche wali raashiyon ko dhai dhai saal prabhavit karta hai toh total 5 saal ho gaya yadi aapki kundali mein shadi aapko fayda bhi karai old story kharabi kundali mein toh sade sati aapki life mein bahut kuch kharab kar deti hai 7 30 saal mein

ढाई साल रहता है तो अपने आगे और पीछे ढाई ढाई साल तो 3 8 चैप्टर हो गए थे तो 7:30 साल हो गए इ

Romanized Version
Likes  26  Dislikes    views  278
WhatsApp_icon
user

Dr. Ravindra Kumar

Asrtologers & Numerologists.

1:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसा होता है कि 7:30 वर्ष कहा एक समय होता है जिसमें के ग्रह वक्री होते हैं और उसमें जो है कोई शुभ काम सफल नहीं हो पाता लेकिन अगर उसके नियमों का चित्र से पालन करें तो बुरा समय आता है और अच्छे काम होते हैं तो यह एक ऐसा कहा जाता है कि अपने कर्मानुसार क्योंकि हम एक जन्म में तो है नहीं हम तो कई जन्मों के पुतले है पिछले जन्म में जो किया उसके अनुसार हमारे इस जन्म में कर्म निर्धारित होते हैं प्रभाव निर्धारित होते हैं इस जन्म में जो हम करेंगे उसके मुताबिक अगले जन्म में कर्म निर्धारित होंगे तो इस प्रकार से कर्मों का असर होता है और जो साडे 7 वर्ष तक पीरियड ऐसा आता है जिसमें कि आपके पिछले बुरे कर्मों का आपको असर भोगना पड़ता है और आप को नुकसान पूरी तरह से होने की संभावना होती है नुकसान करके उन्नति होती है और आप अच्छी पोजीशन में आजा

aisa hota hai ki 7 30 varsh kaha ek samay hota hai jisme ke grah vakri hote hain aur usme jo hai koi shubha kaam safal nahi ho pata lekin agar uske niyamon ka chitra se palan kare toh bura samay aata hai aur acche kaam hote hain toh yah ek aisa kaha jata hai ki apne karmanusar kyonki hum ek janam mein toh hai nahi hum toh kai janmon ke putale hai pichle janam mein jo kiya uske anusaar hamare is janam mein karm nirdharit hote hain prabhav nirdharit hote hain is janam mein jo hum karenge uske mutabik agle janam mein karm nirdharit honge toh is prakar se karmon ka asar hota hai aur jo saade 7 varsh tak period aisa aata hai jisme ki aapke pichle bure karmon ka aapko asar bhogna padta hai aur aap ko nuksan puri tarah se hone ki sambhavna hoti hai nuksan karke unnati hoti hai aur aap achi position mein aajad

ऐसा होता है कि 7:30 वर्ष कहा एक समय होता है जिसमें के ग्रह वक्री होते हैं और उसमें जो है क

Romanized Version
Likes  90  Dislikes    views  1344
WhatsApp_icon
user

Anil Chotrani

Astrologer

0:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सट्टा मटका रिजल्ट

satta matka result

सट्टा मटका रिजल्ट

Romanized Version
Likes  34  Dislikes    views  305
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!