1917 में जार का शासन क्यों खत्म हो गया ?...


user

Varun deshmukh

Business Owner

3:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

1917 में जवाहर ज्योति रसिया के उस समय के राजा हुआ करते थे निकलस राजा के इनकी राजधानी से विरोध में हुआ करती थी और उनके शासन के खत्म होने के लिए पीछे दो तीन कारण है मूलतः एक तो था जो शासन था उससे जो वहां का मिडिल क्लास था जिसको हम आपकी सच बोलता है जिसको हम नाहटा खेतिहर मजदूर जो था उसकी नाराजगी सबसे बड़ा कारण थी और वहां पर जो जमीन मालिकाना हक जो था जमीनों का वह कुछ बड़े बड़े जमींदार कहते हैं उनके पास हुआ करता था जो पदार्थ के काफी करीब थे सोसायटी वह काफी कुछ एग्रीकल्चर पर निर्भर करती थी मजदूरी किया करती थी और तुम बहुत बड़ा खेती कुछ लोगों के हाथों में थी वहां पर जमींदारी सिस्टम जिसका हिंदुस्तान में कहते हैं तथा इसके खिलाफ लोगों में आक्रोश था और जो कुछ इंडस्ट्री थी वहां पर भी मजदूरों की हालत सही नहीं थी जोरदार के प्रति जो लोगों की भावना थी वो 19वी शताब्दी शताब्दी उन्नीस सौ से लेकर धीरे-धीरे उनमें आक्रोश पनपता रहा इसका मूल कारण यह भी था कि यूरोप के दूसरे देश से उस समय चाहे वह फ्रांस हो उस पर हूं पागल हो जहां पर भी क्रांतियां हो चुकी थी इन क्रांतियों को देखते हुए राष्ट्रीय के समाज में भी एक क्रांति की भावना आ रही थी हालांकि इस बार के जो नेता थे जो राजा थे निकले उन्होंने इस वजह से वह काफी कुछ चीजें मैंने हुई थी वहां पर लेकिन जो लेने थे जो मैंने थे रशियन रिवॉल्यूशन के उन्होंने एक तरीके से 19वीं शताब्दी के बीच शताब्दी की शुरुआत से ही रवि क्रिएट करना चालू कर दिया था और उनकी जो पार्टी की व्हाट्सएप वॉल्यूम पार्टी ने एक आंदोलन के कारण इसको कहते हो हम प्रथम विश्वयुद्ध जानते प्रथम विश्व युद्ध कब शुरू हुआ था हंगरी ऑस्ट्रेलिया से जुड़ी शुरू हुआ था ऑस्ट्रेलिया ने 12 जबकि और रशियन अंपायर ने राष्ट्रीय नन्हा हंगरी ऑस्ट्रेलिया और रोमनी ने मिल के रसिया पर अटैक कर दिया था कि उस समय इतनी अच्छी नहीं थी तो सारे सारे धन संसाधन राज्य जब लड़ाई पर खर्च करने लगा सेना पर खर्च करने लगा आम जनता की मौत हो गई और इसी मौके का इंतजार में थे लेनी ने कैसे मौके के इंतजार में थे जहां मूल लोगों के गुस्से को आंदोलन में बदल सके और उनकी पार्टी थी उन्होंने सन् 1918 में पलट के दार को हटाकर सोवियत में लाया बारात लाया और एक समय तो मिलने तारे राज्य परिवार की हत्या तक तन्वी

1917 me jawahar jyoti rasiya ke us samay ke raja hua karte the nikalas raja ke inki rajdhani se virodh me hua karti thi aur unke shasan ke khatam hone ke liye peeche do teen karan hai moolat ek toh tha jo shasan tha usse jo wahan ka middle class tha jisko hum aapki sach bolta hai jisko hum nahta khetihar majdur jo tha uski narajgi sabse bada karan thi aur wahan par jo jameen malikana haq jo tha zameeno ka vaah kuch bade bade zamindar kehte hain unke paas hua karta tha jo padarth ke kaafi kareeb the sociaty vaah kaafi kuch agriculture par nirbhar karti thi mazdoori kiya karti thi aur tum bahut bada kheti kuch logo ke hathon me thi wahan par jamindari system jiska Hindustan me kehte hain tatha iske khilaf logo me aakrosh tha aur jo kuch industry thi wahan par bhi majduro ki halat sahi nahi thi jordaar ke prati jo logo ki bhavna thi vo v shatabdi shatabdi unnis sau se lekar dhire dhire unmen aakrosh panpata raha iska mul karan yah bhi tha ki europe ke dusre desh se us samay chahen vaah france ho us par hoon Pagal ho jaha par bhi krantiyan ho chuki thi in krantiyon ko dekhte hue rashtriya ke samaj me bhi ek kranti ki bhavna aa rahi thi halaki is baar ke jo neta the jo raja the nikle unhone is wajah se vaah kaafi kuch cheezen maine hui thi wahan par lekin jo lene the jo maine the russian revolution ke unhone ek tarike se vi shatabdi ke beech shatabdi ki shuruat se hi ravi create karna chaalu kar diya tha aur unki jo party ki whatsapp volume party ne ek andolan ke karan isko kehte ho hum pratham vishwayudh jante pratham vishwa yudh kab shuru hua tha hungry austrailia se judi shuru hua tha austrailia ne 12 jabki aur russian umpire ne rashtriya nanha hungry austrailia aur romni ne mil ke rasiya par attack kar diya tha ki us samay itni achi nahi thi toh saare saare dhan sansadhan rajya jab ladai par kharch karne laga sena par kharch karne laga aam janta ki maut ho gayi aur isi mauke ka intejar me the leni ne kaise mauke ke intejar me the jaha mul logo ke gusse ko andolan me badal sake aur unki party thi unhone san 1918 me palat ke daar ko hatakar soviet me laya baraat laya aur ek samay toh milne taare rajya parivar ki hatya tak tanwi

1917 में जवाहर ज्योति रसिया के उस समय के राजा हुआ करते थे निकलस राजा के इनकी राजधानी से वि

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  354
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
1917 mein jar ka shasan kyu khatam ho gaya ; 1917 में जार का शासन क्यों खत्म हो गया ; 1917 mein jar ka shasan kyon khatm ho gaya ; 1917 me jar ka shasan kyu khatam ho gaya ; 1917 mein jar ka shasan kyo khatm ho gaya ; 1917 mein jar ka shasan kyu khatam hua ; 1917 mein jar ka shasan kyon khatm ho gaya tha ; 1917 mein jar ka shasan kyu khatam ho gaya tha ; 1917 में जार का शासन ; सन 1917 में जार का शासन क्यों खत्म हो गया ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!