आकाश हमें नीला क्यों दिखता है?...


play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मित्रों नमस्कार जाहिर सी बात है कि हम आकाश में देखते हैं तो यह क्वेश्चन उठता है मन में कि आकाश नीला क्यों दिखाई देता है मंडल आकाश पर भी भाई मंडल है और वायुमंडल जो है वह हवा के विभिन्न प्रकार के पार्टिकल से मिलकर बनी है और ए पार्टिकल जो है प्लीज मां की तरह कार्य करते हैं और इसमें की तरह कार्य करते हैं तो जो है जब से प्रकाश किरण गुजरता है तो वह सात रंग में बढ़ जाता है जिससे हम भी और बोलते हैं और यदि हम जानते हैं कि जो है नीला रंग का बेब्लेड काम है तरंग दैर्ध्य काम है तो उसका सबसे ज्यादा प्रकीर्णन होगा और लाल रंग का विवरण ज्यादा है तुझ को सबसे कम जो है नीला रंग का तरंग देर देव बेब्लेट कम होने के कारण सबसे ज्यादा उसका परिणाम होता है भी खराब होता है तो इस केटरिंग ऑफ लाइट्स के कारण ही जो है आकाश हमें नीला दिखाई देता है ऐसा चुप था और अब राइट आंसर बोलेंगे की नीले रंग का तरंग दर्द कम है इसीलिए प्रकाश का प्रकीर्णन ज्यादा हुआ और प्रकाश का पेट में ज्यादा हो तो प्रकाश में नीला रंग फैल गई इस कारण आकाश का नीला दिखाई देना जाहिर सी बात है धन्यवाद

mitron namaskar jaahir si baat hai ki hum akash mein dekhte hain toh yeh question uthata hai man mein ki akash neela kyon dikhai deta hai mandal akash par bhi bhai mandal hai aur vayumandal jo hai wah hawa ke vibhinn prakar ke particle se milkar bani hai aur a particle jo hai please maa ki tarah karya karte hain aur ismein ki tarah karya karte hain toh jo hai jab se prakash kiran gujarat hai toh wah saat rang mein badh jata hai jisse hum bhi aur bolte hain aur yadi hum jante hain ki jo hai neela rang ka bebled kaam hai tarang dairdhy kaam hai toh uska sabse zyada prakirnan hoga aur laal rang ka vivran zyada hai tujhe ko sabse kam jo hai neela rang ka tarang der dev beblet kam hone ke kaaran sabse zyada uska parinam hota hai bhi kharab hota hai toh is Catering of lights ke kaaran hi jo hai akash humein neela dikhai deta hai aisa chup tha aur ab right answer bolenge ki neele rang ka tarang dard kam hai isliye prakash ka prakirnan zyada hua aur prakash ka pet mein zyada ho toh prakash mein neela rang fail gayi is kaaran akash ka neela dikhai dena jaahir si baat hai dhanyavad

मित्रों नमस्कार जाहिर सी बात है कि हम आकाश में देखते हैं तो यह क्वेश्चन उठता है मन में कि

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  292
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Dilsh Sheikh

Journalist

0:60
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए आकाश का कोई अपना रंग नहीं होता है दिन में आपको आकाश नीला दिखाई देता है आज रात में आपको आकाश काला दिखाई देता है अकाली आकाश के बीच में आपको चांद और तारे दिखाई देते हैं टिमटिमाते हुए होती वह सफेद होती है जिसमें सात रंग समाहित होते हैं लाल नारंगी पीला हरा नीला जामुनी बैंगनी और इसे अनुज के समय या फिल्म की सहायता से देख सकते हैं जब सफेद किरण पृथ्वी के वायुमंडल से होकर गुजरती है तो यह हवा में मौजूद विभिन्न का 9 रनों से टकराती है इस टकराव से सफेद प्रकाश विभिन्न रंग में बैठ जाते हैं और क्यों की नीला रंग बहुत ही हल्का रंग होता है और छोटी होती है उसका तरंग धैर्य तो यह हम इस वजह से हमें आकाश नीला दिखाई देता है

dekhiye akash ka koi apna rang nahi hota hai din mein aapko akash neela dikhai deta hai aaj raat mein aapko akash kaala dikhai deta hai akali akash ke beech mein aapko chand aur taare dikhai dete hain timtimate hue hoti vaah safed hoti hai jisme saat rang samahit hote hain laal narangi peela hara neela jamuni baingani aur ise anuj ke samay ya film ki sahayta se dekh sakte hain jab safed kiran prithvi ke vayumandal se hokar gujarati hai toh yah hawa mein maujud vibhinn ka 9 rano se takarati hai is takraav se safed prakash vibhinn rang mein baith jaate hain aur kyon ki neela rang bahut hi halka rang hota hai aur choti hoti hai uska tarang dhairya toh yah hum is wajah se hamein akash neela dikhai deta hai

देखिए आकाश का कोई अपना रंग नहीं होता है दिन में आपको आकाश नीला दिखाई देता है आज रात में आप

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  114
WhatsApp_icon
user

Snehasish Gupta

Journalist / Traveller

0:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सूरज के किरणों की वजह से सूरज की रोशनी है वह आकाश में फैलता है आकाश में फैलने की वजह से वह धीरे धीरे स्कैटर्ड हो जाता है जो कि हमारे आस मेरी फोटो क्या था और इसी कारण से जो आकाश है वह हमें सफेद और सफेद और हल्की नीला रंग से दिखाई देता हल्के नीले रंग का दिखाई देता है तो उसमें जो लाइट आता है वह लाइट स्टेटस

suraj ke kirano ki wajah se suraj ki roshni hai vaah akash mein failata hai akash mein failane ki wajah se vaah dhire dhire scattered ho jata hai jo ki hamare aas meri photo kya tha aur isi karan se jo akash hai vaah hamein safed aur safed aur halki neela rang se dikhai deta halke neele rang ka dikhai deta hai toh usme jo light aata hai vaah light status

सूरज के किरणों की वजह से सूरज की रोशनी है वह आकाश में फैलता है आकाश में फैलने की वजह से वह

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  403
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
kyon dikhta hai ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!