हमें सपने क्यों आते है?...


user

Pushpraj Mishra

Front End Developer

1:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमें सपने क्यों आते हैं हमें सपने इसलिए आते हैं क्योंकि जब हम रात्रि में विसर्जन करते हैं तो हमारा शरीर नश्वर हो जाता है और हमारी आत्मा बिछड़ने कहीं और चली जाती है अंतरिक्ष की सैर करते हैं इस कारण जो हमारी आत्मा देखती है वही हमें सपने में दिखाई देता है जिस तरह से परिंदे सचिव के दोपहर में सभी एक जगह पर बैठे रहते हैं पर वह अपना शरीर छोड़कर कहीं भी विचार में चाहे कहीं भी जा सकते हैं उसी तरह हमारा शरीर रात्रि के समय में सोया रहता है परंतु उसकी आत्मा अन्य जगह पर वितरित करती है इसलिए हमें सपने आते हैं जो चीज हम ज्यादातर देखते हैं या सुनते हैं उसी के अनुसार हमें सपने आती है

hamein sapne kyon aate hain hamein sapne isliye aate hain kyonki jab hum ratri mein visarjan karte hain toh hamara sharir nashwar ho jata hai aur hamari aatma bichadane kahin aur chali jaati hai antariksh ki sair karte hain is karan jo hamari aatma dekhti hai wahi hamein sapne mein dikhai deta hai jis tarah se parinde sachiv ke dopahar mein sabhi ek jagah par baithe rehte hain par vaah apna sharir chhodkar kahin bhi vichar mein chahen kahin bhi ja sakte hain usi tarah hamara sharir ratri ke samay mein soya rehta hai parantu uski aatma anya jagah par vitrit karti hai isliye hamein sapne aate hain jo cheez hum jyadatar dekhte hain ya sunte hain usi ke anusaar hamein sapne aati hai

हमें सपने क्यों आते हैं हमें सपने इसलिए आते हैं क्योंकि जब हम रात्रि में विसर्जन करते हैं

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  98
WhatsApp_icon
10 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Dinesh Yadav

Agriculturist

2:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमें सपने क्यों आते हैं तो मुझे कहना है कि स्वप्न हमारे दमित इच्छाओं का प्रदर्शन होता है विभिन्न मनोवैज्ञानिकों ने इसके विभिन्न रूपों में व्याख्या किया है सैकड़ों जिसने इसकी व्याख्या अपने ढंग से किया है कि जो हमारे मन में जो व्यावहारिक जीवन में जो चेतन एचडी में जिस इच्छाओं की पूर्ति नहीं हो सकते हैं ऐसी स्थिति जो भी हो जिन इच्छाओं की पूर्ति हम नहीं कर पाते हैं ओ मेरे अवचेतन मन में दमित हो जाता है और चेतन मन में उतर के रह जाता है वही अवचेतन मन जो हम सो जाते हैं तो हमारा चेतन मन की सुषुप्त हो जाता है मेरा यह तन मन सुसुप्त हो जाता है तो वैसे ही छुट्टी में अवचेतन मन क्रियाशील हो जाता है और क्रियाशील होने के कारण और चेतन मन में जो भी बातें दमित है जब चुका है वहीं धीरे धीरे मेरे स्वप्न में आकर हम उसको स्वप्न में उनका जो को करते हैं उन सपने में जो है सो उस दमित इच्छाओं की पूर्ति करते हैं जो हम व्यावहारिक जीवन में या फिर अवस्था में नहीं कर पाते हैं कि परेशानी जो भी उन सामाजिक बंधन हो या चाहे जो भी हो इस कारण मुझे अपनाते हैं धन्यवाद

hamein sapne kyon aate hai toh mujhe kehna hai ki swapn hamare damit ikchao ka pradarshan hota hai vibhinn manovaigyaniko ne iske vibhinn roopon mein vyakhya kiya hai saikadon jisne iski vyakhya apne dhang se kiya hai ki jo hamare man mein jo vyavaharik jeevan mein jo chetan hd mein jis ikchao ki purti nahi ho sakte hai aisi sthiti jo bhi ho jin ikchao ki purti hum nahi kar paate hai o mere avachetan man mein damit ho jata hai aur chetan man mein utar ke reh jata hai wahi avachetan man jo hum so jaate hai toh hamara chetan man ki sushupt ho jata hai mera yah tan man susupt ho jata hai toh waise hi chhutti mein avachetan man kriyasheel ho jata hai aur kriyasheel hone ke karan aur chetan man mein jo bhi batein damit hai jab chuka hai wahi dhire dhire mere swapn mein aakar hum usko swapn mein unka jo ko karte hai un sapne mein jo hai so us damit ikchao ki purti karte hai jo hum vyavaharik jeevan mein ya phir avastha mein nahi kar paate hai ki pareshani jo bhi un samajik bandhan ho ya chahen jo bhi ho is karan mujhe apanate hai dhanyavad

हमें सपने क्यों आते हैं तो मुझे कहना है कि स्वप्न हमारे दमित इच्छाओं का प्रदर्शन होता है व

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  137
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किसी भी इंसान को सपना तभी आता है जब वह उसके विषय में या किसी विशेष की विशेषता और उसे पूरा करने का कोशिश करता है

kisi bhi insaan ko sapna tabhi aata hai jab vaah uske vishay mein ya kisi vishesh ki visheshata aur use pura karne ka koshish karta hai

किसी भी इंसान को सपना तभी आता है जब वह उसके विषय में या किसी विशेष की विशेषता और उसे पूरा

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  109
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने मन की एक विशेष अवस्था होते हैं जिससे हमें वास्तविकता का आभास होता है और सपने यदि हम पूरे नींद में है तभी नहीं आते या फिर हम पूरे जगे हो तब नहीं आते बल्कि यह दोनों के बीच का होता है जिससे हमें सपने आते हैं

apne man ki ek vishesh avastha hote hain jisse hamein vastavikta ka aabhas hota hai aur sapne yadi hum poore neend mein hai tabhi nahi aate ya phir hum poore jage ho tab nahi aate balki yah dono ke beech ka hota hai jisse hamein sapne aate hain

अपने मन की एक विशेष अवस्था होते हैं जिससे हमें वास्तविकता का आभास होता है और सपने यदि हम प

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  105
WhatsApp_icon
user

Dilsh Sheikh

Journalist

1:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब आप सोते हैं तो आपका जो शरीर होता है वह सारी संपत्ति और सुविधाओं की बातों को भुलाकर एक सपने की दुनिया में खो जाता है तब जाकर आपको सपने आती है आंख बंद कर कर ही असाधारण तब अपने देखे जाते हैं या किसी और ख्याल में जाकर आप कुछ सपने देख सकते हैं और सपने इसी वजह से आते हैं और सपना आना एक आकृति को ईश्वर ने हमें दिया है यह दुनिया में सपने आते हैं और आप सपने में आपको सब कुछ कर सकते हैं जो आप करना चाहते हैं और सपने में सब कोई अपना अपने आप को सुपरमैन होता है सुपर हीरो होता है वह खुद का हीरो होता है और कभी-कभी तो आप सपने में सपने भी देख लेते हैं कि आपको काफी दर्द होता है और आप सपने में ही काफी पसीने पसीने हो जाते हैं और अगर आपका सपना काफी खूबसूरत हो आपका स्वभाव खूबसूरत होता यार आप का दिन काफी खुश खुश रहता है तो सपने एक प्राकृतिक गुण है एक नेचुरल गुण है नजर गुण है आप कह सकते हैं इसलिए में सपने आते हैं

jab aap sote hai toh aapka jo sharir hota hai vaah saree sampatti aur suvidhaon ki baaton ko bhulakar ek sapne ki duniya mein kho jata hai tab jaakar aapko sapne aati hai aankh band kar kar hi asadharan tab apne dekhe jaate hai ya kisi aur khayal mein jaakar aap kuch sapne dekh sakte hai aur sapne isi wajah se aate hai aur sapna aana ek akriti ko ishwar ne hamein diya hai yah duniya mein sapne aate hai aur aap sapne mein aapko sab kuch kar sakte hai jo aap karna chahte hai aur sapne mein sab koi apna apne aap ko superman hota hai super hero hota hai vaah khud ka hero hota hai aur kabhi kabhi toh aap sapne mein sapne bhi dekh lete hai ki aapko kaafi dard hota hai aur aap sapne mein hi kaafi pasine paseene ho jaate hai aur agar aapka sapna kaafi khoobsurat ho aapka swabhav khoobsurat hota yaar aap ka din kaafi khush khush rehta hai toh sapne ek prakirtik gun hai ek natural gun hai nazar gun hai aap keh sakte hai isliye mein sapne aate hain

जब आप सोते हैं तो आपका जो शरीर होता है वह सारी संपत्ति और सुविधाओं की बातों को भुलाकर एक स

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  239
WhatsApp_icon
user

Ashutosh Kumar

Motivational Speaker

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे दिमाग में सपने इसलिए आते हैं क्योंकि हम जो भी चीज देखते हैं और चीज चीज के बारे में हम ज्यादा चिंता करते हैं वही चीज हमारे दिमाग में याद रखिए कि हमर दिमाग कभी भी किसी नए चेहरे को भी बना सकती क्योंकि दिमाग कितना हुआ है आप किसी भी किसी सपने में किसी व्यक्ति को नहीं देखा होगा क्योंकि दिमाग से देखे हुए व्यक्ति का चित्र बना सकती है ना की अनदेखी व्यक्ति का

hamare dimag mein sapne isliye aate hain kyonki hum jo bhi cheez dekhte hain aur cheez cheez ke bare mein hum zyada chinta karte hain wahi cheez hamare dimag mein yaad rakhiye ki hombre dimag kabhi bhi kisi naye chehre ko bhi bana sakti kyonki dimag kitna hua hai aap kisi bhi kisi sapne mein kisi vyakti ko nahi dekha hoga kyonki dimag se dekhe hue vyakti ka chitra bana sakti hai na ki andekha vyakti ka

हमारे दिमाग में सपने इसलिए आते हैं क्योंकि हम जो भी चीज देखते हैं और चीज चीज के बारे में ह

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  100
WhatsApp_icon
play
user

Kavita

Writer

1:42

Likes  13  Dislikes    views  329
WhatsApp_icon
user

Mukesh

Student

0:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमें सपने इसलिए आते हैं क्योंकि हम ज्यादा मतलब हम ज्यादा सोचते हैं दिनभर हमें तो हमें कम सोचना चाहिए एंड जैसे कि हम जाना उस पर गहराई से बात कर ले जाते हैं तो वह हमारी आंखों में जाती है इसीलिए वह सपना माना जाता है तो वहां पर क्योंकि हम कभी बाबा जा रहे थे कि हेलीकॉप्टर में उड़ रहा है हम क्या वहां पर यह कुछ नहीं है यह आपका मतलब आप जैसा सोच रहे हैं तो माइंड आपका पैसा दिखा रहा है लेकिन दूसरी बात यह है कि आपकी नींद पूरी हो चुकी है तो हम गांव शो में नहीं क्योंकि वह तो आंखें बंद रहती आपको लगता हमें नींद आ रही लेकिन नींद नहीं आ रही आपकी नींद पूरी हो चुकी है अब उठ जाओ अपना काम करो पढ़ना स्टार्ट करो जय हिंद जवान

hamein sapne isliye aate hain kyonki hum zyada matlab hum zyada sochte hain dinbhar hamein toh hamein kam sochna chahiye and jaise ki hum jana us par gehrai se baat kar le jaate hain toh vaah hamari aankho mein jaati hai isliye vaah sapna mana jata hai toh wahan par kyonki hum kabhi baba ja rahe the ki helicopter mein ud raha hai hum kya wahan par yah kuch nahi hai yah aapka matlab aap jaisa soch rahe hain toh mind aapka paisa dikha raha hai lekin dusri baat yah hai ki aapki neend puri ho chuki hai toh hum gaon show mein nahi kyonki vaah toh aankhen band rehti aapko lagta hamein neend aa rahi lekin neend nahi aa rahi aapki neend puri ho chuki hai ab uth jao apna kaam karo padhna start karo jai hind jawaan

हमें सपने इसलिए आते हैं क्योंकि हम ज्यादा मतलब हम ज्यादा सोचते हैं दिनभर हमें तो हमें कम स

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  121
WhatsApp_icon
play
user

Sanchi Sharma

Journalist, Photographer

0:56

Likes  3  Dislikes    views  189
WhatsApp_icon
play
user

TS Bhanot

Teacher

1:16

Likes  28  Dislikes    views  279
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!