क्या पत्रकारिता करने के लिए मास कम्युनिकेशन होना ज़रूरी है?...


user

Nikhil Ranjan

HoD - NIELIT

0:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार राकेश ने पत्रकारिता करने के लिए मास कम्युनिकेशन होना जरूरी है तो आपको बताएंगे देखे यहां पर मासूमों को दिया जाता है तो आप देख लीजिए कि आप कोर्स करके आगे बढ़ना चाहते हैं अभी ना पोस्ट करें ही आगे बढ़ना चाहते हैं मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद

namaskar rakesh ne patrakarita karne ke liye mass communication hona zaroori hai toh aapko batayenge dekhe yahan par masumon ko diya jata hai toh aap dekh lijiye ki aap course karke aage badhana chahte hain abhi na post kare hi aage badhana chahte hain main subhkamnaayain aapke saath hain dhanyavad

नमस्कार राकेश ने पत्रकारिता करने के लिए मास कम्युनिकेशन होना जरूरी है तो आपको बताएंगे देखे

Romanized Version
Likes  708  Dislikes    views  8191
WhatsApp_icon
7 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

राकेश

Journalist

0:26
Play

Likes  23  Dislikes    views  235
WhatsApp_icon
user

DR. I.P.SINGH

Doctorate in Literature

0:42
Play

Likes  200  Dislikes    views  1399
WhatsApp_icon
user

Sunil Kumar Pandey

Editor & Writer

1:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका प्रश्न है क्या पत्रकारिता करने के लिए माफ करने दर्शन होना जरूरी है मेरी राय में पत्रकारिता करने के लिए मास कम्युनिकेशन जरूरी नहीं है लेकिन पाया आजकल जो नए लोग आ रहे हैं वह मीडिया में मास कम्युनिकेशन कोर्स करके आ रहे हैं पुराने लोगों की बात छोड़ दी जाए क्योंकि पुराने लोग अपने समाचार पत्र या मीडिया में अपनी कार के आधार पर वहां पर बहुत कुछ सीख लेते हैं उन्होंने बहुत सारे ऐसे लोग हैं उन्होंने कोर्स नहीं किया लेकिन आज जो नए लोग आ रहे हैं वह प्रोजेक्ट कम्युनिकेशन का कोर्स करके आ रहे हैं कुछ इसलिए जरूरी है कि कोर्स से मीडिया की बालिकाओं को शुरुआत में ही पता चल जाती है अतः मीडिया में क्या करना है क्या नहीं करना है इस बात का कुछ के दौरान भी जानकारी हो जाती है जबकि यदि आप कोशिश करेंगे तो आप किसी मीडिया को ज्वाइन करेंगे तो वहां आप धीरे-धीरे कार्य करके की सीट को मिलेगा और आप पहले से कोर्स किए रहेंगे तो मास्टरनी किशन की बारीकियों को आप पहले से ही जान जाएंगे इसलिए तो नहीं होती है उन लोगों को अधिकार और विचारों में हो रही है जो इस तरह के कोर्स किए होते हैं ऐसे लोगों को बता दी जाती है धन्यवाद

namaskar aapka prashna hai kya patrakarita karne ke liye maaf karne darshan hona zaroori hai meri rai me patrakarita karne ke liye mass communication zaroori nahi hai lekin paya aajkal jo naye log aa rahe hain vaah media me mass communication course karke aa rahe hain purane logo ki baat chhod di jaaye kyonki purane log apne samachar patra ya media me apni car ke aadhar par wahan par bahut kuch seekh lete hain unhone bahut saare aise log hain unhone course nahi kiya lekin aaj jo naye log aa rahe hain vaah project communication ka course karke aa rahe hain kuch isliye zaroori hai ki course se media ki balikaon ko shuruat me hi pata chal jaati hai atah media me kya karna hai kya nahi karna hai is baat ka kuch ke dauran bhi jaankari ho jaati hai jabki yadi aap koshish karenge toh aap kisi media ko join karenge toh wahan aap dhire dhire karya karke ki seat ko milega aur aap pehle se course kiye rahenge toh mastarani kishan ki barikiyon ko aap pehle se hi jaan jaenge isliye toh nahi hoti hai un logo ko adhikaar aur vicharon me ho rahi hai jo is tarah ke course kiye hote hain aise logo ko bata di jaati hai dhanyavad

नमस्कार आपका प्रश्न है क्या पत्रकारिता करने के लिए माफ करने दर्शन होना जरूरी है मेरी राय म

Romanized Version
Likes  152  Dislikes    views  1326
WhatsApp_icon
user

Sharad Dixit

Jounalist/Wildlife Expert

0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यदि आप किसी अच्छे संस्थान से पत्रकारिता का प्रशिक्षण लेते हैं उनको एक सी डिग्री प्राप्त करते हैं तो निश्चित रूप से आपके किए जाने वाले कार्य के लिए आपका अनुभव और आपकी शिक्षा काम आती है इसलिए आप पत्रकारिता करना चाहते हैं मास कम्युनिकेशन में मास कम्युनिकेशन को पढ़ना चाहते हैं तो निश्चित रूप से आपको पूरी कार्यप्रणाली समझना चाहिए और बहुत हद तक ही आवश्यक है

yadi aap kisi acche sansthan se patrakarita ka prashikshan lete hain unko ek si degree prapt karte hain toh nishchit roop se aapke kiye jaane waale karya ke liye aapka anubhav aur aapki shiksha kaam aati hai isliye aap patrakarita karna chahte hain mass communication me mass communication ko padhna chahte hain toh nishchit roop se aapko puri Karya Pranali samajhna chahiye aur bahut had tak hi aavashyak hai

यदि आप किसी अच्छे संस्थान से पत्रकारिता का प्रशिक्षण लेते हैं उनको एक सी डिग्री प्राप्त कर

Romanized Version
Likes  29  Dislikes    views  182
WhatsApp_icon
user

डॉ सुभाष गुप्ता

Professor (Journalism)/Journalist

1:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पत्रकारिता करने के लिए मास कम्युनिकेशन या जनरल जिम में कोई डिग्री होना कोई आवश्यक शर्त नहीं है लेकिन आप इसे इस तरह के उदाहरण से समझ सकते हैं कि पत्रकारिता कोई भी कर सकता है कि छोटे सरकार की बहुत छोटे अखबार की वफात कम बिकता है बहुत कम बिकता है या सिर्फ फाइल कॉपी छापली जाती है ऐसा है जैसे आप कोई कहे कि व्यापार कर दी गली ज्यादा पूंजी आवश्यक है क्या एकता के लिए जो आवश्यक है वह भाषा पर कमांड है उसकी तकनीकी जानकारी आवश्यक है उससे संबंधित कानूनों का ज्ञान आवश्यक है कुछ सरल और सहज भाषा आवश्यक है और खबरों को पहचानने की समझ आवश्यक है इसके लिए डिग्री डिप्लोमा से ज्यादा जरूरी यह है और इन्हें या तो आप अनुभवों से सीखते अनुभव से दूसरों के अनुभवों से सीख सकते हैं और चाहे तो इसका विधिवत पाटेकर कर सकते हैं पर अभी क्या आएगी सूचना विभाग की नौकरियां सरकारी मीडिया माध्यम जो है वीडियो हो सकते हैं टेलीविजन हो सकते हैं यह बहुत अच्छे जो चैनल और अखबार ने उनमें पहली शर्त पत्रकारिता की डिग्री होती है उसके आधार पर ही लिस्ट बनती है उन्हीं के आधार पर चयन होता है तो पत्रकारिता करने के लिए तो डिग्री या डिप्लोमा आवश्यक नहीं है लेकिन अच्छा पत्रकार बनने के लिए यह बहुत हद तक आवश्यक है

patrakarita karne ke liye mass communication ya general gym me koi degree hona koi aavashyak sart nahi hai lekin aap ise is tarah ke udaharan se samajh sakte hain ki patrakarita koi bhi kar sakta hai ki chote sarkar ki bahut chote akhbaar ki vafat kam bikta hai bahut kam bikta hai ya sirf file copy chapli jaati hai aisa hai jaise aap koi kahe ki vyapar kar di gali zyada punji aavashyak hai kya ekta ke liye jo aavashyak hai vaah bhasha par command hai uski takniki jaankari aavashyak hai usse sambandhit kanuno ka gyaan aavashyak hai kuch saral aur sehaz bhasha aavashyak hai aur khabaro ko pahachanne ki samajh aavashyak hai iske liye degree diploma se zyada zaroori yah hai aur inhen ya toh aap anubhavon se sikhate anubhav se dusro ke anubhavon se seekh sakte hain aur chahen toh iska vidhivat patekar kar sakte hain par abhi kya aayegi soochna vibhag ki naukriyan sarkari media madhyam jo hai video ho sakte hain television ho sakte hain yah bahut acche jo channel aur akhbaar ne unmen pehli sart patrakarita ki degree hoti hai uske aadhar par hi list banti hai unhi ke aadhar par chayan hota hai toh patrakarita karne ke liye toh degree ya diploma aavashyak nahi hai lekin accha patrakar banne ke liye yah bahut had tak aavashyak hai

पत्रकारिता करने के लिए मास कम्युनिकेशन या जनरल जिम में कोई डिग्री होना कोई आवश्यक शर्त नही

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  277
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं ऐसा नहीं किसी भी बस पत्रकार के साथ उस समय आप सीख सकते हैं इसके बाद धीरे-धीरे आप पत्रकारिता कर सकते हैं जिसके लिए किसी भी अखबार की एजेंसी है न्यूज़ चैनल के पत्रकार बन आप पत्रकारिता कर सकते हैं

nahi aisa nahi kisi bhi bus patrakar ke saath us samay aap seekh sakte hain iske baad dhire dhire aap patrakarita kar sakte hain jiske liye kisi bhi akhbaar ki agency hai news channel ke patrakar ban aap patrakarita kar sakte hain

नहीं ऐसा नहीं किसी भी बस पत्रकार के साथ उस समय आप सीख सकते हैं इसके बाद धीरे-धीरे आप पत्रक

Romanized Version
Likes  107  Dislikes    views  701
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!