आधी इंसानियत तो ऐसे ही ख़त्म हो चुकी है दुनिया से। पर अगर सारी इंसानियत ख़त्म हो जाए तो क्या होगा?...


user

Rakesh Tiwari

Life Coach, Management Trainer

1:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका तस्वीर नियत वैसी कदम शोषण अत्याचार होगा समाज समाज में अराजकता आसान और चारों तरफ हर कालखंड सकारात्मक बातचीत की राम के जमाने की हो जब रावण से ना बहुत ज्यादा संख्या में पहुंचे थे भगवान कृष्ण ने पांडवों के साथ करो कितनी बड़ी संख्या का संघार किया नखरा रहती है हमेशा सकारात्मक दर्द रहती है भगवान राम की सेना के भगवान राम

aapka tasveer niyat vaisi kadam shoshan atyachar hoga samaj samaj me arajkata aasaan aur charo taraf har kalakhand sakaratmak batchit ki ram ke jamane ki ho jab ravan se na bahut zyada sankhya me pahuche the bhagwan krishna ne pandavon ke saath karo kitni badi sankhya ka sanghar kiya nakhra rehti hai hamesha sakaratmak dard rehti hai bhagwan ram ki sena ke bhagwan ram

आपका तस्वीर नियत वैसी कदम शोषण अत्याचार होगा समाज समाज में अराजकता आसान और चारों तरफ हर का

Romanized Version
Likes  357  Dislikes    views  5097
WhatsApp_icon
19 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इंसानियत खत्म हो गई उसकी चिंता अपने जैसा कर्म इंसानियत को नकारात्मक रूप में 50 लोगों में इंसानियत है जिससे दुनिया चल रही है अब गरीबों की सेवा में लगा स्वार्थ भावना से समाज का काम कीजिए जो आदमी बीमार हो तो दीजिए माता पिता की सेवा समाज के परिवार वालों को ऊंचा उठाने के लिए देखिए कौन-कौन से हैं उनकी मदद कीजिए सवेरे पर उठिए थोड़ा सही होगा योगाभ्यास कीजिए प्राणायाम की गीता और अच्छे ग्रंथों का थोड़ा सा ध्यान पीले सवेरे पर घूमने के लिए निकाली हमार चीटियों को दाना खिलाए जानवरों से प्यार कीजिए तो दिल का आनंद लीजिए पक्षियों के विचार अच्छे होंगे तो आपको इंसानियत पत्थर का कुछ नहीं होता सर फूटता है उसी प्रकार से जो नकारात्मक शक्ति वाली इंसानियत इनके खत्म हो गई है वह आपके ऊपर सर पटक देंगे वह सब मर गया लोगों ने बदलना पड़ेगा

insaniyat khatam ho gayi uski chinta apne jaisa karm insaniyat ko nakaratmak roop me 50 logo me insaniyat hai jisse duniya chal rahi hai ab garibon ki seva me laga swarth bhavna se samaj ka kaam kijiye jo aadmi bimar ho toh dijiye mata pita ki seva samaj ke parivar walon ko uncha uthane ke liye dekhiye kaun kaun se hain unki madad kijiye savere par uthiye thoda sahi hoga yogabhayas kijiye pranayaam ki geeta aur acche granthon ka thoda sa dhyan peele savere par ghoomne ke liye nikali hamar chitiyon ko dana khilaye jaanvaro se pyar kijiye toh dil ka anand lijiye pakshiyo ke vichar acche honge toh aapko insaniyat patthar ka kuch nahi hota sir futta hai usi prakar se jo nakaratmak shakti wali insaniyat inke khatam ho gayi hai vaah aapke upar sir patak denge vaah sab mar gaya logo ne badalna padega

इंसानियत खत्म हो गई उसकी चिंता अपने जैसा कर्म इंसानियत को नकारात्मक रूप में 50 लोगों में इ

Romanized Version
Likes  236  Dislikes    views  1830
WhatsApp_icon
user

Ashok Bajpai

Rtd. Additional Collector P.C.S. Adhikari

1:57
Play

Likes  158  Dislikes    views  1624
WhatsApp_icon
user

Pankaj Kr(youtube -AJ PANKAJ MATHS GURU)

Motivational Speaker/YouTube-AJ PANKAJ MATHS GURU

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इंसानियत खत्म हो रही है लेकिन इसमें बहुत से अच्छे इंसान भी है जो अच्छे कार्य करते हैं जो समाज के लिए देश के शिकार करने हैं लोग उनकी सोच को बदलना चाहिए लोगों को गलत माना सुखदा चाहिए लोगों को सकारात्मक सोच लेना चाहिए देश प्रेम की भावना लेनी चाहिए समाज कल्याण की भावना भी चाहिए आपस में प्रेम रखना चाहिए तभी हमारा हमारे समाज के कमेंट हमारे देश का खिलौना सकता है

insaniyat khatam ho rahi hai lekin isme bahut se acche insaan bhi hai jo acche karya karte hain jo samaj ke liye desh ke shikaar karne hain log unki soch ko badalna chahiye logo ko galat mana sukhda chahiye logo ko sakaratmak soch lena chahiye desh prem ki bhavna leni chahiye samaj kalyan ki bhavna bhi chahiye aapas me prem rakhna chahiye tabhi hamara hamare samaj ke comment hamare desh ka khilona sakta hai

इंसानियत खत्म हो रही है लेकिन इसमें बहुत से अच्छे इंसान भी है जो अच्छे कार्य करते हैं जो स

Romanized Version
Likes  333  Dislikes    views  2827
WhatsApp_icon
user

Bhavin J. Shah

Life Coach

0:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं इस बात को नहीं मानता हूं आज भी इंसानियत जिंदा है देखने वाले के नजरिए के ऊपर है आज भी दुनिया में बहुत सारे कामों से हो रहे हैं जो बहुत भलाई के हो रहे हैं मार्क जुकरबर्ग हो या दिल के आठ सौ 99% संपत्ति और लोगों की भलाई के लिए दान दे दे तू कौन से निकल के लोग सो यह विचार को छोड़िए आप इतना ही सोचिए आप से क्या भला हो सकता है भी तो चेंज कि वह दूसरे तो बोल टिकिया

main is baat ko nahi manata hoon aaj bhi insaniyat zinda hai dekhne waale ke nazariye ke upar hai aaj bhi duniya mein bahut saare kaamo se ho rahe hai jo bahut bhalai ke ho rahe hai mark Zuckerberg ho ya dil ke aath sau 99 sampatti aur logo ki bhalai ke liye daan de de tu kaunsi nikal ke log so yah vichar ko chodiye aap itna hi sochiye aap se kya bhala ho sakta hai bhi toh change ki vaah dusre toh bol tikkiya

मैं इस बात को नहीं मानता हूं आज भी इंसानियत जिंदा है देखने वाले के नजरिए के ऊपर है आज भी द

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  323
WhatsApp_icon
play
user

Greeshma Nataraj

Psychology Counseling, Life Coach, NLP, Cognitive Behavioral Therapist, Motivational Speaker, Handwriting Signature Analyst.

0:53

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वीडियो में यह सच बात है कि इंसानियत धीरे-धीरे खत्म होती जा रही है हैवानियत का राज आजकल हो रहा है आप जहां भी देखो खून खराबा रेप टीजिंग आत्महत्या प्रशासन यह सब इतना बढ़ गया है कि आजकल जिंदगी की कोई गारंटी ही नहीं रही है और धीरे-धीरे इंसान भी हैवान बनते जा रहे हैं कंपटीशन रिगो दुश्मनी किस लिए पता नहीं शायद यही होगा कलयुग और इसी को कहते होंगे दुनिया का अंत होने का समय लेकिन कहीं जगह अभी भी इंसानियत है वह छोटी सी निशानी अगर हम संभाल के उस छोटी सी डोर को अगर हम संभाल कर रखेंगे तो शायद इंसानियत आगे भी बनी रह सकती है

video mein yah sach baat hai ki insaniyat dhire dhire khatam hoti ja rahi hai haivaniyat ka raj aajkal ho raha hai aap jaha bhi dekho khoon kharaaba rape teasing atmahatya prashasan yah sab itna badh gaya hai ki aajkal zindagi ki koi guarantee hi nahi rahi hai aur dhire dhire insaan bhi haivan bante ja rahe hain competition rigo dushmani kis liye pata nahi shayad yahi hoga kalyug aur isi ko kehte honge duniya ka ant hone ka samay lekin kahin jagah abhi bhi insaniyat hai vaah choti si nishani agar hum sambhaal ke us choti si door ko agar hum sambhaal kar rakhenge toh shayad insaniyat aage bhi bani reh sakti hai

वीडियो में यह सच बात है कि इंसानियत धीरे-धीरे खत्म होती जा रही है हैवानियत का राज आजकल हो

Romanized Version
Likes  178  Dislikes    views  4061
WhatsApp_icon
user

Vinod Kumar Pandey

Life Coach | Career Counsellor ::Relationship Counsellor :: Parenting Counsellor

2:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने जो प्रश्न किया है उसको तभी मैं यही कहना चाहता हूं कि आज जो समाज में इतना अधिक भ्रष्टाचार है समस्याएं हैं परेशानी है उसका बहुत बड़ा कारण है कि आज लोगों के जीवन में इंसानियत कम होता जा रहा है और यही कारण है कि आज समाज में इतनी सारी दिक्कत और समस्याएं हैं और यह ध्यान रखना होगा जितना अधिक इंसानियत कम होता जाएगा उतना ही यह समाज यह दुनिया बेकार होती चली जाएगी क्योंकि आप अगर खुद दुनिया को देखने की कोशिश करेंगे तो आप यही पाएंगे कि पहले जब लोगों की आर्थिक स्थिति नहीं थी लेकिन लोगों के अंदर इंसानियत थी तो समाज में शांति था सवार था लोग मिलजुल कर रहते थे लोग खुश थे लेकिन आज जब हर एक व्यक्ति की आर्थिक स्थिति अच्छी होने के बावजूद भी आज लोग खुश नहीं है लोग अपने जीवन को जी नहीं पा रहे हैं आज समाज में बहुत तरीके की परेशानी दिक्कतें हैं उसका बहुत बड़ा कारण है याद लोगों के अंदर इंसानियत खत्म होती जा रही है व्यक्ति केवल और केवल अपना स्वार्थ देख रहा है अपनी भलाई देख रहा अपने जीवन के बारे में सोच रहा है उससे कोई मतलब नहीं है कि दुनिया में देश में क्या हो रहा है लोगों के जीवन में क्या हो रहा है और यही कारण है कि जितना हम इंसानियत हमारे अंदर से खत्म होती है उतना ही जो हमारा व्यवहार होता हमारे अंदर सामाजिकता की कमी आती है और जब हमारे अंदर सामाजिकता की कमी आती है हमारे संबंध खराब होते हैं इससे समाज में बहुत सारी दिक्कतें परेशानियां शुरू हो जाती हैं इसीलिए मेरा यही कहना है कि जितना ही अधिक खत्म होता है इंसानियत खत्म होता जाएगा उतना ही यह समाज में समस्याएं बढ़ती चली जाएंगी दिक्कतें बढ़ती चले जाएंगे क्योंकि आर्थिक रूप से चाहे जितना मजबूत हो जाएं लेकिन जब तक आप अपने जीवन में इंसानियत को नहीं कायम रखेंगे तब तक आपका जीवन खुशहाल कभी हो नहीं सकता है आपके जीवन बहुत सारा तनाव रहेगा बहुत सारी निराशा है जीवन में खुशहाल रहने के लिए सिर्फ यह जरूरी होता है कि आप अगर इंसानियत को बनाए हुए हैं आप मानव संबंधों को महत्व देते हैं तो निश्चित तौर में आप अपने जीवन को खुशहाल तरीके से जी पाएंगे और दूसरों को भी जिले में मदद करेंगे मेरी शुभकामनाएं आपके लिए धन्यवाद

aapne jo prashna kiya hai usko tabhi main yahi kehna chahta hoon ki aaj jo samaj mein itna adhik bhrashtachar hai samasyaen hai pareshani hai uska bahut bada karan hai ki aaj logo ke jeevan mein insaniyat kam hota ja raha hai aur yahi karan hai ki aaj samaj mein itni saari dikkat aur samasyaen hai aur yah dhyan rakhna hoga jitna adhik insaniyat kam hota jaega utana hi yah samaj yah duniya bekar hoti chali jayegi kyonki aap agar khud duniya ko dekhne ki koshish karenge toh aap yahi payenge ki pehle jab logo ki aarthik sthiti nahi thi lekin logo ke andar insaniyat thi toh samaj mein shanti tha savar tha log miljul kar rehte the log khush the lekin aaj jab har ek vyakti ki aarthik sthiti achi hone ke bawajud bhi aaj log khush nahi hai log apne jeevan ko ji nahi paa rahe hai aaj samaj mein bahut tarike ki pareshani dikkaten hai uska bahut bada karan hai yaad logo ke andar insaniyat khatam hoti ja rahi hai vyakti keval aur keval apna swarth dekh raha hai apni bhalai dekh raha apne jeevan ke bare mein soch raha hai usse koi matlab nahi hai ki duniya mein desh mein kya ho raha hai logo ke jeevan mein kya ho raha hai aur yahi karan hai ki jitna hum insaniyat hamare andar se khatam hoti hai utana hi jo hamara vyavhar hota hamare andar samajikta ki kami aati hai aur jab hamare andar samajikta ki kami aati hai hamare sambandh kharab hote hai isse samaj mein bahut saari dikkaten pareshaniya shuru ho jaati hai isliye mera yahi kehna hai ki jitna hi adhik khatam hota hai insaniyat khatam hota jaega utana hi yah samaj mein samasyaen badhti chali jayegi dikkaten badhti chale jaenge kyonki aarthik roop se chahen jitna majboot ho jaye lekin jab tak aap apne jeevan mein insaniyat ko nahi kayam rakhenge tab tak aapka jeevan khushahal kabhi ho nahi sakta hai aapke jeevan bahut saara tanaav rahega bahut saari nirasha hai jeevan mein khushahal rehne ke liye sirf yah zaroori hota hai ki aap agar insaniyat ko banaye hue hai aap manav sambandhon ko mahatva dete hai toh nishchit taur mein aap apne jeevan ko khushahal tarike se ji payenge aur dusro ko bhi jile mein madad karenge meri subhkamnaayain aapke liye dhanyavad

आपने जो प्रश्न किया है उसको तभी मैं यही कहना चाहता हूं कि आज जो समाज में इतना अधिक भ्रष्टा

Romanized Version
Likes  192  Dislikes    views  1906
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अकबर ने की आधी इंसानियत वैसे ही खत्म हो चुकी है दुनिया से सारी इंसानियत खत्म हो जाए तो क्या होगा अभी आप देख सकते हैं कि मृतकों में से शराब पीने लगे हैं महिलाओं पर अत्याचार होने लगा है कि बहुत सारे कर्म किए जा रहे हैं दुष्कर्म किए जा रहे हैं तृप्ति चोरी यह सब तो आप बातें हो चुके हैं यदि सारी इंसानियत खत्म हो जाएगी तो यह सब लोगों के लिए बहुत ही छोटी सी बात होगी और इस दुनिया पर बहुत बड़ा खतरा जाएगा कोई भी किसी के लिए दयालुता का भाव नहीं रखेगा अपने स्वार्थ में चूर रहेंगे

akbar ne ki aadhi insaniyat waise hi khatam ho chuki hai duniya se saari insaniyat khatam ho jaaye toh kya hoga abhi aap dekh sakte hain ki mritakon me se sharab peene lage hain mahilaon par atyachar hone laga hai ki bahut saare karm kiye ja rahe hain dushkarm kiye ja rahe hain tripti chori yah sab toh aap batein ho chuke hain yadi saari insaniyat khatam ho jayegi toh yah sab logo ke liye bahut hi choti si baat hogi aur is duniya par bahut bada khatra jaega koi bhi kisi ke liye dayaluta ka bhav nahi rakhega apne swarth me chur rahenge

अकबर ने की आधी इंसानियत वैसे ही खत्म हो चुकी है दुनिया से सारी इंसानियत खत्म हो जाए तो क्य

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  197
WhatsApp_icon
user
0:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तब तो दुनिया खत्म हो जाएगी क्योंकि वह याद ही इंसानियत इस दुनिया को चला रही है इंसानियत है तो दुनिया है और इंसानियत जिस दिन खत्म हो गई ना तो जानवरों का राज हो जाएगा तो दुनिया रहेगी नहीं फिर जानवर रहेंगे

tab toh duniya khatam ho jayegi kyonki vaah yaad hi insaniyat is duniya ko chala rahi hai insaniyat hai toh duniya hai aur insaniyat jis din khatam ho gayi na toh jaanvaro ka raj ho jaega toh duniya rahegi nahi phir janwar rahenge

तब तो दुनिया खत्म हो जाएगी क्योंकि वह याद ही इंसानियत इस दुनिया को चला रही है इंसानियत है

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  81
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सवाल है आधी इंसानियत तो ऐसे ही खत्म हो चुकी है दुनिया से पर अगर सारी इंसानियत खत्म हो जाए तो क्या होगा आधीन सहित खत्म हो चुकी है यह कैलकुलेशन मेरे साथ गलत है मेरे ख्याल से सत्तर परसेंट यानी 70 फ़ीसदी इंसान खत्म हो चुके 30 वर्षीय बच्ची है और दुनिया भी सिर्फ उसी की वजह से बच्चे तीसरी श्री इंसानियत की वजह से अगर 30 फरवरी इंसानियत खत्म हो जाती है तो दुनिया नहीं बचेगी क्योंकि कुदरत का एक नियम है प्रकृति का एक नियम है एक शब्द है पावर ऑफ थॉट ठाट एनी टू इंसान इंसान उसे थॉट निकलते हैं जैसे इलेक्शन हुआ है एक्शन भी जो है इंसानियत का पाठ है जिसे दुनिया आज तक तरक्की कर चुके इंसान की सोच इंसान की सोच इंसान की सोच से इतना हम प्रोग्रेस कर पाए हैं अगर सारी दुनिया के इंसानो की सोच खत्म होकर सब जगह से बद्दुआ यानी तकलीफ वाली थॉट निकलती है सोच निकलती है तो दुनिया को खत्म होते देर नहीं लगेगी दुनिया खत्म हो जाएगी तो टलिसिन इसी को कहते हैं

sawaal hai aadhi insaniyat toh aise hi khatam ho chuki hai duniya se par agar saari insaniyat khatam ho jaaye toh kya hoga adhin sahit khatam ho chuki hai yah calculation mere saath galat hai mere khayal se sattar percent yani 70 fisadi insaan khatam ho chuke 30 varshiye bachi hai aur duniya bhi sirf usi ki wajah se bacche teesri shri insaniyat ki wajah se agar 30 february insaniyat khatam ho jaati hai toh duniya nahi bachegi kyonki kudrat ka ek niyam hai prakriti ka ek niyam hai ek shabd hai power of thought thaat any to insaan insaan use thought nikalte hain jaise election hua hai action bhi jo hai insaniyat ka path hai jise duniya aaj tak tarakki kar chuke insaan ki soch insaan ki soch insaan ki soch se itna hum progress kar paye hain agar saari duniya ke insano ki soch khatam hokar sab jagah se baddua yani takleef wali thought nikalti hai soch nikalti hai toh duniya ko khatam hote der nahi lagegi duniya khatam ho jayegi toh talisin isi ko kehte hain

सवाल है आधी इंसानियत तो ऐसे ही खत्म हो चुकी है दुनिया से पर अगर सारी इंसानियत खत्म हो जाए

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  72
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गुड मॉर्निंग आपके द्वारा काफी क्वेश्चन किया गया है पर मैं आपको यह बता देना चाहता हूं कि अगर आप ऐसा मानते हैं कि आदेश आने खत्म होगी तो आप गलत मानते हैं इससे मेरा मतलब यह है कि आप पहले खुद को चेंज करें क्योंकि वह आधा इंसान में हो सकते हैं कि आप दुनिया के ऊपर कमेंट करने से ज्यादा बेहतर होगा कि आप अपने आप को चेंज करें और समाज के लिए एक अच्छा व्यक्तित्व का प्रकट करें जिससे इंसान को बचाया जा सकता है क्योंकि इंसानियत खत्म होने से ज्यादा बेहतर और समाज को बढ़ाने बढ़ाने के लिए इंसान ही की जरूरत पड़ती है

good morning aapke dwara kaafi question kiya gaya hai par main aapko yah bata dena chahta hoon ki agar aap aisa maante hain ki aadesh aane khatam hogi toh aap galat maante hain isse mera matlab yah hai ki aap pehle khud ko change kare kyonki vaah aadha insaan me ho sakte hain ki aap duniya ke upar comment karne se zyada behtar hoga ki aap apne aap ko change kare aur samaj ke liye ek accha vyaktitva ka prakat kare jisse insaan ko bachaya ja sakta hai kyonki insaniyat khatam hone se zyada behtar aur samaj ko badhane badhane ke liye insaan hi ki zarurat padti hai

गुड मॉर्निंग आपके द्वारा काफी क्वेश्चन किया गया है पर मैं आपको यह बता देना चाहता हूं कि अग

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  119
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मित्र न कभी सानिया खत्म हो गई है ना खत्म होगी हमेशा अच्छे और बुरे लोग समाज में हमेशा करते हैं राहुल में गधे घोड़े भी होते हैं हमेशा अच्छे लोग होते हैं बुरे होते और इंसानियत कभी नहीं खत्म होती है यह दुनिया में इंसानियत हमेशा रहेगी चाहे कोई युग हो कोई चाहे रावण का युद्ध हो चाहे कृष्ण कहो चाहे राम का जो गो हर युग में अच्छे और बुरे लोग रहेंगे और हमेशा मानवता जिंदा रहेगी इंसानियत हमेशा रहेगी और इंसानियत कभी खत्म नहीं होती है तो आपको यह सोचना बहुत ही गलत है कि इंसानियत खत्म हो जाएगी तभी दुनिया से इंसानियत नहीं खत्म होगी होगी वह चंद्र थोड़ा सा ज्यादा समय के अनुसार होता रहता है लेकिन इंसानियत कभी नहीं खत्म होगी और अच्छे और बुरे लोग हमेशा रहेंगे धन्यवाद

mitra na kabhi saniya khatam ho gayi hai na khatam hogi hamesha acche aur bure log samaj me hamesha karte hain rahul me gadhe ghode bhi hote hain hamesha acche log hote hain bure hote aur insaniyat kabhi nahi khatam hoti hai yah duniya me insaniyat hamesha rahegi chahen koi yug ho koi chahen ravan ka yudh ho chahen krishna kaho chahen ram ka jo go har yug me acche aur bure log rahenge aur hamesha manavta zinda rahegi insaniyat hamesha rahegi aur insaniyat kabhi khatam nahi hoti hai toh aapko yah sochna bahut hi galat hai ki insaniyat khatam ho jayegi tabhi duniya se insaniyat nahi khatam hogi hogi vaah chandra thoda sa zyada samay ke anusaar hota rehta hai lekin insaniyat kabhi nahi khatam hogi aur acche aur bure log hamesha rahenge dhanyavad

मित्र न कभी सानिया खत्म हो गई है ना खत्म होगी हमेशा अच्छे और बुरे लोग समाज में हमेशा करते

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  69
WhatsApp_icon
user

Purushottam Choudhary

ब्राह्मण Next IAS institute गार्ड

0:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सारी इंसानियत खत्म होते ही फिर से नया युग शुरू होगा वैसे गणना के अनुसार शास्त्री गणना के अनुसार कड़क वर्ष का है एक बार ग्रहण लगता है उसमें मेहनत होते हैं मिलाकर का जो गन्ना शास्त्र हुआ है 10000 वर्ष का कलयुग है और अभी हम तुलसीदास जी के अनुसार 800 साल का जख्मी हुए हैं अभी जो कष्ट आपने देखा है देखा कहां है कष्ट दूर कर देंगे आपको ऐसे करना नहीं कर सकते हम बड़े-बड़े पेड़ गिर जाएंगे बड़े-बड़े 212 लगेंगे

saari insaniyat khatam hote hi phir se naya yug shuru hoga waise ganana ke anusaar shastri ganana ke anusaar kadak varsh ka hai ek baar grahan lagta hai usme mehnat hote hain milakar ka jo ganna shastra hua hai 10000 varsh ka kalyug hai aur abhi hum tulsidas ji ke anusaar 800 saal ka jakhmi hue hain abhi jo kasht aapne dekha hai dekha kaha hai kasht dur kar denge aapko aise karna nahi kar sakte hum bade bade ped gir jaenge bade bade 212 lagenge

सारी इंसानियत खत्म होते ही फिर से नया युग शुरू होगा वैसे गणना के अनुसार शास्त्री गणना के अ

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  201
WhatsApp_icon
user

Shakib

future Doctor

0:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आदि इंसानियत तो ऐसे ही खत्म हो चुकी है दुनिया से पर अगर सारी इंसानियत खत्म हो जाए तो क्या हुआ भाई दुनिया खत्म हो जाएगी बिना इंसानियत के इस दुनिया में इंसानों का काम ही क्या है मेरा माना इंसानियत खत्म हो चुकी है लेकिन अगर इंसान हो जाएगी इंसानियत खत्म हो जाएगी उसका मतलब है इंसान खत्म हो जाएंगे और इंसान खत्म हो गए तो यार रहेगा कौन इसका मतलब दुनिया खत्म हो जाएगी चंबल जवाब दुनिया खत्म हो जाएगी

aadi insaniyat toh aise hi khatam ho chuki hai duniya se par agar saari insaniyat khatam ho jaaye toh kya hua bhai duniya khatam ho jayegi bina insaniyat ke is duniya me insano ka kaam hi kya hai mera mana insaniyat khatam ho chuki hai lekin agar insaan ho jayegi insaniyat khatam ho jayegi uska matlab hai insaan khatam ho jaenge aur insaan khatam ho gaye toh yaar rahega kaun iska matlab duniya khatam ho jayegi chambal jawab duniya khatam ho jayegi

आदि इंसानियत तो ऐसे ही खत्म हो चुकी है दुनिया से पर अगर सारी इंसानियत खत्म हो जाए तो क्या

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  83
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी नमस्कार मैं उत्तम कुमार आपका सवाल है आज ही इंसानियत तो ऐसे खत्म हो चुकी है दुनिया से पर अगर तार इंसानियत खत्म हो जाए तो क्या हुआ जी अगर सारी इंसानियत खत्म हो गई तो दुनिया में अंधकार फैल जाएगा और लोग एक दूसरे को पहचानेंगे नहीं एक दूसरे की जान के पीछे तू ले रहेंगे जी धन्यवाद

ji namaskar main uttam kumar aapka sawaal hai aaj hi insaniyat toh aise khatam ho chuki hai duniya se par agar taar insaniyat khatam ho jaaye toh kya hua ji agar saari insaniyat khatam ho gayi toh duniya me andhakar fail jaega aur log ek dusre ko pahachanenge nahi ek dusre ki jaan ke peeche tu le rahenge ji dhanyavad

जी नमस्कार मैं उत्तम कुमार आपका सवाल है आज ही इंसानियत तो ऐसे खत्म हो चुकी है दुनिया से पर

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  97
WhatsApp_icon
user
1:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो पंजाबी कोचिंग की है आधी इंसान इंसानियत तो ऐसे ही खत्म हो चुकी है दुनिया से अगर सारी इंसानियत खत्म हो जाए तो क्या होगा तो तुरंत अगर सारी इंसानियत खत्म हो जाए तो कोई एक दूसरे की मदद नहीं करेगा और अपने में ही हो लगी रहेंगे और वह अपना ही देखेंगे वह किसी की मजबूरियां और दुख दर्द को नहीं जानेंगे तो फ्रेंड्स ऐसी जिंदगी से जीना ही बेकार है इंसान होकर कि आपके अंदर इंसानियत ना है और आप सिर्फ अपने लिए युद्ध फ्रेंड्स यह भी कोई जिंदगी है जो अपने ही लिए जिए और हम किसी गरीब असहाय दुर्बल की मदद भी ना कर सके तो कमेंट अगर आप दुनिया में आए हैं तो आप इसको समझे इस पर अमल करें जिससे कि यह दुनिया आगे चल सके वरना इस दुनिया में रह ही किया जाएगा जब इंसानियत ही नहीं रहेगी

hello punjabi coaching ki hai aadhi insaan insaniyat toh aise hi khatam ho chuki hai duniya se agar saree insaniyat khatam ho jaaye toh kya hoga toh turant agar saree insaniyat khatam ho jaaye toh koi ek dusre ki madad nahi karega aur apne mein hi ho lagi rahenge aur vaah apna hi dekhenge vaah kisi ki majabooriyan aur dukh dard ko nahi jaanege toh friends aisi zindagi se jeena hi bekar hai insaan hokar ki aapke andar insaniyat na hai aur aap sirf apne liye yudh friends yah bhi koi zindagi hai jo apne hi liye jiye aur hum kisi garib asahay durbal ki madad bhi na kar sake toh comment agar aap duniya mein aaye hai toh aap isko samjhe is par amal kare jisse ki yah duniya aage chal sake varna is duniya mein reh hi kiya jaega jab insaniyat hi nahi rahegi

हेलो पंजाबी कोचिंग की है आधी इंसान इंसानियत तो ऐसे ही खत्म हो चुकी है दुनिया से अगर सारी इ

Romanized Version
Likes  34  Dislikes    views  665
WhatsApp_icon
user

Kanhaiyalal Kankar

कृषि

0:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर दुनिया से पूरी इंसानियत खत्म हो जाएगी तो दुनिया का विनाश हो जाएगा क्योंकि दुनिया में इंसानियत ही सब कुछ है इंसानियत के सिवाय कुछ भी नहीं हो सकता है

agar duniya se puri insaniyat khatam ho jayegi toh duniya ka vinash ho jaega kyonki duniya me insaniyat hi sab kuch hai insaniyat ke shivaay kuch bhi nahi ho sakta hai

अगर दुनिया से पूरी इंसानियत खत्म हो जाएगी तो दुनिया का विनाश हो जाएगा क्योंकि दुनिया में इ

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  94
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इंसानियत तो इंसान पर ही आती है और धीरे-धीरे इंसानियत पर खत्म होती जा रही है तो आपकी कहना है अगर इंसानियत पूरी तरह से खत्म हो जाए तो क्या होगी अगर इंसानियत पूरी तरह से खत्म हो जाए तो इंसान और पशु में कोई भेदभाव नहीं होगी इंसान पशुओं के जैसा व्यवहार करने लगेगा यानी पाषाण युग फिर से मतलब आ जाएगा जितने हम लोग आगे जा रहे हैं मॉडर्न जा रहे हैं उतने ही पीछे चले जाएंगे अगर पूरी तरह से इंसानियत समाप्त हो जाएगी तो धन्यवाद

insaniyat toh insaan par hi aati hai aur dhire dhire insaniyat par khatam hoti ja rahi hai toh aapki kehna hai agar insaniyat puri tarah se khatam ho jaaye toh kya hogi agar insaniyat puri tarah se khatam ho jaaye toh insaan aur pashu me koi bhedbhav nahi hogi insaan pashuo ke jaisa vyavhar karne lagega yani pashan yug phir se matlab aa jaega jitne hum log aage ja rahe hain modern ja rahe hain utne hi peeche chale jaenge agar puri tarah se insaniyat samapt ho jayegi toh dhanyavad

इंसानियत तो इंसान पर ही आती है और धीरे-धीरे इंसानियत पर खत्म होती जा रही है तो आपकी कहना ह

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  94
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  8  Dislikes    views  103
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!