कुछ लोग ऐसे होते है जो माफ़ी के क़ाबिल नहीं होते। क्या आप मुझे बता सकते है की इसके बावजूद भी उन्हें क्यों माफ़ किया जाए?...


user

Avichal Singh

Business Consultant

1:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां किसी ने बड़ा अच्छा सवाल किया कि कुछ लोग ऐसे होते हैं जो माफी के काबिल नहीं होते बट क्या उनसे भी माफ कर देना चाहिए तो मेरा सीधा जवाब यह रहेगा क्यों माफी के काबिल नहीं होते मगर यहां पर लोगों की बातें यहां है बात आपकी क्या आप माफ कर सकते हैं या नहीं जी हां इसको आप ऐसे समझ लीजिए कि अगर आप किसी को माफ कर देते हैं तो वह माफी उसी नहीं वह आपको मिली है क्योंकि अगर आप उससे बात नहीं करते तो उसके प्रति जो घटना को रहता है वह आपके दिमाग में रहता है ना कि उसके दिमाग में अगर आप किसी को पसंद नहीं करते ही आपके दिमाग में उसे क्या फर्क पड़ता है आप उसे पसंद नहीं करते दुनिया में आप अकेले थोड़ी ना करते हैं नहीं करते पसंद करने वाले भी मिल जाएंगे करने वाली मिल जाएंगे आपसे कोई फाउंडेशन नहीं है उसकी इसीलिए और इसके अतिरिक्त आपके दिमाग में आप उसे अगर पसंद नहीं करते आप अपने दिमाग को कष्ट देते रहते हैं जब भी वह आपके सामने आएगा तो आपके मन में लग जाएगा इससे तो अच्छा उसे माफ कर दो उसे बात मत करो अगर नहीं करता उसको माफ करना चाहिए नहीं करना चाहिए आपको खुद डिसाइड करना है कि आप आप क्या चाहते हैं उसके बारे में क्या किस तरह का रिश्ता रखना चाहते हो

ji haan kisi ne bada accha sawaal kiya ki kuch log aise hote hain jo maafi ke kaabil nahi hote but kya unse bhi maaf kar dena chahiye toh mera seedha jawab yah rahega kyon maafi ke kaabil nahi hote magar yahan par logo ki batein yahan hai baat aapki kya aap maaf kar sakte hain ya nahi ji haan isko aap aise samajh lijiye ki agar aap kisi ko maaf kar dete hain toh vaah maafi usi nahi vaah aapko mili hai kyonki agar aap usse baat nahi karte toh uske prati jo ghatna ko rehta hai vaah aapke dimag me rehta hai na ki uske dimag me agar aap kisi ko pasand nahi karte hi aapke dimag me use kya fark padta hai aap use pasand nahi karte duniya me aap akele thodi na karte hain nahi karte pasand karne waale bhi mil jaenge karne wali mil jaenge aapse koi foundation nahi hai uski isliye aur iske atirikt aapke dimag me aap use agar pasand nahi karte aap apne dimag ko kasht dete rehte hain jab bhi vaah aapke saamne aayega toh aapke man me lag jaega isse toh accha use maaf kar do use baat mat karo agar nahi karta usko maaf karna chahiye nahi karna chahiye aapko khud decide karna hai ki aap aap kya chahte hain uske bare me kya kis tarah ka rishta rakhna chahte ho

जी हां किसी ने बड़ा अच्छा सवाल किया कि कुछ लोग ऐसे होते हैं जो माफी के काबिल नहीं होते बट

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  94
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!