सर्दियों में ध्यान क्यों नहीं लगाया जा सकता है?...


user

Achal Kumar

Business & Industry

1:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सर्दियों में ध्यान क्यों नहीं लगाया जा सकता नहीं ऐसा नहीं है कि हम आप कभी भी लगा सकते हैं किसी भी मौसम में लगा सकते हैं इनके 24 घंटे में जब आपको सुलभ हो तब ध्यान लगा सकते हैं यह बात अलग है कि ध्यान अगर कुछ विशेष समय पर लगाया जाए तो उसके फायदे ज्यादा मिलते हैं लेकिन सर्दियों में ध्यान नहीं लगाना चाहिए ऐसी कोई परंपरा नहीं है ऐसा कहीं उल्लेख किसी भी ग्रंथ शास्त्र में नहीं मिलता ध्यान लगाने के लिए सिर्फ सबसे जरूरी एक ही चीज की आवश्यकता है कि आप अच्छे रहो वातावरण में हो अपने आप को साफ सुथरा रखें एक आसन लगाएं और ध्यान लगा सकते हैं यूं तो आप ध्यान लगाने के लिए किसी विशेष आसन की ओर तो मैं भी नहीं होती है आप कुर्सी पर बैठकर ध्यान लगा सकते हैं आप किसी और जगह पर भी ध्यान रखा सकते हैं अल्टी पलटी मार के ध्यान लगा सकते हैं ध्यान लगाने के लिए कुछ विशेष कारण नहीं होता है ध्यान कभी भी किसी भी वक्त लगाया जा सकता है ध्यान सर्दियों में लगाएं या गर्मियों में लगाएं कोई फर्क नहीं पड़ता सिर्फ शाम को ध्यान लगाने के हिसाब से लगाया जाए वही बेहतर है इसमें किसी मौसम के अनुरूप ध्यान लगाना नहीं लगाना कहीं भी उल्लेख नहीं है जरूरी नहीं है ध्यान हमेशा लगाया जा सकता है

sardiyo me dhyan kyon nahi lagaya ja sakta nahi aisa nahi hai ki hum aap kabhi bhi laga sakte hain kisi bhi mausam me laga sakte hain inke 24 ghante me jab aapko sulabh ho tab dhyan laga sakte hain yah baat alag hai ki dhyan agar kuch vishesh samay par lagaya jaaye toh uske fayde zyada milte hain lekin sardiyo me dhyan nahi lagana chahiye aisi koi parampara nahi hai aisa kahin ullekh kisi bhi granth shastra me nahi milta dhyan lagane ke liye sirf sabse zaroori ek hi cheez ki avashyakta hai ki aap acche raho vatavaran me ho apne aap ko saaf suthara rakhen ek aasan lagaye aur dhyan laga sakte hain yun toh aap dhyan lagane ke liye kisi vishesh aasan ki aur toh main bhi nahi hoti hai aap kursi par baithkar dhyan laga sakte hain aap kisi aur jagah par bhi dhyan rakha sakte hain alti palati maar ke dhyan laga sakte hain dhyan lagane ke liye kuch vishesh karan nahi hota hai dhyan kabhi bhi kisi bhi waqt lagaya ja sakta hai dhyan sardiyo me lagaye ya garmiyo me lagaye koi fark nahi padta sirf shaam ko dhyan lagane ke hisab se lagaya jaaye wahi behtar hai isme kisi mausam ke anurup dhyan lagana nahi lagana kahin bhi ullekh nahi hai zaroori nahi hai dhyan hamesha lagaya ja sakta hai

सर्दियों में ध्यान क्यों नहीं लगाया जा सकता नहीं ऐसा नहीं है कि हम आप कभी भी लगा सकते हैं

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  87
KooApp_icon
WhatsApp_icon
16 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!