जब भी मैं कुछ चाहता हूँ मुझे वह चीज़ नहीं मिलती? क्या ऐसा सिर्फ़ मेरे साथ होता है या औरों के साथ भी? ऐसे में मैं निराश महसूस करना कैसे कम करूँ?...


user

Samreen Fatma

Principal

1:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो आज का सवाल है जब भी मैं कुछ चाहता हूं मुझे वह चीज नहीं मिलती क्या ऐसा सिर्फ मेरे साथ होता है या औरों के साथ भी ऐसे में मैं अमीर निराश महसूस करना कैसे कम करूं तो मैं आपको बता दूं कि ऐसा सभी मैक्सिमम लोगों के साथ होता रहता है कि उन्हें कोई चीज चाहिए होती है वह उन्हें नहीं मिलती बट मैक्सिमम के साथ होता है ना मिनिमम उसमें से कुछ लोग ऐसे भी होते हैं कि वह जो चाहते हैं उन्हें वह मिल जाता है वह कैसे मिलता है जब आप उसकी स्कूल मेहनत करते हैं तब आपको वह चीज मिलती है उसमें निराश होने की कोई जरूरत नहीं है सिर्फ आप उसमें यह दिमाग लगाएं यह सोचे कि कमी कहां आ रही है आप गलती कहां कर रहे हैं कि वह चीज आपको मिल नहीं पा रही है जैसे हम लोग सिविल सर्विसेज की तैयारी करते हैं यह किसी और एग्जाम की तैयारी करते हैं और हम उसको पाली फाइट नहीं कर पाते हैं तुम यह ना सोचें क्या हम इस काबिल नहीं है क्या मुस्लाम को पास आउट नहीं कर सकते यहां उसे पास नहीं कर पा रहे हैं बल्कि यह सोचे कि उसके सिलेबस में उसकी कौनसी बुक्स में हमने क्या गलती की है जो हमसे छूट गया है यह क्या हम नहीं पढ़ सके जो हम उसको क्वालिफाइड नहीं कर पा रहे हैं तो आप इतने निराश बिल्कुल ना अपनी मेहनत को डबल कर दे और अपनी गलती को ढूंढें ठीक है थैंक यू

hello aaj ka sawaal hai jab bhi main kuch chahta hoon mujhe vaah cheez nahi milti kya aisa sirf mere saath hota hai ya auron ke saath bhi aise me main amir nirash mehsus karna kaise kam karu toh main aapko bata doon ki aisa sabhi maximum logo ke saath hota rehta hai ki unhe koi cheez chahiye hoti hai vaah unhe nahi milti but maximum ke saath hota hai na minimum usme se kuch log aise bhi hote hain ki vaah jo chahte hain unhe vaah mil jata hai vaah kaise milta hai jab aap uski school mehnat karte hain tab aapko vaah cheez milti hai usme nirash hone ki koi zarurat nahi hai sirf aap usme yah dimag lagaye yah soche ki kami kaha aa rahi hai aap galti kaha kar rahe hain ki vaah cheez aapko mil nahi paa rahi hai jaise hum log civil services ki taiyari karte hain yah kisi aur exam ki taiyari karte hain aur hum usko paali fight nahi kar paate hain tum yah na sochen kya hum is kaabil nahi hai kya muslam ko paas out nahi kar sakte yahan use paas nahi kar paa rahe hain balki yah soche ki uske syllabus me uski kaunsi books me humne kya galti ki hai jo humse chhut gaya hai yah kya hum nahi padh sake jo hum usko qualified nahi kar paa rahe hain toh aap itne nirash bilkul na apni mehnat ko double kar de aur apni galti ko dhundhe theek hai thank you

हेलो आज का सवाल है जब भी मैं कुछ चाहता हूं मुझे वह चीज नहीं मिलती क्या ऐसा सिर्फ मेरे साथ

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  51
WhatsApp_icon
30 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Diksha career expert

Career Counsellor

3:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो दोस्तों यह जो सवाल है यह कुछ थोड़ा सा यह थोड़ा हटके है कि मैं कुछ भी चाहता हूं पर मुझे चीज नहीं मिलती तो देखिए यह सोच पर डिपेंड करता है कि अगर आप कुछ भी चाहते हैं वह चीज नहीं मुझे आपको वह चीज नहीं मुझे आप किस चीज की प्राप्ति चाहते हैं सबसे पहले आप तो यह सोचे अपनी जिंदगी में आप किस चीज को आप अपनी आईडी देना चाहते हैं देखिए अगर आप अच्छा सोचेंगे और कुछ अच्छा चाहेंगे तो कोई भी दुनिया की ताकत आपको उस अच्छी चीज को पाने के लिए रोक नहीं सकती मैं तो यही कहूंगी ठीक है और अगर आप इस समय ट्रैफिक लाइट के साथ अगर आपको यह लगता है मेरे पास एक गाड़ी होनी चाहिए मेरे पास बंगला होना चाहिए मेरे पास होना चाहिए अगर आप लोगों को देखते हुए अगर आप उस चीज की कामना करते हैं तो यह किसी के लिए भी पॉसिबल नहीं है कि वह चीज तुरंत एकदम उनको मिल जाए तुरंत बचाने तुरंत को एकदम पाले ठीक है कि आपके साथ ही नहीं औरों के साथ ही ऐसा है तो इसमें सबसे पहले तो इंसान अपनी कोडिफ्रेश करता है प्रस्तुत करता है और अपनी साउंडिंग्स को भी वह नेगेटिव 22 देता है सबसे पहले आपको एक पौष्टिक वाइफ के साथ आपको आगे चलना है आगे आपको बढ़ना है आप उन चीज को छोटी छोटी चीजों को आप लेने की कोशिश कीजिए छोटी छोटी चीजों में आप खुशियां ढूंढने की कोशिश कीजिए तो जरूरी नहीं कि आप यह जो बड़ा टाइगर लेकर के चलते हैं बड़ी-बड़ी सपने लेकर चलते हैं आप अगर उनको लेकर चलते हैं बड़े-बड़े सपने बड़े बड़े टारगेट को उसको नापा करके आप एक-एक दिन अपना गवार हैं यही दिन आप निराश हो रहे हैं तो सबसे पहले अगर आपने सोचा है बड़े सपने सोचे हैं मैं यह नहीं कहती बड़ी सपने नहीं देखिए एक दिन आप अपनों के लिए आप छोटी-छोटी खुशियों को भी नहीं मारिए छोटी छोटी खुशियां जहां से आप उसको लेने की कोशिश कीजिए चाहे तो नीचे से हो चाहे वह फूलों से हो चाहे वह पेड़ों से हो चाहे वह कोई भी वोटर सोचो कोई भी पानी का जो कहीं भी आपको दिखता है आप वहां जाइए पहले मन की शांति है अगर आप मन की शांति और दिमाग की शांति अगर आप रख लेते हैं बैलेंस तो आपको कोई भी चीज आपको मिलने से कोई भी नहीं रोक सकता तो यह मेरा मानना है यह मेरा अनुभव है तो आई हो आप भी अगस्त को ऐसे ही फील करते हैं आप ऐसे ही सोचने तो आप ही कभी जिंदगी में निराश नहीं होंगे और ना ही कभी आप इस स्टेशन को अपने लाइफ में आने देंगे जिससे कि बस स्टेशन से और भी अट्रेक्ट होते हैं 1 आपकी फैमिली हो गई 1 आपके सराउंडिंग्स आफ थे सोसायटी हो गई तो आई हो आप ही पॉजिटिव रखें और आप भी अपनी सोसाइटी में पहुंचे रखिए ओके धन्यवाद

hello doston yah jo sawaal hai yah kuch thoda sa yah thoda hatake hai ki main kuch bhi chahta hoon par mujhe cheez nahi milti toh dekhiye yah soch par depend karta hai ki agar aap kuch bhi chahte hain vaah cheez nahi mujhe aapko vaah cheez nahi mujhe aap kis cheez ki prapti chahte hain sabse pehle aap toh yah soche apni zindagi me aap kis cheez ko aap apni id dena chahte hain dekhiye agar aap accha sochenge aur kuch accha chahenge toh koi bhi duniya ki takat aapko us achi cheez ko paane ke liye rok nahi sakti main toh yahi kahungi theek hai aur agar aap is samay traffic light ke saath agar aapko yah lagta hai mere paas ek gaadi honi chahiye mere paas bangla hona chahiye mere paas hona chahiye agar aap logo ko dekhte hue agar aap us cheez ki kamna karte hain toh yah kisi ke liye bhi possible nahi hai ki vaah cheez turant ekdam unko mil jaaye turant bachane turant ko ekdam pale theek hai ki aapke saath hi nahi auron ke saath hi aisa hai toh isme sabse pehle toh insaan apni kodifresh karta hai prastut karta hai aur apni soundings ko bhi vaah Negative 22 deta hai sabse pehle aapko ek paushtik wife ke saath aapko aage chalna hai aage aapko badhana hai aap un cheez ko choti choti chijon ko aap lene ki koshish kijiye choti choti chijon me aap khushiya dhundhne ki koshish kijiye toh zaroori nahi ki aap yah jo bada tiger lekar ke chalte hain badi badi sapne lekar chalte hain aap agar unko lekar chalte hain bade bade sapne bade bade target ko usko napa karke aap ek ek din apna gavar hain yahi din aap nirash ho rahe hain toh sabse pehle agar aapne socha hai bade sapne soche hain main yah nahi kehti badi sapne nahi dekhiye ek din aap apnon ke liye aap choti choti khushiyon ko bhi nahi mariye choti choti khushiya jaha se aap usko lene ki koshish kijiye chahen toh niche se ho chahen vaah fulo se ho chahen vaah pedon se ho chahen vaah koi bhi voter socho koi bhi paani ka jo kahin bhi aapko dikhta hai aap wahan jaiye pehle man ki shanti hai agar aap man ki shanti aur dimag ki shanti agar aap rakh lete hain balance toh aapko koi bhi cheez aapko milne se koi bhi nahi rok sakta toh yah mera manana hai yah mera anubhav hai toh I ho aap bhi august ko aise hi feel karte hain aap aise hi sochne toh aap hi kabhi zindagi me nirash nahi honge aur na hi kabhi aap is station ko apne life me aane denge jisse ki bus station se aur bhi atrekt hote hain 1 aapki family ho gayi 1 aapke saraundings of the sociaty ho gayi toh I ho aap hi positive rakhen aur aap bhi apni society me pahuche rakhiye ok dhanyavad

हेलो दोस्तों यह जो सवाल है यह कुछ थोड़ा सा यह थोड़ा हटके है कि मैं कुछ भी चाहता हूं पर मुझ

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  97
WhatsApp_icon
user

Santosh Singh indrwar

Business Consultant & Life Couch

0:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वह चीज आपको कभी भी नहीं मिलती जो आपको चाहिए होती है आपको तो वह चीज मिलती है जो आपको चाहिए ही चाहिए मतलब जो चीज के लिए आप कुछ भी कर सकते हैं वहीं मिल रही है और जो जिसकी जरूरत है जिसके लिए आप पूरी जी जान से प्रयास नहीं करते वह चीज कभी नहीं मिलती

vaah cheez aapko kabhi bhi nahi milti jo aapko chahiye hoti hai aapko toh vaah cheez milti hai jo aapko chahiye hi chahiye matlab jo cheez ke liye aap kuch bhi kar sakte hain wahi mil rahi hai aur jo jiski zarurat hai jiske liye aap puri ji jaan se prayas nahi karte vaah cheez kabhi nahi milti

वह चीज आपको कभी भी नहीं मिलती जो आपको चाहिए होती है आपको तो वह चीज मिलती है जो आपको चाहिए

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  96
WhatsApp_icon
user

Dr.Paramjit Singh

Health and Fitness Expert/ Lecturer In Physical Education/

1:03
Play

Likes  116  Dislikes    views  1575
WhatsApp_icon
user

ADV. JIVAN LADHI

Advocate, Financial Advisior And Online Bussiness Coach

1:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सर नमस्कार यह तो अच्छी बात है सर कि जो आप चाहते हो आपके साथ होता है और इसे बोला जाता है लॉ ऑफ अट्रैक्शन अगर लॉ ऑफ अट्रैक्शन आपके साथ काम करता है तो आप ही के सोचते कि मैं निराश महसूस करता हूं लेकिन अब पॉजिटिव सोच आपके पास खुशियां आपके पास है आनंद आपके पास है तो फिर आप अगर उसी हिसाब से सोचना चालू करेंगे तो लॉ ऑफ अट्रैक्शन यहां पर भी काम करेगा लेकिन सर निराशा या आनंद ही कुछ नहीं होता है सब कुछ हमारे शरीर के अंदर है हर एक भाव हमारे शरीर के अंदर मान लीजिए कि एक फोटो निकालते समय हमें वह जो फोटोग्राफर बोलना है कि आप सुनाइए करो और हम स्माइल करते हो फोटो निकालते हैं तो फोटो अच्छे आते हैं तो फिर जिंदगी भर हम उस माइल को लेकर चले तो हमारी जिंदगी भी तो अच्छी हो तो फिर क्यों निराशा को अपना ले हम हम अपनी जिंदगी में हैप्पीनेस को अपनाने खुशियां को अपना हमेशा मुस्कुराते रहे तो यह निराशा निराशा भाग जाएगी तो आपके पास एक बहुत बड़ी पावर है है कि नहीं नीचे को ट्रैक करने की उस पावर को समझो उस पावर को समझ कर अपनी जिंदगी को बेहतर बनाए कोई कंफ्यूजन मत रखी है कि आपकी सोच हमेशा पॉजिटिव हमेशा पॉजिटिव और हमेशा एक्साइटमेंट वाली लड़की है इससे अपने आप वह जो आप बोल रहे हैं ना वह महसूस करना खत्म हो जाएगा ठीक है थैंक यू

sir namaskar yah toh achi baat hai sir ki jo aap chahte ho aapke saath hota hai aur ise bola jata hai law of attraction agar law of attraction aapke saath kaam karta hai toh aap hi ke sochte ki main nirash mehsus karta hoon lekin ab positive soch aapke paas khushiya aapke paas hai anand aapke paas hai toh phir aap agar usi hisab se sochna chaalu karenge toh law of attraction yahan par bhi kaam karega lekin sir nirasha ya anand hi kuch nahi hota hai sab kuch hamare sharir ke andar hai har ek bhav hamare sharir ke andar maan lijiye ki ek photo nikalate samay hamein vaah jo photographer bolna hai ki aap sunaiye karo aur hum smile karte ho photo nikalate hain toh photo acche aate hain toh phir zindagi bhar hum us mile ko lekar chale toh hamari zindagi bhi toh achi ho toh phir kyon nirasha ko apna le hum hum apni zindagi me Happiness ko apnane khushiya ko apna hamesha muskurate rahe toh yah nirasha nirasha bhag jayegi toh aapke paas ek bahut badi power hai hai ki nahi niche ko track karne ki us power ko samjho us power ko samajh kar apni zindagi ko behtar banaye koi confusion mat rakhi hai ki aapki soch hamesha positive hamesha positive aur hamesha exitement wali ladki hai isse apne aap vaah jo aap bol rahe hain na vaah mehsus karna khatam ho jaega theek hai thank you

सर नमस्कार यह तो अच्छी बात है सर कि जो आप चाहते हो आपके साथ होता है और इसे बोला जाता है लॉ

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  56
WhatsApp_icon
user

Pawan

Financial Planer

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसा हर किसी के साथ होता है और आपको वही मिलता है जो आप सच हो जाते हो और उसका मतलब यह सच में चाहते हो मतलब होता है आप उसके काबिल होगे तो ही वह चीज आपको मिल गई तो फिर का बिल पे ध्यान रखो अपने आप को इंप्रूव करते रहो हर चीज आपको मिलेगी फिर आपको भी यह ने जो लोग कि जो मैं चाहता था वह हुआ नहीं आप अपने वह काबिल बनाओ भगवान की तरफ ध्यान दो ठीक है तो सब कुछ है वह वीडियो अच्छी लगे तो लाइक करें फॉलो करें थैंक यू

aisa har kisi ke saath hota hai aur aapko wahi milta hai jo aap sach ho jaate ho aur uska matlab yah sach me chahte ho matlab hota hai aap uske kaabil hoge toh hi vaah cheez aapko mil gayi toh phir ka bill pe dhyan rakho apne aap ko improve karte raho har cheez aapko milegi phir aapko bhi yah ne jo log ki jo main chahta tha vaah hua nahi aap apne vaah kaabil banao bhagwan ki taraf dhyan do theek hai toh sab kuch hai vaah video achi lage toh like kare follow kare thank you

ऐसा हर किसी के साथ होता है और आपको वही मिलता है जो आप सच हो जाते हो और उसका मतलब यह सच में

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  90
WhatsApp_icon
user
0:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपकी सोच में और भगवान की सोच में अंतर होता है वही मिलता है जो भगवान द्वारा आपके लिए अच्छा माना गया है

aapki soch me aur bhagwan ki soch me antar hota hai wahi milta hai jo bhagwan dwara aapke liye accha mana gaya hai

आपकी सोच में और भगवान की सोच में अंतर होता है वही मिलता है जो भगवान द्वारा आपके लिए अच्छा

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  80
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  92  Dislikes    views  1283
WhatsApp_icon
user

Jaivindra Singh

Financial Expert & Corporate Consultant.

2:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो फ्रेंड्स ऐसा नहीं है कि जो चीज आप चाहते हैं वह आपको ही नहीं मिलती है ऐसा सभी के साथ होता है हमारे साथ भी होता है काफी लोगों के साथ ऐसा हो सकता है लेकिन जब तक ना मिले आप उसको गिव अप मत कीजिए ठीक है गिव अप करने का मतलब यह कि अगर आप कोई एग्जाम दे रहे हैं तो हो सकता है तो एक बार में दो बार में नहीं लेकिन आपको ब्लॉक नहीं करना आपको डटे रहना है हर बार 10% परसेंट अपनी जो मेहनत है बहुत ज्यादा लगानी है नहीं बढ़ाते रहना अपने फर्ज को अपनी मेहनत को बढ़ाते रहना फिर क्यों नहीं होगा यार ठीक है और क्या कमी रह रही है जो लोग जिस टाइम पर तुम फेल हुए थे उस टाइम पे जो लोग सख्ती से उनसे पूछो कि भाई आपने ऐसा क्या किया जो आप सतीश हो गई और मैंने ऐसा क्या किया जो मैं फेल हो गया हूं तुमसे पूछे बाप को सजेशन देंगे अगर वह नहीं देते हैं तो देखो आप सब में ऐड थॉमस अल्वा एडिसन का नाम सुना होगा जिन्होंने बल्ब बनाया था स्टार्टिंग में तो उन्होंने एक बड़ी अच्छी बात कही थी तब उन्होंने बना बनाया था तो लोगों ने उनसे पूछा कि सर आप इतने बार फेल हुए आपको कैसा लगा बताओ कितनी बार फेल हुए थे वह 9999 9999 बार इन वेरी मच नंबर चार जून का तरीका था बल्ब बनाने का 3262 10000 में 12 बल्ब बना रहे थे उन्होंने बड़ी अच्छी बात कही उन्होंने कही क्या मैं खेलनी हुआ लेकिन मैं जिस तरीके से बना रहा था उस तरीके से बनता नहीं था जिस तरीके से बनता था वह मैंने एक ही बार ट्राई किया और बन गया उन्होंने कहा कि मैं कभी हारता नहीं या तो जीतता हूं या स्पीक यादव जीता हूं जाता हूं मैं कभी हारता नहीं

hello friends aisa nahi hai ki jo cheez aap chahte hain vaah aapko hi nahi milti hai aisa sabhi ke saath hota hai hamare saath bhi hota hai kaafi logo ke saath aisa ho sakta hai lekin jab tak na mile aap usko give up mat kijiye theek hai give up karne ka matlab yah ki agar aap koi exam de rahe hain toh ho sakta hai toh ek baar me do baar me nahi lekin aapko block nahi karna aapko date rehna hai har baar 10 percent apni jo mehnat hai bahut zyada lagani hai nahi badhate rehna apne farz ko apni mehnat ko badhate rehna phir kyon nahi hoga yaar theek hai aur kya kami reh rahi hai jo log jis time par tum fail hue the us time pe jo log sakhti se unse pucho ki bhai aapne aisa kya kiya jo aap satish ho gayi aur maine aisa kya kiya jo main fail ho gaya hoon tumse pooche baap ko suggestion denge agar vaah nahi dete hain toh dekho aap sab me aid thomas alwa edison ka naam suna hoga jinhone bulb banaya tha starting me toh unhone ek badi achi baat kahi thi tab unhone bana banaya tha toh logo ne unse poocha ki sir aap itne baar fail hue aapko kaisa laga batao kitni baar fail hue the vaah 9999 9999 baar in very match number char june ka tarika tha bulb banane ka 3262 10000 me 12 bulb bana rahe the unhone badi achi baat kahi unhone kahi kya main khelni hua lekin main jis tarike se bana raha tha us tarike se banta nahi tha jis tarike se banta tha vaah maine ek hi baar try kiya aur ban gaya unhone kaha ki main kabhi harta nahi ya toh jitata hoon ya speak yadav jita hoon jata hoon main kabhi harta nahi

हेलो फ्रेंड्स ऐसा नहीं है कि जो चीज आप चाहते हैं वह आपको ही नहीं मिलती है ऐसा सभी के साथ ह

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  140
WhatsApp_icon
user

vivek sharma

BANK PO| Astrologer | Mutual Fund Advisor। Career Counselor

2:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब भी आप कुछ चाहते हैं व जी आपको नहीं मिल पाती ऐसा सिर्फ आपके साथ नहीं होता यह सभी के साथ होता है इसी को तो जिंदगी के अंदर बोला जाता है जब भी हम इसलिए तैयारी करते हैं वह नहीं मिलता जीवन में एक बार नहीं हजार बार ऐसा ही होता है और ऐसे में निराश महसूस होता है आपको पता होना चाहिए जिंदगी के अंदर हमें कोई चीज नहीं मिल रही है परेशानियां आ रही है उसका निराशा हाथ लगती है जिंदगी के अंदर और भाषा के साथ आगे बढ़ते हैं वही लोग सफल होते हैं आज तक आदमी आदमी सफलता के बाद में निकल जाते हैं उनको साथ लेकर आपकी जिंदगी में आप चाहते हो वह तो अच्छा है और जिम नहीं हुआ है वो उससे भी अच्छा है ऐसा कहने का क्योंकि बहुत अच्छा करता है हमारे जीवन में ध्यान रखें यह चाहता है कि मैं उससे भी बड़ा करो इससे भी अच्छा मुझे भी अब उसके लिए प्रयास करें अगर किसी तरह का कोई भी आपको लगता है कि ऐसा अपनी कुंडली का अध्ययन करेगी कोई भी अगर आपका शंका होती है तो आप मेरे को थोड़ा बताएंगे जरूर इसमें हेल्प करूंगा तो मुझे बारे में बोल रहे हैं वह नहीं पता है जब आपके लिए बताइए तो मैं आपकी शंका का समाधान निश्चिती कर सकें

jab bhi aap kuch chahte hain va ji aapko nahi mil pati aisa sirf aapke saath nahi hota yah sabhi ke saath hota hai isi ko toh zindagi ke andar bola jata hai jab bhi hum isliye taiyari karte hain vaah nahi milta jeevan me ek baar nahi hazaar baar aisa hi hota hai aur aise me nirash mehsus hota hai aapko pata hona chahiye zindagi ke andar hamein koi cheez nahi mil rahi hai pareshaniya aa rahi hai uska nirasha hath lagti hai zindagi ke andar aur bhasha ke saath aage badhte hain wahi log safal hote hain aaj tak aadmi aadmi safalta ke baad me nikal jaate hain unko saath lekar aapki zindagi me aap chahte ho vaah toh accha hai aur gym nahi hua hai vo usse bhi accha hai aisa kehne ka kyonki bahut accha karta hai hamare jeevan me dhyan rakhen yah chahta hai ki main usse bhi bada karo isse bhi accha mujhe bhi ab uske liye prayas kare agar kisi tarah ka koi bhi aapko lagta hai ki aisa apni kundali ka adhyayan karegi koi bhi agar aapka shanka hoti hai toh aap mere ko thoda batayenge zaroor isme help karunga toh mujhe bare me bol rahe hain vaah nahi pata hai jab aapke liye bataiye toh main aapki shanka ka samadhan nishchiti kar sake

जब भी आप कुछ चाहते हैं व जी आपको नहीं मिल पाती ऐसा सिर्फ आपके साथ नहीं होता यह सभी के साथ

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  82
WhatsApp_icon
user

Harsh Goyal

Chemical Engineer

1:16
Play

Likes  72  Dislikes    views  1791
WhatsApp_icon
user

पंकज बिंदास

कवि और लेखक

1:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है जब भी मैं कुछ चाहता हूं मुझे वह चीज नहीं मिलती क्या ऐसा सिर्फ मेरे साथ होता है या और अगर साथ भी ऐसे में मैं निराश महसूस करना कैसे कम करो तो सबसे पहले आप चाहिए मत किसी से आप परेशान मत कीजिए बुद्ध ने भी कहा है कि चाय दुख का कारण है जो चाहते हैं उसे आपके मन में कोई इच्छा जागृत होती है उसको इच्छा मत रहने दीजिएगा उसे उसी पल कीजिए तुरंत कीजिए उसे करने में विलंब मत कीजिए आप और आपका आगे है कि यह मेरे साथ होता है सबके साथ होता है यह सब के साथ होता है और आपका दुख निराशा महसूस होती है उसे कम करने का यही एक तरीका है आप दूसरों से ज्यादा एक्शन मत रखिए आपके मन में कोई विचार आता है कोई इच्छा अगर प्रकट होती है तो उसको ज्यादा देर तक इच्छा न रहने दीजिए उसे जल्दी से जल्दी पूरा करने की कोशिश कीजिए चाहे कोई भी हो किसी को कुछ कहना किसी से कोई काम हो तो प्राप्त होगी जरूर होगी धन्यवाद

aapka prashna hai jab bhi main kuch chahta hoon mujhe vaah cheez nahi milti kya aisa sirf mere saath hota hai ya aur agar saath bhi aise me main nirash mehsus karna kaise kam karo toh sabse pehle aap chahiye mat kisi se aap pareshan mat kijiye buddha ne bhi kaha hai ki chai dukh ka karan hai jo chahte hain use aapke man me koi iccha jagrit hoti hai usko iccha mat rehne dijiyega use usi pal kijiye turant kijiye use karne me vilamb mat kijiye aap aur aapka aage hai ki yah mere saath hota hai sabke saath hota hai yah sab ke saath hota hai aur aapka dukh nirasha mehsus hoti hai use kam karne ka yahi ek tarika hai aap dusro se zyada action mat rakhiye aapke man me koi vichar aata hai koi iccha agar prakat hoti hai toh usko zyada der tak iccha na rehne dijiye use jaldi se jaldi pura karne ki koshish kijiye chahen koi bhi ho kisi ko kuch kehna kisi se koi kaam ho toh prapt hogi zaroor hogi dhanyavad

आपका प्रश्न है जब भी मैं कुछ चाहता हूं मुझे वह चीज नहीं मिलती क्या ऐसा सिर्फ मेरे साथ होता

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  97
WhatsApp_icon
user

bhaand's Theatre and Acting Classes

Acting And drama Coach Casting director Drama Director

1:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए आप का सवाल है कि जब मैं कुछ चाहता हूं मुझे वह चीज नहीं मिलती ऐसा सिर्फ आप ही के साथ होता है या औरों के साथ भी होता है ऐसे में निराशा महसूस करना कैसे कम करो देखिए सबसे पहले आपकी योग्यता क्या है आप किस चीज के योग्य हैं कई बार आपकी योग्यता के अनुसार ही से आपको मिलती है जवाब योग्य नहीं होते वह चीजें आपको नहीं मिलती तो जिन चीजों के लिए आप जिज्ञासु हो अगर आपको नहीं मिलती तो आप को समझना होगा उसके कारणों पर जाना होगा और खासतौर पर अपने आप को भी देखना होगा कि मैंने जिन चीजों की लालसा किए जिज्ञासा की है क्या वह मेरे वश में है लाना क्योंकि अगर आपका कद छोटा है और आप पेड़ से अमरूद तोड़ना चाहते हैं या तो आपको एक समय का इंतजार करना होगा कि आपका कद बढ़ जाए और आप उस अमरुद को तोड़ लें या फिर अपने प्रेस में बनाना होंगे और कुछ ऐसी चीजें लगाना होगी सीडी लगाना होगी कि आप अमरुद तक पहुंच जाए तब आपको निराशा नहीं होगी और कोशिश करना अगर आप कोशिश करेंगे

dekhiye aap ka sawaal hai ki jab main kuch chahta hoon mujhe vaah cheez nahi milti aisa sirf aap hi ke saath hota hai ya auron ke saath bhi hota hai aise me nirasha mehsus karna kaise kam karo dekhiye sabse pehle aapki yogyata kya hai aap kis cheez ke yogya hain kai baar aapki yogyata ke anusaar hi se aapko milti hai jawab yogya nahi hote vaah cheezen aapko nahi milti toh jin chijon ke liye aap jigyasu ho agar aapko nahi milti toh aap ko samajhna hoga uske karanon par jana hoga aur khaasataur par apne aap ko bhi dekhna hoga ki maine jin chijon ki lalasa kiye jigyasa ki hai kya vaah mere vash me hai lana kyonki agar aapka kad chota hai aur aap ped se amrud todna chahte hain ya toh aapko ek samay ka intejar karna hoga ki aapka kad badh jaaye aur aap us amarood ko tod le ya phir apne press me banana honge aur kuch aisi cheezen lagana hogi CD lagana hogi ki aap amarood tak pohch jaaye tab aapko nirasha nahi hogi aur koshish karna agar aap koshish karenge

देखिए आप का सवाल है कि जब मैं कुछ चाहता हूं मुझे वह चीज नहीं मिलती ऐसा सिर्फ आप ही के सा

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  149
WhatsApp_icon
user

ALI MON

income tax and sales tax, financial work

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इसे हर चीज आप चाहे और आपको मिल जाएगी पॉसिबल नहीं है किसी को भी उसकी चाहिए चीज नहीं मिलती है हम किस को चाहने के लिए थोड़ा प्रश्न करना पड़ता है इस समय लगता है पर आप तो चाहते हैं उसका एक उचित होना चाहिए एक सही दिशा में होना चाहिए कि क्या आप जाने के लिए समय होता है आप भगवान नहीं है क्या और तुरंत मिल जाएगा

ise har cheez aap chahen aur aapko mil jayegi possible nahi hai kisi ko bhi uski chahiye cheez nahi milti hai hum kis ko chahne ke liye thoda prashna karna padta hai is samay lagta hai par aap toh chahte hain uska ek uchit hona chahiye ek sahi disha me hona chahiye ki kya aap jaane ke liye samay hota hai aap bhagwan nahi hai kya aur turant mil jaega

इसे हर चीज आप चाहे और आपको मिल जाएगी पॉसिबल नहीं है किसी को भी उसकी चाहिए चीज नहीं मिलती ह

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  156
WhatsApp_icon
user

Madan Nanda Haral patil

Soft Skill Trainer

2:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां नमस्कार मेरा नाम मिस्टर मदन हाल पाटिल है मैं अहमदनगर से बोल रहा हूं अपने मुझे सवाल पूछा जब भी मैं कुछ चाहता हूं मुझे वह चीज नहीं मिलती क्या ऐसा सिर्फ मेरे साथ होता है क्या और उनके साथ भी ऐसे में मैं निराश महसूस करना कैसे काम करो देखिए अब जो भी चाहते हैं वह चीज आपको नहीं मिलती तो देखिए कि ऐसा नहीं है कि आप जो चाहते हैं वह आपको मिलना ही चाहिए जो चाहती आपको मिलना चाहते तो आप पूछ जो मन्नते ही अब जो चीज इस बात की आपने जहां रहती है वहां अकेला अपने कितने प्रयास किए हैं कश्यप मन में विचार है क्या यह मेरा यह गाड़ी बंगला पैसा चाहिए और कुछ आप नहीं कर रहे हैं एक पेड़ के नीचे बैठे और विचारधारा ही आपकी कि ऐसा होना चाहिए ऐसा नहीं होता विचारों के साथ कुर्ती की जरूरत है क्या एक्शन प्लान बहुत जरूरी है बगैर एक्शन प्लान के सिवा कोई भी व्यक्ति सक्सेस नहीं हो सकता शायद आपकी जो ड्रिप से ऊपर नहीं हुए हैं आपने कोई एक्शन प्लान पर काम नहीं किया होगा दूसरी बात है कि दूसरों के साथ ऐसा होता है कि लोग सिर्फ देखते लेकर एक्शन प्लान नहीं करते उनके जीवन बीमा होता है उनके भी सारे मन्नते पूरी नहीं होती क्योंकि उन्होंने भी आपके जैसा एक्शन प्लान करने में नहीं करते प्लान पर काम नहीं करते दूसरों का एक्सप्रेस क्या है जो भी प्रोजेक्ट है उस पर जो भी कमी है उस पर वह काम नहीं करते दूसरे से बातें तो उनके जीवन में भी अनसक्सेस लेकिन एक बात है कि निराशा करते हैं तो आप लोगों को मैं यह बताना चाहता हूं कि आपको जो भी जीवन में पाना है तो उस जीवन उस अपने विचार को उसको जो अपने जो भी रब है उसका आपके लिए आपने कोई एक्शन प्लान कर सकते हैं धन्यवाद

haan namaskar mera naam mister madan haal patil hai main ahmednagar se bol raha hoon apne mujhe sawaal poocha jab bhi main kuch chahta hoon mujhe vaah cheez nahi milti kya aisa sirf mere saath hota hai kya aur unke saath bhi aise me main nirash mehsus karna kaise kaam karo dekhiye ab jo bhi chahte hain vaah cheez aapko nahi milti toh dekhiye ki aisa nahi hai ki aap jo chahte hain vaah aapko milna hi chahiye jo chahti aapko milna chahte toh aap puch jo mannate hi ab jo cheez is baat ki aapne jaha rehti hai wahan akela apne kitne prayas kiye hain kashyap man me vichar hai kya yah mera yah gaadi bangla paisa chahiye aur kuch aap nahi kar rahe hain ek ped ke niche baithe aur vichardhara hi aapki ki aisa hona chahiye aisa nahi hota vicharon ke saath kurtee ki zarurat hai kya action plan bahut zaroori hai bagair action plan ke siva koi bhi vyakti success nahi ho sakta shayad aapki jo drip se upar nahi hue hain aapne koi action plan par kaam nahi kiya hoga dusri baat hai ki dusro ke saath aisa hota hai ki log sirf dekhte lekar action plan nahi karte unke jeevan bima hota hai unke bhi saare mannate puri nahi hoti kyonki unhone bhi aapke jaisa action plan karne me nahi karte plan par kaam nahi karte dusro ka express kya hai jo bhi project hai us par jo bhi kami hai us par vaah kaam nahi karte dusre se batein toh unke jeevan me bhi anasakses lekin ek baat hai ki nirasha karte hain toh aap logo ko main yah batana chahta hoon ki aapko jo bhi jeevan me paana hai toh us jeevan us apne vichar ko usko jo apne jo bhi rab hai uska aapke liye aapne koi action plan kar sakte hain dhanyavad

हां नमस्कार मेरा नाम मिस्टर मदन हाल पाटिल है मैं अहमदनगर से बोल रहा हूं अपने मुझे सवाल पूछ

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  117
WhatsApp_icon
user

Siyaram Dubey

YouTuber/Spiritual Person/Thinker/Social-media Activist

2:54
Play

Likes  212  Dislikes    views  2071
WhatsApp_icon
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने जो है वह ठीक है क्या आपके साथ के न्यू टावरों की विशाल सकते हैं ऐसी स्थिति इंसान की जिंदगी में आती है डबल चौकी में जो चाहता हूं नहीं होता तो आपको यहां करना चाहिए उस काम को करने की वजह से टाल देते हैं वक्त निकल जाता है फिर करना चाहते हैं तो पीता भक्त लौट के नहीं आता इंसान की चाहत पूरी नहीं होती तो वह हमेशा दोस्त यह कहता है कि मैं जो चाहे जिस समय वक्त आया था उस समय आपको अपनी चाइना पैदा करनी चाहिए थी ना कि अपनी चाहत का इंतजार करना चाहिए था या आपके साथ भी होता है औरों के साथ भी होता है ऐसी स्थिति में अब जब भी वक्त है जब भी कोई जिंदगी में उतारा है उसे उसी दिन कर लीजिए को चेक करते मत डालिए निश्चित रूप से उसका फ्रेंड आपको मिलेगा क्योंकि शुरुआत हो चुकी है बीज पढ़ चुके अंकुर पोटेंगे रितु आएगी समय आएगा आज देंगे तब से फल जरूर लगने में कई वर्ष लग जाते हैं लेकिन बिजी नहीं बोला आपने सारा समय 24 * में किस सोच में ही लगा दिया तो फिर क्यों भेजा

aapne jo hai vaah theek hai kya aapke saath ke new tavaron ki vishal sakte hain aisi sthiti insaan ki zindagi me aati hai double chowki me jo chahta hoon nahi hota toh aapko yahan karna chahiye us kaam ko karne ki wajah se tal dete hain waqt nikal jata hai phir karna chahte hain toh pita bhakt lot ke nahi aata insaan ki chahat puri nahi hoti toh vaah hamesha dost yah kahata hai ki main jo chahen jis samay waqt aaya tha us samay aapko apni china paida karni chahiye thi na ki apni chahat ka intejar karna chahiye tha ya aapke saath bhi hota hai auron ke saath bhi hota hai aisi sthiti me ab jab bhi waqt hai jab bhi koi zindagi me utara hai use usi din kar lijiye ko check karte mat daaliye nishchit roop se uska friend aapko milega kyonki shuruat ho chuki hai beej padh chuke ankur potenge ritu aayegi samay aayega aaj denge tab se fal zaroor lagne me kai varsh lag jaate hain lekin busy nahi bola aapne saara samay 24 me kis soch me hi laga diya toh phir kyon bheja

आपने जो है वह ठीक है क्या आपके साथ के न्यू टावरों की विशाल सकते हैं ऐसी स्थिति इंसान की ज

Romanized Version
Likes  405  Dislikes    views  4048
WhatsApp_icon
user

Harender Kumar Yadav

Career Counsellor.

1:08
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जबकि मैं कुछ चाहता हूं मुझे वशिष्ठ गलती का एहसास सिर्फ मेरे साथ होता है औरों को साथ में मेरे में निराशा महसूस करना कैसे हो सकता है कि जो आप चाहते नहीं बोल पाते हैं आप पूरा प्रयास नहीं करते हैं उसको पाने के लिए तो इस निराशा को अपने अंदर हावी मत होने दो बार बार आप कभी गए कुछ करेंगे और फिर निराशा हो जाए उसको सोच लीजिए और मेरे में नहीं तो इतना प्यास नहीं कहती हो नहीं मिला और फिर आगे सोचना शुरु कर तो बेहतर होगा कि यह सोचे कि कहीं प्रयास विफल हो पा रहे हैं या नहीं कर पा रहे हैं इस कारण से नहीं मिल पा रहा है और अपने अंदर जो निराशा है उसको निकाली बिल्कुल मत आने दीजिए

jabki main kuch chahta hoon mujhe vashistha galti ka ehsaas sirf mere saath hota hai auron ko saath me mere me nirasha mehsus karna kaise ho sakta hai ki jo aap chahte nahi bol paate hain aap pura prayas nahi karte hain usko paane ke liye toh is nirasha ko apne andar haavi mat hone do baar baar aap kabhi gaye kuch karenge aur phir nirasha ho jaaye usko soch lijiye aur mere me nahi toh itna pyaas nahi kehti ho nahi mila aur phir aage sochna shuru kar toh behtar hoga ki yah soche ki kahin prayas vifal ho paa rahe hain ya nahi kar paa rahe hain is karan se nahi mil paa raha hai aur apne andar jo nirasha hai usko nikali bilkul mat aane dijiye

जबकि मैं कुछ चाहता हूं मुझे वशिष्ठ गलती का एहसास सिर्फ मेरे साथ होता है औरों को साथ में मे

Romanized Version
Likes  453  Dislikes    views  4016
WhatsApp_icon
user

Gopal Srivastava

Acupressure Acupuncture Sujok Therapist

1:24
Play

Likes  60  Dislikes    views  3410
WhatsApp_icon
user

Dr.miliprerna

Psychologist Carrier Counsiler Marriege Counsiler

0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हरे कृष्णा आपने पूछा है जब भी मैं कुछ चाहता हूं मुझे वह चीज नहीं मिलती क्या ऐसा सिर्फ मेरे साथ होता है और उनके साथ भी ऐसे में मैं निराश महसूस करना कैसे कम करें इसके लिए बहुत सीधा सच्चा उपाय और सरल उपाय किसी को भी मनचाही चीज नहीं मिलती उसका कारण क्या होता है कि हम जिस परमपिता परमेश्वर के आधीन रहते हैं जो हमें चला रहा है वह मानता है कि हमारे जीवन में सुखद अनुभूति हो तो कम होता है क्योंकि हो इसलिए कभी निराश नहीं होना चाहिए सब के साथ होता है और मनचाही चीज ऐसी भी नहीं मिलती है

hare krishna aapne poocha hai jab bhi main kuch chahta hoon mujhe vaah cheez nahi milti kya aisa sirf mere saath hota hai aur unke saath bhi aise me main nirash mehsus karna kaise kam kare iske liye bahut seedha saccha upay aur saral upay kisi ko bhi manchahi cheez nahi milti uska karan kya hota hai ki hum jis parampita parmeshwar ke adhin rehte hain jo hamein chala raha hai vaah maanta hai ki hamare jeevan me sukhad anubhuti ho toh kam hota hai kyonki ho isliye kabhi nirash nahi hona chahiye sab ke saath hota hai aur manchahi cheez aisi bhi nahi milti hai

हरे कृष्णा आपने पूछा है जब भी मैं कुछ चाहता हूं मुझे वह चीज नहीं मिलती क्या ऐसा सिर्फ मेरे

Romanized Version
Likes  54  Dislikes    views  532
WhatsApp_icon
user

Mann

Social Worker

1:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तो हां जी जब भी मैं कुछ चाहता हूं मुझे वह चीज नहीं मिलती कैसा सिर्फ मेरे साथ होते हैं औरों के साथ भी ऐसे में मैं इस निराशा महसूस करूंगा करता हूं पैसे कम तो सर यह तो सबके साथ ही होता है ठीक होती है अगर किसी को कुछ चाहिए ठीक है जी तो उसको नहीं मिलता अगर आपकी किस्मत में वह चीज होगी कपूर बिना काम किए मेहनत की भी मिल जाएगी अपनी बहुत मेहनत किया आप पर पैसा नहीं कमा पाया थोड़ा सा काम आपने नहीं तो मां-बाप के आत्मिक शांति नहीं मिली आपको निराश हो जाते हैं तो टेंशन ना लो अगर एक चीज से अपने आप दूसरे किस को ट्राई करें किसी की मदद ले किसी के साथ पार्टनरशिप करें या कोई भी काम करना है आपको प्लीज की नॉलेज होनी चाहिए कि जिस नॉलेज के हिसाब से आप काम कर रहे हो और उसका को मेहनत का फल मिले ठीक है सर

toh haan ji jab bhi main kuch chahta hoon mujhe vaah cheez nahi milti kaisa sirf mere saath hote hain auron ke saath bhi aise me main is nirasha mehsus karunga karta hoon paise kam toh sir yah toh sabke saath hi hota hai theek hoti hai agar kisi ko kuch chahiye theek hai ji toh usko nahi milta agar aapki kismat me vaah cheez hogi kapur bina kaam kiye mehnat ki bhi mil jayegi apni bahut mehnat kiya aap par paisa nahi kama paya thoda sa kaam aapne nahi toh maa baap ke atmik shanti nahi mili aapko nirash ho jaate hain toh tension na lo agar ek cheez se apne aap dusre kis ko try kare kisi ki madad le kisi ke saath partnership kare ya koi bhi kaam karna hai aapko please ki knowledge honi chahiye ki jis knowledge ke hisab se aap kaam kar rahe ho aur uska ko mehnat ka fal mile theek hai sir

तो हां जी जब भी मैं कुछ चाहता हूं मुझे वह चीज नहीं मिलती कैसा सिर्फ मेरे साथ होते हैं औरों

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  115
WhatsApp_icon
user

S Bajpay

Yoga Expert | Beautician & Gharelu Nuskhe Expert

1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राम राम जी की आपका प्रश्न जब मैं खुश जब मैं कुछ चाहता हूं मुझे चीज नहीं मिलती है घर से मेरे साथ होता है औरों के साथ भी तो आपको बता दें सभी के साथ ऐसा होता है आपके साथी ने उनके मां-बाप या उनके पुरखे लोग इतना पैसा लग गए उनकी मनमानी की पूरी हो जाए वह बात अलग है उसमें भी संतुष्ट नहीं मिलती इंसान की इंसान में जो कुछ सोचा होता है अगर करता है उसके मन से तो वह खुशी बहुत ज्यादा होती है अगर आपने सोचा है जो काम तो आप अगर अभी नहीं मिली आपको आपको वह नहीं मिलाएगा का तो मेरा नाम और दुगनी इच्छाशक्ति से जुड़ जाए उस कार को करने में और देखे कहां पर कमी रह गई जो कमी है उनको जरूर करिएगा और आप दोबारा से उस कार्य के लिए जुड़ जाएंगे भगवान आपकी सभी इच्छाएं पूरी करेगा बचके और किसी तो आपको अवश्य सफलता मिलेगी ऐसा नहीं कि एक बार काम नहीं हो सकते अगर आपने जो सोचा है बस आपको सफलता मिलेगी ही आपका दिन शुभ हो

ram ram ji ki aapka prashna jab main khush jab main kuch chahta hoon mujhe cheez nahi milti hai ghar se mere saath hota hai auron ke saath bhi toh aapko bata de sabhi ke saath aisa hota hai aapke sathi ne unke maa baap ya unke purkhe log itna paisa lag gaye unki manmani ki puri ho jaaye vaah baat alag hai usme bhi santusht nahi milti insaan ki insaan me jo kuch socha hota hai agar karta hai uske man se toh vaah khushi bahut zyada hoti hai agar aapne socha hai jo kaam toh aap agar abhi nahi mili aapko aapko vaah nahi milaega ka toh mera naam aur dugni ichchhaashakti se jud jaaye us car ko karne me aur dekhe kaha par kami reh gayi jo kami hai unko zaroor kariega aur aap dobara se us karya ke liye jud jaenge bhagwan aapki sabhi ichhaen puri karega bachake aur kisi toh aapko avashya safalta milegi aisa nahi ki ek baar kaam nahi ho sakte agar aapne jo socha hai bus aapko safalta milegi hi aapka din shubha ho

राम राम जी की आपका प्रश्न जब मैं खुश जब मैं कुछ चाहता हूं मुझे चीज नहीं मिलती है घर से मेर

Romanized Version
Likes  261  Dislikes    views  2538
WhatsApp_icon
user

Ashok Clinic

Sexologist

0:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब भी मैं कुछ चाहता हूं मुझे वह चीज नहीं मिलती क्या ऐसा सिर्फ मेरे साथ होता है या औरों के साथ हुई ऐसे में मैं बहुत निराश हो जाता हूं सबसे पहले हैं आप ओवर विशेष हैं या बिल्कुल कच्चे हैं जो चीज चाहते हैं मिल जाए ऐसा ही ना रखो कोई चीज की चाहत ना रखो सादा जीवन निर्भय जीवन चलता है कोई कमी नहीं रहेगी ऐसा आप क्या चाहते हैं क्या आपको सांस नहीं आ रही क्या आपको आंखों से दिखाई नहीं दे रहा क्या आप अपने पांव से चल नहीं रहे क्या आपको रात को अच्छी नींद नहीं आ रही क्या नहीं मिलता क्या सुबह शाम आपको रोटी नहीं मिलती सब कुछ मिलता है ऐसा क्या है जो आप चाहते हैं नहीं मिलता उसके लिए मेहंदी के लिए कुछ रास्ते पर चलेगा

jab bhi main kuch chahta hoon mujhe vaah cheez nahi milti kya aisa sirf mere saath hota hai ya auron ke saath hui aise me main bahut nirash ho jata hoon sabse pehle hain aap over vishesh hain ya bilkul kacche hain jo cheez chahte hain mil jaaye aisa hi na rakho koi cheez ki chahat na rakho saada jeevan nirbhay jeevan chalta hai koi kami nahi rahegi aisa aap kya chahte hain kya aapko saans nahi aa rahi kya aapko aakhon se dikhai nahi de raha kya aap apne paav se chal nahi rahe kya aapko raat ko achi neend nahi aa rahi kya nahi milta kya subah shaam aapko roti nahi milti sab kuch milta hai aisa kya hai jo aap chahte hain nahi milta uske liye mehendi ke liye kuch raste par chalega

जब भी मैं कुछ चाहता हूं मुझे वह चीज नहीं मिलती क्या ऐसा सिर्फ मेरे साथ होता है या औरों के

Romanized Version
Likes  518  Dislikes    views  4516
WhatsApp_icon
user

Best Astrologer Anju Sharma

Astrologer Consultant

3:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आशीष जी हां बिल्कुल ऐसे ही होता है हर इंसान को लगता है कि जो मुझे चाहिए वह मुझे नहीं मिलता और दूसरों को मिलता है लेकिन मैं तो ऐसा ही उनसे कॉलेज अगर आप समझते हैं तो आप इस बात को बहुत आसानी से समझ सकते हो कि हमेशा हमें दूसरों के पास जो है वह हमें बहुत अच्छा और बहुत बढ़िया बहुत ज्यादा लगता है लेकिन खुद के पास जो है वह हमें बड़ा कम तक लगता है तो यह तो ह्यूमन नेचर है इंसानी फितरत है ऐसा होता नहीं है अगर आप यह सोचते हो और इसी चक्कर में आप निराशा से जकड़े जा रहे हो अपने आप को इस निराशा से आप स्वयं ही निकाल सकते हो इसके लिए कोई एस्ट्रोलॉजिकल हेल्प नहीं है यह तो आपका फोन प्रोसेस है आपकी सोच है नजरिया है आप अगर उससे मत लोगे तो सब कुछ सही हो जाएगा धीरे शूटआउट कोई शक नहीं है इस बात अगर आप अपनी सोच बदल लेते हैं अपनी सोच को कैसे बदलेंगे बड़ा इजी सा आपको मैं तरीका बताती हूं यह सोचिए कि आपके पास क्या क्या है और उसका शुकराना करे शुक्र है कि यह है और दुनिया में बहुतों के पास वह भी नहीं है और जब जब आप भगवान जी का और कुदरत का शुकराना करेंगे फिर आप देखिए कि धीरे-धीरे आपकी मांगने की जो भगवान से मांगते हैं मंदिर में खड़े हो जाएं उनकी प्रतिमा के आगे खड़े हो जाए तो हम मांगना शुरू कर देते मुझे गाड़ी दे दे मुझे पैसा दे दे मुझे सेहत दे दे दे दे जब आप शुकराना करने लगेंगे तो आपको मांगना भी खत्म हो जाएगा और जैसे ही आपका मांगना खत्म होता है भगवान आपको बहुत ज्यादा देना शुरू कर देता है ठीक वैसे ही जैसे कोई बच्चा अपनी मम्मी पापा से मांगता रहे मुझे चिप्स ले दो बिस्किट ले दो मुझे यह भी चाहिए अच्छे कपड़े चाहिए मुझे जूते चाहिए ब्रांडेड चाहिए इतने महंगे चाहिए तो मां-बाप क्या होते हैं इरिटेट हो जाते तंग आ जाते दुखी हो जाते फिर जो आज रसोई घर में खाना भी बनता है ना वह भी इरिटेट होकर बंद वह मैं भी दुखी हो जाती है लेकिन जब बच्चा कुछ नहीं मानता तो पहले तो उस खाने में बड़ी दुआएं बड़ी पॉजिटिविटी से खाना बनता है रसोईघर में और माता-पिता के पास जो भी होता है जितना भी वह समर्थ होते हैं जितना पैसा काट सकते हैं वह सब कुछ अपने बच्चे पर खर्च देते हैं ठीक है ऐसे ही परमात्मा जी हमारे माता-पिता हैं जब हम उनसे मांगना बंद कर देंगे तो वह अपने आप देंगे फिर आप कभी जीवन में सोचोगे ही नहीं निराशा तो कभी आएगी नहीं सिर्फ आपने अपनी सोच बदलनी है और जो अभी मैंने आपको तरीका बताया वह करके देखिए आप डेफिनेटली थैंक्यू के लिए मुझे मैसेज जरूर करेंगे गॉड ब्लेस यू स्टे स्टे स्टे अट होम थैंक यू

aashish ji haan bilkul aise hi hota hai har insaan ko lagta hai ki jo mujhe chahiye vaah mujhe nahi milta aur dusro ko milta hai lekin main toh aisa hi unse college agar aap samajhte hain toh aap is baat ko bahut aasani se samajh sakte ho ki hamesha hamein dusro ke paas jo hai vaah hamein bahut accha aur bahut badhiya bahut zyada lagta hai lekin khud ke paas jo hai vaah hamein bada kam tak lagta hai toh yah toh human nature hai insani phitarat hai aisa hota nahi hai agar aap yah sochte ho aur isi chakkar me aap nirasha se jakade ja rahe ho apne aap ko is nirasha se aap swayam hi nikaal sakte ho iske liye koi estrolajikal help nahi hai yah toh aapka phone process hai aapki soch hai najariya hai aap agar usse mat loge toh sab kuch sahi ho jaega dhire shootout koi shak nahi hai is baat agar aap apni soch badal lete hain apni soch ko kaise badalenge bada easy sa aapko main tarika batati hoon yah sochiye ki aapke paas kya kya hai aur uska shukrana kare shukra hai ki yah hai aur duniya me bahuton ke paas vaah bhi nahi hai aur jab jab aap bhagwan ji ka aur kudrat ka shukrana karenge phir aap dekhiye ki dhire dhire aapki mangne ki jo bhagwan se mangate hain mandir me khade ho jayen unki pratima ke aage khade ho jaaye toh hum maangna shuru kar dete mujhe gaadi de de mujhe paisa de de mujhe sehat de de de de jab aap shukrana karne lagenge toh aapko maangna bhi khatam ho jaega aur jaise hi aapka maangna khatam hota hai bhagwan aapko bahut zyada dena shuru kar deta hai theek waise hi jaise koi baccha apni mummy papa se mangta rahe mujhe chips le do biscuit le do mujhe yah bhi chahiye acche kapde chahiye mujhe joote chahiye branded chahiye itne mehnge chahiye toh maa baap kya hote hain irritate ho jaate tang aa jaate dukhi ho jaate phir jo aaj rasoi ghar me khana bhi banta hai na vaah bhi irritate hokar band vaah main bhi dukhi ho jaati hai lekin jab baccha kuch nahi maanta toh pehle toh us khane me badi duaen badi positivity se khana banta hai rasoi ghar me aur mata pita ke paas jo bhi hota hai jitna bhi vaah samarth hote hain jitna paisa kaat sakte hain vaah sab kuch apne bacche par kharch dete hain theek hai aise hi paramatma ji hamare mata pita hain jab hum unse maangna band kar denge toh vaah apne aap denge phir aap kabhi jeevan me sochoge hi nahi nirasha toh kabhi aayegi nahi sirf aapne apni soch badalni hai aur jo abhi maine aapko tarika bataya vaah karke dekhiye aap definetli thainkyu ke liye mujhe massage zaroor karenge god bless you stay stay stay attack home thank you

आशीष जी हां बिल्कुल ऐसे ही होता है हर इंसान को लगता है कि जो मुझे चाहिए वह मुझे नहीं मिलता

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  144
WhatsApp_icon
user

Manish Dev

Motivational Speaker, Yoga-Meditation Guide, Spiritualist, Psycho-analyst, Astrologer, Spiritual Healer, Life Coach

1:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसा इसलिए होता है क्योंकि तुम किसी खास समय में देखते हो कि तुम जो चाहते हो वह तुम्हें नहीं मिल रही है लेकिन तुम अगर अपने लंबे जीवन में देखोगे तो तुम्हें बहुत हमने ऐसा बहुत कुछ प्राप्त किया जो तुम चाहते हो चाहते थे और किसी दूसरे के जीवन हम देखते हैं तो हमें लगता है कि भाई नहीं वह जो चाहता उसके पास तो है लेकिन मैं तो चाहता हूं मेरे पास नहीं है तुम इस प्रकार से सोचने लग जाते हैं लेकिन उसके भी दूसरे व्यक्ति कभी जीवन देखोगे तो जीवन के कई घड़ियों में उसके पास वह चीजें नहीं रही जो वह चाहता था कि इस समय समय की बात है पूरा जीवन देखोगे तो पाओगे कि सब कुछ बराबर है ऐसा भी हुआ कि जो चाहते थे नहीं मिला और ऐसा भी होगा तो चाहते थे वह मिल गया तो जीवन यही है यह संसार यह प्रकृति ऐसे ही है आधा सुख आधा दुख आधा लाभ अभी आधा हानि के लिए हुए पूरी तरह से लाभ किसी को नहीं होता पूरी तरह से हानि भी किसी को नहीं होता अगर बने परिवेश में देखा जा छोटे से परिवेश में देखोगे तो या तो आपको लाभ हो रहा होगा या फिर आपको हानि हो रही होगी तो दृष्टिकोण बदलेंगे तो सब कुछ बदलेगा

aisa isliye hota hai kyonki tum kisi khas samay me dekhte ho ki tum jo chahte ho vaah tumhe nahi mil rahi hai lekin tum agar apne lambe jeevan me dekhoge toh tumhe bahut humne aisa bahut kuch prapt kiya jo tum chahte ho chahte the aur kisi dusre ke jeevan hum dekhte hain toh hamein lagta hai ki bhai nahi vaah jo chahta uske paas toh hai lekin main toh chahta hoon mere paas nahi hai tum is prakar se sochne lag jaate hain lekin uske bhi dusre vyakti kabhi jeevan dekhoge toh jeevan ke kai ghadiyon me uske paas vaah cheezen nahi rahi jo vaah chahta tha ki is samay samay ki baat hai pura jeevan dekhoge toh paoge ki sab kuch barabar hai aisa bhi hua ki jo chahte the nahi mila aur aisa bhi hoga toh chahte the vaah mil gaya toh jeevan yahi hai yah sansar yah prakriti aise hi hai aadha sukh aadha dukh aadha labh abhi aadha hani ke liye hue puri tarah se labh kisi ko nahi hota puri tarah se hani bhi kisi ko nahi hota agar bane parivesh me dekha ja chote se parivesh me dekhoge toh ya toh aapko labh ho raha hoga ya phir aapko hani ho rahi hogi toh drishtikon badalenge toh sab kuch badlega

ऐसा इसलिए होता है क्योंकि तुम किसी खास समय में देखते हो कि तुम जो चाहते हो वह तुम्हें नहीं

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  89
WhatsApp_icon
user

Agrim Gupta - Motivational Speaker

Motivational Speaker | Business Coach

2:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम नवीन गुप्ता और आज का जो यह सवाल है कि मैं जब भी कुछ चाहता हूं मुझे वह चीज नहीं मिलती जैसा मेरे साथ होता है औरों के साथ भी ऐसे में निराश महसूस करना कैसे कम करो दोस्तों मैं एक बात आपको अच्छे से बताना चाहता हूं कि हमारी एक्सपेक्टेशन यह हमारी सबसे बड़ी कमजोरी है हम किसी चीज को करने के लिए उससे एक्सपेक्टेशन रखते हैं हम किसी के लिए कुछ करते हैं तो हम उसके बदले में उसे एक्सपेक्टेशन रखते हैं कि वह भी हमारे लिए कुछ करें निस्वार्थ हमारा मन नहीं रहता सबसे बड़ी बात है अभी निस्वार्थ रहना है हमें किसी से भी कोई एक्सपेक्टेशन नहीं रखनी है हमें दिल खोल के सब की सेवा करनी है सब की मदद करनी है सब पहले कर्म करना है नेक दिल खोल के जो निस्वार्थ कर्म करता है उससे ज्यादा किसी को दुनिया में खुशी महसूस नहीं हो सकती और जो स्वार्थी है जो लोग भी है जो कुछ पाने के लिए जो कुछ चाहता है कि मुझे यह मिल जाए 30 मिल जाए उसे मेहनत और प्रकार करनी पड़ती है अगर वह अपनी मेहनत में सफल हो जाता है दिल खोलकर मेहनत करता है उस चीज के लिए निस्वार्थ मेहनत करता है उस चीज के लिए तो वह सफल हो सकता है लेकिन अगर वह लालच दिखाता है बहुत ज्यादा दुष्कर्म करता है उसके कर्मों की जड़ मजबूत नहीं है अच्छी नहीं है तो वह से निराशा हासिल होगी होगी अगर वो इतनी मेहनत नहीं कर रहा है उसकी इसके लिए तो उसे निराशा से लोगी तो हमें उस प्रकार मेहनत भी करनी पड़ती है कि हम ऐसा महसूस ना करें कई बार ऐसा होता है कि हम बहुत मेहनत करते हैं फिर भी हमें निराशा हासिल होती है तो दोस्तों अब इस चीज को ध्यान रखिए कि जिंदगी में सब के पास सब चीज हो ऐसा जरूरी नहीं है जिंदगी में पिन इस दुनिया में अगर मैं बात करूं तो 95% लोग गरीब है और सिर्फ पांच परसेंट लोग अमीर है 95 परसेंट लोगों के पास दुनिया का 5 परसेंट ही पैसा है और उन पांच परसेंट लोग हैं जो दुनिया के उन का एग्जाम में प्रतिशत पैसा भरा पड़ा है तो आप को डिसाइड करना है कि आपके कर्म कैसे होंगे जो आपको उन पांच परसेंट में ले आते हैं जिनका से 95% पैसा है या आप ऐसा कर्म करना चाहते हैं जिससे आप उन पांच 95% लोगों में रहना चाहते हैं अगर हमें भीड़ से अलग दिखना है तो हमें भीड़ से अलग चलना भी होगा इस बात को ध्यान रखी है धन्यवाद दोस्तों मेरा नाम है अग्रिम गुप्ता

namaskar doston mera naam naveen gupta aur aaj ka jo yah sawaal hai ki main jab bhi kuch chahta hoon mujhe vaah cheez nahi milti jaisa mere saath hota hai auron ke saath bhi aise me nirash mehsus karna kaise kam karo doston main ek baat aapko acche se batana chahta hoon ki hamari expectation yah hamari sabse badi kamzori hai hum kisi cheez ko karne ke liye usse expectation rakhte hain hum kisi ke liye kuch karte hain toh hum uske badle me use expectation rakhte hain ki vaah bhi hamare liye kuch kare niswarth hamara man nahi rehta sabse badi baat hai abhi niswarth rehna hai hamein kisi se bhi koi expectation nahi rakhni hai hamein dil khol ke sab ki seva karni hai sab ki madad karni hai sab pehle karm karna hai neck dil khol ke jo niswarth karm karta hai usse zyada kisi ko duniya me khushi mehsus nahi ho sakti aur jo swaarthi hai jo log bhi hai jo kuch paane ke liye jo kuch chahta hai ki mujhe yah mil jaaye 30 mil jaaye use mehnat aur prakar karni padti hai agar vaah apni mehnat me safal ho jata hai dil kholakar mehnat karta hai us cheez ke liye niswarth mehnat karta hai us cheez ke liye toh vaah safal ho sakta hai lekin agar vaah lalach dikhaata hai bahut zyada dushkarm karta hai uske karmon ki jad majboot nahi hai achi nahi hai toh vaah se nirasha hasil hogi hogi agar vo itni mehnat nahi kar raha hai uski iske liye toh use nirasha se logi toh hamein us prakar mehnat bhi karni padti hai ki hum aisa mehsus na kare kai baar aisa hota hai ki hum bahut mehnat karte hain phir bhi hamein nirasha hasil hoti hai toh doston ab is cheez ko dhyan rakhiye ki zindagi me sab ke paas sab cheez ho aisa zaroori nahi hai zindagi me pin is duniya me agar main baat karu toh 95 log garib hai aur sirf paanch percent log amir hai 95 percent logo ke paas duniya ka 5 percent hi paisa hai aur un paanch percent log hain jo duniya ke un ka exam me pratishat paisa bhara pada hai toh aap ko decide karna hai ki aapke karm kaise honge jo aapko un paanch percent me le aate hain jinka se 95 paisa hai ya aap aisa karm karna chahte hain jisse aap un paanch 95 logo me rehna chahte hain agar hamein bheed se alag dikhana hai toh hamein bheed se alag chalna bhi hoga is baat ko dhyan rakhi hai dhanyavad doston mera naam hai agrim gupta

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम नवीन गुप्ता और आज का जो यह सवाल है कि मैं जब भी कुछ चाहता हूं मु

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  62
WhatsApp_icon
user

Dr. Swatantra Jain

Psychotherapist, Family & Career Counsellor and Parenting & Life Coach

2:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपके प्रश्न जब भी मैं कुछ चाहता हूं मुझे वह चीज नहीं मिलती क्या सिर्फ मेरे साथ होता है या और उनके साथ ऐसे में मैं निराश महसूस करता हूं करना कैसे देखो अभी जो मैंने पिछले प्रश्न का उत्तर दिया वह आप जब भी कुछ सोचे आपको अच्छी लगती लेकिन क्या आपने यह देखा है कि जो आपके घर में चीजें हैं क्या बोल और सबके पास है तो आपको जवाब मिलेगा नहीं है करोड़ों लोग ऐसे हैं जिनके पास आप जैसे पता नहीं आप कितनी सामग्री नहीं है जब मैं आपको खाने को नहीं है आप जितना पहनने को नहीं है करो आपके पास घर है तो खोलो मैसेज जब आप इन लोगों की तरफ देखोगे आपको समझ में आ गया क्या केवल आपके साथ नहीं होता आप से कहीं ज्यादा प्रतिशत लोगों के साथ कहीं ज्यादा प्रतिशत लोगों के साथ होता है तो कहते हैं ना कुदरत इंसानों की जरूरत के लिए तो सब कुछ देती है कहीं कोई कमी नहीं है लेकिन इच्छा इच्छा पूरी करने के लिए नहीं दे सकती जयपुर असीमित है आपको चर्चा करें तो 4 दिन बाद कुछ और अच्छा करने फिर कुछ और पूरी हो गई कुछ और कर ले और फिर नहीं मिले तो मेरा तो अपनी इच्छाओं पर संयम करो और हमेशा उनकी तरफ देखा जीवन की सुविधाएं जीवन की जो बेसिक नेसेसिटीज हैं वह भी नहीं मिला तो आपको तो चली गुजरी

aapke prashna jab bhi main kuch chahta hoon mujhe vaah cheez nahi milti kya sirf mere saath hota hai ya aur unke saath aise me main nirash mehsus karta hoon karna kaise dekho abhi jo maine pichle prashna ka uttar diya vaah aap jab bhi kuch soche aapko achi lagti lekin kya aapne yah dekha hai ki jo aapke ghar me cheezen hain kya bol aur sabke paas hai toh aapko jawab milega nahi hai karodo log aise hain jinke paas aap jaise pata nahi aap kitni samagri nahi hai jab main aapko khane ko nahi hai aap jitna pahanne ko nahi hai karo aapke paas ghar hai toh kholo massage jab aap in logo ki taraf dekhoge aapko samajh me aa gaya kya keval aapke saath nahi hota aap se kahin zyada pratishat logo ke saath kahin zyada pratishat logo ke saath hota hai toh kehte hain na kudrat insano ki zarurat ke liye toh sab kuch deti hai kahin koi kami nahi hai lekin iccha iccha puri karne ke liye nahi de sakti jaipur asimeet hai aapko charcha kare toh 4 din baad kuch aur accha karne phir kuch aur puri ho gayi kuch aur kar le aur phir nahi mile toh mera toh apni ikchao par sanyam karo aur hamesha unki taraf dekha jeevan ki suvidhaen jeevan ki jo basic necessities hain vaah bhi nahi mila toh aapko toh chali gujari

आपके प्रश्न जब भी मैं कुछ चाहता हूं मुझे वह चीज नहीं मिलती क्या सिर्फ मेरे साथ होता है या

Romanized Version
Likes  415  Dislikes    views  3636
WhatsApp_icon
user

Emam Idrisi

Director (MBSC Group)

2:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सर आपका सवाल है मैं जब भी कोई चीज चाहता हूं वह चीज मुझे नहीं मिलती हैं कि आपके मन में एक विचारधारा बन गई हैं आपके सोच बन गए कि मैं जो चाहता हूं कि मुझे नहीं मिलती है लेकिन मेरा मानना है कि आप उस चीज को सच्चे दिल से नहीं चाहते हैं और लेना प्राप्त करने के लिए कोशिश नहीं करते हैं आपकी चाहत कैसी है उसके ऊपर डिपेंड करता है कि वह चीज आपको मिलती है कि नहीं मिलती है दिल से चाहने से तो कुछ भी मिल जाता है घर के दिल से चाहने पर कुछ भी मिल सकता है तो आपकी जो जरूरत है जो चाहत है अधूरी है आप उसके ऊपर मतलब हंड्रेड परसेंट कांस्टेंट नहीं कर रहे हो करके इसके लिए वह चीज आपको नहीं मिलती है ऐसा आप सोचें उसे मेरे साथ होता है ऐसा बाप के साथ नहीं होता हर उस नकारात्मक आदमी के साथ होता है हर उस शख्स के साथ ऐसा होता है जो अधूरे मन से काम करते जो कोई भी काम सच्चे मन से सच्चे निष्ठा और प्रतिष्ठा लगन सीखी जाए उचित सक्सेस होता है बाधाएं आती है तकलीफ आता है तो बाधाओं से आप घबरा कर के अपना अटेंशन चेंज नहीं करते हैं टेंशन चेंज करते हैं मतलब आप उसके लिए पूरे हंड्रेड परसेंट प्रिपेयर नहीं थे जो शख्स हंड्रेड परसेंट पेपर होता है वह अपनी सोच को पॉजिटिव इमेज आता है नेगेटिव में नहीं जाता है और ऐसे जैसा और आपने लिखा है कि औरों ऐसे के साथ भी हो औरों के साथ भी होता है यारों के साथ भी होता है या छोड़ गया आपके साथ ऐसा हो रहा है इसलिए आपके साथ ऐसा हो रहा है क्योंकि आप हंड्रेड परसेंट कौन स्टेट नहीं कर रहे हो आप उस चीज को पाने के लिए मेहनत नहीं कर रहे हो बस ऊपर मन से ट्राई कर मिला तो मिला नहीं मिला तो भगवान भरोसे तो ऐसी आप कोई भी चीज नहीं पा सकते हो इसके लिए आपको एक ही चीज है करके जिस चीज की चाहत रखते हो उसके बारे में हर पॉइंट से हर एंगल से उसकी डिटेल निकालिए कैसे पाना है क्या करना है पिक कंप्लीट प्लान करिए वह चीज मिल जाएगा आपको और चाहने से तो कुछ भी मिलता है भगवान भी मिलते हैं करके सच्चे मन से चाहिए तो अधूरे मन से तो भगवान के घर कब घर का खाना भी नहीं मिलते अधूरे मन से उसके लिए भी मन से काम करना पड़ता है मांगना पड़ता है हजूरी मान सम्मान से मांगी है तो कुछ भी नहीं मिलेगा सर सो प्लीज कांस्टीट्यूएंट सर

sir aapka sawaal hai main jab bhi koi cheez chahta hoon vaah cheez mujhe nahi milti hain ki aapke man me ek vichardhara ban gayi hain aapke soch ban gaye ki main jo chahta hoon ki mujhe nahi milti hai lekin mera manana hai ki aap us cheez ko sacche dil se nahi chahte hain aur lena prapt karne ke liye koshish nahi karte hain aapki chahat kaisi hai uske upar depend karta hai ki vaah cheez aapko milti hai ki nahi milti hai dil se chahne se toh kuch bhi mil jata hai ghar ke dil se chahne par kuch bhi mil sakta hai toh aapki jo zarurat hai jo chahat hai adhuri hai aap uske upar matlab hundred percent constant nahi kar rahe ho karke iske liye vaah cheez aapko nahi milti hai aisa aap sochen use mere saath hota hai aisa baap ke saath nahi hota har us nakaratmak aadmi ke saath hota hai har us sakhs ke saath aisa hota hai jo adhure man se kaam karte jo koi bhi kaam sacche man se sacche nishtha aur prathishtha lagan sikhi jaaye uchit success hota hai baadhayain aati hai takleef aata hai toh badhaon se aap ghabara kar ke apna attention change nahi karte hain tension change karte hain matlab aap uske liye poore hundred percent prepare nahi the jo sakhs hundred percent paper hota hai vaah apni soch ko positive image aata hai Negative me nahi jata hai aur aise jaisa aur aapne likha hai ki auron aise ke saath bhi ho auron ke saath bhi hota hai yaaron ke saath bhi hota hai ya chhod gaya aapke saath aisa ho raha hai isliye aapke saath aisa ho raha hai kyonki aap hundred percent kaun state nahi kar rahe ho aap us cheez ko paane ke liye mehnat nahi kar rahe ho bus upar man se try kar mila toh mila nahi mila toh bhagwan bharose toh aisi aap koi bhi cheez nahi paa sakte ho iske liye aapko ek hi cheez hai karke jis cheez ki chahat rakhte ho uske bare me har point se har Angle se uski detail nikaliye kaise paana hai kya karna hai pic complete plan kariye vaah cheez mil jaega aapko aur chahne se toh kuch bhi milta hai bhagwan bhi milte hain karke sacche man se chahiye toh adhure man se toh bhagwan ke ghar kab ghar ka khana bhi nahi milte adhure man se uske liye bhi man se kaam karna padta hai maangna padta hai hajuri maan sammaan se maangi hai toh kuch bhi nahi milega sir so please kanstityuent sir

सर आपका सवाल है मैं जब भी कोई चीज चाहता हूं वह चीज मुझे नहीं मिलती हैं कि आपके मन में एक व

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  54
WhatsApp_icon
user

अशोक गुप्ता

Founder of Vision Commercial Services.

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लोग कहते हैं कि आप जैसा चाहते हो वैसा प्रकृति आपको देती है और अगर नहीं देती है इसका मतलब कि उसमें आपका कुछ अहित है प्रकृति मां की तरह होती है इसलिए मांगने पर मिल जाए तो ठीक नहीं मिले तो यह समझना चाहिए कि शायद प्रकृति इससे मुझे इसलिए नहीं दी कि से मेरा नुकसान है तो आप बहुत

log kehte hain ki aap jaisa chahte ho waisa prakriti aapko deti hai aur agar nahi deti hai iska matlab ki usme aapka kuch ahit hai prakriti maa ki tarah hoti hai isliye mangne par mil jaaye toh theek nahi mile toh yah samajhna chahiye ki shayad prakriti isse mujhe isliye nahi di ki se mera nuksan hai toh aap bahut

लोग कहते हैं कि आप जैसा चाहते हो वैसा प्रकृति आपको देती है और अगर नहीं देती है इसका मतलब क

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  110
WhatsApp_icon
user

Dr. Swapnil Patel

Ayurvedic Doctor

2:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए इसमें कई सारे प्रश्न है जैसा कि जब आप कुछ ऐसा चाहते हैं उसकी आपूर्ति नहीं हो पाती है तो इसके लिए सर्वप्रथम एक बार पुनः से विचार करें प्यार की जो जिज्ञासा है जो चाहे उसके फल स्वरुप आपने कर्म किया है कि नहीं क्योंकि इच्छा याचा या जिज्ञासा कोई भी चीज है जिसकी हम अपेक्षा करते हैं वह एक प्रकार का फल है और जैसा हम भी जानते हैं कि किसी भी फल की अपेक्षा करने के लिए उससे पूर्व कर्ण की आवश्यकता होती है यदि आप कर्म भी किए हैं आपने आकलन किया और आपने पाया कि आप पूर्णता कर्म भी किए हैं तो उन कर्मों में कमियां खोजी एकीकरण में जो है कि ऐसी कौन सी कमी रह गई है जिसके परिणाम स्वरूप जो फल की अपेक्षा थी उसकी आपूर्ति नहीं हो पाई है एक बार पुनः उन कमियों को जो है कि दूर करके आप नए सिरे से जो है कि एक बार पुनः कर्म करें आशा नहीं पूर्ण विश्वास है की इच्छा के अनुरूप फल की प्राप्ति होगी इसके साथ ही जैसे आपने पूछा कि औरों के साथ होता है तो बिल्कुल यह सब के साथ होता है तब मनुष्य और मनुष्यों के साथ जिंदगी में उतार-चढ़ाव आशा निराशा अच्छा बुरा सुख-दुख सब लगा रहता है रही बात निराशा महसूस करने के लिए तू जहां आशा है वही निराशा है अगर नकारात्मक चीजें नहीं होंगी तो सकारात्मक चीजें नहीं होंगे तो आप एक बार पुनः अपने लक्ष्य में जूस जाए ना ऐसा कहा जाता है कि खाली दिमाग शैतान का तो आप उसमें आशा पूर्ण तरीके से जो है कि अपने कर्म में दोबारा जो है कि यूज के उन कमियों को दूर करने में लग जाएंगे तो आप की निराशा खुद-ब-खुद दूर हो जाएगी

dekhiye isme kai saare prashna hai jaisa ki jab aap kuch aisa chahte hain uski aapurti nahi ho pati hai toh iske liye sarvapratham ek baar punh se vichar kare pyar ki jo jigyasa hai jo chahen uske fal swarup aapne karm kiya hai ki nahi kyonki iccha yacha ya jigyasa koi bhi cheez hai jiski hum apeksha karte hain vaah ek prakar ka fal hai aur jaisa hum bhi jante hain ki kisi bhi fal ki apeksha karne ke liye usse purv karn ki avashyakta hoti hai yadi aap karm bhi kiye hain aapne aakalan kiya aur aapne paya ki aap purnata karm bhi kiye hain toh un karmon me kamiyan khoji ekikaran me jo hai ki aisi kaun si kami reh gayi hai jiske parinam swaroop jo fal ki apeksha thi uski aapurti nahi ho payi hai ek baar punh un kamiyon ko jo hai ki dur karke aap naye sire se jo hai ki ek baar punh karm kare asha nahi purn vishwas hai ki iccha ke anurup fal ki prapti hogi iske saath hi jaise aapne poocha ki auron ke saath hota hai toh bilkul yah sab ke saath hota hai tab manushya aur manushyo ke saath zindagi me utar chadhav asha nirasha accha bura sukh dukh sab laga rehta hai rahi baat nirasha mehsus karne ke liye tu jaha asha hai wahi nirasha hai agar nakaratmak cheezen nahi hongi toh sakaratmak cheezen nahi honge toh aap ek baar punh apne lakshya me juice jaaye na aisa kaha jata hai ki khaali dimag shaitaan ka toh aap usme asha purn tarike se jo hai ki apne karm me dobara jo hai ki use ke un kamiyon ko dur karne me lag jaenge toh aap ki nirasha khud bsp khud dur ho jayegi

देखिए इसमें कई सारे प्रश्न है जैसा कि जब आप कुछ ऐसा चाहते हैं उसकी आपूर्ति नहीं हो पाती है

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  69
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!